गंगटोक: पर्यटन- सिक्किम की धड़कन एक बार जरूर पढ़ें

Tripoto
12th Apr 2017
Day 1

गंगटोक का शहर सिक्किम राज्य में सबसे बड़ा शहर है। पूर्वी हिमालय रेंज में शिवालिक पहाड़ियों के ऊपर 1437 मीटर की ऊंचाई पर स्थित गंगटोक सिक्किम जाने वाले पर्यटकों के बीच एक प्रमुख आकर्षण है। साल 1840 में  एनचेय नाम के मठ के निर्माण के बाद, गंगटोक शहर प्रमुख बौद्ध तीर्थ स्थल के रूप में लोकप्रिय होना भी शुरू हो गया।
18वीं सदी के बाद से सिक्किम में गंगटोक एक महत्वपूर्ण शहर के रूप में बना हुआ है। वर्ष 1894 के दौरान उस समय के सत्तारूढ़ सिक्किम चोग्याल, थुटोब नामग्याल ने सिक्किम को राजधानी के रूप में घोषित किया, 1947  में भारतीय स्वतंत्रता के बाद गंगटोक की राजधानी होने के साथ-साथ सिक्किम एक स्वतंत्र राजशाही के रूप में भी कार्य करता रहा।
बाद में, वर्ष 1975 के दौरान भारत के साथ मिलकर अपने समाकलन के बाद, गंगटोक को देश की  22 वीं राज्य की राजधानी घोषित किया गया था। और आज, सिक्किम कई रोचक बातों के लिये गौरव रखता है- पूर्वी  सिक्किम का मुख्‍यालय और सिक्किम पर्यटन का मुख्‍य आधार तिब्‍बती बौद्ध संस्‍कृति को सीखने का मुख्‍य केंद्र है, क्‍योंकि यहां विभिन्‍न मठ, धार्मिक शिक्षा केंद्र और तिब्‍बतशास्‍त्र के

Photo of गंगटोक: पर्यटन- सिक्किम की धड़कन एक बार जरूर पढ़ें by Faisal Ansari
Photo of गंगटोक: पर्यटन- सिक्किम की धड़कन एक बार जरूर पढ़ें by Faisal Ansari
Photo of गंगटोक: पर्यटन- सिक्किम की धड़कन एक बार जरूर पढ़ें by Faisal Ansari
Be the first one to comment