भीड़भाड़ वाले गोवा के बीचों को छोड़िए, शांति से भरे इस गाँव की सैर करें

Tripoto
Photo of भीड़भाड़ वाले गोवा के बीचों को छोड़िए, शांति से भरे इस गाँव की सैर करें by Musafir Rishabh

हर किसी की हसरत होती है कि वो एक बार गोवा जाए और समुद्र किनारे बैठकर खूबसूरत नज़ारे का लुत्फ उठाए।गोवा भारत की लोकप्रिय जगहों में से एक है। घूमने वालों से लेकर पार्टी करने के लिए लोग गोवा को अपनी बकेट लिस्ट में रखते हैं। गोवा को इतना एक्सप्लोर किया जा चुका है कि अब यहाँ कोई सीक्रेट नहीं है। इसके बावजूद गोवा में कुछ जगहें हैं जहाँ कम लोग जाते हैं। उन्हीं खूबसूरत जगहों में से एक है, मारगाँव।

Photo of भीड़भाड़ वाले गोवा के बीचों को छोड़िए, शांति से भरे इस गाँव की सैर करें 1/2 by Musafir Rishabh

मारगाँव गोवा की सबसे पुरानी जगहों में से एक है। मारगाँव गोवा की वाणिज्यिक राजधानी के नाम से भी जाना जाता है। मारगाँव को मडगाँव के नाम से भी जाना जाता है। मारगाँव सल नदी के किनारे स्थित है। पुर्तगालियों के आने से पहले इस जगह को मठ गाँव के नाम से जाना जाता था। पुर्तगालियों ने यहाँ खूब बाजार बनाये। इसी वजह से मडगाँव को मार्केट सिटी ऑफ गोवा कहा जाता है। गोवा शहर से मडगाँव 27 किमी. की दूरी पर है। गोवा जाएँ तो मडगाँव की सैर का प्लान जरूर बनाएँ।

कैसे पहुँचे?

फ्लाइट से: अगर आप हवाई मार्ग से मारगाँव जाने का प्लान बना रहे हैं तो सबसे नजदीक गोवा इंटरनेशनल एयरपोर्ट है। मडगाँव से एयरपोर्ट सिर्फ 18 किमी. की दूरी पर है। आप कैब बुक करके मारगाँव पहुँच सकते हैं।

ट्रेन से: यदि आप रेल मार्ग से मारगाँव जाने का सोच रहे हैं तो सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन गोवा है। मारगांव से रेलवे स्टेशन 16 किमी. की दूरी पर है। आप टैक्सी से अपने गंतव्य तक पहुँच सकते हैं।

वाया रोड: गोवा सड़क मार्ग से अच्छी तरह से कनेक्टेड है। आप बस से गोवा पहुँच सकते हैं। अगर आपके पास खुद की गाड़ी है तब तो आप वाया रोड गोवा आराम से पहुँच सकते हैं।

क्या देखें?

1- कोल्वा बीच

मारगाँव में कोल्वा बीच से आप अपनी यात्रा की शुरुआत कर सकते हैं। अरब सागर के खूबसूरत नज़ारे आपको इस बीच पर देखने को मिलेंगे। सफेद और चमचमाती रेत से सजा इस समुद्र तट पर नारियल के पेड़ लगे हुए हैं। समुद्र तट के पास में रहने के लिए कई आवास भी हैं। आप कोल्वा बीच पर लुभावने सूर्यास्त को देख सकते हैं। आसमान और समुद्र के इस खूबसूरत संगम को देखने के लिए आपको कोल्वा बीच जरूर जाना चाहिए।

2- श्री दामोदर मंदिर

मारगाँव पहले हिन्दुओं का एक मठ हुआ करता था। यहाँ पर कई मंदिर हुआ करते थे। उनमें से देखने लायक मंदिर है, श्री दामोदर मंदिर। हिन्दुओं के लिए श्री दामोदर मंदिर पवित्र जगहों में से एक है। इस मंदिर में स्थापित मूर्ति पहले एक पुराने में स्थापित हुआ करती थी। जिस जगह पर पर अब चर्च ऑफ होली स्पिरिट बना हुआ है। मारगाँव में ये मंदिर खुशावती नदी के किनारे स्थित है।

3- चर्च ऑफ होली स्पिरिट

चर्च ऑफ होली स्पिरिट मारगाँव के सबसे बड़े चर्च में से एक है। इस चर्च को पुर्तगालियों ने हिन्दू मंदिर को गिराकर बनाया था। ये पुराने चर्च देखने में वाकई शानदार है। इस चर्च का आर्किटेक्चर देखने लायक है। ये चर्च बाहर और अंदर से काफी सुंदर है। आपको इस चर्च में चारों तरफ आर्ट की झलक देखने को मिलेगी। मारगाँव जाएँ तो इस जगह को भी देखें।

4- बोगमलो बीच

गोवा के मडगाँव में एक और छोटा सा बीच है, बोगमलो बीच। अगर आपको गोवा में शांति और सुकून चाहिए तो इसके लिए बोगमलो बीच अच्छी जगह है। आप यहाँ खूबसूरत सनसेट देख सकते हैं। इसके अलावा आप समुद्र किनारे रेत पर लंबी वॉक कर सकते हैं। समुद्र किनारे के ये अनुभव आपको इस जगह की खूबसूरती का एहसास कराएँगे।

5- मारगांव मार्केट

Photo of भीड़भाड़ वाले गोवा के बीचों को छोड़िए, शांति से भरे इस गाँव की सैर करें 2/2 by Musafir Rishabh

जब भी किसी नई जगह पर जाओ तो उस जगह के बाजार की सैर जरुर करनी चाहिए। आपको मारगाँव के लोकल मार्केट भी जाना चाहिए। आपको इस जगह के बारे में काफी कुछ बाज़ार से समझ आ जाएगा। बाज़ार से आपको लोगों की रोजमर्रा की ज़रूरतों के बारे में काफ़ी कुछ जानने को मिलेगा। आप मार्केट से मारगाँव की याद के रूप में कुछ सामान भी खरीद सकते हैं।

कब जाएँ?

गोवा की सैर पूरे साल में कभी भी की जा सकती है। इसके बावजूद मारगाँव आने का सबसे सही समय दिसंबर से मार्च तक का है। इस दौरान मौसम ठंडा लेकिन सुहावना होता है। मारगाँव में आपको ठहरने में आपको परेशानी नहीं आएगी। मडगाँव में रात गुजारने के लिए कई छोटे-बड़े होटल हैं। इसके अलावा आप गोवा शहर में भी ठहर सकते हैं। आपको एक बार गोवा इस गाँव को एक्सप्लोर करने का प्लान जरूर बनाना चाहिए।

क्या आपने हाल ही में गोवा की यात्रा की है? अपने अनुभव को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।