Mechuka valley - अरुणाचल प्रदेश का ऐसा खूबसूरत हिल स्टेशन जो है नेचर और एडवेंचर लवर्स के लिए बेस्ट

Tripoto
17th Oct 2023
Photo of Mechuka valley - अरुणाचल प्रदेश का ऐसा खूबसूरत हिल स्टेशन जो है नेचर और एडवेंचर लवर्स के लिए बेस्ट by Pooja Tomar Kshatrani
Day 1

भारत की सबसे खूबसूरत जगह कौन सी है? वही कश्मीर, केरल, गोवा के नाम आप बता दोगे। कुछ जगहें अब भी इंटरनेट की दुनिया से छिपी हुई है। इन फैक्ट "मेचुका" में तो 2023 में भी इंटरनेट का कनेक्शन नहीं पहुंचा है, और तो और यहां खुद भी पहुंचना थोड़ा मुश्किल है। जगह से ज्यादा तो यहां के लोग आपका दिल जीत लेंगे। मनमोहक नजारों और समृद्ध सांस्कृतिक विरासत समेटे मेचुका वैली अरुणाचल प्रदेश का एक बेहद खूबसूरत हिल स्टेशन है। अगर आप नेचर लवर हैं, तो यहां एक्सप्लोर करने के लिए काफी कुछ है। यह अरुणाचल प्रदेश के शि-योमी जिले में स्थित है।समुद्र तल से लगभग 6000 फीट की ऊंचाई पर स्थित इस जगह को अरुणाचल प्रदेश आकर देखना न भूलें। अगर आप घूमने के अलावा अरुणाचल प्रदेश के कल्चर को करीब से देखना- जानना चाहते हैं, तो आपको यहां जरूर आना चाहिए।

मेचुका वैली के आसपास देखने लायक जगहें

Photo of Mechuka valley - अरुणाचल प्रदेश का ऐसा खूबसूरत हिल स्टेशन जो है नेचर और एडवेंचर लवर्स के लिए बेस्ट by Pooja Tomar Kshatrani

मेचुका के हर कोने में कई सुरम्य स्थान हैं। आप प्रकृति की सुंदरता को देखने और उसकी प्रशंसा करने में कभी थकते नहीं हैं। इसलिए इसे "मिनी स्विट्जरलैंड" के नाम से भी जाना जाता है। मेचुका में कुछ शीर्ष आकर्षण दोर्जिलिंग गांव, हनुमान पॉइंट, गुरु नानक तपोस्थान और गुरुद्वारा, न्यू गोम्पा, मेचुका बस्ती,  सैमटेन योंगचा मठ (पुराना गोम्पा) आदि हैं। 

इनके अलावा आप मेंगांग गांव में 1962 का वाॅर प्वाइंट भी देख सकते हैं, जहां भारत-चीन युद्ध हुआ था। आप शानदार लामांग और यारलुंग कैंप भी देख सकते हैं। लमांग की ओर जाने वाली सड़क बहुत सुंदर है और शंकुधारी जंगलों से होकर गुजरती है।

1. सिको डिडो वाटरफॉल

Photo of Mechuka valley - अरुणाचल प्रदेश का ऐसा खूबसूरत हिल स्टेशन जो है नेचर और एडवेंचर लवर्स के लिए बेस्ट by Pooja Tomar Kshatrani

मेचुका के रास्ते में स्थित शानदार "सिको डिडो वाटरफॉल" एक अवश्य देखने जगह है। यह विशाल झरना एक मनमोहक दृश्य और इस क्षेत्र की प्राकृतिक सुंदरता को बढ़ाता है। झरने के पास कुछ छोटे भोजनालय हैं जहाँ आप दृश्यों को निहारते हुए एक कप चाय या मैगी नूडल्स का आनंद ले सकते हैं।

2. दार्जिलिंग विलेज

Photo of Mechuka valley - अरुणाचल प्रदेश का ऐसा खूबसूरत हिल स्टेशन जो है नेचर और एडवेंचर लवर्स के लिए बेस्ट by Pooja Tomar Kshatrani

सुरम्य गांव मेचुका मंत्रमुग्ध कर देने वाली सुंदरता का एक अद्वितीय दृश्य प्रस्तुत करता है। पर्यटक इस गाँव की सुंदर पहाड़ियों और आश्चर्यजनक दृश्यों को देखकर खो जाते हैं। यह अनोखा गाँव पहाड़ों और झोपड़ियों से सुसज्जित है और इसमें एक सुंदर हरी घाटी है जो घोड़ों के लिए चरागाह के रूप में काम करती है। हम सलाह देंगे इस गांव की असली प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लेना है तो पैदल ही गाँव का भ्रमण करे। इसके अतिरिक्त, मंत्रमुग्ध कर देने वाली सियोम नदी गाँव से होकर बहती है, जो इसके आकर्षण को बढ़ाती है। पर्यटक सलमान खान व्यू प्वाइंट भी देख सकते हैं , जो गांव का एक लोकप्रिय आकर्षण है।

3. सियोम नदी

Photo of Mechuka valley - अरुणाचल प्रदेश का ऐसा खूबसूरत हिल स्टेशन जो है नेचर और एडवेंचर लवर्स के लिए बेस्ट by Pooja Tomar Kshatrani

रोमांचक सियोम नदी मेचुका के सुरम्य शहर से होकर बहती है, जो अपने आगंतुकों के लिए आश्चर्यजनक दृश्य पेश करती है। एक रोमांचक अनुभव के लिए, कोई भी सुबह-सुबह सियोम नदी के तट पर जा सकता है और क्रिस्टल-साफ़ पानी का आनंद ले सकता है।नदी पर बने झूलते पुलों को पार करना आपके एंजॉय को और बढ़ा सकता है।

3. गुरु नानक तपोस्थान और गुरुद्वारा

Photo of Mechuka valley - अरुणाचल प्रदेश का ऐसा खूबसूरत हिल स्टेशन जो है नेचर और एडवेंचर लवर्स के लिए बेस्ट by Pooja Tomar Kshatrani

गुरुद्वारा एक महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल है जो एक पहाड़ी के ऊपर स्थित है और इसका रखरखाव भारतीय सेना द्वारा किया जाता है। गुरुद्वारा की स्थापना 1980 में भारतीय सेना के सिख सैनिकों द्वारा की गई थी और यहां आगंतुकों को दोपहर के भोजन के दौरान मुफ्त भोजन प्रदान किया जाता है। ऐसा कहा जाता है कि गुरु नानक जी ने तिब्बत की यात्रा के दौरान यहां रुककर ध्यान किया था और पास में ही तपोस्थान है, जहां उनके शरीर की छाप देखी जा सकती है। पर्यटक तपोस्थान के पास नदी में भाग्यशाली पत्थर ढूंढकर भी अपनी किस्मत आजमा सकते हैं। जबकि स्थानीय लोगों का मानना ​​है कि यह छाप बौद्ध गुरु पद्मसंभव की थी, गुरुद्वारा अभी भी मेचुका में भारतीय सेना के महान आतिथ्य का प्रतीक है।

4. हनुमान प्वाइंट

Photo of Mechuka valley - अरुणाचल प्रदेश का ऐसा खूबसूरत हिल स्टेशन जो है नेचर और एडवेंचर लवर्स के लिए बेस्ट by Pooja Tomar Kshatrani

लमांग में भारत-तिब्बत सीमा के रास्ते पर स्थित , एक पहाड़ी की चोटी पर भगवान हनुमान के चेहरे के आकार की एक आकर्षक चट्टान दिखाई देती है। दृष्टिकोण बिंदु से आसपास के पहाड़ों और घाटियों का आश्चर्यजनक दृश्य इसे पर्यटकों के लिए रुकने और लुभावने दृश्यों का आनंद लेने के लिए एक लोकप्रिय स्थान बनाता है।

5. सामतेन योंगचा मठ

Photo of Mechuka valley - अरुणाचल प्रदेश का ऐसा खूबसूरत हिल स्टेशन जो है नेचर और एडवेंचर लवर्स के लिए बेस्ट by Pooja Tomar Kshatrani

मेचुका घाटी के प्रमुख आकर्षणों में से एक सामतेन योंगचा मठ है,  जो 400 साल पुराना मठ है जो मेचुका में एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। यह अरुणाचल प्रदेश में सबसे लोकप्रिय बौद्ध मठों में से एक है। ध्यान मुद्रा में बैठे भगवान बुद्ध की विशाल स्वर्ण प्रतिमा प्रत्येक आगंतुक के हृदय को असीम शांति और संतुष्टि से भर देती है। वहां से, पर्यटक पूरे शहर और आसपास की घाटी के विहंगम दृश्य का आनंद ले सकते हैं। रात के समय ऊपर से मेचुका शहर का दृश्य भी मनमोहक होता है। मठ में अद्वितीय नक्काशी, स्मारक और प्राचीन तिब्बती बौद्ध धर्म से संबंधित पुस्तकें हैं।

6. लामांग और यारलुंग कैंप

Photo of Mechuka valley - अरुणाचल प्रदेश का ऐसा खूबसूरत हिल स्टेशन जो है नेचर और एडवेंचर लवर्स के लिए बेस्ट by Pooja Tomar Kshatrani

भारत-तिब्बत सीमा पर स्थित, लमांग मेचुका में एक प्राचीन और दूरस्थ स्थान है। यह भारत में आखिरी पोस्ट है जहां आगंतुकों को अनुमति है। आगंतुकों को लामांग जाने के लिए परमिट लेना पड़ता है, जो मेचुका शहर में किया जा सकता है। लामांग की ओर जाने वाली सड़क संकरी है और खूबसूरत जंगलों, पेड़ों और आश्चर्यजनक झरनों से होकर गुजरती है। इस जगह की खूबसूरती को शब्दों में बयां करना मुश्किल है। 

यहां आने का सबसे अच्छा समय

Photo of Mechuka valley - अरुणाचल प्रदेश का ऐसा खूबसूरत हिल स्टेशन जो है नेचर और एडवेंचर लवर्स के लिए बेस्ट by Pooja Tomar Kshatrani

यदि आप फरवरी में मेचुका वैली में छुट्टियाँ मनाने की योजना बना रहे हैं, तो लोसार महोत्सव को न भूलें  - यह उत्सव नए साल के स्वागत के लिए मनाया जाता है जो पंद्रह दिनों तक चलता है। अरुणाचल प्रदेश का एक अन्य प्रमुख त्यौहार  मोपिन महोत्सव है - कल्याण और समृद्धि के लिए मार्च या अप्रैल में आयोजित पांच दिवसीय त्यौहार है, जो गैलो आदि जनजाति द्वारा मनाया जाता है।नवंबर में आयोजित होने वाला मेचुका एडवेंचर फेस्टिवल लंबी पैदल यात्रा, पैराग्लाइडिंग, हॉट एयर बैलूनिंग आदि का आनंद लेने का सबसे अच्छा समय है।

कैसे पहुंचें मेचुका वैली

सड़क मार्ग द्वारा:  मेचुका सड़क माध्यम से आसानी से पहुंचा जा सकता है। अलोंग  या  आलो  मेचुका पहुंचने के लिए निकटतम शहर है जो डिब्रूगढ़ से लिकाबाली सीमा के माध्यम से 192 किमी (6 घंटे) दूर है। अलोंग से दूरी लगभग 190 किमी है, जिसे तय करने में सड़क की स्थिति के आधार पर लगभग 6-7 घंटे लगते हैं। गुवाहाटी से आप डिब्रूगढ़ या पासीघाट होते हुए मेचुका पहुंच सकते हैं।

हवाई मार्ग से: असम के डिब्रूगढ़ में मोहनबाड़ी हवाई अड्डा निकटतम हवाई अड्डा है। अन्य नजदीकी हवाई अड्डे लखीमपुर में हैं जो मेचुका से लगभग 420 किमी दूर है।

ट्रेन द्वारा: असम में सिमेन चापारी निकटतम रेलवे स्टेशन है जो 134 किमी दूर है।

अन्य टिप्स :

1. शहर में केवल एक पेट्रोल पंप और एक एटीएम उपलब्ध है, इसलिए कृपया अपने साथ पर्याप्त कैश रखें।

2. यहां आज तक केवल बीएसएनएल मोबाइल नेटवर्क ही उपलब्ध है।

3. यह शहर सुविधाजनक स्कूटर/बाइक किराये की सुविधा प्रदान करता है, जिससे आप इत्मीनान से गाँव का भ्रमण कर सकते हैं।

4. आप अपने दिन की शुरुआत जल्दी करके मेचुका की अपनी यात्रा का अधिकतम लाभ उठा सकते हैं, क्योंकि इस सुंदर शहर में सूरज काफी पहले उग जाता है।

5. मेचुका की सड़क संकीर्ण हिस्सों और कुछ क्षेत्रों में खराब परिस्थितियों के कारण चुनौतीपूर्ण हो सकती है, जिसके परिणामस्वरूप यातायात के कारण देरी हो सकती है।

More By This Author

Further Reads