Travel Guides and trips for Mussourie Resort Area, Dehradun

Trips and Itineraries for Dehradun

loader



About Dehradun

ग्रुप का परिचय:मैं खुद (सनी), 2 बहने वायु और वेरा, वायु 16 साल की है और अभी अभी उसने 10 क्लास फर्स्ट डिवीज़न से पास की है, लोगों को देखती ज्यादा है बात काम करती है और किसी भी तरह की कोई सांस्कृतिक हलचल हो तो उत्साहित हो जाती है और उसमे पार्टिसिपेट भी बड़े उत्साह से करती है। वेरा आज ही 14 साल की हुई है, अभी थोड़ी देर में उसका जन्मदिन भी हम मानाने वाले हैं, वो 9th क्लास में है और अपनी बहन के उलट खूब गप्पे मारती है। उसे भी मस्ती करना, लोगो को चिढ़ाना, उनपे कॉमेंट पास करना उसका पसंदीदा टाइम पास है। और कोई उसकी बहन को कुछ बोल दे तो बस …………. अपने रौद्र रूप में आ जाती है। फिर हमारे साथ हैं 2 शादीशुदा जोड़ें उनमे से एक है अलोक-टीपू, दूसरा है संगी-बेरा। दोनों जोड़े एक दूसरे से बिलकुल अलग हैं। जहाँ आलोक टीपू का प्यार 1 KM दूर से देखा, सुना और सूँघा भी जा सकता है। उसी तरह बेरा-संगी की लड़ाइयां भी देखी, सुनी पर समझी नहीं जा सकती क्यूँकि उन्हें आपको समझना भी नहीं है, वो उनकी अपनी है और वोही उनके प्यार की निशानी भी है। मुझे तो लगता है कि अगर वो लड़ना छोड़ दे तो शायद हो सकता है कि दोनों के प्यार में कुछ कमी कमी आ जाये। और जो हमारी 8th सदस्य थी उसका नाम है एंजेल उर्फ़ अंजलि। वो केरल से है, 18 साल की है, टूटी-फूटी हिंदी बोलती है और एक नंबर की मस्तीखोर है और पहली बार ट्रैकिंग पे जा रही है इसीलिए बहुत ही उत्साहित है। तो इस तरह हम 8 लोगों की टीम है जिसमे 2 शादीशुदा जोड़ें , एक बहनों का जोड़ा, और बाकी बचे मैं और एंजेल तो हम किसी के भी साथ अपना जोड़ा या तिकडा तो चौकड़ा बना सकते थे।खैर, ग्रुप के बारे में सोचने के बाद जब दिमाग खाली हुआ तो मैं अपनी सीट से उठकर अपनी पीछे वाली सीट जहाँ वायु, वेरा और एंजेल बैठे थे, वहाँ चला गया। सफर 12 घंटे का था और सफर सुहाना भी बनाना था तो संगी और बेरा के साथ बैठ के उनकी लड़ाई सुनने से बढ़िया था कि पीछे जाके कुछ मस्तीखोरी की जाये। वायु, वेरा और एंजेल भी बोर हो रहे होंगे इसीलिए उन्होंने मुझ चौथे आदमी के लिए अपनी 3 सीट वाली सीट पे जगह बनाई। और हमारी मस्ती शुरू , कभी हम गाना गा रहे हैं, कभी हम एक्टिंग कर रहे हैं तो कभी नाच रहे हैं, अब सोचिये की दो लोग अपने अपोजिट कानों में एक ही इयरफोन की बड लगाकर गाना सुन रहे हैं। जबकि वो अपने बगल के कानो में भी बड लगा के सुन सकते हैं। तो उनको देख के हम लोग खूब हसे। और इसी तरह की मस्तीखोरी रस्तेभर चलती रही। अब अलोक और संगी भी इस मस्ती में शामिल हो गए तो अलोक ने मिमिक्री कर के दिखाई और अंताक्षरी से भी हमने खूब मजे करे। इन सब में बस वाले हमारे सहयात्री भी हमें देख कर मजे ले रहे थे। और जब कभी कोई सुन्दर पहाड़, नदी हमारी बस की खिड़कियों से होकर गुजरता तो हम सब उसे देख के और उत्साहित होते और फोटो खींचते और सबसे ज्यादा उत्साहित एंजेल होती। बस ही में हमने वेरा का जन्मदिन मनाया उसे बधाइयाँ दी।

Search Flights

Book Dehradun Tour Package

Your Enquiry has been sent successfully