12 ज्योतिर्लिंगों में दसवां स्थान रखने वाले नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की यात्रा

Tripoto
28th Feb 2020
Photo of 12 ज्योतिर्लिंगों में दसवां स्थान रखने वाले नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की यात्रा by Lucky Goyal
Day 1

हर हर महादेव।
सबसे पहले  फ्लाइट से नागेश्वर ज्योतिर्लिंग कैसे पहुंचे
नागेश्वर मंदिर का सबसे करीबी एयरपोर्ट पोरबंदर एयरपोर्ट है, जो नागेश्वर मंदिर से करीब 125 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पोरबंदर एयरपोर्ट देश के कुछ प्रमुख हवाई अड्डों से जुड़ा हुआ है
मुझे अपने 2 दोस्तो के साथ नागेश्वर ज्योतिलिंग के दर्शन प्राप्त करने का अवसर मिला। मैं आपके साथ अपना अनुभव शेयर करना चाहता हु। वैसे तो आपको दिल्ली से पोरबंदर एयरपोर्ट की सीधी फ़्लाइट आपको मिल जाएंगी  पर हम लोगो ने दिल्ली से अहमदाबाद की फ्लाइट बुक की थी। हम लोग दिल्ली एयरपोर्ट (इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट ) से अहमदाबाद एयरपोर्ट ( सरदार वल्लभभाई पटेल इंटरनेशनल एयरपोर्ट) सुबह 8 बजे आ गए । इसके बाद हम लोगो ने वहा से एक टैक्सी हायर की जो को द्वारका धाम तक हम लोगो को ड्रॉप करेंगी। अहमदाबाद से द्वारका धाम की दूरी लगभग 440 km है।सड़क मार्ग द्वारा  10 घंटे से ज्यादा टाइम लगता है द्वारका धाम तक आने में । इसलिए हम लोग शाम के करीब 6 बजे तक द्वारका धाम आ गए। वहा पर हमने पहले से बुक कमरे में चेक इन किया दिनभर सफर की थकान के कारण हमने आराम किया । द्वारका धाम के हमको दर्शन करने थे लेकिन सफर के कारण बहुत ज्यादा थकान हो चुकी थी।इसलिए हमने आराम करना उचित समझा। अगले दिन हमको नागेश्वर ज्योतिलिंग के दर्शन करने जाना था ।

Photo of 12 ज्योतिर्लिंगों में दसवां स्थान रखने वाले नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की यात्रा by Lucky Goyal
Day 2

अगली सुबह हम लोग अपने नहाकर नागेश्वर ज्योतिर्लिंग के लिए निकल लिए। द्वारका धाम से नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की दूरी मात्र 16 km है। लगभग 30 मिनट के बाद हम नागेश्वर ज्योतिलिंग आ गए। इस ज्योतिर्लिंग  की शास्त्रों में अद्वभुत महिमा कही गई है। धर्म शास्त्रों के अनुसार भगवान शिव को नागों के देवता के रूप में जाना जाता है। नागेश्वर का पूर्ण अर्थ नागों का ईश्वर है।नागेश्वर ज्योतिर्लिंग खूबसूरत मंदिरों में से एक है, मंदिर परिसर के पास ही भगवान शिव की 80 फीट की ऊंचाई वाली मूर्ति स्थापित की गई है। यह मूर्ति पद्मासन मुद्रा में बैठे हुए शिव की है।इस मूर्ति के पास पक्षियों का झुंड हमेशा आपको घूमते हुए दिखाई देगा, जो इसकी प्राकृतिक खूबसूरती को और अधिक बढ़ा देता है। सावन के महीने में नागेश्वर   ज्योतिर्लिंग के पास काफी भीड़ रहती है, खासकर सावन के सोमवार को यहां भक्त भारी मात्रा में भगवान शिव के दर्शन के लिए आते हैं। वही मंदिर के गर्भगृह में स्थित ज्योतिर्लिंग की बात करें तो यह ज्योतिर्लिंग सामान्य रूप से बने ज्योतिर्लिंगों से थोड़ा बड़ा है, और ज्योतिर्लिंग के ऊपर चांदी की परत चढ़ाई गई है। 12 ज्योतिर्लिंगों में दसवां स्थान रखने वाले नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की महिमा अपरंपार है। कहा जाता है कि नागेश्वर ज्योतिर्लिंग के दर्शन मात्र से ही मनुष्य के सारे पाप और दुष्कर्म धुल जाते हैं तथा उसे पुण्य की प्राप्ति होती है।  शिव पुराण में वर्णित इस ज्योतिर्लिंग के बारे में यह भी कहा गया है कि अगर सावन के महीने में नागेश्वर ज्योतिर्लिंग का दर्शन और पूजन किया जाए, तो इसका विशेष लाभ मिलता है, एवं मनुष्य शिव धाम को प्राप्त होता है यह मंदिर ढाई हजार साल पुराना है।  नागेश्वर ज्योतिर्लिंग के ऊपर एक चांदी का नाग भी बना हुआ है।इस मंदिर में पुरुषों का अभिषेक के लिए धोती पहन कर आना अनिवार्य है।इसलिए हम लोगो ने धोती पहन कर अभिषेक करवाया। सच में एक बॉडी में ऊर्जा का संचार हुआ । जो को सिर्फ महसूस किया जा सकता है।करीब 3 घंटे तक हम लोग मंदिर परिसर में रहे। भगवान शिव के दर्शन करने के बाद मन को सकून मिला। लगभग दोपहर के 1 बज चुका था।हमने कुछ वी खाया पिया नही था। क्यों की हमको भगवान शिव के ज्योतिलिंग के खाली पेट ही दर्शन करने थे। इसके बाद हमने अच्छा सा restaurant देख कर अपना लंच किया ओर आसपास के कुछ मंदिर के दर्शन किए जैसे की हनुमान जी का मंदिर ।
गर्मी जायदा होने के कारण हम लोग वापिस अपने रूम में आ गए। 4 से 5 बजे के बीच में हम एक बार फिर आराम करने के लिए अपने कमरे में आ गए थे।इसके बाद मैं आपको द्वारका धाम की यात्रा का वर्णन करूंगा ।कैसे हमने रात को द्वारका धाम के दर्शन किए । द्वारका धाम के आसपास के सभी दार्शनिक स्थानों के बारे में आपसे शेयर करूंगा
हर हर महादेव

Photo of Nageshwar Jyotirling by Lucky Goyal
Photo of Nageshwar Jyotirling by Lucky Goyal
Photo of Nageshwar Jyotirling by Lucky Goyal
Photo of Nageshwar Jyotirling by Lucky Goyal
Photo of Nageshwar Jyotirling by Lucky Goyal
Photo of Nageshwar Jyotirling by Lucky Goyal