ताबो तब पहुँच कर क़ाज़ा नही घूमे तो किए ज़िन्दगी की सबसे बड़ी गलती।

Tripoto
Photo of ताबो तब पहुँच कर क़ाज़ा नही घूमे तो किए ज़िन्दगी की सबसे बड़ी गलती। by Ankit Kumar

सुबह सबसे पहला काम ताबो में मौजूद 1000 साल पुरानी 10,000 फ़ीट पर मौजूद बुद्ध का सबसे पुराना मठ घूमना है। यहाँ पर सम्भाल कर रखे गए चित्र, मूर्तियाॅं और यहाँ की नक्काशी के कारण इसे 'अजन्ता ऑफ़ हिमालय' भी कहलाता है। जितना ज़्यादा यह ख़ूबसूरत है उतना शायद ही कोई और मठ हो। ताबो घूमने के बाद आप क़ाज़ा के लिए निकले। इस सफ़र का हर मोड़ आपको एक नया नज़ारा दिखाएगा, जिसको आप ज़िन्दगी में कभी नहीं भूलोगे।

रास्ते में थोड़ा आगे जाते ही ‘धनकर मठ’ पड़ेगा जहाँ पर दो मठ है एक पुराना और दूसरा नया। इस मठ को स्पीति वैली का सबसे पुराना मठ भी माना जाता है। यहाँ पर ऊपर के तरफ़ धनकर झील है जो साल के ज़्यादा समय तो बर्फ जमी ही रहती है। ये सब देखने के बाद क़ाज़ा के लिए निकले। क़ाज़ा जाते वक्त रास्ते में आप बर्फ से जमे पानी के झरने और पिट वैली देख सकते हैं। ऐसी जगह आपको पूरे भारत में और कहीं नहीं मिल सकती है। क़ाज़ा पहुँच जाने के बाद आप क़ाज़ा घूम सकते हैं।

क्या आपने हिमाचल प्रदेश की यात्रा की है? अपने अनुभव को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना टेलीग्राम पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें