गुजरात के कच्छ में पाकिस्तान की सीमा के पास वीरान हुए शहर लखपत का किला

Tripoto
9th Aug 2021
Day 1

#मेरी_कच्छ_भुज_यात्रा
#लखपत_किला
मैंने नारायण सरोवर और कोटेश्वर मंदिर के दर्शन कर सुबह 8 बजे कोटेश्वर के मंदिर से गढौली के लिए बस पकड़ी और  जिसने मुझे कोटेश्वर से 41 किमी की दूरी तय करके गढौली नामक एक छोटे से गांव में उतार दिया।
मैंने सुबह की चाय के अलावा कुछ नहीं खाया था।  गढौली बाजार में एक दुकान पर पीली जलेबी, फाफड़ा और खमन ढोकला पड़ा नजर आया।  खमन ढोकला की  20 रुपये की थाली में चार  खमन खट्टी मीठी चटनी के साथ, दो पीली जलेबी भी ली, हाथ में जलेबी लिए, जलेबी  खाते ही मैंने   लखपत की बस पकड़ ली  जो उस दुकान के सामने आकर खड़ी थी , क्योंकि इस क्षेत्र में सार्वजनिक परिवहन सेवा बहुत कम है।   गरौली से लखपत की दूरी 20 किमी है जैसे ही आप लखपत पहुंचते हैं, सड़क बहुत सुनसान हो जाती है।  आधे घंटे बाद बस लखपत किले के सामने उतरी।  किले की मजबूत दीवारों के बीच का रास्ता पार करते हुए मैं लखपत के किले में दाखिल हुआ।  अंग्रेजी में "वेलकम टू लखपत फोर्ट" शब्दों के साथ एक गुजरात पर्यटन बोर्ड है।  मैंने पास में खड़े एक स्थानीय व्यक्ति से मेरी तस्वीर लेने के लिए कहा।  उसने किले में मेरी दो-चार तस्वीरें लीं।  फिर मैं किला देखने के लिए आगे बढ़ा।
लखपत का इतिहास
लखपत कभी पाकिस्तान के सिंध प्रांत का हिस्सा था।प्राचीन काल में पंजाब की प्रसिद्ध सिंधु नदी लखपत के पास बहती थी, जिसके किनारे पर लखपत का किला है।  लखपत किला करीब 800 साल पुराना है।  कच्छ और सिंध का एक बड़ा व्यापारिक केंद्र लखपत अब वीरान और उजाड़ है।  लखपत भुज से 135 किमी दूर है।  १८वीं शताब्दी में, एक चरवाहे फतेह मुहम्मद ने लखपत के किले को मजबूत दीवारों से मजबूत किया।  उसके लखपत के किला रक्षक बनने की कहानी भी बहुत दिलचस्प है  फतेह मुहम्मद भेड़ बकरी चराया करता था , एक दिन भेड़ बकरी चरवाते हुए वह दोपहर को एक वृक्ष के नीचे सो गया, उसी जगह से एक फकीर गुजर रहे थे जिन्होंने उसे जोर से टांग मारी लेकिन फतेह मोहम्मद इस बात से बिल्कुल भी नाराज नहीं थे, जिससे फकीर खुश हो गए और फतेह मोहम्मद को आशीर्वाद दिया कि एक दिन आप लखपत पर शासन करेंगे  इस प्रकार फतेह मुहम्मद ने लखपत पर शासन किया और किले की किलेबंदी की।  यह भी कहा जाता है कि एक समय लखपत कोरी नामक मुद्रा चला  करती थी।
लखपत का किला देखकर मैं गुरुद्वारा लखपत साहिब की ओर चल पड़ा ।

लखपत किले की मजबूत दीवार

Photo of Lakhpat Fort by Dr. Yadwinder Singh

लखपत किले में आपका सवागत हैं ।

Photo of Lakhpat Fort by Dr. Yadwinder Singh

लखपत किले में जाने का रास्ता जो किले की दीवार तोड़कर ही बनाया है।

Photo of Lakhpat Fort by Dr. Yadwinder Singh

लखपत किले में घुमक्कड़

Photo of Lakhpat Fort by Dr. Yadwinder Singh

More By This Author

Further Reads