जो सोचते हैं कि बिहार खूबसूरत नहीं है उनको शेरगढ़ हो आना चाहिए

Tripoto
Photo of जो सोचते हैं कि बिहार खूबसूरत नहीं है उनको शेरगढ़ हो आना चाहिए by Rishabh Dev

हमारे मन में बिहार के लिए एक सोच बन गई है कि बिहार खूबसूरत नहीं हो सकता है। हम सोचते हैं कि बिहार वो है जहाँ हर साल बाढ़ आती है, बिहार वो है जहाँ गंदगी है, बिहार वो है जहाँ पहाड़ नहीं है, बिहार वो है जहाँ हरियाली नही है। अगर आप भी ऐसा सोचते हैं तो आपको बिहार के शेरगढ़ जाना चाहिए। यकीन मानिए बिहार को लेकर आपकी सोच बदल जाएगी। ये जगह इतनी खूबसूरत है कि आप यहाँ आकर सोचेंगे कि मैं यहाँ पहले क्यों नहीं आया/आई?

Photo of जो सोचते हैं कि बिहार खूबसूरत नहीं है उनको शेरगढ़ हो आना चाहिए 1/2 by Rishabh Dev

शेरगढ़ दरअसरल कोई जगह नहीं एक किला है जो पहाड़ी की ऊँचाई पर स्थित है लेकिन कुछ इस प्रकार से बना हुआ है कि ये किसी को दिखाई नहीं देता है। ये पूरा किला अंडरग्राउंड बना हुआ है। किले के पास में दुर्गावती नदी है जो यहाँ से बेहद खूबसूरत दिखाई देती है। बारिश के मौसम में ये जगह और भी खूबसूरत लगती है। बिहार की खूबसूरत और छिपी हुई जगहों में से एक है शेरगढ़ किला। अगर आप बिहार की खूबसूरत और अनछुई जगहों पर जाना चाहते हैं तो आपको शेरगढ़ जरूर आना चाहिए।

इतिहास

शेरगढ़ किले के इतिहास के बारे में बात करें तो इस किले को शेरशाह सूरी ने बनवाया था। कहा ये भी जाता है कि खरवार राजा गजपति ने इस किले को शेरशाह सूरी को तोहफे में दिया था। कहा जाता है कि इस किले में लगभग 10 हजार सैनिक आ सकते हैं। शेरशाह सूरी अपनी सेना और परिवार के साथ यहीं रहते थे। किले के अंदर ही सारी सुविधाएँ थीं। किले से चारों तरफ 10 किमी. तक दुश्मनों को देखा जा सकता था। 1576 में मुगल शासक हुमायूं ने इस किले पर कब्जा कर लिया। मुगल शासक ने शेरशाह सूरी के परिवार को दुर्गावती नदी में फिकवा दिया और सेना को सुरंगों के अंदर ही मार डाला।

क्या करें?

1- ट्रेकिंग

शेरगढ़ किला सासाराम की कैमूर पहाड़ियों पर स्थित है। यहाँ तक पहुंचना कोई आसान काम नहीं है। इसके लिए आपको जंगलों, नदियों और पहाड़ को चढ़ना होता है। अगर आप ट्रेकिंग करने के शौकीन हैं तो शेरगढ़ आपको ट्रेकिंग भी करा देगा। किले की सबसे छोर तक पहुँचने में आपको लगभग 2-3 किलोमीटर की चढ़ाई तो करनी ही होगी। जो आपको थका भी देगी लेकिन यकीन मानिए उसके बाद जो आप देखेंगे वो आपके लिए यादगार हो जाएगा।

2- किले के अंदर

शेरगढ़ किले को कुछ इस प्रकार से बनाया गया था दुश्मन दूर से इस किले को देख न पाए। अंडरग्राउंड बने इस किले में बड़े-बड़े कमरे, तहखाने और सुरंगें है। आप यहाँ आएंगे तो कारीगरी का ये अद्भुत नमूना देखकर आश्चर्यचकित हो जाएंगे। ये किला चारों तरफ से ऊँची-ऊँची दीवारों से घिरा हुआ है। इसके एक तरफ दुर्गावती नदी और बाकी ओर जंगल ही जंगल है। आपको बिहार के इस किले को एक बार जरूर देखना चाहिए।

3- किले के छोर पर

Photo of जो सोचते हैं कि बिहार खूबसूरत नहीं है उनको शेरगढ़ हो आना चाहिए 2/2 by Rishabh Dev

सोचिए कि आप पहाड़ी पर बैठे हैं। आपको एक तरफ नदी दिख रही है, पहाड़ दिखाई दे रहे हैं और हरा-भरा जंगल। है न ये नजारा बेहद खूबसूरत। उससे भी बड़ी बात चारों तरफ बादल तैर रहे हैं। आप कहेंगे कि ऐसा तो पहाड़ों में होता है लेकिन मैं कह रहा हूं ये नजारा शेरगढ़ किले का है। यकीन मानिए अगर मौसम मेहरबान रहा तो यही नजारा आपको शेरगढ़ किले में दिखाई देगा। आप जब किले के आखिरी छोर पर जाएंगे तो बिहार की खूबसूरती को जान पाएँगे। तब आपको लगेगा कि बिहार वो नहीं जो हम टीवी पर देखते हैं। असली बिहार तो इस किले के छोर से दिखता है।

4- पिकनिक के लिए बेस्ट

आपको इस खूबसूरत जगह पर अपने दोस्तों, परिवार या किसी खास के साथ आना चाहिए। आप यहां पर पिकनिक कर सकते हैं, जी भरके बातें कर सकते हैं। ये जगह सुकून और शांति देती है। ऐसी अनछुई जगहें ही हर घुमक्कड़ को पसंद होती है। अगर आप ऐसी अनएक्सप्लोर जगहों पर जाना पसंद करते हैं तो यहाँ जरूर आएं। यहां आप आप सिर्फ नदी, जंगल को घन्टों निहार सकते हैं और यकीन मानिए आपका उस नजारे से मन नहीं भरेगा। इस जगह पर जाना जितना कठिन है लौटना भी उतना ही कठिन है।

इन बातों का रखें ध्यान

अगर आप शेरगढ़ जाने का सोच रहे हैं तो आपको कुछ बातों का ख्याल जरूर रखना चाहिए।

1- अगर आप शेरगढ़ पहली बार जा रहे हैं तो अपने साथ किसी ऐसे व्यक्ति को ले जाएँ जो पहले शेरगढ़ गया हो।

2- शेरगढ़ जाने के लिए पहाड़ चढ़ना होता है इसलिए जूते पहनकर ही जाएं। ऐसी जगहों पर चप्पलें अक्सर मार खा जाती हैं।

3- शेरगढ़ जाएँ तो अपने साथ पानी की बोतल और खाने के लिए कुछ स्नैक्स, बिस्कुट और चाॅकलेट जरूर रख लें।

4- शेरगढ़ किले के लिए जंगल से होकर जाना होता है इसलिए रास्ते से अलग न जाएं। इससे आप भटक भी सकते हैं।

5- अगर आप बारिश के मौसम में शेरगढ़ किला जा रहे हैं तो अपने साथ रेनकोट या पोंचा जरूर रखें। जिससे आप बारिश से बच सकें।

कब जाएँ?

शेरगढ़ किला भारत का एकमात्र ऐसा किला है जो जमीन के अंदर बना है। वैसे तो यहाँ कभी भी जा सकते हैं लेकिन गर्मी के समय में इस पर जाने से बचना चाहिए। यहाँ जाने के लिए सबसे बेस्ट समय सर्दियों का है लेकिन अगर इस जगह को सबसे खूबसूरत देखना है तो बारिश के बाद या बारिश के मौसम में जाना चाहिए।

कैसे पहुँचे?

शेरसाह सूरी का बनवाया ये खूबसूरत शेरगढ़ किला सासाराम से 32 किमी. की दूरी पर है। यहाँ पहुँचने के लिए आपको सासराम पहुँचना होगा। वहाँ से आप शेरगढ़ टैक्सी बुक करके पहुँच सकते हैं। अगर आप ट्रेन से आने की सोच रहे हैं तो सासाराम में ही रेलवे स्टेशन है। अगर आप फ्लाइट से आना चाहते हैं तो सबसे नजदीकी गया एयरपोर्ट है जो शेरगढ़ से 173 किमी. की दूरी पर है। वहाँ से सासाराम आइए और फिर वहाँ से खूबसूरत शेरगढ़ किले की ओर निकलिए। 

क्या आप बिहार के शेरगढ़ किले गए हैं? अपने सफर का अनुभव यहाँ लिखें।

रोज़ाना वॉट्सऐप पर यात्रा की प्रेरणा के लिए 9319591229 पर HI लिखकर भेजें या यहाँ क्लिक करें।