खानाबदोश का रमज़ान #TripotoHindi

Tripoto
29th May 2019
Day 1

#TripotoHindi
रमज़ान का महीना हो और आप पुरानी दिल्ली न जाएं तो रमजान अधूरा ही समझें। इसका मतलब ये भी है कि आपने एक अलग रौनक देखने का मौका गंवा दिया। पर मैं ऐसा मौका कभी हाथ से जाने नहीं देता। क्योंकि खाने का असली मज़ा तो रमज़ान के महीने में ही है । तो 2019 के रमज़ान का भी बेसब्री से इंतज़ार था। फिर क्या, आ ही गया वो दिन भी। पहुँच गए मेट्रो पकड़ के जामा मस्जिद।

Photo of Jama Masjid, Chandni Chowk, New Delhi, Delhi, India by Visharth Negi

एक अलग सी रौनक होती है हर तरफ। बच्चे, बूढ़े, जवान सब इस रौनक में शरीक हो रखे थे। मैं भी हो लिया😎

Photo of खानाबदोश का रमज़ान #TripotoHindi by Visharth Negi

इफ़्तार के बाद का समय था तो हर तरफ भीड़ और रौनक लगी हुई थी। मुझे तो लग रही थी भयंकर दर्जे की भूख। इसलिए मैंने पहले रुख किया कुरेशी जी के कबाब की तरफ।

Photo of खानाबदोश का रमज़ान #TripotoHindi by Visharth Negi

कुछ तो शांति मिली। स्टार्टर के तौर पे कबाब का कोई जवाब नहीं। पर जो दूसरा सवाल मेरे मन में था वो था कि अब क्या खाया जाए। थोड़ी ताक़ झांक करने के बाद  जवाहर होटल पे जाने का फैसला किया और चल पड़े।

Photo of खानाबदोश का रमज़ान #TripotoHindi by Visharth Negi

अब कुछ तसल्ली हुई पर एक सवाल अब भी बाकी था कि मीठे में क्या खाया जाए तो नज़र पड़ी एक लाजवाब चीज़ पे।

ठंडा शर्बत

Photo of खानाबदोश का रमज़ान #TripotoHindi by Visharth Negi

और क्या चाहिए एक इंसान को। थोड़ा खाना, थोड़ा मीठा और सुकून। एक बात तो साफ है कि त्योहार का मज़ा साथ मनाने में ही है।

Photo of खानाबदोश का रमज़ान #TripotoHindi by Visharth Negi
Photo of खानाबदोश का रमज़ान #TripotoHindi by Visharth Negi
Photo of खानाबदोश का रमज़ान #TripotoHindi by Visharth Negi

क्या बीती थी शाम। अगले साल के इंतज़ार में चल पड़े अपने घर की तरफ एक बात दिल में लिए की सबके साथ मिल जुल के रहने में ही पूरी इंसानियत की भलाई है।

Be the first one to comment