दुनिया की वो जगहें जहाँ मरना मना है

Tripoto
Photo of दुनिया की वो जगहें जहाँ मरना मना है by Deeksha

घुमक्कड़ी में कुछ बातें ऐसी होती हैं जिन्हें आप करना तो नहीं चाहते हैं। लेकिन ना चाहते हुए भी आपको वो चीजें करनी पड़ती हैं। मेरे हिसाब से हर घुमक्कड़ के लिए घूमने के बाद किसी शहर को अलविदा कहना सबसे मुश्किल काम होता है। एक शहर जो कुछ दिनों के लिए आपका घर बन जाता है उसे एक झटके में छोड़ देना सचमुच में कठिन होता है। इसलिए हर घुमक्कड़ कुछ हद तक कायर भी होता है। उसे अलविदा कहना नहीं आता है। उस नई जगह का साथ बस कुछ पलों के लिए है ऐसा हर घुमक्कड़ जानता तो है लेकिन कहीं न कहीं इस ख्याल को अपनाने से डरता भी है। लेकिन अगर कुछ जगहें ऐसी हों जिनके साथ आपका कभी ना खत्म होने वाला रिश्ता बन जाए तब? खैर बात को ज्यादा ना घुमाते हुए आपको बताते हैं दुनिया की उन खास जगहों के बारे में जहाँ आपको मरना बिल्कुल माना है। ये 8 जगहें हैं जिन्होंने अपने लोगों को एक तरह से अमर हो जाने के लिए कहा है- या कम से कम आप इन शहरों की सीमा के अंदर तो मरना मना ही समझिए।

1. सेलिया, इटली

सेलिया इटली का छोटा-सा शहर है। एक समय पर ये शहर बहुत सारे लोगों का घर हुआ करता था। लेकिन आज सेलिया की आबादी बहुत मामूली रह गई है। अब सेलिया में केवल 537 लोग ही रहते हैं जिसमें ज्यादातर लोगों की उम्र 65 साल से ऊपर है। शहर की आबादी कम होता देख सेलिया के मेयर बहुत ही पेचीदा फैसला लेकर आए। उनके इस फैसले के मुताबिक सेलिया में किसी भी व्यक्ति को मरने या बीमार होने की अनुमति नहीं है। उनका ये फैसला सेलिया के लोगों के बीच स्वस्थ रहने की जागरूकता बढ़ाने के लिए था। खास बात ये है कि लोग उनके इस फैसले को हल्के में ना लें इसके लिए भी उन्होंने कड़े नियम बनाए। उनकी बातों को ना मानने वालों पर साल में 10 यूरो का जुर्माना लगाया जाता था।

2. कगनॉक्स, फ्रांस

फ्रांस के कगनॉक्स शहर की कहानी काफी दिलचस्प है। दुनिया के इस हिस्से में सचमुच मरने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। लेकिन इसके पीछे एक वजह भी है। साल 2007 में कगनॉक्स के मेयर फिलिप गुएरिन शहर में कबरिस्तान बनवाना चाहते थे क्योंकि उस समय शहर में मरने वाले लोगों को दफनाने के लिए जगह की कमी होने लगी थी। लेकिन कुछ कारणों की वजह से उनके इस प्रोजेक्ट को हरी झंडी नहीं मिल सकी जिसके बाद उन्होंने काफी अलग निर्णय लिया। उन्होंने कगनॉक्स में पूरी तरह से मृत्यु पर ही प्रतिबन्ध लगा दिया।

3. बिरितीबा मिरिम, ब्राजील

Photo of दुनिया की वो जगहें जहाँ मरना मना है 2/3 by Deeksha
श्रेय: मोगी न्यू

2005 में स्थानीय कब्रिस्तान में जगह की कमी के चलते इस ब्राजीली शहर के मेयर ने मौत पर प्रतिबंध लगा दिया था। क्योंकि ब्राजील में कैथोलिक चर्च से जुड़े नियमों का पालन होता है इसलिए मृत लोगों को जलाने का ऑप्शन भी नहीं था। यहाँ के किसान, जो पूरे शहर में मिलने वाले ज्यादातर फल और सब्जियों का ध्यान रखते हैं, 2003 में आए नए कानूनों की वजह से अपने कब्रिस्तानों को बड़ा नहीं कर सकते थे। खैर अच्छी बात ये है कि 2010 में एक नया कब्रिस्तान खोल तो दिया गया है इसलिए श्याद लोगों को अब मरने की अनुमति तो है। लेकिन आखिर कब तक?

4. इट्सुकुशिमा, जापान

Photo of दुनिया की वो जगहें जहाँ मरना मना है 3/3 by Deeksha
श्रेय: ईवानेओस

जापान में इट्सुकुशिमा को पवित्र द्वीप के तौर पर देखा जाता है। यहाँ के लोग शिंटोवाद को मानते हैं और इसकी पवित्रता को लेकर गंभीर भी रहते हैं। केवल इतना ही नहीं इट्सुकुशिमा में ना तो कोई जन्म होने की अनुमति है और ना ही किसी को मरने की। इट्सुकुशिमा में ये नियम साल 1878 से लागू है और आज भी लोग इसे पूरे विश्वास और गंभीरता के साथ मानते हैं। इट्सुकुशिमा के इस नियम की वजह 1555 में हुआ मियाजीमा का युद्ध है जिसके बाद इस जगह को पूरी तरह से साफ किया कर दिया गया था।

5. लोंगयेरब्येन, नॉर्वे

लगभग 2000 लोगों की आबादी वाला ये आर्कटिक शहर, दुनिया की सबसे उत्तरी बस्ती है। लोंगयेरब्येन नॉर्वे में बसा खनन शहर है। 1950 में ये महसूस किया गया कि शहर के लोकल कब्रिस्तानों में शवों को नहीं दफन किया जा सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि लोंगयेरब्येन में इतनी ठंड पड़ती है कि शव जमीन में मिल जाने के बजाय प्रिजर्व हो जा रहे थे। इसके बाद शहर ने नए शवों को दफन करने की अनुमति देना बंद कर दिया। पर्माफ्रोस्ट के तहत दफनाए गए ये शव इतने बरकरार थे कि उन्हें 1918 में आए स्पेनिश फ्लू के रिसर्च तक में इस्तेमाल किया गया था। इसलिए लोंगयेरब्येन में जब कोई मृत्यु होती है तब स्थानीय लोग नॉर्वे के किसी और हिस्से में शव को दफनाने के लिए ले जाते हैं।

6. फालसियानो डेल मस्सिको, इटली

2012 के बाद से नेपल्स के बाहर बसे इस 3700 लोगों की आबादी वाले शहर में किसी भी व्यक्ति को मरने की अनुमति नहीं है। ऐसा इसलिए क्योंकि फालसियानो डेल मस्सिको के पास खुद का कब्रिस्तान नहीं था जिसकी वजह से जब भी किसी की मृत्यु होती थी तब उसके शव को पास के एक शहर में ले जाकर दफनाया जाता था। पड़ोसी शहर में दफन करने के लिए लोगों को एक्स्ट्रा पैसे देने पड़ते थे। फिलहाल 2014 तक शहर एक नया कब्रिस्तान पाने की कोशिश में लगा हुआ था।

7. सारपोरेंक्स, फ्रांस

कगनॉक्स के उदाहरण से प्रेरित होकर साल 2008 में इस फ्रांसीसी शहर में भी मरने पर रोक लगा दी गई थी। उस समय फ्रांस का सारपोरेंक्स लगभग 260 लोगों का घर हुआ करता था। सारपोरेंक्स में लोग इतनी तेजी से मर रहे थे कि शहर के कब्रिस्तान में लोगों को दफनाने के लिए जगह नहीं बची थी। जिसकी वजह से सारपोरेंक्स के मेयर ने मरने पर रोक लग दी। हालांकि 70 वर्षीय मेयर ने उसी साल बाद में अपने खुद के इस फैसले को तोड़ दिया था।

8. लंजारोन, स्पेन

1999 के बाद से स्पेन के लंजारोन में किसी को भी मरने की अनुमति नहीं है। यहाँ परेशानी ये है कि इस गाँव में कब्रिस्तान नहीं है। ये गाँव कब्रिस्तान बनाने के लिए भरपूर जगह चाहता है जो कि मिलने में दिक्कतें हो रही हैं। गाँव के अफसर अब भी नई संभावनाओं की तलाश कर रहे हैं जिससे कि लंजारोन में कब्रिस्तान बनवाया जा सके। लेकिन जब तक उन्हें ठीक-ठाक जमीन नहीं मिल जाती तब तक गाँव में किसी को भी मरने की परमिशन नहीं है।

क्या आप ऐसी किसी अजीबो-गरीब जगह के बारे में जानते हैं? अपने अनुभव को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें

रोज़ाना वॉट्सएप पर यात्रा की प्रेरणा के लिए 9319591229 पर HI लिखकर भेजें या यहाँ क्लिक करें

More By This Author

Further Reads