उदयपुर के 6 मशहूर पैलेस जिनका शाही अंदाज हर घुमक्कड़ का दिल जीत लेता है

Tripoto
Photo of उदयपुर के 6 मशहूर पैलेस जिनका शाही अंदाज हर घुमक्कड़ का दिल जीत लेता है by Deeksha Agrawal

उदयपुर, जिसको सिटी ऑफ लेक्स भी कहा जाता है, भारत की सबसे रोमांटिक जगहों में से है। पिछोला झील और तमाम पहाड़ियों के बीच स्थित ये शहर शुरू से ही राजस्थानी संस्कृति और सभ्यता का बढ़िया उधाहरण रहा है। इस शहर के शानदार राजमहल उदयपुर की शाही शान की गाथाएँ सुनाते हैं। उदयपुर के फेमस और लोकप्रिय शहर होने का कुछ श्रेय इसके महलों को भी जाता है। ये सभी महल आपको राजस्थान के शाही परिवार के बारे में बहुत जानकारी देते हैं। वैसे इनमें से ज्यादातर महलों को हेरिटेज होटलों में बदल दिया गया है। लेकिन इसके बावजूद इन महलों के राजसी माहौल में कोई कमी नहीं आई है। ये सभी महल आज भी उतने ही शानदार और रॉयल हैं जितने पहले से समय में हुआ करते थे। तो आप जब भी राजस्थान की यात्रा पर निकलें, उदयपुर के इन शाही राजमहलों को देखना ना भूलें।

Tripoto हिंदी के इंस्टाग्राम से जुड़ें

1. उदयपुर सिटी पैलेस

पिछोला झील के किनारे बना उदयपुर का मशहूर सिटी पैलेस हर किसी को अपनी ओर आकर्षित करता है। सिटी पैलेस कॉम्प्लेक्स असल में कई किलों का समूह है जिसको मेवाड़ के राजाओं ने लगभग 400 साल पहले बनवाया था। तब से लेकर अबतक इस राजमहल की शान में कोई कमी नहीं आई है। इस पैलेस का निर्माण ग्रेनाइट और मार्बल को इस्तेमाल करके किया गया है। पैलेस के अंदर के गलियारों में भी नक्काशीदार मार्बल का बेहतरीन काम किया गया है। इस कॉम्प्लेक्स का मुख्य पैलेस बड़ी महल है जिसको गार्डन पैलेस के नाम से भी जाना जाता है। इसके अलावा इस कॉम्प्लेक्स में आप शीश महल, मोती महल, दिलकुश महल और फतेह प्रकाश पैलेस भी देख सकते हैं। इनमें से शंबू निवास अब मेवाड़ के शाही परिवार का निवास स्थान हो गया है और दो महलों को हेरिटेज होटलों में भी बदल दिया गया है। उदयपुर का सिटी पैलेस आपको राजस्थान के पक्के शाही अंदाज से रूबरू होने का मौका देता है।

2. जग मंदिर पैलेस

महाराजा जगत सिंह द्वारा बनवाए गए इस राजमहल को लेक गार्डन पैलेस के नाम से भी जाना जाता है। इस तीन मंजिला महल का निर्माण मार्बल और सैंडस्टोन को इस्तेमाल करके किया गया है। इस पैलेस की खासियत है इसकी हाथियों की 8 बड़ी मूर्तियां जिन्हें मार्बल से तराशा गया है। महल में दाखिल होते ही आपका स्वागत इन्हीं मूर्तियों से होता है जो आपको सीधे किसी शाही राजपरिवार में होने का एहसास दिलाती हैं। जग मंदिर पैलेस में आपको गुल महल जरूर देखना चाहिए जहाँ शाहजहां ने अपने परिवार के साथ रहा करते थे। इसके बाद आपको 12 पत्थरों का महल देखना चाहिए जो मार्बल की 12 सिल्लियों को तराश कर बनाया गया है। जग मंदिर पैलेस से आपको बेहद खूबसूरत सनसेट देखने का भी अवसर मिलता है। आप अपनी ट्रिप का अंत पैलेस के अंदर बने दरीखाना रेस्त्रां में कुछ लाजवाब राजस्थानी व्यंजनों के साथ कर सकते हैं।

3. सज्जनगढ़ पैलेस

1884 में बने इस खूबसूरत महल का निर्माण महाराणा सज्जन सिंह ने करवाया था। सज्जनगढ़ पैलेस को द मानसून पैलेस के नाम से भी जाना जाता है। बंसदरा पहाड़ के ऊपर लगभग 994 मीटर की ऊँचाई पर बने इस राजमहल से पिछोला झील के बेहतरीन नजारे दिखाई देते हैं। यहाँ तक कि इस पैलेस से आपको आसपास की वाइल्डलाइफ सैंक्चुरी, झील, पहाड़ और अन्य महलों के नजारे भी दिखाई देते हैं। असल में इस जगह को पहले एक एस्ट्रोनॉमी लैब की तरह बनाया जाने वाला था। लेकिन महाराणा सज्जन सिंह के अचानक गुजर जाने की वजह से इसको पूरा नहीं किया जा सका। बाद में इस महल का इस्तेमाल शिकार और एन्जॉय करने के लिए किया जाने लगा। सज्जनगढ़ पैलेस का राजपूताना आर्किटेक्चर, ऊँची मीनारें और बालकनी देखने का असली मजा शाम को आता है जब ये पैलेस रोशनी से चमक उठता है।

4. लेक पैलेस

पिछोला झील के जग द्वीप पर बना ये राजमहल उदयपुर के सबसे खूबसूरत महलों में से है। 1743 से 1746 के बीच बनवाए गए इस महल को जग निवास के नाम से भी जाना जाता है। इस महल का निर्माण महाराणा जगत सिंह द्वितीय ने करवाया था। महल को बरकरार रखने के लिए 1960 में महाराणा भागवत सिंह ने इसके रख-रखाव का काम शुरू करवाया था जिसके बाद ये पैलेस उदयपुर के सबसे पहले लग्जरी होटल के रूप में सामने आया। ये पैलेस बेहद शानदार है। फिलहाल इसको ताज ग्रुप ऑफ होटल्स के तहत चलाया जा रहा है। ये पल्व डेस्टिनेशन वेडिंग के लिए भी बहुत फाउस है। केवल यही नहीं कई नामी-गिरामी हस्तियों ने इस पैलेस को अपने वेडिंग डेस्टिनेशन के तौर पर चुना था। ये पैलेस केवल उदयपुर ही नहीं बल्कि पूरे राजस्थान की सबसे रोमांटिक जगहों में शुमार है। सफेद रंग में चमचमाता ये राजमहल किसी स्वर्ग से कम नहीं लगता है।

5. बागौर की हवेली

आमिर चंद बड़वा द्वारा 18वीं शताब्दी में बनवाई गई ये हवेली गंगोरी घाट पर स्थित है। आमिर चंद मेवाड़ के शाही कोर्ट के मुख्यमंत्री हुआ करते थे। उनकी मृत्यु के बाद ये हवेली मेवाड़ के शाही परिवार के पास आ गई। 1878 में ये हवेली बागौर के महाराणा शक्ति सिंह के पास आ गई थी जिन्होंने बाद में इस हवेली में तीन मंजिलें जोड़कर इसको अपना निवास स्थान बना लिया था। कई सालों तक खाली पड़े रहने के बाद इस हवेली को आखिरकार वेस्ट ज़ोन कल्चर सेंटर ने रेनोवेट करके इसको एक म्यूजियम में बदल दिया है। उदयपुर के इस अनोखे राजमहल में कुल 138 कमरे हैं। इसके अलावा इसमें अनेक गलियारे और बालकनी हैं। इस महल में जगह जगह पर शीशे का बेहतरीन काम किया गया है। इसके अलावा महल में तमाम पेंटिंग और आर्ट से जुड़ी चीजें लगाईं गईं हैं। इस महल का सबसे आकर्षक हिस्सा रानी दरबार है जो आपको सीधे मेवाड़ियों की संस्कृति से रूबरू होने का मौका देता है।

6. शिव निवास पैलेस, फतेह प्रकाश पैलेस, जगत निवास पैलेस

पिछोला झील के पूर्वी किनारे पर बने इन तीनों महलों को अब हेरिटेज होटलों में बदल दिया गया है। शिव निवास पैलेस उदयपुर के सिटी पैलेस का हिस्सा है जिसको पहले शाही घराने के गेस्ट हाउस की तरह इस्तेमाल किया जाता था। वहीं फतेह प्रकाश पैलेस को शाही कार्यक्रमों के लिए इस्तेमाल किया जाता था। 17वीं शताब्दी में बना जगत निवास पैलेस को भी फिलहाल हेरिटेज होटल में बदल दिया गया है। इन सभी महलों का आर्किटेक्चर देखने लायक है। ये महल बाहर से जितने सुंदर दिखाई देते हैं, अंदर से ये उससे कहीं ज्यादा खूबसूरत है। सभी महलों की दीवारों पर बढ़िया नक्काशी की गई है। महल में दाखिल होते ही आपको पूरा शाही माहौल मिलेगा।

कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, हमें कमेंट बॉक्स में बताएँ।

क्या आप उदयपुर की यात्रा की है ? अपने अनुभव को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা  और  Tripoto  ગુજરાતી फॉलो करें