इन खूबसूरत वादियों में, दो अमर प्रेमियों की आज भी गूंजती हैं आवाज़ें।

Tripoto
17th Jun 2021
Photo of इन खूबसूरत वादियों में, दो अमर प्रेमियों की आज भी गूंजती हैं आवाज़ें। by Walia Sachin
Day 1

प्रेम, मोहब्बत, इश्क, प्यार, लव...शब्द कोई भी हो एहसास एक ही बयां करता है। जब भी सच्ची मोहब्बत का जिक्र होता है, तो कुछ नाम दिल-ओ-दिमाग में आ ही जाते हैं, जो इश्क की इबादत में खुद का फना कर गए, लेकिन उनकी रूह से खुदा की इस इनायत को कोई अलग नहीं कर पाया। अब ये नाम ही सच्चे प्रेम का पर्याय बन चुके हैं। इन्हीं में हीर और रांझा की प्रेमकहानी को भी गिना जाता है। पाकिस्तान के पंजाब स्थति झंग शहर में एक अमीर परिवार में पैदा हुई हीर बहुत सुन्दर महिला थी। - चेनाब नदी के किनारे गांव में रहने वाला राझां अपने चार भाइयों में सबसे छोटा था। - भाइयों से विवाद के बाद वह घर छोड़कर हीर के गांव पहुंच गया। पंजाब की सरजमीं पर पैदा हुए प्यार के दो पंछी थे, जिनमें एक थी हीर और दूसरा रांझा। पंजाब के झंग शहर में, जाट परिवार में जन्मीं हीर, अमीर, खानदानी और बेहद खूबसूरत थी। वहीं रांझा चनाब नदी के किनारे बसे गांव तख्त हजारा के जाट परिवार में जन्मा। उसका पूरा नाम था धीदो, और रांझा जटोंक उपजाति थी।

सौजन्य अमर उजाला

Photo of इन खूबसूरत वादियों में, दो अमर प्रेमियों की आज भी गूंजती हैं आवाज़ें। by Walia Sachin

सौजन्य: विशाल Yadav

Photo of इन खूबसूरत वादियों में, दो अमर प्रेमियों की आज भी गूंजती हैं आवाज़ें। by Walia Sachin

वो गाँव जहांँ हीर और रांझा की मजारें बनीं हुईं हैं सौजन्य देवेन्द्र गांव गुणा

Photo of इन खूबसूरत वादियों में, दो अमर प्रेमियों की आज भी गूंजती हैं आवाज़ें। by Walia Sachin

बांसुरी बजाने का वह शौकीन था, सो उसका दिन इस शौक को पूरा करते निकलता। लेकिन उसकी भाभियों को यह नागवार था, इसलिए उन्होंने रांझा को खाना-पीना देना ही बंद कर दिया। यह बात रांझा को नागवार गुजरी, और वह घर छोड़कर निकल पड़ा।    भटकते हुए वह हीर के गांव झंग पहुंचा, जहां हीर को उसने पहली बार देखा। वहां हीर के घर उसने गाय-भैंसों को चराने का काम किया। खाली समय में वह छांव में बैठकर बांसुरी बजाया करता था। हीर तो उसके मन को मोह ही चुकी थी, रांझे की बांसुरी सुन हीर भी मंत्रमुग्ध सी हो गई। अब दोनों बस एक दूसरे का दीदार करने के मौके ढूंढते और एक दूसरे का सामना, साथ उनके मन को बेहद भाता। दोनों छुप-छुपकर मिलने लगे। लेकिन दिन हीर के चाचा ने दोनों को मिलते हूए देख लिया और हीर के पिता और मां तक यह बात पहुंच गई। फिर क्या था, हीर की शादी जबरदस्ती एक सैदा खेड़ा नामक आदमी से कर दी गई।  

अब रांझे के लिए यहां कुछ बचा न था। उसका मन अब दुनिया-जहान में लगता न था। वह जोग यानि संन्यास लेने बाबा गोरखनाथ के डेरे, टिल्ला जोगियां चला गया। वह अपना कान छिदाकर बाबा का चेला बन गया। अब वह अलख-निरंजन कहते हुए पंजाब के अलग-अलग क्षेत्रों में घूमने लगा। एक दिन अचानक वह हीर के ससुराल पहुंच गया। दोनों एक दुसरे को देखकर अपने प्रेम को रोक नहीं पाए और भागकर हीर के गांव आ गए। हीर के मां-बाप नें उन्हें शादी करने की इजाजत तो दे दी, लेकिन हीर के चाचा को यह बिल्कुल बर्दाश्त नहीं था। जलन के कारण ही हीर का वह ईर्ष्यालु चाचा, हीर को लड्डू में जहर डालकर खिला देता है। जब तक यह बात रांझा को पता चलती है, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। 

हीर राझां की एक साथ बनीं मजारें

Photo of इन खूबसूरत वादियों में, दो अमर प्रेमियों की आज भी गूंजती हैं आवाज़ें। by Walia Sachin

हीर राझां की एक साथ बनीं वास्तविक मजारें

Photo of इन खूबसूरत वादियों में, दो अमर प्रेमियों की आज भी गूंजती हैं आवाज़ें। by Walia Sachin

रांझा के लिए यह दुख बेहद पीड़ादायी था। वह इस दुख को बर्दाश्त नहीं कर पाया और उसने भी वही जहरीला लड्डू खा लिया, जिसे खाकर हीर की मौत हुई। हीर के साथ-साथ रांझा ने भी दम तोड़ दिया और इस प्रेम कहानी का अंत हो गया। दोनों को संग में एक साथ दफनाया गया, जो मजारें अब भी वहां बनी हुई हैं। दूर दूर से लोग और प्रेम के प्रति चाह रखने वाले यहाँ अक्सर आते हैं। प्रकृति सोंदर्य के साथ साथ यहाँ की प्रेम से जुड़ी यह धरोहर आज भी अपनी कहानी ब्यान करती हुई नजर आती है।