भारत में फ्रांस की सैर: पुडुचेरी में देश-विदेश का अनोखा संगम

Tripoto
Photo of भारत में फ्रांस की सैर: पुडुचेरी में देश-विदेश का अनोखा संगम by Manju Dahiya

हमारा देश भारत, एक खज़ाने से भरे बक्से की तरह है जिसमें बेशकीमती नज़ारे भरे हुए हैं। चाहे ऐतिहासिक स्थल हों या प्राचीन स्मारक, बर्फ से ढके पहाड़ हों या अनछुए समुद्र तट, रेगिस्तान से लेकर हरे-भरे जंगल, भारत के पास सबकुछ है ! इसी खज़ाने का एक बेशकीमती नगीना है पुडुचेरी, या जिसे लोग आज भी पॉन्डिचेरी के नाम से जानते हैं। भारत के दूसरे शहरों से बिलकुल अलग, पुडुचेरी को हमारे देश की ‘फ्रेंच कैपिटल’ कहा जाता है। केवल घूमने- फिरने के लिए ही नहीं बल्कि आध्यात्मिक और धार्मिक दृष्टि से भी यह जगह बहुत खास है। इसी वजह से साल भर लाखों पर्यटक यहाँ पर आते हैं।

यह शहर 300 सालों तक फ्रांस के अधिकार में रहा था इसलिए आज भी यहाँ पर फ़्रेंच कॉलोनी, उनका वास्तु शिल्प और संस्कृति, अच्छी तरह संजो कर रखी हुई है।

अपनी व्यस्त ज़िंदगी से एक छोटा ब्रेक लेकर आप भी मज़े से पुडुचेरी में भरपूर सैर कर सकते हैं। सबसे पहले तो आपको अपने इस सफर पर निकलने का सबसे अच्छा मौसम देखना होगा। तो यहाँ की यात्रा की योजना बनाने से पहले आपको क्या जानना चाहिए हम आपको बताते हैं -

पुडुचेरी कब जाएँ?

अक्टूबर से फरवरी तक, सर्दियों में और थोड़ा उससे पहले, पुडुचेरी में छुट्टियाँ मनाने के लिए सबसे अच्छा मौसम माना जाता है।

पुडुचेरी कैसे पहुंचे?

सड़क मार्ग: - निकटतम शहर, चेन्नई से पांडिचेरी की दूरी 150 कि.मी. है और बैंगलोर से 320 कि.मी.। पुडुचेरी, सड़कों के अच्छे नेटवर्क से देश के बाकी हिस्सों से जुड़ा है।यह नेशनल हाईवे 45 पर बसा है और यहाँ आने के लिए चेन्नई, तंजावुर, त्रिची, कोयम्बटूर, बैंगलोर और मदुरई सहित आसपास के कुछ प्रमुख शहरों से बसें आसानी से मिल जाती हैं।

ट्रेन: पुडुचेरी से सबसे पास रेलवे स्टेशन विल्लुपुरम है जो यहाँ से 35 कि.मी. दूर है और नई दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई, मुंबई और त्रिवेंद्रम जैसे बड़े शहरों से आने वाली रेलगाड़ियाँ यहाँ रुकती हैं। रेल से पुडुचेरी की यात्रा भी एक अच्छा विकल्प है।

हवाई यात्रा: पुडुचेरी हवाई अड्डा, यहाँ के लॉज़पेट जिले में एक अंतरराज्य हवाई अड्डा है। बैंगलोर से यहाँ के लिए नियमित उड़ानें होती हैं और चेन्नई एयरपोर्ट यहाँ से निकटतम अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट है जहाँ से नियमित घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें मिल जाएँगी। हवाईयात्रा से चेन्नई तक जाना भी एक अच्छा विकल्प है जहाँ से आप पुडुचेरी जा सकते है जो सिर्फ 139 कि.मी. दूर है।

अब जब आप जान गए हैं कि पुडुचेरी कब और कैसे जाना है, तो अब यहाँ पहुँच कर क्या करें, उसके बारे में बात करते हैं।

पहला दिन

वाइट टाउन

Photo of भारत में फ्रांस की सैर: पुडुचेरी में देश-विदेश का अनोखा संगम 2/10 by Manju Dahiya
श्रेय: जीन पियर

यह टाउन है 'छोटा फ्रांस'

फ्रांसीसी सभ्यता की झलक पाने के लिए ‘वाइट टाउन’ नाम की यह फ्रेंच कॉलोनी जाना बिल्कुल न भूलें। सड़क के दोनों ओर पेड़ों और बोगनविलिया की कतारों से लबालब, सफेद और पीले रंग में रंगे हुए सुंदर घर, आपके फ्रांस का पूरा फील देते हैं। ज्यादातर घर अब सुन्दर बुटीक होटल, रेस्तरां और बुटीक स्टोर में बदल दिए गए हैं जो ज्वेलरी, डिजाइनर कपड़े बेचते हैं।अपना समय निकालकर यहाँ ज़रूर आयें और पैदल घूमकर यहाँ की वास्तुकला और सरल खूबसूरती का नज़ारा लें।

ऑरोविल

Photo of भारत में फ्रांस की सैर: पुडुचेरी में देश-विदेश का अनोखा संगम 3/10 by Manju Dahiya

पुडुचेरी में आध्यात्म का अनुभव करें

ऑरोविल के विश्व शांति शहर में आध्यात्मिक को खुद महसूस करें। यहाँ एक दिन का वक्त निकालकर ज़रूर आएँ या ऑरोविले के गेस्टहाउस में कुछ रातें बिताएं। हर साल सैकड़ों लोग सुकून की तलाश में यहाँ पर आते हैं।

ऑरोविले, जिसे 'सिटी ऑफ़ डॉन' या 'नवजीवन की नगरी' भी कहा जाता है, इसे बसाया था आरोबिंदो की अध्यात्मिक वारिस माने जाने वाली मीरा रिचर्ड्स ने। भारत में लंबे समय तक बसने के बाद इन्हें 'माँ' के नाम से भी जाना जाता है।

लाल मिटटी से बने इस विशाल गाँव में आपको चारो ओर अनोखे घर, दूर तक फैली हरियाली, कच्ची पगडंडियों पर दौड़ती साइकिल और बाइक दिखेगी। ये नज़ारा देखते ही आप खुद ही बोल पड़ेंगे कि ये भारत की सबसे ख़ूबसूरत जगहों में से एक है, जो हर प्रकृति प्रेमी और शांति चाहने वाले की बकेट लिस्ट में होनी ही चाहिए।

इस आधुनिक गाँव के बीचों-बीच एक बड़ा  ‘मातृ’ मंदिर है, एक सुनहरी गोल इमारत जिसके अंदर एक विशाल क्रिस्टल है।

इसके अलावा पूरे साल पर्यटकों को आकर्षित करते हुए अलग-अलग स्टाइल के बूटिक, बुक शॉप्स, कैफ़े, अंतरराष्ट्रीय खाना परोसने वाले रेस्तरां और कई आधुनिक चीजें की भरमार आपको यहाँ मिल जाएगी।

इसके अलावा, ‘ऑरोविल बीच’ एक मुख्य आकर्षण है जिसकी सफेद चमकती हुई रेत और कम गहरा पानी तैरने के लिए बिलकुल सही जगह है। इस बीच पर थोड़े बहुत वाटर स्पोर्ट्स भी हैं जिनका मज़ा लिया जा सकता है।

समय: सुबह 9.30 बजे से शाम 4 बजे तक (सोमवार से शुक्रवार)

साइकिल का किराया : 40 से 60 रु प्रति दिन

मोटरबाइक और टी वी एस का किराया : 80 से 100 रु प्रति दिन

तीसरा दिन

प्रोमेनाड बीच

Photo of भारत में फ्रांस की सैर: पुडुचेरी में देश-विदेश का अनोखा संगम 4/10 by Manju Dahiya

सफेद रेत को चूमती हुई सूरज की किरणें - एक परफेक्ट कॉम्बिनेशन

अगर आप धूप और रेत के दीवाने हैं, तो पुडुचेरी के इन चार लोकप्रिय समुद्र तटों में से किसी पर ज़रूर जाएँ:

प्रोमेनाड बीच, सेरेनिटी बीच, ऑरोविल बीच और पैराडाइज बीच। चहल-पहल के साथ आराम का तड़का लगाते इन बीच पर ताड़ के पेड़ों की छाया में बैठ समुद्र की लहरों का मज़ा ले सकते हैं।

स्कूबा डाइविंग और पानी के नीचे खूबसूरत कोरल्स के साथ ढ़ेर सारी मस्ती

Photo of भारत में फ्रांस की सैर: पुडुचेरी में देश-विदेश का अनोखा संगम 5/10 by Manju Dahiya

पुडुचेरी में स्कूबा डाइविंग सबसे रोमांचकारी और मज़ेदार चीजों में से एक है। वास्तव में, भारत के पूर्वी तट पर पुडुचेरी ही एकमात्र गोताखोरी स्थल है। प्राकृतिक कोरल रीफ, बाहर निकली हुई चट्टानें और बहुत सारे समुद्री जीव जन्तु इस जगह की खासियत हैं।

समुद्री जीवों में कोरल, लायनफ़िश, ग्रूपर मछलियाँ, किंगफ़िश, मोरे ईल्स, ईगल, मांटा रेज़, तोता मछली, समुद्री सांप, ट्रिगर फ़िश, एंजेल फिश, बैनरफ़िश और क्रस्टेशियन जीव शामिल हैं।

चौथा दिन

पैराडाइज़ बीच

पुडुचेरी के समुद्री तटों पर सूर्योदय, सूर्यास्त और रोमांटिक सैर

Photo of भारत में फ्रांस की सैर: पुडुचेरी में देश-विदेश का अनोखा संगम 6/10 by Manju Dahiya
श्रेय: गौरव साहा

यहाँ आपको वो सब मिलेगा जो आपकी छुट्टियों को यादगार बना दे, सफेद बीच, खिली हुई धूप, मंद- मंद चलती हुई हवा और आपका साथी !!! रोमांटिक होने के लिए और भला क्या चाहिए?

जीवन में कुछ चीजें ऐसी होती हैं जो करते हुए इंसान न कभी थकता है और न बोर होता है और सूरज को उगते देखना इस लिस्ट में सबसे ऊपर है। अगर आप एक जादुई सूर्योदय देखना चाहते हैं, तो पॉन्डिचेरी वह जगह है। गहरे नीले समुद्र से उगता होता हुआ सूरज दिल को रूहानियत से भर देता है।

जब आप यहाँ आएँ तो बीच पर टहलते हुए सूर्यास्त देखना न भूलें और हाँ एक रात बॉन फायर के लिए भी बचा कर रखें। इसके अलावा, नाइट क्लब, पब, कैंपिंग और एडवेंचर स्पोर्ट्स यहाँ के शानदार आकर्षण हैं।

ओसुडु / उस्तेरी लेक

पॉन्डिचेरी की सबसे बड़ी ओसुडु झील, शहर से लगभग 8 कि.मी. दूर है।यहाँ पक्षियों की घनी आबादी होने के कारण सरकार ने इसको बर्ड सेंचुरी घोषित कर दिया है।

नौका विहार के लिए 50 रुपये का मामूली शुल्क लिया जाता है, जिसमें झील के आसपास आधे घंटे की सवारी शामिल है।

पाँचवाँ दिन

सेरेनिटी बीच

सुनहरी रेत, शांत तट रेखा, चमकती हुई लहरें, आरामदेह शैक्स और शानदार बीच, पॉन्डिचेरी की सेरेनिटी बीच की खासियत को बयान करती हैं।

बोल्डर और चट्टानों से लेकर जाल और मछुआरों की नावों तक, शान्त तटों से लेकर थपथपाती लहरें और कैफे तक, आपको यहाँ सब कुछ मिल जाएगा। एक- दो शैक ऐसे हैं जहाँ कुछ स्नैक्स और ताजा नारियल पानी भी मिल जाता है।

हमने पैराडाइज़ बीच पर भी बहुत मज़े किये और तट पर घंटों बैठकर लहरों का आनंद लिया। नाव की सवारी शाम तक ही खुली होती है और इस द्वीप पर ठहरने के कोई विकल्प नहीं हैं इसलिए आप उसी हिसाब से अपनी योजना बनाएँ ।

Photo of भारत में फ्रांस की सैर: पुडुचेरी में देश-विदेश का अनोखा संगम 7/10 by Manju Dahiya

साइकिल से शहर घूमें

पुडुचेरी सैलानियों की पसंदीदा जगहों में से एक है और मौज़ मस्ती करने के लिए भी यहाँ कई सारे विकल्प मौजूद हैं।

यहाँ गाइड के साथ फ्रांसीसी कॉलोनियों और तमिल बस्तियों को दिखाने के लिए विंटेज साइकिलों पर एक शानदार टूर कराया जाता है।

इस टूर में मुस्लिम क्वार्टर भी शामिल हैं, जिन्हें ग्रीन क्वार्टर के नाम से जाना जाता है, उसके बाद फ्रांसीसी और तमिल बस्तियाँ, इसके साथ ही कई ऐतिहासिक, पारंपरिक और विभिन्न सांस्कृतिक केंद्र शामिल हैं। यह पैदल और साइकिल टूर अक्सर फ्रेंच और अंग्रेजी बोलने वाले गाइड करवाते हैं और लगभग 2 घंटों में इस फ्रेंच कैपिटल को कवर कर लेते हैं। इस टूर के समय आप इस शहर के डिज़ाइन, अनोखी वास्तुकला और यहाँ के लोगों से घुल-मिल सकते हैं।

छठा दिन

Photo of भारत में फ्रांस की सैर: पुडुचेरी में देश-विदेश का अनोखा संगम 8/10 by Manju Dahiya

कैफ़े डेस आर्ट्स

अनोखा और लज़ीज खाना

खाने की इतनी विविधता भला और कहाँ देखने को मिलेगी, चाहे वह कोस्ट हो या फ्रेंच कॉलोनी के अंदर, इस छोटे से शहर में, कैफ़े और रेस्तरां की संख्या और खाने का फ्यूज़न अद्भुत है। पुडुचेरी, अपने फ्रेंच और तमिल प्रभावों से भरपूर संस्कृति के साथ भोजन प्रेमियों के लिए कुछ हैरान करने वाले विक्ल्प देता है। यहाँ का प्यारा-सा माहौल और फ्रेंडली सर्विस घर जैसे आराम का अनुभव देती है।

फ्रेंच बेकरी से लेकर तमिलियन इडली तक,अपनी तीखी चटनी के साथ, ये कैफे यात्रियों को स्वादिष्ट खाना पेश करता है। खाने के शौकीन लोगों के लिए यह जगह किसी स्वर्ग से कम नहीं !!!

कैफ़े डे फ़्लोर

फ्रेंच अंदाज़ में नाईट लाइफ का आनंद लें

एक सुंदर फ्रांसीसी कोलोनियल इमारत में बना, कैफ़े डे फ़्लोर, शाम के समय म्यूजिक कॉन्सर्ट आयोजित करता है। यहाँ का हरा-भरा आंगन, स्वादिष्ट फ्रेंच फ़ूड और संगीतमय शाम, सब कुछ जादुई सा लगता है।

टैंटो पिज़्ज़ेरिया

सातवाँ दिन

चर्च - सेक्रेड हार्ट ऑफ़ जीसस

यहाँ की पवित्र ऊर्जा को महसूस करें

पुडुचेरी में बहुत सारे सुंदर और शांत चर्च हैं जहाँ आप अपना समय बिता सकते हैं और भगवान का आशीर्वाद लेते हुए यहाँ की पवित्र ऊर्जा का अनुभव कर सकते हैं।

इस छोटे तटीय शहर में कई चर्च, यात्रियों और तीर्थयात्रियों को दिव्य अनुभव देते हैं। वास्तव में तो, दिसंबर में इन चर्चों का दौरा करना चाहिए क्योंकि क्रिसमस के समय यहाँ का माहौल ही कुछ अलग-सा रंगीन होता है, सजे हुए क्रिसमस ट्री, लाइट्स, घंटियाँ, प्लम केक के साथ - साथ और बहुत कुछ !!!

पांडिचेरी में सबसे प्रसिद्ध चर्चों और गिरिजाघरों में से कुछ यहाँ शामिल हैं:

Photo of भारत में फ्रांस की सैर: पुडुचेरी में देश-विदेश का अनोखा संगम 9/10 by Manju Dahiya

हेलीलुयाह असेंबली ऑफ़ गॉड चर्च

बेसिलिका ऑफ़ द सेक्रेड हार्ट ऑफ़ जीसस

ज़िओन / सिय्योन मेथोडिस्ट चर्च

इमैक्युलेट कन्सेप्शन कैथेड्रल

आवर लेडी ऑफ़ एंजेल्स चर्च

आवर लेडी ऑफ़ लूर्ड्स श्राइन, विल्लिनुर

सेंट एंड्रयूज़ चर्च

आस - पास के मज़ेदार अनुभव

Photo of भारत में फ्रांस की सैर: पुडुचेरी में देश-विदेश का अनोखा संगम 10/10 by Manju Dahiya

पुडुचेरी के आसपास भी कई आकर्षक जगहें हैं जिन्हें आप यहाँ की यात्रा के दौरान देखने के लिए प्लान कर सकते हैं। महाबलिपुरम के मंदिर से लेकर अरिकामेडु के पुरातत्व स्थल जिनका इतिहास 2 शताब्दी पुराना है। या फिर ऑस्टर लेक का पिकनिक स्पॉट हो या तिरूवक्कराई का वुड फॉसिल पार्क जो कि भारत का पहला वुड-फॉसिल पार्क है।आप अपनी रुचि के आधार पर इनमें से किसी भी जगह घूम सकते हैं।

पुडुचेरी एक छोटी जगह है और आप एक दिन में यहाँ सब कुछ देख सकते हैं। यदि आपके पास ज्यादा वक्त है, तो आप रिलैक्स करते हुए सरल चीज़ों में अपने जीवन का आनंद महसूस कर सकते हैं। योग और ध्यान से लेकर मिटटी के बर्तन बनाने का अनुभव करें या सिर्फ समुद्र तट पर बैठकर लहरों को देखने का मज़ा लें, पुडुचेरी में छुट्टियाँ बिताने के कई तरीके हैं।

तो, आप अपनी टिकट कब बुक कर रहे हैं?

मेरे अनुभव पसंद आने पर लाइक करें और अपने कमेंट करना न भूलें।

Be the first one to comment