लेह रोड ट्रिप का प्लान बना रहे हैं? यहाँ के टैक्सी माफिया से बच कर रहें

Tripoto
Photo of लेह रोड ट्रिप का प्लान बना रहे हैं? यहाँ के टैक्सी माफिया से बच कर रहें 1/3 by लफंगा परिंदा

पिछले हफ्ते जब मैं लद्दाख में घूमने लायक जगहों के बारे में रिसर्च कर रहा था, तभी मेरी एक दोस्त से बातचीत हुई जो पिछले साल अक्टूबर में यहाँ घूमने गई थी | जो घटना दोस्त ने मुझे बताई, उसे सुनकर मुझे काफ़ी निराशा हुई |

मेरी दोस्त अपने मंगेतर और कुछ दोस्तों के साथ रोड ट्रिप करने लद्दाख की ओर गयी थी | उन्होनें दिल्ली से किराए पर गाड़ी ली और उसे खुद चलाकर लेह-नुब्रा-पन्गोन्ग-लेह का रास्ता पकड़ लिया था | यात्रा के आख़िरी पड़ाव में जब वे दो दिन बाद घर के लिए लौटने ही वाले थे, उनकी मुठभेड़ कुछ गुंडों से हो गयी | इन गुंडों ने बिना किसी वजह के इनसे मारपीट और गाली-गलौच शुरू कर दी थी | ये वारदात लेह के एक मशहूर होटल के बाहर हुई थी | हालात काफ़ी बिगड़ गए थे | गुंडों ने मेरी दोस्त के ग्रुप में से दो लोगों को घायल कर दिया और गाड़ी का एक शीशा भी तोड़ डाला | पास ही मौजूद एक स्थानीय व्यक्ति के छुपा हुआ भागने का रास्ता बताए जाने पर उन्होनें जैसे तैसे अपनी जान बचाई | उसी स्थानीय व्यक्ति ने मेरे दोस्त और स्मूह को अपने घर में छुपाया और परिस्थितियों के ज़्यादा बिगड़ने से पहले ही अगली सुबह निकल जाने की सलाह दी |

उन्हें पता चला कि जिन लोगों ने उन पर हमला किया था, वे स्थानीय टैक्सी यूनियन के लोग थे | इन लोगों को पता चल गया था कि वे लोग बाहर से किराए की गाड़ी खुद चलाते हुए लाए हैं |

आख़िर ये सब हो क्या रहा है?

Photo of लेह रोड ट्रिप का प्लान बना रहे हैं? यहाँ के टैक्सी माफिया से बच कर रहें 2/3 by लफंगा परिंदा

मेरे कुछ साथियों और स्थानीय लोगों से बात करने पर पता चला है कि इस लद्दाख इलाक़े ख़ास कर नुब्रा, पैंगॉन्ग, और त्सो-मोरीरी में सेल्फ़-ड्राइविंग किराए की गाड़ी पर अनौपचारिक रूप से बैन लगा हुआ है | अनऔपचारिक क्योंकि ये बैन राज्य सरकार ने नहीं बल्कि स्थानीय टैक्सी यूनियन ने लगाया है | पिछले कुछ सालों में ऐसी कई घटनाएँ हुई हैं जिनमें किराए की गाड़ियाँ या बाइक चलाकर आए सैलानियों को रोककर उन पर हमला किया गया है |

मेरे एक और दोस्त, जो पिछले साल अपने तीन दोस्तों के साथ इस इलाक़े में बाइक टूर के लिए गया था, उसके पीछे 30 से ज़्यादा लोग हमला करने के लिए पड़ गए थे | उन्होंने लेह से निकलने और दिल्ली की ओर जाने के लिए इस इलाक़े की भारतीय सेना से मदद ली थी |

अभी के लिए लद्दाख घूमना है तो स्थानीय टैक्सी करना ही सही है | आप सेल्फ़-ड्राइव कार या किराए का निजी साधन लेह तक ही ले जा सकते हैं, उससे आगे नहीं |

ये सब क्यूँ शुरू हुआ?

माना जाता है कि ये मुद्दा 2015 (वीडियो देखें) से शुरू हुआ, जब एक कार और उसमें बैठे लोगों पर भीड़ ने हमला कर दिया | उनकी गाड़ी पर तब तक पत्थर बरसाए गये जब तक वे गाड़ी छोड़ कर कहीं छुप नहीं गये | कारण बताया गया कि लद्दाख टैक्सी यूनियन के हिसाब से दूसरे राज्यों से किराए पर गाड़ियाँ, मोटरबाइक आदि ला कर और इस क्षेत्र में पैसों की एवज में चलवा कर क्षेत्र की पर्यटन क्षमता का नाजायज़ फ़ायदा उठाया जा रहा है |

पिछले कुछ सालों में ऐसे काफ़ी कांड हुए हैं जिनमें गाड़ी को रुकवा कर सवारियों को स्थानीय टैक्सी करने पर मजबूर किया गया, गाड़ियों के टायरों से हवा निकाल दी गयी और बैठी सवारियों पर भीड़ ने हमला किया |

मुद्दे की बात ये है कि स्थानीय टैक्सी यूनियन के लोग बाहर से किराए पर लाई गई गाड़ियों को इस क्षेत्र के रोज़गार और कमाई के अवसरों के लिए ख़तरा समझते हैं| ख़ासकर ये क्षेत्र जहाँ ज़्यादातर लोगों की रोज़ीरोटी पर्यटन पर निर्भर करती है |

अभी इस स्थिति से कैसे निबटा जा सकता है?

अगर आपको ये पढ़कर लग रहा है कि आपके लद्दाख घूमने के सपने पर पानी फिर गया तो घबराईए नहीं | यूनियन द्वारा लागू ये प्रतिबंध केवल दूसरे राज्यों से किराए पर लाई गई गाड़ियों के लिए है | अगर आपने घूमने के लिए लद्दाख क्षेत्र से कोई गाड़ी ली है तो आपको डरने की कोई ज़रूरत नहीं है | अगर आपको रोड ट्रिप करनी ही है तो अपनी या अपने किसी रिश्तेदार की गाड़ी पुख़्ता कागज़ात के साथ ही ले जाएँ | कागज़ात इसलिए ताकि अगर आपको कहीं रोक भी लिया जाए तो आपके पास दिखाने के लिए सबूत हो |

Photo of लेह रोड ट्रिप का प्लान बना रहे हैं? यहाँ के टैक्सी माफिया से बच कर रहें 3/3 by लफंगा परिंदा

मैं कई बार लद्दाख गया हूँ मगर कभी ऐसी परिस्थिति से पाला नहीं पड़ा | शायद इसलिए क्योंकि मैंने कभी इस इलाक़े में बाहर की गाड़ी / बाइक आदि किराए पर लेकर प्रवेश नहीं किया |

मैं जानता हूँ कि स्थानीय लोग अपनी रोज़ीरोटी और कमाई को लेकर सहमे व असुरक्षित महसूस कर रहे हैं, लेकिन अगर ऐसी गुंडागर्दी चलती रही तो इस इलाक़े का पर्यटन काफ़ी प्रभावित होगा | मेरे कई दोस्त तो अपनी लद्दाख जाने की योजना पर फिर से विचार भी करने लगे हैं |

लद्दाख के टैक्सी माफ़िया के बारे में आप क्या सोचते हैं ? अपने अनुभव Tripoto पर शेयर करें |

हमसे रोज़ यात्रा करने की प्रेरणा लीजिए | शुरू करने के लिए 9599147110 को सेव कर के  वॉट्सऐप कीजिए |

यह आर्टिकल अनुवादित है | ओरिजिनल आर्टिकल पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें |

Be the first one to comment