स्ट्रैटफ़ोर्ड अपॉन एवन सिटी जहा विलियम शेक्सपीयर पैदा हुए थे की एक दिन की मेमोरेबल यात्रा

Tripoto
6th Jun 2011
Photo of स्ट्रैटफ़ोर्ड अपॉन एवन सिटी जहा विलियम शेक्सपीयर पैदा हुए थे की एक दिन की मेमोरेबल यात्रा by Neeraj Rathore

मुझे अपनी उच्च शिक्षा की वजह से इंग्लेंड के बर्मिंघम शहर में लगभग 2.5 वर्ष रहने का मौका मिला. यहाँ रहने के दौरान मुझे अंग्रेजो ने बताया की अंग्रेजी साहित्य के महान साहित्यकार विलियम शेक्सपियर का जन्म स्थान स्ट्रैटफ़ोर्ड अपॉन एवन सिटी बर्मिंघम से मात्र 35 किलोमीटर की दुरी पर है.

Photo of स्ट्रैटफ़ोर्ड अपॉन एवन सिटी जहा विलियम शेक्सपीयर पैदा हुए थे की एक दिन की मेमोरेबल यात्रा 1/8 by Neeraj Rathore

मेने स्ट्रेटफोर्ड घुमने का प्लान बनाया एवं में अपने मित्रो के साथ वीकेंड पर यहाँ चला आया. इसके लिए हमने बर्मिंघम सिटी सेंटर के बस अड्डे से बस पकड़ी एवं 1 घंटे की दुरी तय करके बस स्ट्रेटफोर्ड पहुंची.

Photo of स्ट्रैटफ़ोर्ड अपॉन एवन सिटी जहा विलियम शेक्सपीयर पैदा हुए थे की एक दिन की मेमोरेबल यात्रा 2/8 by Neeraj Rathore
मित्र के साथ

26 अप्रैल 1564 इंग्लैंड के स्ट्रेटफोर्ड – अपॉन – एवन शहर में महान साहित्यकार विलियम शेक्सपियर का जन्म हुआ था.

Photo of स्ट्रैटफ़ोर्ड अपॉन एवन सिटी जहा विलियम शेक्सपीयर पैदा हुए थे की एक दिन की मेमोरेबल यात्रा 3/8 by Neeraj Rathore
मेरे पीछे स्थित घर में 26 अप्रैल 1564 इंग्लैंड के स्ट्रेटफोर्ड – अपॉन – एवन में विलियम शेक्सपियर जन्मे

विलियम शेक्सपियर, जॉन शेक्सपियर तथा मेरी आर्डेन के बड़े पुत्र एवं तीसरी संतान थे. इनका जन्म स्ट्रैटफोर्ड आपन एवन में हुआ. बाल्यकाल में शिक्षा स्थानीय फ्री ग्रामर स्कूल में हुई. परिवार की बढ़ती हुई आर्थिक कठिनाइयों के कारण उन्हें पाठशाला छोड़कर छोटे मोटे धंधों में लग जाना पड़ा. जीविका चलने के लिए उन्होंने लंदन जाने का निश्चय किया. इस निश्चय का एक दूसरा कारण भी था, कदाचित् चार्ल कोट के जमींदार सर टामस लूसी के उद्यान से हिरण की चोरी की ओर कानूनी कार्यवाही के भय से उन्हें अपना जन्मस्थान छोड़ना पड़ा. जिसका उन्हें मलाल था.

Photo of स्ट्रैटफ़ोर्ड अपॉन एवन सिटी जहा विलियम शेक्सपीयर पैदा हुए थे की एक दिन की मेमोरेबल यात्रा 4/8 by Neeraj Rathore

शेक्सपियर में अत्यंत उच्च कोटि की सर्जनात्मक प्रतिभा थी और साथ ही उन्हें कला के नियमों का सहज ज्ञान भी था, प्रकृति से उन्हें मानो वरदान मिला था अत: उन्होंने जो कुछ छू दिया वह सोना हो गया. उनकी रचनाएँ न केवल अंग्रेज जाति के लिए गौरव की वस्तु हैं वरन् विश्ववांमय की भी अमर विभूति हैं. महान शेक्सपियर की कल्पना जितनी प्रखर थी उतना ही गंभीर उनके जीवन का अनुभव भी था, अत: जहाँ एक ओर उनके नाटकों तथा उनकी कविताओं से आनंद की उपलब्धि होती है वहीं दूसरी ओर उनकी रचनाओं से हमको गंभीर जीवनदर्शन भी प्राप्त होता है. विश्वसाहित्य के इतिहास में शेक्सपियर के समकक्ष रखे जानेवाले विरले ही कवि मिलते हैं.

Photo of स्ट्रैटफ़ोर्ड अपॉन एवन सिटी जहा विलियम शेक्सपीयर पैदा हुए थे की एक दिन की मेमोरेबल यात्रा 5/8 by Neeraj Rathore

में भाग्यशाली हु जो मुझे इतने महान साहित्यकार के बर्थ प्लेस देखने का मौका मिला. मेने 15 पौंड खर्च करके शेक्सपियर ट्रस्ट की 1 वर्ष की मेम्बरशिप ली, जिसमे मुझे 1 वर्ष तक बार बार वहा आने एवं उनके नाटक जैसे रोमिओ-जूलियट देखने की सुविधा मिली .

Photo of स्ट्रैटफ़ोर्ड अपॉन एवन सिटी जहा विलियम शेक्सपीयर पैदा हुए थे की एक दिन की मेमोरेबल यात्रा 6/8 by Neeraj Rathore
स्ट्रैटफ़ोर्ड अपॉन एवन कस्बे का ट्रिनिटी चर्च जहा शेक्सपियर को दफनाया

स्ट्रैटफ़ोर्ड अपॉन एवन क़स्बा इतना छोटा है की पैदल ही पूरा शहर 2 घंटे में घूम सकते है. मुझे स्थानीय लोगो ने बताया की स्ट्रैटफ़र्ड अपॉन एवन में शेक्सपीयर की क़ब्र आज भी है जिसे आज तक खोदा नहीं गया है. स्कैन की मदद से क़ब्र को बिना नुक़सान पहुंचाए नई जानकारियां मिलने की उम्मीद है. होली ट्रिनिटी चर्च में, जहां शेक्सपीयर की क़ब्र मौजूद है, उनके परिवार के पांच लोग दफ़न हैं.

Photo of स्ट्रैटफ़ोर्ड अपॉन एवन सिटी जहा विलियम शेक्सपीयर पैदा हुए थे की एक दिन की मेमोरेबल यात्रा 7/8 by Neeraj Rathore

मुझे कुछ स्थानीय लोगो ने बताया कि क़ब्र के नीचे शायद कोई बड़ा सन्दूक़ दबा हुआ है. ये भी एक राज है कि क्या शेक्सपीयर को दफ़नाते वक़्त उनके साथ दूसरी चीज़ें भी रखी गई होगीं. शेक्सपीयर का निधन 23 अप्रेल 1616 में हुआ था. उनकी क़ब्र पर चार पंक्तियां खुदी हैं.जिसमें कुछ शब्द ऐसे हैं जिससे समझा जाता है कि क़ब्र खोदने पर मनाही है.

Photo of स्ट्रैटफ़ोर्ड अपॉन एवन सिटी जहा विलियम शेक्सपीयर पैदा हुए थे की एक दिन की मेमोरेबल यात्रा 8/8 by Neeraj Rathore
महान शेक्सपियर की कब्र देखने के बाद बर्मिंघम वापसी करते हुए

मुझे वहा से वापिस लौटते हुए शेक्सपियर के ये महान वाक्य स्मृति में आने लगे - "

"बीती बात को बार-बार याद कर शोक मनाना, नई मुसीबत बुलाने जैसा है, जो हमारी किस्मत में नहीं है, उसके लिए शिकायत करना बेकार है"

शेक्सपियर के नाटक ‘ओथेलो’ में यह संवाद है, यहां यह सीख दी जा रही है कि कुछ चीजों को छोड़ना ही जीवन में आगे बढ़ने का एकमात्र तरीका है. यदि आप बीती बातों पर शोक मनाते रहेंगे, तो आप उससे आगे कभी नहीं बढ़ पाएंगे. आप भाग्य नहीं बदल सकते हैं, तो आप इसके बारे में शिकायत करके इसे और भी बदतर बनाते हैं. बजाय इसके, अगर आप चीजों का मुस्कुरा कर सामना करते हैं, तो परेशानी जल्द दूर होती है.