इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर

Tripoto
19th Dec 2022
Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav

अकसर ही लोग जब घूमने का प्लान बनाते है तो उनकी लिस्ट में पहला स्थान किसी हिल्स स्टेशन का होता है और हो भी क्यों नहीं पहाड़ों की जो प्रकृति होती हैं वो लोगो को अनायास ही अपनी तरफ आकर्षित कर ही लेती है।पर बहुत से लोग है जिनकी रुचि इतिहास और संस्कृति में होती है वे ऐसी जगहों की तलाश में रहते है जिसका जुड़ाव इतिहास से हो ऐसे लोगो के लिए आंध्र प्रदेश का नेल्लौर एक बहुत ही खूबसूरत और ऐतिहासिक गंतव्य है।यह एक ऐसा शहर है जो तेजी से विकसित हो रहा है।यह शहर पुराने समय से ही सांस्कृतिक रूप से भी काफी आगे बढ़ रहा है, जिसका उदाहरण यहां साफ देखा जा सकता है।तो आज हम इस सांस्कृतिक शहर के बारे मे जानेंगे।

Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav
Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav

नेल्लोर

नेल्लोर शहर बंगाल की खाड़ी के दक्षिण पूर्वी हिस्से में बसा हुआ है।आंध्र प्रदेश के नेल्लोर की गिनती दक्षिण भारत के प्राचीन शहरों में की जाती है। यह शहर अपने कला और व्यापार के लिए भी विख्यात है।प्राचीन शहर होने के कारण यहां आपको बहुत सी ऐतिहासिक चीज़े देखने को मिल जाएंगी।कहा जाता है कि यहां कभी शक्तिशाली दक्षिण शासकों को राज हुआ करता था।अतीत से जुड़े पन्ने बताते हैं कि यह नगर पुराने वक्त से ही सांस्कृतिक रूप से भी काफी आगे रहा है, जिसके उदाहरण आज भी यहां देखे जा सकते हैं। नेल्‍लोर शहर पेन्‍ना नदी के किनारे पर स्थित है।इस क्षेत्र में फसलों की विविधता पाई जाती है। इस शहर में वाणिज्‍य और व्‍यापार को बहुत महत्‍व दिया जाता है।

Photo of नेल्लोर by Priya Yadav

नेल्लोर के दर्शनीय स्थल

1. उदयगिरी का किला

यह किला नेल्लोर से करीब 100 किमी की दूरी पर स्थित है।यह वहां के मुख्य आकर्षण में से एक है।यह किला लगभग 3079फीट की ऊंचाई पर स्थित एक ऐतिहासिक किला है।उदयगिरी एक पहाड़ी गांव है और एक पहाड़ी जगह पर स्थित है।वही यह किला बना हुआ है।माना जाता है कि यह स्थान कभी लंगुला गजापति की राजधानी हुआ करता था, जहां बाद में कृष्णदेव राय ने शासन किया। यह प्राचीन किला कई दक्षिण शासकों के अंतर्गत रह चुका है, जिसमें चोल, पल्लव और विजयनगर शामिल हैं।उदयगिरी का संबंध 14 शताब्दी से माना जाता है।

Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav

2. पेंचालाकोना जलप्रपात

पेंचालाकोना जलप्रपात नेल्लोर से लगभग 80 km की दुरी पर स्थित है।यह एक बहुत ही सुंदर प्रपात है अगर आपकी रुचि प्राकृतिक जगहों में है आप इस स्थान को एक्सप्लोर करना ना भूलें।यहाँ पर भगवान नरसिम्हा को समर्पित एक मंदिर भी है।माना जाता है इस स्थान पर भगवान वेंकेतेस्वर ने अपने कदम रखे थे।इस स्थान के प्रति लोगो की अपार आस्था है। यह मंदिर वेदागिर हिल्स पर बसा हुआ है।

Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav
Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav

3. पुलकिट झील

यह झील नेल्लोर के लगभग 600 वर्ग किमी क्षेत्र में फैला हुआ है।पुलिकट झील को 1976 में पक्षी अभ्यारण का दर्जा दिया गया था।यह झील पक्षी प्रेमियों के लिए भी एक आदर्श स्थान है।यह जगह आंध्र प्रदेश के साथ तमिलनाडु की सीमा में भी प्रबेश करती है।यहाँ आप देसी पक्षियों के साथ साथ प्रवासी पक्षियों को भी देख सकते हैं।

Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav

4. वेंकटगिरी का किला

किला वेंकटगिरी नगर में स्थित है जिसका निर्माण 1775 में रेचर्ला के राजाओं ने कराया था। यह किला चारो ओर से घने जंगलों से घिरा हुआ है जिसके कारण यहां की प्राकृतिक सुंदरता में चार चांद लग जाते हैं।यही कारण है कि यहां लोगो की सबसे ज्यादा भीड़ होती है।इसके अलावा वेंकटगिरी नगर आपनी सूती की साड़ियों के लिए भी बहुत प्रसिद्द है, जो जमादारी विधी से बनाई जाती हैं।

Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav

5. श्री रंगनाथस्वामी मंदिर

रंगनाथस्वामी का मंदिर 29 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है यह पन्नार नदी के किनारे पर बसा हुआ है।इस मंदिर का निर्माण पल्लव वंश के शासकों ने करवाया था।मंदिर के मुख्य द्वार पर सोने के कलश रखे हुए हैं।मंदिर में एक शीशे का कमरा है, जहां पर भगवान का सिंहासन है। जब इस सिहांसन पर मूर्ति रखी जाती तो उसके प्रतिबिंव चारों तरफ दिखाई देते हैं।

Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav

6. मायपाडु बीच

यह जगह नेल्लोर से लगभग 25 किलोमीटर दूर बंगाल की खाड़ी के तट पर स्थित है।मायपाडु समुद्र तट क्रिस्टल-क्लियर पानी और सुनहरी-भूरी रेत के साथ एक मनोरम समुद्र तट है।इस स्थान की सुंदरता इसके सनराइज और सनसेट पर और भी बढ़ जाती है।

Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav

7. नेलापट्टू पक्षी अभयारण्य

यहां के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में शामिल नेलापट्टू पक्षी अभयारण्य भी है।इस अभयारण्य में प्रवासियों और देशी पक्षियों को भी देखा जाता है। इसके साथ ही साथ यहां पर लगभग 1500 हवासीलों को भी प्रवासी मौसम में देखा जा सकता है। इसके अलावा आप कई दुर्लभ पक्षियों को भी यहां देख सकते है। इन सब में नाइट हेरॉन, सभागार, म्यूजियम, स्पूनबिल भी मौजूद है।

Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav

नेल्लोर घुमने का सबसे अच्छा समय

अगर आप नेल्लोर घुमने का प्लान बना रहे हैं तो यहां जाने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से फरबरी के बीच का महीना माना जाता है। क्योंकि इस दौरान यहाँ का वातावरण थोड़ा अनुकूल होता है और मौसम मानसून का होती है।तो आप वहां पर अच्छे से एक्सप्लोर कर सकते है।

कहाँ ठहरें?

नेल्लोर में यात्रा करने के बाद अगर आप किसी ऐसी जगह की तलाश में है जहां आप सुकून से आराम के कुछ पल बिता सकें तो आपको यहां बहुत से अच्छे होटल मिल जायेंगे यहां कुछ होटल के नाम हम आपको बता रहे है जहां आप ठहर सकते है।

1. होटल रॉयल पार्क

कीमत: 2400 रुपए (दो लोगों के लिए)

2. आर स्क्वायर गेस्ट इन

कीमत: 2360 रुपए (दो लोगों के लिए)

3. होटल सीजन्स इन

कीमत: 2800 रुपए (दो लोगों के लिए)

4. होटल अभिराम डीलक्स

कीमत: 2150 रुपए (दो लोगों के लिए)

5. होटल ब्लू मून

कीमत: 2900 रुपए (दो लोगों के लिए)

इसके अलावा भी आपको बहुत से होटल वहां अच्छी कीमतों पर आसानी से मिल जायेंगे।

नेल्लोर में क्या खाएं?

वैसे तो दक्षिण भारत में होने के कारण यहां भी आपको सभी साउथ इंडियन फूड मिल जाएंगे लेकिन नेल्लोर की कुछ बेहतरीन भोजन का स्वाद चखाना आप बिल्कुल न भूले। नेल्लोर फिश करी, पॉट बिरयानी, करम डोसा, मलाई काजा, और स्नैक पुली बोंगरालु ये वहां की कुछ फेमस डिश है जो सभी को एक बार जरूर try करनी चाहिए।

कैसे पहुचें नेल्लोर?

यदि आप नेल्लोर की यात्रा करने का सोच रहे है तो हम बता दे की नेल्लोर की यात्रा आप सड़क मार्ग द्वारा, ट्रेन द्वारा, और हवाई जहाज द्वारा कर सकते हैं।

फ्लाइट से: अगर आप नेल्लोर की यात्रा हवाई जहाज द्वारा करते हैं तो हम आपको बता दे की नेल्लोर की अपनी कोई हवाई अड्डा नही है। इसीलिए आप इसके सबसे नजदीक तिरुपति हवाई अड्डा जो की लगभग 126 किलोमीटर की दुरी पर है या फिर चेन्नई हवाई अड्डा पहुच सकते है जो की नेल्लोर से 192 किलोमीटर की दुरी पर है। इन दोनों जगहों से स्थानीय टैक्सी द्वारा नेल्लोर जा सकते हैं।

ट्रेन से: यदि आप नेल्लोर की यात्रा ट्रेन द्वारा करते हैं तो हम बता दे की नेल्लोर रेलवे स्टेशन भारत के अधिकांश शहरो से जुड़ा है। नेल्लोर के लिए लगातार ट्रेन चेन्नई, हैदराबाद, तिरुपति और आंध्र प्रदेश के अन्य शहरो से आसानी से उपलब्ध है।

सड़क द्वारा: यदि आप नेल्लोर की यात्रा सड़क मार्ग द्वारा करते हैं तो हम बता दे की आंध्र प्रदेश से जुड़े सभी पडोसी शहरो सडकों से अच्छी तरह जुडी हुई है और चेन्नई और हैदराबाद से आंध्र प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम बसें और कुछ निजी यात्रा सेवाओं से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav
Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav
Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav
Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav
Photo of इतिहास और संस्कृति का अनोखा संगम है दक्षिण भारत का यह शहर by Priya Yadav

लगता है कि हम कुछ चूक गए? इसके बारे में हमें नीचे टिप्पणी में बताएँ। या इसके बारे में यहाँ Tripoto पर लिखें और Tripoto क्रेडिट अर्जित करें!

और Tripoto के फेसबुक पेज पर यात्रियों के सबसे बड़े ऑनलाइन समुदाय का हिस्सा बनें!

More By This Author

Further Reads