कश्मीर की रेल यात्रा: जन्नत से गुज़रती जादुई सवारी

Tripoto
Photo of कश्मीर की रेल यात्रा: जन्नत से गुज़रती जादुई सवारी by Kanj Saurav

"गर फिरदौस बर रूए ज़मीं अस्त,

हमीं अस्त ओ हमीं अस्त ओ हमीं अस्त।" - अमीर खुसरो

अगर धरती पर कहीं स्वर्ग है, तो वो यहीं है, यहीं है, यहीं है ... कश्मीर में।

Photo of कश्मीर की रेल यात्रा: जन्नत से गुज़रती जादुई सवारी 1/4 by Kanj Saurav

कश्मीर की मोहक घाटी जो सर्दियों में सफेद धुंद और बर्फ की सफेद चादर से ढक जाती है, वसंत-ग्रीष्मकाल में अपने चमकदार हरे, नीले और खूबसूरत रंगों के साथ बेशक भारत की सबसे खूबसूरत जगहों में से एक है। हालांकि, किसी को भी कश्मीर रेलवे के बारे में ज़्यादा कुछ पता नहीं है जो इसकी सुंदरता का असल मायने में एक बेहतरीन अनुभव देता है जो हमेशा के लिए आपकी यादों में बस जाता है।

कश्मीर घाटी के बीच से गुज़रती बनिहाल-बारामुल्ला रेलवे लाइन स्वर्ग की सच्ची तस्वीर का अनुभव करने और क़रीबी से घाटी और यहाँ के निवासियों को समझने का सबसे अच्छा तरीका है। ये 119 कि.मी. लंबा ब्रॉड गेज रेल मार्ग जम्मू-बारामुल्ला रेल मार्ग का एक हिस्सा है जिसे 2022 तक पूरी तरह से काम में लाने का प्लान है। फिलहाल, उधमपुर और बनिहाल के बीच के हिस्से पर रेलमार्ग बनने का काम जारी है। एक बार पूरा होने के बाद, मार्ग राज्य की राजधानी श्रीनगर को भारत के प्रमुख शहरों जैसे नई दिल्ली से रेलवे नेटवर्क के ज़रिए जोड़ देगा।

बनिहाल कश्मीर घाटी की सीमा पर बसा हुआ है और हिमालय की पीर-पंजाल रेंज के दक्षिणी छोर के सामने पड़ता है। चमकदार लाल रेलगाड़ियाँ स्टेशन से बाहर निकलकर कुछ ही देर में भारत की सबसे बड़े रेलवे सुरंग (11.2 कि.मी. लंबी) से गुज़रती है और पीर-पंजाल रेंज को पार करती हुई काज़ीगुंड पहुँचती है। यह वो जगह है जहाँ आपकी आँखें विशाल कश्मीरी मैदानों को देख सकती हैं, जहाँ बकरवाल अपनी भेड़ों को चराते हुए दिखाई देंगे।

झेलम और इसकी उपनदियों के साथ दौड़ती हुई ट्रेन को अनंतनाग और श्रीनगर जैसे घाटी के कुछ अहम स्टेशनों तक पहुँचने में लंबा समय नहीं लगता। बनिहाल और श्रीनगर के बीच की दूरी 78 कि.मी. है, और ट्रेन को इसे कवर करने में लगभग 1.5 घंटा लगता है। बारामुल्ला तक रूट की पूरी लंबाई लगभग 2 घंटे में कवर हो जाती है। सबसे बढ़िया बात, बनिहाल से श्रीनगर का टिकट केवल ₹20 है, और भारत के अन्य हिस्सों की ट्रेनों से अलग, ट्रेनों को पूरी तरह से आरामदायक और बेहतर चेयर कार सीटों और बड़ी ग्लास खिड़कियों से लैस किया गया है एक बेहतरीन नज़ारा पेश करती हैं। ट्रेन में सेंट्रल हीटिंग सिस्टम भी है। ये ट्रेन बनिहाल और बारामुल्ला से हर रोज़ सूर्योदय से आधी रात तक हर घंटे के अंतराल में चलती रहती हैं।

तो अगली बार जब आप कश्मीर में हों, तो आपको भारतीय रेल के इस सबसे उत्तरीय छोर की अनोखी यात्रा ज़रूर करनी चाहिए।

कैसे जाएँ?

जम्मू-बारामुल्ला रेल मार्ग के सभी भागों के पूरे होने तक आप जम्मू से बनिहाल तक बस या टैक्सी ले सकते हैं और श्रीनगर या बारामुल्ला पहुँच सकते हैं। अगर श्रीनगर से आ रहे हैं तो श्रीनगर रेलवे स्टेशन दल गेट से 11 कि.मी. की दूरी पर है, और बडगाम रेलवे स्टेशन श्रीनगर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से करीब 8 कि.मी. दूर है।

कहाँ घूमें?

श्रीनगर से आप घाटी में , दक्षिण की ओर अनंतनाग की यात्रा कर सकते हैं, जो पहलगाम, वेरीनाग और कोकेरनाग जैसी जगहों से पास है, या फिर उत्तर की ओर बारामुल्ला जा सकते हैं जो वूलर झील, गुलमर्ग और युसमर्ग तक पहुँचने के लिए एक जंक्शन है। बारामुल्ला-बनिहाल रेलवे लाइन पर घाटी से कुछ बेहतरीन नज़ारे मिलते हैं:

1. वेरिनाग- काजीगुंड या हिलर शाहबाद में ट्रेन से उतरें और कोई लोकल ट्रांसपोर्ट लें जो आपको झेलम नदी की शुरुआती बिंदु, वेरिनाग तक ले जाएगा, जिसका महान इतिहास हिंदू पौराणिक कथाओं और मुगल कहानियों में गढ़ा हुआ है।

Photo of कश्मीर की रेल यात्रा: जन्नत से गुज़रती जादुई सवारी 4/4 by Kanj Saurav
श्रेय: संदीपा चेतन

2. पहलगाम- आप अनंतनाग जाएँ, और एक घंटे में आप कश्मीर के सबसे खूबसूरत स्थानों में से एक पहलगाम में होंगे। पहलगाम से, आप अरु घाटी जा सकते हैं (ये वो जगह जहाँ फिल्म हाईवे में वीरा को पहाड़ों में घर मिलता है); माउंट कोलाहोई तक ट्रेक करें; मरसर तरसर ट्रेक के लिए जा सकते हैं, या चंद्रनाथ, जो अमरनाथ यात्रा का बेस पॉइंट है।

Photo of पहलगाम by Kanj Saurav

3. वूलर झील- रेलवे लाइन पर सोपोर के ज़रिए वूलर झील तक पहुँचा जा सकता है। यह एशिया की सबसे बड़ी ताज़ा पानी की झीलों में से एक है। दल झील की भीड़ से दूर, यह जगह बेशक आपके अंदर के बर्ड-वॉचर को खुश कर देगी।

श्रेय: आइ एस ओ

Photo of कश्मीर की रेल यात्रा: जन्नत से गुज़रती जादुई सवारी by Kanj Saurav

4. मजहोम- अगर आप पारंपरिक शिल्प या ऊन खरीदने की फिराक में हैं, तो सीधे मजहोम पहुँचें। यह घाटी में क्राफ्टिंग का केंद्र है, और आप यहाँ से गुलमर्ग के बर्फ से ढके पहाड़ों के बीच सेब, क्लैड, चेस्टनट और चेरी फार्म के आस-पास बनी दुकानों से पश्मीना शॉल खरीद सकते हैं।

श्रेय: सौम्यदीप पॉल

Photo of कश्मीर की रेल यात्रा: जन्नत से गुज़रती जादुई सवारी by Kanj Saurav

5. गुलमर्ग- आप मजहोम या बारामुल्ला स्टेशन से गुलमर्ग जा सकते हैं। गुलमर्ग के बर्फीले पहाड़ों तक पहुँचने के लिए आप रेलवे स्टेशन से टैक्सी ले सकते हैं।

Photo of गुलमर्ग by Kanj Saurav

इसके अलावा भी बहुत कुछ है जिसका मज़ा आप घाटी में ले सकते हैं, आप यात्रा के दौरान कहीं भी उतर कर घाटियों पर थोड़ी देर धुप में सुस्ता सकते हैं और अपने सफर के लिए अगली ट्रेन ले सकते हैं। क्या इससे बेहतर कुछ होगा?

अपने सफर के अनोखे अनुभव बाँटें और विश्व भर के यात्रियों से जुड़ें Tripoto हिंदी पर।

यह आर्टिकल अनुवादित है, ओरिजिनल आर्टिकल के लिए यहाँ क्लिक करें।