भारत की सबसे खतरनाक जगहें –

Tripoto
5th May 2021
Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani
Day 1

भारत विभिन्न विविधतायों से भरा देश है जो अपनी समृद्ध संस्कृति से लेकर अपनी परम्परायों तक, प्राकृतिक सुन्दरता से लेकर एडवेंचर एक्टिविटीज तक और मंत्रमुग्ध कर देने वाले पर्यटक स्थलों से लेकर साल भर मनाये जाने वाले उत्सवो तक हर किसी के लिए पूरी दुनिया में जाना जाता है। चलिए ये बात तो भारत की खूबसूरती और अद्भुद सुन्दरता की हुई लेकिन क्या आप जानते है ? इनके साथ साथ भारत कई रहस्यमयी, भूतियाँ और खतरनाक जगहों का घर भी है जहाँ लोगो का जाना कई बार मौत के मुह में जाने के बराबर साबित होता है। लेकिन ऐसा भी नही भी हैं की यहाँ पर्यटक जाना पसंद नही करते “भारत की खतरनाक जगहें” खतरनाक होने के साथ साथ रोमांच से भी भरपूर है जो साहसिक पर्यटकों को काफी आकर्षित करती है।

Tripoto हिंदी के इंस्टाग्राम से जुड़ें

यदि आप रोमांच प्रेमी है और आपको खतरों से खेलना पसंद है तो आप इंडिया के डेंजरस प्लेसेस घूमने जा सकते है जिनके बारे में हम आपको बताने जा रहे है, लेकिन यदि आप कमजोर दिल है तो भारत की खतरनाक जगहें पर जाने की सोचे भी नही क्योंकि इन जगहें पर काफी जोखिम होता है और जान खतरा भी बना रहता है

द्रास जम्मू कश्मीर –

Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani

अक्सर ‘गेटवे टू लद्दाख’ के रूप में जाना जाने वाला द्रास भारत की सबसे खतरनाक जगहें में से एक है। जमीन से लगभग 10,597 फीट की ऊंचाई पर स्थित द्रास पूरी दुनिया की दूसरी सबसे ठंडी जगह है जहाँ तापमान अक्सर -45 डिग्री सेल्सियस तक गिर जाता है और यहां दर्ज सबसे कम तापमान -60 डिग्री सेल्सियस था। ठन्डी जगह होने के साथ साथ द्रास आतंकवादियों का बसेरा भी है जहाँ आये दिन हमले होते रहते है जिस वजह से इसे भारत की जानलेवा जगहें में शामिल किया गया है। इस विचित्र छोटे से पहाड़ के गांव की गहन सुंदरता है भी मंत्रमुग्ध कर देने वाली है लेकिन ठंडी जगहें और आतंकवादि खतरों के वजह से यहाँ कोई जाना पसंद नही करता है क्योंकि इस जगह पर जाना मौत के मुह में जाने के बराबर माना जाता है।

डुमस बीच गुजरात

Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani

गुजरात राज्य में स्थित डुमस बीच अपने अद्भुत समुद्र तट और काली रेत के लिए जाना जाता है। अरब सागर के किनारे स्थित डुमस बीच पहले हिंदुओं के लिए एक शमसान घाट था। ऐसा माना जाता है कि जलने के बाद शवों की राख को रेत के साथ मिलाया जाता है। इसलिए, डुमास बीच में गहरे काले रंग की रेत है, जो भारत के किसी भी बीच पर नहीं है। दिन में तो इस बीच पर पर्यटकों और स्थानीय लोगो की काफी भीड़ देखी जाती है लेकिन सूर्यास्त के बाद यही भीड़ और चहलपहल सन्नाटे में बदल जाती है क्योंकि सूर्यास्त के बाद यहाँ जगह काफी डरावनी और भयानक हो जाती है। जिस वजह से रात के समय इस बीच पर जाना प्रतिबंधित है हालाकि कुछ लोग इस बीच के डरावने माहौल को महसुसू करने के लिए रात में यहाँ जाने का प्रयास भी करते है। लेकिन आप ऐसा बिलकुल ना करें क्योंकि रात के समय यहाँ से कई अजीबोगरीब घटनाएँ सामने आई है जो इसे इंडिया की डेंजरस प्लेसेस में से एक बनाती है।

रोहतांग दर्रा –

Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani

हिमालय की पूर्वी पीर पंजाल रेंज पर 3979 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, रोहतांग दर्रा भारत की सबसे खतरनाक जगहें में से एक है। रोहतांग दर्रा एक खतरनाक मार्ग के साथ साथ हिमाचल प्रदेश का प्रमुख पर्यटक स्थल भी है, जो खतरों के बाबजूद भी बड़ी संख्या में रोमांच प्रेमी पर्यटकों को आकर्षित करता है। रोहतांग का अर्थ है ‘लाशों का मैदान’, जो इसके साथ जुड़े खतरे का सुझाव देता है। यह दर्रा भूस्खलन और चरम जलवायु परिस्थितियों के लिए असुरक्षित है अक्सर इस मौसम के दौरान रोहतांग दर्रा की यात्रा से बचने की सलाह दी जाती है। संकीर्ण सड़क, घुमावदार मोड़, अचानक बर्फबारी, अप्रत्याशित भूस्खलन और बर्फानी तूफान इसे भारत की सबसे जानलेवा जगहें और भारत की सबसे खतरनाक सड़के में से एक बना देती है।

यह मार्ग मई से नवंबर तक खुला रहता है और यह इतना खतरनाक है और जानलेवा है की इस सड़क के अन्य विकल्प के रूप में भारत सरकार ने अटल सड़क सुरंग का निर्माण करना पड़ा।

गुरेज़ घाटी जम्मू कश्मीर –

Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani

श्रीनगर से लगभग 130 किलोमीटर की दूरी पर स्थित, गुरेज़ घाटी, परिदृश्य, पहाड़ों और नदियों का एक सुंदर मिश्रण है जो बिलकुल स्वर्ग के सामान है। यह हिमालय की गहराई में स्थित है और कई यात्री आज भी इस छिपे हुए रत्न से अनजान हैं। इस घाटी को इंडिया के डेंजरस प्लेसेस में भी गिना जाता है जिसका मुख्य कारण नियंत्रण रेखा’ के निकट स्थित होना है। यहाँ ना केवल केवल दुश्मन को खतरा है, होता बल्कि कई बारूदी सुरंगें होने की खबरे भी सामने आती रही हैं। कहाँ जाता है इस इलाके में अभी तक 80 से जाड्या बारूदी सुरंगो की खोज की जा चुकी है। इनके साथ साथ यह खूबसूरत जगह हिमस्खलन की चपेट में है, जिसमें कुछ सैनिकों सहित कई स्थानीय लोग मारे जा चुके है। इन खतरों के बाबजूद भी पर्यटक इसकी सुन्दरता से मंत्रमुग्ध होने के लिए आते है। लेकिन यदि आप कमजोर दिल है तो इस जगह पर आने से बचे क्योंकि यहाँ अगले पल क्या हो जाये किसी को पता नही होता।

कुलधरा गांव राजस्थान –

Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani

भारत की सबसे खतरनाक और जानलेवा जगहें में से एक कुलधरा राजस्थान की एक ऐसी जगह है जो करीब 170 सालों से वीरान पड़ा है। इस गांव में कोई भी इंसान रात में तो छोडिये दिन में भी अकेले जाने की हिम्मत नहीं करता। इस जगह को एक अभिशाप भूमि भी बताया जाता है। जब उस पापी दीवान से अपनी बेटिओं को बचाने के लिए गांव वालो ने इस जगह को खाली किया था तो उन्होंने जाते-जाते श्राप दिया था, कि अब यहां न कोई रह पायेगा न कोई जन्म लेगा। दिल्ली की परनोमल एजेंसी द्वारा कुलधरा गांव में डिटेक्टरों और भूत-बॉक्स में यहाँ के मृत लोगो की आवाज़ रिकॉर्ड की गई है और उन्होंने अपना नाम भी बताया है। इसके अलावा यहां आने वाले पर्यटकों को यहां महिलाओं की चूड़ियों की आवाज़ भी सुनाई दी है।

कोल्ली हिल्स –

Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani

कोल्ली हिल्स तमिलनाडु राज्य की सबसे खतरनाक पहाड़ी और भारत की सबसे खतरनाक जगहें में से एक है जिसे “मौत का पहाड़” कहा जाता है। इस बात से आप अंदाजा लगा सकते है यह जगह कितनी जानलेवा हो सकती है। बता दे कोल्ली हिल्स में 70 निरंतर हेयरपिन बेंड हैं जो कई मोटरसाइकिल उत्साही, हाइकर्स और ट्रेकर्स को आकर्षित करते हैं। लेकिन यह सड़क खतरे से भी भरपूर है जहाँ आयें दिन सड़क दुर्घटनायों की न्यूज़ सामने आती रहती है। कोल्ली हिल्स सड़क संकरी घुमावदार जगहों से भरी है जहाँ सामने से आने वाला वाहन अंतिम समय तक दिखाई नही देता है। इसीलिए यहाँ अनुभवहीन ड्राईवरों और कमजोर दिल के व्यक्तियों को ड्राइव ना करने के साफ साफ़ निर्देश है।

इस हिल से एक रहस्यमयी और डरावनी कहानी भी जुडी हुई है जिसने लोगो के दिल में खौफ पैदा कर रखा है। वह एक रहस्यमय युवती की कहानी है जो यात्रियों को सड़क पर फुसलाती है और अंत में उन्हें मार देती है।

थार डेसर्ट राजस्थान –

Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani

भारत में लगभग 2,08,110 किलोमीटर थार डेसर्ट अनन्त रेत के टीलों और असली सुंदरता के साथ साथ अपनों खतरों के लिए भी जाना जाता है। थार रेगिस्तान अनगिनत घातक प्राणियों का घर है जो इसे इंडिया की मोस्ट डेंजरस प्लेसेस में से एक बनाती है। यदि आप रेगिस्तान के शुष्क वातावरण को सहने की झमता रखते है और थार डेसर्ट राजस्थान घूमने जाने वाले है तो तो खतरे से सावधान रहें! क्योंकि ब्लैक कोबरा, सैंड बोआ, सॉ स्केल्ड वाइपर, रैट स्नेक जैसे विषैले सांपों की 20 से अधिक प्रजातियों की मौजूदगी है,जिनसे यहाँ आने वाले पर्यटकों को हमेशा खतरा बना रहता है।

भानगढ़ का किला राजस्थान –

Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani

राजस्थान के अलवर जिले की अरावली पर्वतमाला में सरिस्का अभ्यारण्य की सीमा पर स्थित भानगढ़ का किला भारत की सबसे खतरनाक और भूतियाँ जगहें में से एक है जिसकी गिनती दुनिया की सबसे डरावनी जगहों में भी की जाती है। यह किला अपने भूतियाँ कहानियों और प्रेतवाधित गतिविधियों के कारण भारत की सबसे खतरनाक जगहें में से एक बना हुआ है। आपको बता दें कि किले के परिसर में भूतिया अनुभवों और घटनाओं के डर की वजह से गाँव भी बहुत जाकर बस गये है। हलाकि यह किला पर्यटकों के लिए खुला है लेकिन शाम 6 बजे के बाद किले के अन्दर जाना पुर्णतः प्रतिवंधित है। यदि आप साहसिक व्यक्ति है और ऐसी घटनाओं को महसुसू करना चाहते है तो आप भानगढ़ फोर्ट घूमने जा सकते है। लेकिन यदि आप हार्ट के मरीज हैं तो हम आपको इस जगह पर आने से बचने की सलाह देगें।

किश्तवाड़ सड़क –

Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani

जम्मू और कश्मीर के पूर्व में किश्तवाड़ जिले में 6451 मीटर की ऊंचाई पर स्थित किश्तवाड़ सड़क भारत की सबसे खतरनाक और दिल देहला देने वाली सड़को में से एक है। किश्तवाड़ मार्ग की लगभग 100 किलोमीटर है जो चिनाब नदी के साथ साथ चलती है। यह सकरी सड़क बिना रेलिंग और किनारों की बिना आगे बढती है, इसीलिए इस सड़क पर अत्यधिक कुशल ड्राइवरों की आवश्यकता होती है। क्योंकि इस सड़क पर थोड़ी सी भी चुक एक बड़े हादसे को आमंत्रित करती है जिस पार्क कई जानलेवा हादसों की खबरे भी सामने आई हैं।

सिजू गुफा –

Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani

सिजू गुफा, जिसे “बैट केव” के रूप में जाना जाता है, जो अपने स्टैलेग्मिट्स और स्टैलेक्टाइट्स के लिए प्रसिद्ध है। यह एक चूना पत्थर की गुफा है, जो 4 किलोमीटर से अधिक लंबी है जिसमे पानी भरा हुआ है। इस गुफा के अन्दर जाना काफी जोखिम से भरा होता है क्योंकि इसमें कई पानी की गहराई एक दम से बढ़ जाती है इसके अलावा इसके अन्दर सांस लेने में भी तकलीफ होती है। इसीलिए यदि आप जोखिम लेने के लिए तैयार हो तो ही इस गुफा के अन्दर जाएँ नही तो बाहर से ही इस गुफा को देखें।

फुगताल मठ –

Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani

फुकताल या फुगताल मठ एक अलग मठ है जो लद्दाख में जांस्कर क्षेत्र के दक्षिणी और पूर्वी भाग में स्थित है जिसकी गिनती भारत की सबसे खतरनाक जगहें में की जाती है। यह 2250 साल पुराना मठ उस स्थान पर स्थित है जहाँ पहले एक प्राकृतिक गुफा थी जहां भिक्षुओं ने ध्यान किया था। मठ तक सिर्फ पैदल ही पहुचा जा सकता है जो काफी खतरनाक और जानलेवा होता है क्योंकि यह रास्ता काफी कठनाइयों भरा होता जिसमे 6-8 घंटे लगते हैं। यदि आप रोमांच प्रेमी है तो आप यहाँ घूमने आ सकते है क्योंकि यह ट्रेकिंग प्रेमियों के लिए एक बहुत खास जगह है।

खारदुंग ला दर्रा –

Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani

खारदुंग ला पास जम्मू और कश्मीर के लद्दाख क्षेत्र में लेह के पास स्थित एक उच्च पहाड़ी दर्रा है जिसकी गिनती दुनिया की सबसे ऊँची सडको में की जाती है। यह सड़क जम्मू और कश्मीर में 5602 मीटर पर स्थित खारदुंग ला पास से होकर गुजरती है जो बर्फबारी के वजह से काफी फिसलन भरी होती है जो इसे बहुत ही खतरनाक बनाती है। लेकिन खतरनाक होने के साथ साथ यह सड़क रोमांच से भी भरी हुई है जो हर साल बड़ी संख्या में बाईकर्स को अपनी तरफ अट्रेक्ट करती है। लेकिन यदि आपको ऐसी जगह पर ड्राइव करने का अनुभव नही है तो यहाँ ड्राइव करने के बारे में बिलकुल ना सोचें क्योंकि यहाँ एक छोटी सी गलती बड़ी दुर्घटना का कारण बन जाती है।

चेन्नई-रामेश्वरम रेलवे ट्रेक –

Photo of भारत की सबसे खतरनाक जगहें – by Pooja Tomar Kshatrani

चेन्नई और रामेश्वरम को जोड़ने वाली चेन्नई-रामेश्वरम रूट भारत की तो छोडिये दुनिया के सबसे खतरनाक और रोमांचक रेलवे ट्रेक्स में से एक है। इस रूट का सबसे खतरनाक हिस्सा हिंद महासागर के ऊपर बनाया गया पंबन ब्रिज है यह एक 2.3 किमी लंबा पुल है जो 1914 में समुद्र में बनाया गया था। यह पुल उस समय रोमांच और खतरों से भर जाता है जब कभी-कभी समुद्री जल से भर जाता है और समुद्र से आने वाली लहरे क्रॉसिंग में बाधा उत्पन्न करती है। जिससे ट्रेनों को केवल चार मीटर प्रति सेकंड की गति के लिए मजबूर होना पड़ता है। यह ब्रिज भारतीय इंजीनियरिंग की कड़ी मेहनत और रचनात्मकता का प्रतिनिधित्व करता है।

कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, हमें कमेंट बॉक्स में बताएँ।

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা  और  Tripoto  ગુજરાતી फॉलो करें

Tripoto हिंदी के इंस्टाग्राम से जुड़ें और फ़ीचर होने का मौक़ा पाएँ।