नैंसी बनी हमीरपुर डिपो की पहली महिला बस ड्राइवर, महज 21 साल में कर दिखाया ये कारनामा

Tripoto
Photo of नैंसी बनी हमीरपुर डिपो की पहली महिला बस ड्राइवर, महज 21 साल में कर दिखाया ये कारनामा by Deeksha Agrawal

कहते हैं किस्मत भी उनका साथ देती है जो हिम्मत करने का जज्बा रखते हैं। यदि आपके हौसले बुलंद हैं तो दुनिया में ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है जो आपको ऊँची उड़ान भरने से रोक पाएगा। कुछ ऐसा ही कारनामा कर दिखाया है हिमाचल प्रदेश की नैंसी कटनुरिया ने। जिन्होंने मात्र 21 साल की उम्र में हिमाचल के राज्य परिवहन में बस चलाने का लाइसेंस प्राप्त किया। सुनने में ये बात आपको हैरान कर सकती है लेकिन ये एकदम सच है। नैंसी हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर डिपो में कार्यक्रत होने वाली पहली महिला बस चालक हैं।

Tripoto हिंदी के इंस्टाग्राम से जुड़ें

नैंसी ने इससे पहले बीकॉम की डिग्री भी हासिल कर रखी है। पढ़ाई के बाद नैंसी ने दो महीनों की ट्रेनिंग ली जिसको सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद उन्हें आधिकारिक तौर पर हिमाचल प्रदेश राज्य परिवहन में बस चालक की भूमिका में नियुक्त कर दिया गया है। अपनी दो महीनों की ट्रेनिंग के दौरान कुल 17 लोगों के बैच में नैंसी अकेली महिला थीं। नैंसी बताती हैं कि वो आगे चलकर भारतीय सेना में एक ट्रक ड्राइवर के रूप में हिस्सा बनना चाहती हैं।

नैंसी आगे बताती हैं कि वो समाज में बदलाव लाना चाहती हैं। उनके मुताबिक आज औरतें इतनी सशक्त हैं कि वो किसी भी फील्ड में अपनी पहचान बना सकती हैं। बता दें ऐसा करने वाली नैंसी अकेली महिला नहीं हैं। नैंसी से पहले सोलन की सीमा ठाकुर ने भी ऐसा करनामा कर दिखाया है। सीमा फिलहाल शिमला डिपोट में कर्यक्रत हैं। शुरुआती समय में सीमा को केवल हिमाचल प्रदेश में बस चलाने का परमिट दिया गया था। लेकिन उनके प्रोमोशन के बाद अब उन्हें शिमला से चंडीगढ़ के लिए भी अनुमति दी जा चुकी है। ये दोनों औरतें आज की युवा पीढ़ी के लिए मिसाल हैं। अगर आपका इरादा पक्का है तो आप कुछ भी हासिल कर सकते हैं।

क्या आप ऐसी किसी सशक्त महिला को जानते हैं ? उनकी कहानी को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना टेलीग्राम पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें