कोवीशील्ड की दोनों डोज लेने के बाद घूम सकते है स्विटरजरलैंड, जान ले नियम व शर्तें -

Tripoto
6th Jul 2021
Photo of कोवीशील्ड की दोनों डोज लेने के बाद घूम सकते है स्विटरजरलैंड, जान ले नियम व शर्तें - by Pooja Tomar Kshatrani
Day 1

दिखानी होगी RT-PCR रिपोर्ट -

स्विट्जरलैंड की सरकार के मुताबिक, जिन व्यक्तियों को वैक्सीन लगाया गया है या जो बीमारी से उबर चुके हैं, उन्हें स्विट्जरलैंड में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी। वहीं जिन लोगों को न तो टीका लगाया गया है और न ही वे ठीक हुए हैं, उन्हें एक निगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट या रैपिड एंटीजन रिपोर्ट दिखाना होगा और देश में एंट्री के बाद क्वारंटाइन में जाना होगा।

Photo of Switzerland by Pooja Tomar Kshatrani

स्विट्जरलैंड की सरकार के मुताबिक, जिन व्यक्तियों को वैक्सीन लगाया गया है या जो बीमारी से उबर चुके हैं, उन्हें स्विट्जरलैंड में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी। वहीं जिन लोगों को न तो टीका लगाया गया है और न ही वे ठीक हुए हैं, उन्हें एक निगेटिव आरटी-पीसीआर रिपोर्ट या रैपिड एंटीजन रिपोर्ट दिखाना होगा और देश में एंट्री के बाद क्वारंटाइन में जाना होगा।

किन - किन प्रतिबंधों में दी गई है ढील-

स्विट्जरलैंड ने 26 जून से कोरोना प्रतिबंधों में ढील देने की घोषणा की है। अब स्विट्जरलैंड में दूसरे देशों के लोग फिर से आ सकते हैं। स्विस सरकार ने एक बयान में कहा कि कुछ शर्तों के साथ 'हाई रिस्क' वाले देशों जैसे भारत से भी लोग स्विट्जरलैंड आ सकते हैं। जिन भारतीयों ने कोविशील्ड की दोनों डोज लगवा ली है, वे भी स्विट्जरलैंड जा सकते हैं।अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को अनुमति देने के लिए स्विट्जरलैंड ने कोरोना प्रतिबंधों में ढील दी है। मंगलवार को स्विस सरकार ने कहा कि भारत जैसे 'डेल्टा वेरिएंट' वाले देशों के नागरिकों को बिना कोरोना टेस्ट या अनिवार्य क्वारंटाइन के देश में एंट्री की इजाजत होगी, अगर वह 'पूरी तरह से वैक्सीनेट' हो गए हैं।

Photo of कोवीशील्ड की दोनों डोज लेने के बाद घूम सकते है स्विटरजरलैंड, जान ले नियम व शर्तें - by Pooja Tomar Kshatrani

भारतीय यात्रियों की बात करें तो उन्हें ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन- 'कोविशील्ड' के दोनों शॉट्स लेने की जरूरत है, जिसे ईयू ग्रीन पास दिया गया है। ये वैक्सीन WHO द्वारा भी अप्रूव है।

कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, हमें कमेंट बॉक्स में बताएँ।

अपनी यात्राओं के अनुभव को Tripoto मुसाफिरों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती के सफ़रनामे पढ़ने के लिए Tripoto বাংলা  और  Tripoto  ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।