Ram Raja Mandir 1/4 by Tripoto
9am to 1pm
9am-1pm & 7-11pm
Exploring
Free/ Offering made to Lord Ram
All year
Families, Friends
4 out of 15 attractions in Orchha

Ram Raja Mandir

This is the only temple where Lord Ram is worshipped as King. Locales tell you better that Lord Rama is given a gun salute as an honor to him. The temple is the heart of the city around which stand all the other monuments. Ram Raja temple is also known as Orchha temple and is visited by large number of devotees regularly. It is also believed that the area of the temple was once used to be a citadel of the kingdom of Madhukar shah, who was a devotee of Krishna and his wife was a devotee of Lord Ram.
Afsarul haq
भगवान श्रीराम का ओरछा में ४०० वर्ष पूर्व राज्याभिषेक हुआ था और उसके बाद से आज तक यहां भगवान श्रीराम को राजा के रुप में पूजा जाता है। यह पूरी दुनिया का एकमात्र ऐसा मंदिर है जहां भगवान राम को राजा के रूप में पूजा जाता है।एक दिन ओरछा नरेश मधुकरशाह ने अपनी पत्नी गणेशकुंवरि से कृष्ण उपासना के इरादे से वृंदावन चलने को कहा। लेकिन रानी राम भक्त थीं। उन्होंने वृंदावन जाने से मना कर दिया। क्रोध में आकर राजा ने उनसे यह कहा कि तुम इतनी राम भक्त हो तो जाकर अपनेराम को ओरछा ले आओ। रानी ने अयोध्या पहुंचकर सरयू नदी के किनारे लक्ष्मण किले के पास अपनी कुटी बनाकर साधना आरंभ की। इन्हीं दिनों संत शिरोमणि तुलसीदास भी अयोध्या में साधना रत थे। संत से आशीर्वाद पाकर रानी की आराधना दृढ से दृढतर होती गई। लेकिन रानी को कई महीनों तक रामराजा के दर्शन नहीं हुए। अंतत: वह निराश होकर अपने प्राण त्यागने सरयू की मझधार में कूद पडी। यहीं जल की अतल गहराइयों में उन्हें रामराजा के दर्शन हुए। रानी ने उन्हें अपना मंतव्य बताया। रामराजा ने ओरछा चलना स्वीकार किया किन्तु उन्होंने तीन शतर्ें रखीं- पहली, यह यात्रा पैदल होगी, दूसरी- यात्रा केवल पुष्प नक्षत्र में होगी, तीसरी- रामराजा की मूर्ति जिस जगह रखी जाएगी वहां से पुन: नहीं उठेगी।रानी ने राजा को संदेश भेजा कि वो रामराजा को लेकर ओरछा आ रहीं हैं। राजा मधुकरशाह ने रामराजा के विग्रह को स्थापित करने के लिए करोडों की लागत से चतुर्भुज मंदिर का निर्माण कराया। जब रानी ओरछा पहुंची तो उन्होंने यह मूर्ति अपने महल में रख दी। यह निश्चित हुआ कि शुभ मुर्हूत में मूर्ति को चतुर्भुज मंदिर में रखकर इसकी प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी। लेकिन राम के इस विग्रह ने चतुर्भुज जाने से मना कर दिया। कहते हैं कि राम यहां बाल रूप में आए और अपनी मां का महल छोडकर वो मंदिर में कैसे जा सकते थे। राम आज भी इसी महल में विराजमान हैं और उनके लिए बना करोडों का चतुर्भुज मंदिर आज भी वीरान पडा है। यह मंदिर आज भी मूर्ति विहीन है।यह भी एक संयोग है कि जिस संवत 1631 को रामराजा का ओरछा में आगमन हुआ, उसी दिन रामचरित मानस का लेखन भी पूर्ण हुआ। जो मूर्ति ओरछा में विद्यमान है उसके बारे में बताया जाता है कि जब राम वनवास जा रहे थे तो उन्होंने अपनी एक बाल मूर्ति मां कौशल्या को दी थी। मां कौशल्या उसी को बाल भोग लगाया करती थीं। जब राम अयोध्या लौटे तो कौशल्या ने यह मूर्ति सरयू नदी में विसर्जित कर दी। यही मूर्ति गणेशकुंवरि को सरयू की मझधार में मिली थी। यह विश्व का अकेला मंदिर है जहां राम की पूजा राजा के रूप में होती है और उन्हें सूर्योदय के पूर्व और सूर्यास्त के पश्चात सलामी दी जाती है। यहां राम ओरछाधीश के रूप में मान्य हैं। रामराजा मंदिर के चारों तरफ हनुमान जी के मंदिर हैं। छडदारी हनुमान, बजरिया के हनुमान, लंका हनुमान के मंदिर एक सुरक्षा चक्र के रूप में चारों तरफ हैं। ओरछा की अन्य बहुमूल्य धरोहरों में लक्ष्मी मंदिर, पंचमुखी महादेव, राधिका बिहारी मंदिर , राजामहल, रायप्रवीण महल, हरदौल की बैठक, हरदौल की समाधि, जहांगीर महल और उसकी चित्रकारी प्रमुख है। ओरछा झांसी से मात्र 15 किमी. की दूरी पर है। झांसी देश की प्रमुख रेलवे लाइनों से जुडा है। पर्यटकों के लिए झांसी और ओरछा में शानदार आवासगृह बने हैं।राय प्रवीन महल
Mansi Patil
RAM RAJA TEMPLERam Raja temple is a quite unique temple in many ways. It was originally a palace which became a temple by accident. According to legend, wife of King Madhukar Shah was a devotee of Lord Rama and thus got a statue of the god from Ayodhya which was to be placed in the magnificent Chaturbhuj temple that was being specially constructed next to the palace for enshrining this statue. Later she realized her folly when it dawned on her that according to a promise made by her, the god’s statue, once placed somewhere, cannot be moved to any other place. Thus the palace itself became the temple. Now, since Lord Rama was placed in a palace hence he is worshipped as a king rather than a god, which is unheard of anywhere else.
@diti $rivastava
First, we go to Ram Raja Temple and attended Morning AartiAarti Timing:Hindu Calendar Phagun to Kwar (February to October) 8:00 AM and Shyam Aarti 8:00 PMKartik to Magh (October to February) 9:00 AM and Shyam Aarti 7:00 PMA great history attaches to this temple that King of Orchha devotee to Lord Krishna But Queen devotee to Lord Ram. One day they have a conflict between them to either go to Braj or Ayodhya.Both are rigid with their decision at the end King told to Queen that you go to Ayodhya but you only return if you come along with Lord Ram in child form.Queen go to Ayodhya and Here she told that Made a big temple for Lord Ram which name is Chaturfuj Temple...
Sagnik Basu
This palace had been turned into a temple, and has quite the legend attached to it. This story behind the same, will be something which must find out by yourself.All in all, this palace tuned temple is the solitary place in India where Ram is worshiped as a king.
Nancy Nance
The only temple in India where Lord Rama is worshiped not as a God but a King.