रतलाम का मांगल्य धाम मंदिर प्रांगण, जहाँ एक साथ होते हैं 7 देवी-देवताओं के दर्शन 

Tripoto
Photo of रतलाम का मांगल्य धाम मंदिर प्रांगण, जहाँ एक साथ होते हैं 7 देवी-देवताओं के दर्शन by We The Wanderfuls
Day 1

हम सभी जानते हैं कि भारत में पर्यटन की बात करें तो मध्यप्रदेश का विशेष स्थान है। इस खूबसूरत राज्य में घूमने के लिए कई मानव निर्मित और प्राकृतिक स्थान भी हैं। मध्य प्रदेश का रतलाम शहर भी एक जाना माना शहर है। बात करें 'जब वी मेट' फिल्म के डायलॉग "रतलाम की गलियां..." की या रतलामी सेव नमकीन की, इस खूबसूरत शहर का अपना एक अलग ही आकर्षण है। और आज अपने इस लेख में हम आपको एक ऐसे पवित्र स्थान के बारे में बताएंगे जो रतलाम शहर की भीड़-भाड़ से दूर है और जहां चारों ओर सुकून और शांति है। साथ ही यहां आपको एक या दो नहीं बल्कि कुल सात अद्भुत मंदिर एक ही मंच पर देखने को मिलेंगे।

Photo of Ratlam by We The Wanderfuls
Photo of Ratlam by We The Wanderfuls

मांगल्य धाम मंदिर

हम बात कर रहे हैं रतलाम में शहर की भीड़-भाड़ से दूर करीब 3-4 किलोमीटर दूर औद्योगिक क्षेत्र में स्थित मांगल्य धाम मंदिर की जिसे JVL (जेवीएल) मंदिर के तौर पर भी जाना जाता है। रतलाम शहर पहुंचने के बाद, हम आपको सुझाव देते हैं कि इस स्थान तक पहुँचने के लिए गूगल मैप्स पर आँख बंद करके भरोसा न करें क्योंकि यह उतना सटीक नहीं है और भ्रम पैदा कर सकता है। स्थानीय लोगों से उन नामों के साथ मंदिर के बारे में पूछें जिनका हमने ऊपर उल्लेख किया है।

इस स्थान पर पहुँचने के बाद हमें एक बहुत बड़ा प्रवेश द्वार मिला। हमने प्रवेश किया और एक लंबे रास्ते पर चले जो बीच में कुछ सुंदर वास्तुकलाओं से सजाया गया है और इस रास्ते के दोनों ओर केवल घास और खाली जमीन है।

Photo of रतलाम का मांगल्य धाम मंदिर प्रांगण, जहाँ एक साथ होते हैं 7 देवी-देवताओं के दर्शन by We The Wanderfuls

मुख्य प्रवेश द्वार के बाद खूबसूरत पथ

Photo of रतलाम का मांगल्य धाम मंदिर प्रांगण, जहाँ एक साथ होते हैं 7 देवी-देवताओं के दर्शन by We The Wanderfuls

साथ ही कुछ दूर चलने के बाद हमें कुछ झूले वगैरह मिले फिर हम एक और बड़े प्रवेश द्वार पर आ गए जिसके आगे मोबाइल और कुछ अन्य चीजों की अनुमति नहीं थी। इसलिए हमने उनके संग्रह कार्यालय में आवश्यक चीजें जमा कीं और मुख्य मंदिर परिसर की ओर चल पड़े।

मोबाइल और कुछ अन्य चीजों की अनुमति नहीं थी

Photo of रतलाम का मांगल्य धाम मंदिर प्रांगण, जहाँ एक साथ होते हैं 7 देवी-देवताओं के दर्शन by We The Wanderfuls

कुछ दूर चलने के बाद हमें दांयी ओर एक रास्ता दिखाई देता है। उस मार्ग की ओर मुड़ने के बाद सामने की ओर हमारी नजरें पड़ती है उन खूबसूरत मंदिरों पर। शाम के वक्त का वो नजारा, बादलों के पीछे छिपे सूरज के साथ उस धुप छाँव के बीच एक विशाल चबूतरे पर स्थित इन अद्भुत मंदिरों को एक साथ देखने का वो खूबसूरत दृश्य, सच में हमेशा के लिए हमारे मन में समां गया।

Photo of रतलाम का मांगल्य धाम मंदिर प्रांगण, जहाँ एक साथ होते हैं 7 देवी-देवताओं के दर्शन by We The Wanderfuls

रास्ते के दोनों ओर बनी खूबसूरत मूर्तियां

Photo of रतलाम का मांगल्य धाम मंदिर प्रांगण, जहाँ एक साथ होते हैं 7 देवी-देवताओं के दर्शन by We The Wanderfuls

यहां से एक खूबसूरत रास्ता आपको सात मंदिरों की ओर ले जाता है। इस रास्ते के दोनों ओर आप कई खूबसूरत मूर्तियां बनी हुई देख सकते हैं। मुख्य मंच पर पहुंचने के बाद आप सात अद्भुत वास्तुकला वाले मंदिर देख सकते हैं जो इस चबूतरे पर एक साथ बेहद अद्भुत लगते हैं। ऐसा बताया जाता है की मंदिर परिसर कुल 21 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला है। यहाँ इस विशाल प्लेटफार्म पर भगवान श्री विष्णु ,श्री गणेश, हनुमान जी, शिव जी, श्री राधा-कृष्ण, मां अंबे और श्री राम दरबार सात अलग-अलग मंदिरों में विराजित हैं।

Photo of रतलाम का मांगल्य धाम मंदिर प्रांगण, जहाँ एक साथ होते हैं 7 देवी-देवताओं के दर्शन by We The Wanderfuls

अद्भुत वास्तुकला

Photo of रतलाम का मांगल्य धाम मंदिर प्रांगण, जहाँ एक साथ होते हैं 7 देवी-देवताओं के दर्शन by We The Wanderfuls
Photo of रतलाम का मांगल्य धाम मंदिर प्रांगण, जहाँ एक साथ होते हैं 7 देवी-देवताओं के दर्शन by We The Wanderfuls

अगर आपको ऐसी जगहों के हमारे वीडियो भी देखने हैं तो आप हमारे यूट्यूब चैनल WE and IHANA पर या फिर हमारे इंस्टाग्राम अकाउंट @weandihana पर भी जा सकते हैं।

Instagram अकाउंट: https://www.instagram.com/weandihana/

YouTube चैनल लिंक: https://youtube.com/c/WEandIHANA

क्या आपने हाल में कोई की यात्रा की है? अपने अनुभव को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

More Stories For Ratlam

More By This Author

Further Reads