भारत का फ्रांस पुडुचेरी। #bestoftravel #tripoto

Tripoto

auroville , puducherry 

Photo of भारत का फ्रांस पुडुचेरी। #bestoftravel #tripoto by Afsarul haq
Photo of भारत का फ्रांस पुडुचेरी। #bestoftravel #tripoto 1/2 by Afsarul haq

एक ऐसी जगह, जहां की सड़कों से लेकर वहां की दुकानों तक में आपको फ्रांस की झलक मिलेगी। जी हाँ बात हो रही है, भारत का फ्रांस कहे जाने वाले सहर पुडुचेरी की। तो चलते है पुडुचेरी के सफर पर।

विन्सेंट दी पॉल स्ट्रीट, विक्टोरिया सिमोनेल स्ट्रीट, डा मॉस स्ट्रीट, फ्रैंकोइस मार्टिन स्ट्रीट, यह फ्रेंच नाम यहाँ की गलियों के ही नहीं, बल्कि पुडुचेरी के घरों, कैफ़े और होटलों आदि के भी है, जिनमे फ्रांस की झलक भी देखी जाता सकती।

सड़क मार्ग को बताने वाले संकेत भी फ्रेंच और तमिल में लिखे हुए है। तमिल, अंग्रेजी, मलयालम और तेलुगु भाषा के साथ साथ यहाँ के लोग फ्रेंच भी धाराप्रवाह बोल सकते है।

Photo of भारत का फ्रांस पुडुचेरी। #bestoftravel #tripoto 2/2 by Afsarul haq

दरसअल 1954 तक फ़्रांसिसी प्रशासन के तहत काम करने वाले लोगो को वहां की नागरिकता मिली थी उनके बच्चों को भी फ्रांस की नागरिकता स्वतः. मिल गयी।

पॉन्डिचेरी के आज़ाद होने और भारत का हिस्सा बनने के बाद कुछ लोग जहाँ फ्रांस चले गए वही कई लोग यही बस गए इन्हे आज भारत के साथ - साथ फ्रांस की भी नागरिकता हासिल है। कई सभ्यतों का संगम यह सहर चेन्नई से तकरीबन 162 किलोमीटर दक्षिण में बसा है। समुन्दर से लगे इस सहर की आद्रता भरपूर है।

इस सहर में वर्ष भर हरियाली रहती है। मानसून के समय बदल कभी भी बरस जाते है तो पालक झपकते ही आसमान साफ़ भी हो जाता है।

कभी था जो मछुआरों का गांव

Photo of Pondicherry, Puducherry, India by Afsarul haq

यह कभी मछुआरों का ही गांव था। इतना खूबसूरत की डच, पुर्तगाली, फ्रांसीसी और अंग्रेज़ अलग अलग दौर में यहाँ आये और इसे अपने कब्ज़े में लेने की कोशिश करने लगे। कालांतर में यह एक व्यस्तम पोर्ट के रूप में विकसित हुआ। प्रोमेनाड बीच पर आज भी पूरी शान से खड़ा ओल्ड लाइट हाउस इसकी गवाही देता है। पुडुचेरी के लिए फ्रांसीसियों - अंग्रेज़ो में अक्सर संघर्ष चलता रहता था। 16वी शताब्दी के पूर्वदृ से ही फ्रांस के साहसी नाविक भारत के पूर्वोत्तर तट पर अपना व्यापारिक विस्तार चाहते थे। 4 फरवरी , 1673 को फ्रांस की कोशिश रंग लायी धीरे धीरे यह फ्रांस का उपनिवेश बन गया। 1674 में फ्रांसवा मार्टिन पुडुचेरी के पहले गवर्नर बने।

ब्लैक टाउन और व्हाइट टाउन

Photo of Pondicherry, Puducherry, India by Afsarul haq

बंगाल की खाड़ी के कोरोमंडल तट पर स्थित यह क्षेत्र फ्रांस को इसलिए भी पसंद था, क्यूंकि यहाँ की जलवायुन भारत के अन्य भागों के मुकाबले उपयुक्त थी।

यहाँ फ्रेंच लोगों की बस्ती को जहाँ 'व्हाइट टाउन' कहा गया, वही यहाँ के मूल निवासी तमिलों को जो कृषि से जुड़े थे उनके हिस्से को 'ब्लैक टाउन' कहा गया। एक छोटी - सी नहर इन दोनों टोनो को बीच से अलग करती है। व्हाइट टाउन में औपनिवेशिक स्थापत्य और फ़्रांसिसी संस्कृति की झलक मिलती है और ब्लैक टाउन में पारंपरिक तमिल वास्तुकला को सहेंजे कई मेंशन है। 'व्हाइट टाउन' में चमकीले पीले रंग की इमारते और उनकी बड़ी बड़ी फ्रेंच खिड़कियां लोगो को काफी आकर्षित करती है।

खूबसूरत चर्च के चर्चे

Photo of Pondicherry Bus Main Station, Subaiya Nagar, Pudupalaiyam, Puducherry, India by Afsarul haq

पुडुचेरी में तकरीबन 32 खूबसूरत चर्च है। इनमे लेडी एंजेल्स चर्च, डुप्लेक्स चर्च, बेसिलिका ऑफ़ सेक्रेड हार्ट ऑफ़ जीसस जैसे चर्च के चर्चे दूर दूर तक है। इनकी गिनती बड़े व पुराने चर्च में की जाती है। एक चर्च बीच रोड से लगा हुआ है, दूसरा चर्च ब्लैक टाउन में है। तीसरा सेक्रेड हार्ट चर्च ऑफ़ जीसस यहाँ के रेलवे स्टेशन के नज़दीक है, जो पुडुचेरी के सबसे प्रसिद्द और महत्वपूर्ण चर्चो में से एक है। यह चर्च गोथिक शैली में डिज़ाइन किया गया है। इसकी सबसे आकर्षित विशेष्ता इसकी कांच युक्त खिड़कियां, यीशु के समय को दर्शाती है।

हर बीच की अपनी अलग पहचान

Photo of Pondicherry Beach, White Town, Puducherry, India by Afsarul haq

प्रोमेनेड बीच के नाम से प्रसिद्द पुद्दुचेरी बीच यहाँ का प्रमुख आकर्षण है। शाम के समय तट पर ट्रैफिक की आवाजाही बंद कर दी जाती हैं, ताकि समुंदर किनारे टहलने वालों की सहूलियत हो। प्रोमेनेड बीच 1 .5 किलोमीटर में फैला है। यहाँ महात्मा गांधी की विशाल मूर्ति है। यही थोड़ा आगे प्रथम विषयुद्ध में शहीद सैनिको की स्मृति में एक स्मारक भी है। सेरेनिटी बीच पर बैठकर सूरज की पहली किरण देखना शानदार है।

समुद्र के अंदर पैराडाइज बीच का आनंद

Photo of Paradise Beach, Pudukuppam, Puducherry, India by Afsarul haq

बैकवाटर का मज़ा आपको पुडुचेरी में भी मिल जायेगा। पैराडाइज बीच पर आप लोगो को देख सकते है। यह एक ऐसा बीच है, जो की समुद्र के अंदर है। सहर से 8 किलोमीटर दूर पैराडाइज बीच जमीन की एक सुखी पट्टी पर बसा है। जिसके चारों और पानी है। यहां फेरी से जाना पड़ता है। ऐसा बहुत कम लोग जानते होंगे की इस बीच का नाम 'चुनामबर बीच' भी है। इस तक पहुँचने की यात्रा भी बेहद खूबसूरत है। छोटी - बड़ी बोट सैलानियों को स्टैंड से बिठाती है और बीच तक छोड़ देती है। रास्तो में आपको नीला पानी और हर तरफ फैले बड़े बड़े नारियल के पेड़ आपको अपनी तरफ आकर्षित कर लेंगे। कहते है अगर पुडुचेरी गए और इस बीच पर नही गए तो पुडुचेरी आये क्यों।

स्कूबा डाइविंग

Photo of Puducherry Tourism Development Corporation, White Town, Puducherry, India by Afsarul haq

यहां आप स्कूबा डाइविंग का भी आनंद उठा सकते है। भारत के ईस्ट कोस्ट पर समुद्र के अंदर सजी इस दुनिया को देखने को तैयार हो जाये।

घूमने लायक जगहें

Photo of Sri Aurobindo Ashram, White Town, Puducherry, India by Afsarul haq

पुडुचेरी का एक खास आकर्षण है यहां का अरबिंदो आश्रम।

स्वतंत्र सेनानी व दार्शनिक श्री अरबिंदो का यह आश्रम आपको अतीत में ले जाएगा। इसे वर्ष 1926 में स्थापित किया गया था। आश्रम में श्री अरबिंदो व उनकी सहयोगी मीरा अल्फासा की समाधियां है। साथ में एक बहुत उम्दा पुस्तकालय भी है। आश्रम के कुछ नियम है, जिनका पालन करना ज़रूरी है। यहां तीन साल से कम बच्चों का जाना मना है, और फोटोग्राफी पर भी प्रतिबंध है। व्हाइट टाउन में श्री अरबिंदो आश्रम का डाइनिंग हॉल, लाइब्रेरी और कई गेस्ट हाउस हैं।

पुडुचेरी संग्रालय

Photo of Puducherry, India by Afsarul haq

इस संग्रालय में सहर की यादें और दक्षिण भारत के इतिहास को बड़ी खूबसूरती से संजोया गया है। यहां एक गैलरी में अनेक मूर्तियां और अरिकामेडु - रोमन व्यवस्था के समय की अनेक महत्वपूर्ण पुरातत्व से संबंधित वस्तुए रखी हुई है। इस संग्रालय मे प्राचीन काल से जुड़ी अनेको दुर्लभ वस्तुए आपको देखने को मिल जाएगी। इस संग्रालय मे आपको चोल और पल्लव राजवंश के समय की पीतल से बनी मूर्तियां व पत्थर भी मिल जाएंगे।

आसपास के आकर्षण

सूर्योदय के समय ऑरोविले का एक दृश्य

Photo of Auroville, Tamil Nadu, India by Afsarul haq

पुडुचेरी से 12 किलोमीटर दूर स्थित ओरोविल ( जिसे प्रातःकाल का सहर भी कहते है ) विभिन्न देशों से आये लोगो का घर है। श्री अरबिंदो की साथी 'दा मदर' ने एक ऐसे सहर की कल्पना की थी, जिस पर कोई भी राष्ट्र अपना दावा न कर सके, एक ऐसा शहर जो मानवता के लिए जाना जाए। 'मां' नाम से प्रसिद्द मीरा अल्फासा द्वारा स्थापित ओरोविल सहर का निर्माण वर्ष 1968 में श्री अरबिंदो की सोसाइटी की परियोजना के रूप में शुरू किया गया था। इस सहर का मुख्य आकर्षण है मातृमंदिर। यह गोल आकृति में बना एक सुनहरा गुंबद है, जिसके अंदर बैठकर लोग ध्यान लगते है।

Photo of Mahabalipuram, Tamil Nadu, India by Afsarul haq

चैन्नई से 56 किलोमीटर दूर और पुडुचेरी के रास्ते मे महाबलीपुरम पड़ता है। इसे यूनेस्को ने अपनी विश्व धरोहर स्थल में भी शामिल किया है। यहां प्राचीन काल के मंदिर और गुफाएं है। कोरोमंडल समुद्रतट पर स्थित महाबलीपुरम एक प्राचीन बंदरगाह भी है। यह लोगो के छुट्टी बिताने का सबसे पसंदीदा स्थान भी है। यहां पल्लव काल के कई नायाब ऐतिहासिक स्मारक है। यहां के मंदिरों को जब आप देखेंगे तो पाएंगे कि ज़्यादातर मंदिरों को गुफाओं को तराशकर बनाये गए है। इस सहर का एक मुख्य आकर्षण यहां के साफ और सुंदर समुद्र तट है। इस तटो पर बोटिंग से लेकर फिशिंग तक कि सुविधा उपलब्ध है। यह तट विदेशी सैलानियों में काफी लोकप्रिय है। छोटी जगह होने के बाद भी यहां कई सारे होटल और रेस्टुरेंट मौजूद है। यहां आपको सी फूस से लेकर तमिल के पारंपरिक खाने की झलक मिल जाएगी।

कुछ आवश्यक जानकारी

यहाँ की जामिया मस्जिद भी काफी खूबसूरत है।

JAMIA MOSQUE OF PUDUCHERRY

Photo of भारत का फ्रांस पुडुचेरी। #bestoftravel #tripoto by Afsarul haq

इस केंद्रशासित प्रदेश का मूल नाम पुदुसेरी है। पुडु यानी नया और सेरी यानी गांव।

इसका लोकप्रिय नाम पोंडी है। वर्ष 2006 में इसे नया नाम पुडुचेरी मिला।

इस पर फ्रांसीसियों ने वर्ष 1673 से 1954 तक राज किया।

1954 में पुडुचेरी का भारत मे विलय हुआ और इसे केंदशासित राज्य का दर्जा दिया गया।

यहां ट्रेनिंग के साथ साथ लगभग 20 जगहों पर स्कूबा डाइविंग कराई जाती है।

अभी कुछ समय पहले आयी मूवी "लाइफ ऑफ पाई" की शूटिंग भी यही हुई थी।

साईकल से इस सहर की खूबसूरती का आनंद ले सकते है।

लोगो को भाता चेट्टिनाद का अनोखा स्वाद।

Photo of Puducherry, India by Afsarul haq

इस सहर की इतनी सभ्यताओं के होने के कारण इसका असर यहां के खानपान पर भी पड़ा है। कहते है जिस - जिसके कदम पुडुचेरी पर पड़े, उनके खाने की छाप इसके पाक कला पर पड़ी। इसी वजह से यहां खाने की विविधता देखने को मिलती है। शुद्ध दक्षिण भारतीय खाने से लेकर, चेट्टिनाद शाकाहारी मांसाहारी भोजन, उत्तर भारतीय भोजन के साथ - साथ अन्य फ्रेंच फ़ूड भी आपको यहां मिल जाएंगे। जैसे फ्रांस में पारंपरिक तरीके से लकड़ियां जलाकर बड़े तंदूर में पिज़्ज़ा बेक किया जाता है, वैसे ही पिज़्ज़ा यहां एकटेसी कैफ़े में चखने को मिल जाएगी। महात्मा गांधी स्ट्रीट पर कई रेस्टोरेंट है, जो शुद्ध शाकाहारी दक्षिण भारतीय भोजन परोसते है। कई रेस्टोरेंट चेट्टिनाद मांसाहारी व्यंजनों के लिए मशहूर है। यहां पर केले के पत्तों पर मांसाहारी व्यंजन परोसा जाता है। फ्रांस के अलावा डच, पुर्तगाली और मुग़ल खानों का प्रभाव यहां देखने को मिल जाएगा।

दृश्य ली कैफ़े का एक

Photo of भारत का फ्रांस पुडुचेरी। #bestoftravel #tripoto by Afsarul haq

यहां यूरोपीय संस्कृति के देन है कैफ़े कल्चर। आज भी यह सहर की जीवनशैली का अभिन्न हिस्सा है। यहाँ कई शानदार कैफ़े है। सबसे ज़्यादा मशहूर है, ला कैफ़े। यह एकमात्र कैफ़े है, जो समुद्र के किनारे पर बना हुआ है। मानसून में आप इस कैफ़े में बैठकर शोर करती समुद्र की लहरों के आनंद ले सकते है। ला कैफ़े के अलावा, व्हाइट हाउस टाउन की गलियों में बने कई शानदार रूफटॉप कैफ़े मौजूद है।

यहां के बाजार

Photo of Le Cafe, White Town, Pondicherry, Puducherry, India by Afsarul haq

यहां चेन्नई, केरल और तमिलनाडु से शॉपिंग के लिए लोग नियमित आते हैं। यहां शॉपिंग के कई विकल्प मौजूद है, जैसे --- महात्मा गांधी स्ट्रीट, संडे मार्किट, मिशन स्ट्रीट, नेहरू स्ट्रीट, गोबर्ट मार्किट आदि। आप यहां हर प्रकार की खरीदारी कर सकते है। ब्रांडेड कपड़ो से लेकर क्राफ्ट के समान तक। यहां लेदर व जूते बनाने वाले, किसी भी गली में आपको मिल जाएंगे। यहां आप आराम से मोल -भाव कर समान खरीद सकते है। यह चमड़े की वर्ल्ड क्लास वस्तुओं के लिए भी मशहूर है।

कैसे पहुंचे-----------

चेन्नई एयरपोर्ट से यहां आ सकते हैं।

चेन्नई, बेंगलूरू और तिरुचिरापल्ली से बस सेवा भी उपलब्ध है।

सड़कमार्ग से पुंडुचेरी जाने के लिए चेन्नई से वाया ईस्ट कोस्ट हाईवे की राह पकड़नी होती है। हाईवे की बायीं और साथ चलता है समुद्र तट। घुमावदार सड़कों के दोनों और झुके हुए पेड़ ऐसे दिखते है, जैसे मानो झुक कर स्वागत कर रहे हो।

दूर तक लहराते खेत और नारियल के झाड़, मछलियां पकड़ते मछुआरे, गांव के किसान, एक कम्पलीट लैंडस्केप जैसा दृश्य प्रदर्शित करते है ।

आप यहां रेलमार्ग से भी आ सकते है, यह विलिपुरम व चेन्नई रेलवे लाइन से जुड़ा हुआ है।

यहां आने के लिए जनवरी से मार्च व अगस्त से अक्टूबर तक का समय काफी सुहावना होता है।

उम्मीद करते है आपको पोस्ट पसंद आ रहे होंगे आगे और भी दिलचस्प जगहों के बारे में हम आपको बताते रहेंगे आप हमें ट्रिपोटो पर फॉलो भी कर सकते है। और हमसे अपने यात्रा से जुड़े सवाल पूछ सकते है, हमसे सोशल मीडिया पर भी जुड़े।

WWW.TRIPOTO.COM

WWW.INSTAGRAM.COM

#TRIPOTOABHINDIMEIN #TRIPOTO #TRIPOTOTRAVEL #TRIPOTOCOMMUNITY #TRAVELBLOG #CHEAPTRAVEL #WEEKENDGATEWAYS #AFSARULHAQ #northeastitinerary #TRAVELQUESTIONS #BESTTRAVEL #BEAUTIFULPLACES

Be the first one to comment