Omkareshwar trip

Tripoto

Photo of Omkareshwar trip 1/16 by Ankita Sahu

ओंकारेश्वर, मैं अपने कुछ दोस्तों के साथ गई थी। ये पहली बार था जब मुझे ओंकारेश्वर जाने का सौभाग्य प्राप्त हुआ।

हम लोग इंदौर से ओंकारेश्वर अपने ही वाहन से निकले थे। इंदौर से ओंकारेश्वर का सफर दोस्तों की मौजूदगी से हसीन बन गया था, साथ ही पहाड़ियों की खूबसूरती और हरे भरे पेड़ मन मोहित करने के लिए काफी थे किन्तु कुछ ही समय में सब थम सा गया हमने किनारे से देखा एक ट्रक बेकाबू होकर घाटी के किनारे पड़ा था। एक दर्द भरी सिहरन दौड़ उठी मेरे तन बदन में, इस नजारे ने मुझे फिर से एहसास दिलाया कि आनंद के चक्कर में गाड़ी को भी अच्छे से चलाना होगा। हमें एक नहीं 4 एक्सीडेंट देखने को मिले, शायद सड़क के किनारे खूबसूरत जंगलों ने चालकों का ध्यान भटका दिया होगा, यही विचार मेरे मन में आया।

Photo of Omkareshwar trip 2/16 by Ankita Sahu

2 घंटे के भीतर हम ओंकारेश्वर में थे। मंदिर से आने वाली पवित्र आरतियों ने हमारा स्वागत किया। थोड़ी देर नर्मदा के किनारे गाड़ी रोकी और सभी ने चाय का लुफ्त उठाया। अनजान थे तो लोकल लोगों की राय ली ताकि सही वक्त रहते सही जगह पहुँचा जा सके।

Photo of Omkareshwar trip 3/16 by Ankita Sahu

ओंकारेश्वर और ममलेश्वर नर्मदा नदी के दोनों तट पर स्थित हैं, एक इस किनारे तो दूसरा उस किनारे। लोहे के ब्रिज पर पहुँच कर हमने पवित्र नर्मदा नदी और आस पास के प्राकृतिक नजारे को देखा। नीचे छोटी छोटी नावों सैलानियों को यहाँ की खूबसूरती से मिलवा रही थी। यहाँ की सुंदरता को तस्वीरों में कैद करने के बाद हम दर्शन के लिए पहुँचे। कुछ पुजारियों ने हमारा रास्ता रोका और कहा कि कुछ पैसों के बदले वो हमें ओंकारेश्वर में दर्शन करा देंगे लेकिन मेरा मानना है कि इन पुजारियों के बहकावे में न आये क्योंकि जो मजा और आस्था का अनुभव लम्बी कतारों में आता हैं वह VIP Entry में नहीं। और वैसे भी यहां सामान्य दिनों में शिवलिंग के बाहर अपेक्षाकृत कम ही भीड़ होती हैं जिससे समय का भी उचित प्रबंधन हो जाता है।

Photo of Omkareshwar trip 4/16 by Ankita Sahu

Photo of Omkareshwar trip 5/16 by Ankita Sahu

Photo of Omkareshwar trip 6/16 by Ankita Sahu

इस प्रकार हमने ओंकारेश्वर शिवलिंग के दर्शन किये इसके बाद हम इसी के दूसरी ओर स्थित ममलेश्वर नाव के द्वारा गये। नाव में माँ नर्मदा के घाट की यात्रा बहुत आनंदमय थी। वो नर्मदा का निश्छल पानी, एक ओर मंदिरों से आती ध्वनि, और इन सब में खोकर नाव की सवारी, सब कुछ दुर्लभ एक सपने सा महसूस हो रहा था। शहर की भागती जीवनशैली से दूर आकर नर्मदा किनारे बहुत सुकून महसूस कर रही थी। ‎

Photo of Omkareshwar trip 7/16 by Ankita Sahu

Photo of Omkareshwar trip 8/16 by Ankita Sahu

नाव से ही हम त्रिवेणी घाट भी गये यहाँ माँ नर्मदा 3 धाराओं में विभक्त थी। इसके बाद हम ममलेश्वर मंदिर पहुँचे। ‎

Photo of Omkareshwar trip 9/16 by Ankita Sahu

मान्यता है कि ओंकारेश्वर और ममलेश्वर दो नही बल्कि एक ही ज्योतिर्लिंग है जो माँ नर्मदा के दोनों और स्थित हैं। ममलेश्वर मंदिर काफी पुराना था किन्तु ओंकारेश्वर के समान यहाँ ज्यादा भीड़ नही थी जिससे दर्शन के समय मन में एक अद्भुत शांति की अनुभूति हुई। ‎

Photo of Omkareshwar trip 10/16 by Ankita Sahu

इसके बाद हम गौधारा के दर्शन के लिए गये जहाँ से नर्मदा नदी की गुप्त धारायें निकल रही थी इसके पश्चात कुछ पल शांति का अनुभव करने के लिए हम त्रिवेणी घाट के पास पहुँचे यहां भीड़-भार नहीं थी बस कुछ ही परिवार यहाँ नर्मदा स्नान और पूजा अर्जना कर रहे थे। इन्हीं लोगों से प्रेरित होकर हम लोगों ने भी नर्मदा स्नान किया इसके बाद नर्मदा पूजा अर्जना की।

Photo of Omkareshwar trip 11/16 by Ankita Sahu

‎ नर्मदा पूजा करने के बाद अब पेट पूजा करने का मन बनने लगा तब हम वही पास में MP TOURISM के Resort में Lunch करने पहुँचे

Photo of Omkareshwar trip 12/16 by Ankita Sahu

Photo of Omkareshwar trip 13/16 by Ankita Sahu

Photo of Omkareshwar trip 14/16 by Ankita Sahu

Photo of Omkareshwar trip 15/16 by Ankita Sahu

Photo of Omkareshwar trip 16/16 by Ankita Sahu

‎ Resort में खाना काफी अच्छा और स्वादिष्ट था जिसे खाकर वाकई पेट पूजा पूर्ण हुई। फिर कुछ समय आसपास भ्रमण करने के पश्चात शाम तक हम अपने घर अर्थात इंदौर लौट आये। ‎

Be the first one to comment