धनकर: हिमाचल प्रदेश का एक छोटा सा गांव जो वाकई अद्भुत है!

Tripoto
20th Dec 2022
Photo of धनकर: हिमाचल प्रदेश का एक छोटा सा गांव जो वाकई अद्भुत है! by Smita Yadav
Day 1

दोस्तों, ऐसे कई लोग होते हैं जो अक्सर घूमने के लिए किसी नई जगह की तलाश में होते हैं और नई जगह का पता मिलते ही घूमने के लिए निकल जाते हैं। ऐसे में अगर आप भी 2023 को सेलिब्रेट करने के लिए किसी खूबसूरत और अनसुनी जगह जाने का प्लान बना रहे हैं तो फिर आपको हिमाचल प्रदेश के धनकर में पहुंचना चाहिए। समुद्र तल से 3,894 मीटर की ऊंचाई के साथ यह पहाड़ी गांव हिमाचल प्रदेश के ताबो और काज़ा नगरों के मध्य स्थित है। यह जगह लोगों की भीड़भाड़ से भी दूर हैं। ऐसे में अगर आप नए साल को किसी पहाड़ी गांव में बिताना चाहते हैं तो यहाँ पहुंच सकते हैं। तो आइए हिमाचल प्रदेश के इस अनोखे गांव के बारे में जानते हैं।

धनकर की इन जगहों पर जरूर जाएं

1. धनकर लेक

Photo of धनकर: हिमाचल प्रदेश का एक छोटा सा गांव जो वाकई अद्भुत है! by Smita Yadav

दोस्तों, धनकर झील यहाँ की सबसे प्रसिद्ध जगहों में से एक है। यह झील समुद्र तल से 4 हजार मीटर से अधिक की ऊंचाई पर स्थित है। सर्दियों के मौसम में यहाँ बहुत बर्फ गिरती है जिसके कारण यह झील और भी खूबसूरत दिखती है। इस झील के किनारे ऊंचे पहाड़ों से घिरे हुए है जो कि दिसंबर में सफेद बर्फ की चादर से ढक जाती है। आप यहाँ खुले आकाश के बीच बर्फबारी का आनंद उठा सकेंगे।

2. धनकर मोनेस्ट्री

Photo of धनकर: हिमाचल प्रदेश का एक छोटा सा गांव जो वाकई अद्भुत है! by Smita Yadav

यह प्रसिद्ध धनकर मठ भारत ही नहीं बल्कि चीन, जापान जैसे कई पड़ोसी देशों में भी बहुत प्रसिद्ध है। धनकर मठ भगवान बुद्ध को समर्पित एक पवित्र मठ है यहाँ साल भर देश-विदेश से अनुयायी आते हैं। लेकिन दिसंबर और जनवरी के महीने में सबसे ज्यादा पर्यटक यहाँ घूमने के लिए पहुंचते हैं। यहाँ आकर आप तिब्बती समुदाय के लोगों से भी परिचित हो सकते हैं। धनकर मठ बौद्ध कला और संस्कृति के मुख्य केंद्रों में से एक होने की वजह से प्रसिद्ध पर्यटन स्थल बन गया है।

3. पिन वैली

Photo of धनकर: हिमाचल प्रदेश का एक छोटा सा गांव जो वाकई अद्भुत है! by Smita Yadav

दोस्तों, अगर आप सर्दियों में धनकर से लगभग 39 किमी की दूरी पर स्थित पिन वैली आते हैं तो आपको बिल्कुल भी पछतावा नहीं होगा। यहाँ पर आकर आपको हरे-भरे घास के मैदान के साथ ऊंचे-ऊंचे विशाल पहाड़ देखने को मिलेंगे और खासकर सर्दियों में चारों तरफ बर्फ से ढकी हुई पिन वैली बहुत ही खूबसूरत जगह लगती है। पिन वैली में आकर आपको यहाँ कई प्रकार के पेड़-पौधे भी देखने को मिल जायेंगे हैं। जिससे इस वैली के चारों तरफ आपको हरियाली देखने को भी मिलेगी। पिन वैली हिम तेंदुओं के लिए पूरे भारत में फेमस है जिसके कारण पिन वैली को पिन वैली नेशनल पार्क के नाम से भी जाना जाता है। इसलिए जब आप धनकर आए तो यहाँ ज़रूर जाएं।

धनकर की जगहें भी हैं खास

धनकर के कुंग्री गोम्पा, संगम मोनेस्ट्री, पराशर लेक, शशूर मठ आदि जगहें भी घूमने के लिए पर्यटकों के बीच फेमस है धनकर में आकर आप हाइकिंग का भी आनंद उठा सकते हैं। इसके अलावा यहाँ का सूर्यास्‍त भी ट्रैवलर्स के लिए खास आकर्षण का केंद्र है। यहाँ से दिखाई देते ऊंचे-ऊचे पर्वत ट्रैवलर्स को काफी ज्यादा उत्साहित करते हैं। यह उन पर्यटकों के लिए भी खास माना जाता है जो प्रकृति के साथ एकांत समय व्यतीत करना चाहते हैं।

धनकर आने का सही समय

धनकर एक खास स्थल है, जहाँ पर आप पूरे साल के किसी भी महीने में आ सकते हैं। क्योंकि यहाँ का मौसम पूरे साल खुशनुमा रहता है। धनकर में सर्दियों के समय आना पर्यटकों के लिए थोड़ा मुश्किल भरा हो सकता है, क्योंकि यहाँ सर्दी ज्यादा पड़ती है। अच्छा होगा आप अप्रैल के अंत से लेकर दिसम्बर के अंत तक आएं।

कैसे पहुंचें?

हवाई मार्ग - धनकर एक पहाड़ी गांव है इसलिए यहाँ कोई हवाई अड्डा नहीं हैं। यहाँ का नजदीकी हवाईअड्डा कुल्लू-मनाली में स्थित है जिसकी दूरी धनकर से 285 कि.मी की दूरी है। हवाईअड्डे पहुंच कर आप कैब के माध्यम से यहाँ आसानी से पहुंच सकते हैं।

रेल मार्ग - अगर आप यहाँ रेलमार्ग के द्वारा आना चाहते है तो यहाँ रेल मार्ग के माध्यम से भी पहुंच सकते हैं। यहाँ का नजदीकी रेलवे स्टेशन जोगिंदर रेलवे स्टेशन है। जो धनकर से लगभग 400 कि.मी की दूरी पर स्थित है।

सड़क मार्ग - दोस्तों, अगर आप यहाँ सड़क मार्ग द्वारा आना चाहते हैं तो आप यहाँ सड़क मार्गों के माध्यम से भी पहुंच सकते हैं। धनकर आने के लिए आपको सबसे पहले ताबो(32 कि.मी) और काज़ो(34कि.मी) नगर पहुंचना होगा, जहाँ से आप अपनी सुविधानुसार धनकर के लिए कैब या बस सेवा ले सकते हैं।

आपको हमारा यह आर्टिकल कैसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

क्या अपने हिमाचल के इस अनोखे गांव की यात्रा की हैं अगर हाँ, तो अपने अनुभव को हमारे साथ शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती के सफ़रनामे पढ़ने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना Telegram पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।