इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक

Tripoto
Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin
Day 1

दुनियाभर में हमें कई सारे मंदिर है और हर एक मंदिर की अपनी विशेषताएं है। किसी की बनावट अच्छी है तो कहीं कोई रहस्यों से भरें है, कारण भले ही कुछ हो लेकिन इन्हीं कारणों के चलते हम इन मंदिरों में खीचें चले आते हैं। आपको बता दें कि भारत के बाहर मुस्लिम देश में स्थित बेहद ही अनोखे मंदिर हैं। जिसे देखने के लिए सैलानी दूर-दूर से खींचे चले आते हैं। और वो देश है इंडोनेशिया।

प्रम्बानन मंदिर:

Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin
Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin
Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin
Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin

देवी के कई पुरातन मंदिर धरती पर विद्यमान है, जहांँ देवी स्वयंभू रूप में या मानव द्वारा प्रतिष्ठित की गई है। ऐसा ही एक मंदिर इंडोनेशिया के जावा में है। 10वीं शताब्दी में बना भगवान शिव का यह मंदिर प्रम्बानन मंदिर के नाम से विख्यात है। प्रम्बानन मंदिर में महादेव के साथ देवी दुर्गा की मूर्ति विराजमान है।

बोरोबुदूर विहार

Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin
Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin
Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin
Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin
Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin

बोरोबुदूर विहार अथवा बरबुदूर इंडोनेशिया के मध्य जावा प्रान्त के मगेलांग नगर में स्थित 750-850 ईसवी के मध्य का महायान बौद्ध विहार है। यह विश्व का सबसे बड़ा और विश्व के महानतम बौद्ध मन्दिरों में से एक है। इसका निर्माण ९वीं सदी में शैलेन्द्र राजवंश के कार्यकाल में हुआ।

तनाह लोट:

Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin
Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin
Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin
Photo of इस इस्लामिक देश में समुद्र के बीचों बीच बसे हैं ये हिंदू मंदिर, खास वजह से खिचें चले आते हैं पर्यटक by Walia Sachin

इंडोनेशिया में एक बड़ी चट्टान पर बने इस मंदिर का नाम तनाह मंदिर है। समंदर के सात मंदिरों में से ये एक मंदिर है। यहांँ सातों मंदिर एक के बाद एक बने हुए है। बता दें कि ये मंदिर देनपसार से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और बाली के दक्षिणी-पश्चिमी तट पर एक बड़े से चट्टान पर इस मंदिर को बनाया गया है। इस मंदिर का निर्माण 15 वीं सदीं में एक पुजारी ने करवाया था। इस पूरे मंदिर को बनवाने के लिए उन्होंने मछुआरों की मदद ली था। ये मंदिर समुद्र के देवता को समर्पित है।

बाली

Photo of बाली, Bali, Indonesia by Walia Sachin
Photo of बाली, Bali, Indonesia by Walia Sachin
Photo of बाली, Bali, Indonesia by Walia Sachin
Photo of बाली, Bali, Indonesia by Walia Sachin

बाली इंडोनेशिया का एक द्वीप प्रान्त है। यह जावा के पूर्व में स्थित है। लोम्बोक बाली के पूर्व में द्वीप है। यहां के ब्राह्मी लेख २०० ईपू के पुराने के हैं। बालीद्वीप का नाम भी बहुत पुराना है। १५०० ई से पहले इंडोनेशिया में मजापहित हिन्दू साम्राज्य स्थापित था। जब यह साम्राज्य गिरा और मुसलमान सुलतानों ने सत्ता ले ली तो जावा और अन्य द्वीपों के अभिजात-वर्गीय बाली भाग आये। यहां में हिन्दू धर्म का पतन नही हुआ। बाली १०० वर्ष पहले तक स्वतन्त्र रहा पर अन्त में डच लोगों ने इसे परास्त कर लिया। यहां की जनता का बहुमत (९० प्रतिशत) हिन्दू धर्म में आस्था रखता है। यह विश्व विख्यात पर्यटन स्थान है जिसकी कला, संगीत, नृत्य और मन्दिर मनमोहक हैं।

दोस्तों आपको यह आर्टिकल कैसा लगा कमेन्ट बॉक्स में बताएँ।

जय भारत

कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, हमें कमेंट बॉक्स में बताएँ।

अपनी यात्राओं के अनुभव को Tripoto मुसाफिरों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती के सफ़रनामे पढ़ने के लिए Tripoto বাংলা  और  Tripoto  ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।