इस रिज़ॉर्ट में मज़े से करें चाँद-सितारों का सफर 

Tripoto
Photo of इस रिज़ॉर्ट में मज़े से करें चाँद-सितारों का सफर by Manju Dahiya

इंडिया का पहला और एकमात्र एस्ट्रोनॉमी रिसोर्ट - एस्ट्रोपोर्ट

"और अब यह बिल्कुल साफ है," उन्होंने टेलिस्कोप आई पीस को मेरी ओर करते हुए कहा। "क्या आप एक ही लाइन पर एक बड़ा बिंदु और तीन दूसरे छोटे बिंदु देख सकते हैं?"

"वह बृहस्पति (जुपिटर) और उसके 3 चंद्रमा हैं"

जयपुर से 100 कि.मी. दूर एक स्थान पर,एक बड़े लॉन में खड़े होकर हम 6 डिग्री रात की ठंड में, बृहस्पति ग्रह और उसके दो चाँद देख रहे थे। हम बात कर रहे हैं सरिस्का के एस्ट्रोनॉमी रिसोर्ट, एस्ट्रोपोर्ट की।

एस्ट्रोपोर्ट

एक साल पहले मैंने ट्रिपोटो पर इस अलग से रिसोर्ट के बारे में पढ़ा था और तब से ही यहाँ जाने के लिए मन बेचैन था। मुझे हमेशा रात में चाँद और तारों को टकटकी लगाकर देखते रहना बहुत अच्छा लगता है और उन्हें देखते हुए हर बार मन में यह ख़्याल आता है कि क्या वहाँ भी कोई जीवन है या नहीं?

अपने इस जुनून को शांत करने के लिए मैंने फोटोग्राफी सीखी और एस्ट्रोफोटोग्राफी में हाथ आजमाया। मैंने मिल्की वे यानी आकाश गंगा के बारे में सीखा, तारों और उनकी ट्रेल्स, नक्षत्र और ग्रह आदि के बारे में पढ़ा। लेकिन सभी ऐप्स और ऑनलाइन साइटों से ज्यादा कुछ तस्सल्ली नहीं हुई ।वास्तव में समझ ही नहीं आ रहा था कि एस्ट्रोनॉमी के बारे में और अधिक जानने को कैसे मिलेगा। लेकिन फिर एस्ट्रोपोर्ट का पता चला।

एस्ट्रोपोर्ट मेरे जैसे लोगों के लिए ही है। उन लोगों के लिए जो चाँद - सितारों से प्यार भी करते हैं और उनके बारे में अधिक जानना भी चाहते हैं, लेकिन उनके पास कोई ऐसा दोस्त नहीं है जिसके पास हाई एन्ड टेलिस्कोप हो या उसे तारों और नक्षत्रों का गहरा ज्ञान हो।

एस्ट्रोपोर्ट सरिस्का में बना एक नक्षत्र विज्ञान रिसॉर्ट है। सरिस्का, जयपुर से 100 कि.मी. दूर एक टाइगर रिज़र्व क्षेत्र है। इस क्षेत्र को पूरे भारत में दूसरा सबसे अंधेरे वाला स्थान माना जाता है जो तारों को बेहतर तरीके से देखने का शानदार मौका देता है।

हम पूरे दिन की ड्राइव के बाद शाम 7 बजे एस्ट्रोपोर्ट पहुंचे। हालाकिं यहाँ पहुँचने में थोड़ी मुश्किल ज़रूर हुई क्योंकि हम अँधेरे के कारण थोड़ा भटक गए थे । कुछ स्थानीय लोगों की मदद से हम इस खूबसूरत जगह पर पहुंचे।

Photo of इस रिज़ॉर्ट में मज़े से करें चाँद-सितारों का सफर  1/6 by Manju Dahiya

एक टेंट में हमारा स्वागत किया गया जो कि एक नक्षत्र के नाम पर था। हर टेंट में 4 लोगों की जगह थी। उनके पास बड़े टेंट भी हैं जिनमें 7 लोग बैठ सकते हैं। हम फ्रेश होने के बाद डिनर करने के लिए चले गए। खाने में स्वादिष्ट रोटी, दाल और 2 प्रकार की सब्ज़ियाँ थीं और मीठे में गुलाब जामुन परोसे गए।

Photo of इस रिज़ॉर्ट में मज़े से करें चाँद-सितारों का सफर  2/6 by Manju Dahiya

डिनर करने के बाद करीब 8:30 बजे, हमें एस्ट्रोपोर्ट के इन-हाउस स्टार एस्ट्रोनॉमर्स , संकल्प और आशीष से मिलवाया गया जो नक्षत्र विज्ञान के रिसर्च स्टूडेंट हैं।वह स्टार गेजिंग में हमारी मदद करने के लिए वहाँ थे।हमें एक लॉन में बैठाया गया जिसमें 5 कुर्सियाँ, कुछ बड़े-बड़े टेलिस्कोप और दो प्यारे से कुत्ते थे।थोड़ी देर हमने एस्ट्रोनॉमर्स के साथ ग्रहों, और नक्षत्रों के बारे में चर्चा की। सबसे पहले उन्होंने हमें नार्थ स्टार, ‘पोलारिस’ को पता लगाने का तरीका सिखाया। नार्थ स्टार, आकाश का एकमात्र तारा है जो स्थिर दिखाई पड़ता है जबकि बाकि तारे गतिमान प्रतीत होते हैं ।यह तारा पृथ्वी की धुरी के ठीक ऊपर है, इसलिए हिलता हुआ नहीं लगता।

Photo of इस रिज़ॉर्ट में मज़े से करें चाँद-सितारों का सफर  3/6 by Manju Dahiya

एस्ट्रोनॉमर्स की मदद से हमने एस्ट्रोनॉमी फोटोग्राफी में भी अपना हाथ आजमाया और एक स्टार ट्रेल की फोटो ली। जब 10 मिनट से अधिक कैमरा शटर खुला रखते हैं, तो हर स्टार के पास एक गोल निशान दिखाई देने लगता है । कैमरा, तारों के साथ किसी भी हिलती हुई रोशनी को पकड़ लेता है और नार्थ स्टार, पोलारिस हमेशा तारों की इस सर्कुलर मूवमेंट के केंद्र में होता है।

Photo of इस रिज़ॉर्ट में मज़े से करें चाँद-सितारों का सफर  4/6 by Manju Dahiya

जैसे-जैसे अंधेरा घना होता गया और रात अधिक होने लगी, सरिस्का में तापमान भी गिरना शुरू हो गया। एक कप गर्मागर्म चाय के साथ हमने आसमान और तारों को एक्स्प्लोर करना जारी रखा!

Photo of इस रिज़ॉर्ट में मज़े से करें चाँद-सितारों का सफर  5/6 by Manju Dahiya

सरिस्का के इन हाउस एस्ट्रोनॉमर्स ने हमें सभी नक्षत्रों को दिखाया। बड़ा डिपर, छोटा डिपर, उरसा माइनर, उरसा मेजर, कैसिओपिया, पेगासस और बहुत कुछ। लगभग 5 घंटे की स्टार गेजिंग के बाद, जब बादल छाने लगे तो हमने सोने का फैसला किया।एस्ट्रोनॉमर्स ने हमें बताया कि उन्हें हमें कुछ और भी दिखाना है इसलिए वे हमें सुबह जल्दी जगा देंगे।

3 घंटे की गहरी नींद के बाद, हमने अपने टेंट के बाहर एक दस्तक सुनी, और हम और भी अधिक ठंडी, अंधेरी रात में तारों को देखने निकल पड़े। लॉन में पहले से ही दो टेलिस्कोप सेट किये हुए थे। सुबह होने से पहले हमने जो देखा, उसे मैं कभी नहीं भूल पाऊँगी। हमने अपने सोलर सिस्टम का सबसे बड़ा ग्रह, बृहस्पति! देखा। होराइज़न पर चमकता हुआ अद्भुत बृहस्पति और उसके साथ उसके चार चंद्रमा।

मेरे जैसे व्यक्ति के लिए यह बहुत ही सुंदर और रोमांचक अनुभव था क्योंकि उनके बारे में मैं लगभग कुछ भी नहीं जानती थी । फिर हमें मंगल ग्रह दिखाया गया ।हमारी ख़ुशी का ठिकाना ही नहीं था कि हमें साफ रूप से उसे ग्रह को देखे का मौका मिला। और साथ ही साथ कुछ घंटों की नींद पूरी करने के लिए टेंट में वापस जाने से पहले शानदार सूर्योदय देखने का भी चांस मिला।

Photo of इस रिज़ॉर्ट में मज़े से करें चाँद-सितारों का सफर  6/6 by Manju Dahiya

सरिस्का में बिताई गई रात किसी जादू से कम नहीं थी। हमने उन चीजों के बारे में सीखा, जिन्हें हम हमेशा देखते थे। इस जानकारी के साथ अब तो तारों को देखने में और भी ज़्यादा मज़ा आता है।

अगली सुबह हम एस्ट्रोपोर्ट के पेट्स से मिले। ये छोटे से कुत्ते बहुत ही प्यारे थे और उनके नाम भी आकाश के दो तारों के नाम पर थे: लाइरा और सीरियस !

इस रिसॉर्ट में स्टार गेजिंग और एस्ट्रोफोटोग्राफी का शानदार अनुभव, एक नया शौक शुरू करने का सही तरीका था!

यदि आपके पास भी कोई अच्छा सा अनुभव है तो Tripoto के साथ अवश्य शेयर करें ।

Be the first one to comment

Further Reads