छूमंतर होने के पहले बनाएँ इन भारतीय जगहों की यात्रा का प्लान

Tripoto
Photo of छूमंतर होने के पहले बनाएँ इन भारतीय जगहों की यात्रा का प्लान by Deeksha Agrawal

भारत विविधताओं वाला देश है। यहाँ कण-कण में खूबसूरती दिखाई देती है। हर राज्य की अपनी एक अलग पहचान है जो दूसरे से एकदम अलग है। इन्हीं राज्यों में कुछ ऐसी जगहें हैं जिन्हें देखकर आप हैरान रह जाएंगे। वहीं कुछ जगहें ऐसी भी हैं जो बहुत फेमस पर्यटन स्थलों की सूची में शामिल हैं। लोकप्रिय होने के जितने फायदे होते हैं उतने नुकसान भी हैं। क्योंकि इन सभी जगहों पर टूरिस्म का लेवल आसमान छू रहा है इसलिए इनके गायब होने का खतरा और भी बढ़ गया है। इसलिए इन जगहों के विलुप्त होने से पहले आपको इनकी यात्रा कर लेनी चाहिए।

1. माजुली, असम

विश्व का सबसे विशाल रिवर आइलैंड अब विलुप्त होने की कगार पर है। माजुली असम का वो द्वीप है जो तमाम तरह के वन्य जीवों का घर है। हाथी, बाघ, खरगोश से लेकर तरह तरह के पंछियों तक सभी जानवर माजुली द्वीप पर देखे जाते हैं। लेकिन हाल के कुछ सालों में इस द्वीप पर स्थित पेड़ों की कटाई में तेजी आती है जो माजुली के लिए खतरा बन गया है। माजुली का जो क्षेत्रफल एक समय पर 483 स्क्वेयर किमी. हुआ करता था वो आज केवल 421 स्क्वेयर किमी. रह गया है। कुछ आंकड़ों के मुताबिक आने वाले 15 से 20 सालों के अंदर माजुली द्वीप गायब भी हो सकता है। इसलिए आपको तुरंत माजुली की यात्रा करने का प्लान बना लेना चाहिए।

2. वुलर झील, कश्मीर

कश्मीर की वुलर झील विश्व की सबसे बड़ी ताजेपनी की झीलों में से है। केवल यही नहीं इस झील पर हर साल रोमांचक वाटर स्पोर्ट्स का भी आयोजन किया जाता है। लेकिन अब ये झील धीरे-धीरे गायब होने की स्थिति में पहुँच रही है। बढ़ते प्रदूषण की वजह से झील में दिक्कतें देखी जा रही हैं। प्लान ये भी है कि झील का विस्तार करने के लिए आसपास के इलाकों में कुल 2 मिलियन पेड़ों को काटने कि बात कही जा रही है। लेकिन है तरीका कितना फायदेमंद होगा ये वक्त ही बताएगा। इसके अलावा झील को बचाने के लिए पेड़ काटना कहीं से जायज नहीं ठहराया जा सकता है।

3. राखीगढ़ी, हरियाणा

हरियाणा के हिसार डिस्ट्रिक्ट का ये गाँव हर इतिहास प्रेमी के लिए जन्नत जैसा है। 1963 के विशेषज्ञों की माने तो सिंधु घाटी सभ्यता का सबसे बड़ा शहर राखीगढ़ी में था जो हड़प्पा और मोहनजोदाड़ो से भी बड़ा था। 1997 तक इस साइट पर काफी खुदाई कार्य किया गया लेकिन अंत में इसको रोक दिया गया था। क्योंकि इस ऐतिहासिक साइट के आसपास सुरक्षा का कोई इंतेजाम नहीं है इसलिए इसका विलुप्त होना लगभग तय माना जा रहा है।

4. राम सेतु, तमिलनाडु

एडम ब्रिज के नाम से मशहूर तमिलनाडु का राम सेतु पुल भी आने वाले कुछ सालों में गायब हो सकता है। ये पुल लाइमस्टोन यानी चूना पत्थरों से बना हुआ है जो भारत के धनुषकोडी को श्रीलंका के मन्नार द्वीप से जोड़ता है। शास्त्रों के मुताबिक इस पुल का निर्माण भगवान राम की वानर सेना द्वारा किया गया था। लेकिन आखिर इतने सालों से बना पुल अब खतरे में क्यों है? भारत सरकार के सेतु समुद्रन शिपिंग कैनाल प्रोजेक्ट के अंतर्गत इस पुल पर खतरा मंडरा रहा है।

5. सुंदरबन, पश्चिम बंगाल

अगर आपको पेड़-पौधों में दिलचस्पी है तो पश्चिम बंगाल का सुंदरबन आपके लिए विश्व की सबसे खूबसूरत जगह होगा। शुरू से ही सुंदरबन दुनिया का सबसे बड़ा मैंग्रोव फॉरेस्ट है। केवल यही नहीं अब ये वन प्रसिद्ध बंगाल टाइगर का घर भी बन गया है। लेकिन हर खूबसूरत चीज के पीछे कुछ ना कुछ ऐसा होता है जो खतरनाक होता है। क्योंकि सुंदरबन निचले इलाकों में स्थित है इसलिए आने वाले सालों में यहाँ जलस्तर बढ़ने का अनुमान लगाया जा रहा है। ग्लोबल वार्मिंग की वजह से लगातार बढ़ रहा जलस्तर प्रकृति की इस खूबसूरत रचना के लिए बड़ा खतरा बना हुआ है।

6. डेचेन नामज्ञाल मोनास्ट्री, जम्मू-कश्मीर

17वीं शताब्दी में बना ये बौद्ध मठ एक समय पर लद्दा खी ट्रेड रूट का महत्वपूर्ण हिस्सा हुआ करता था। इस मठ का निर्माण लद्दाख के राजा सेंगे नामज्ञाल ने तिब्बती संत त्सांग की सहायता से करवाया था। क्योंकि ये मठ तक पहुँचने के लिए बंजर और बीहड़ इलाकों से होकर गुजरना पड़ता है इसलिए इसके रख-रखाव के काम में काफी परेशानी आती है। इस मठ में 10 बौद्ध भिक्षु रहते हैं जो अपने स्तर पर इस मोनास्ट्री की देखभाल से लेकर मरम्मत तक का सारा काम करते हैं। डेचेन मठ विलुप्त होने की कगार पर है और उससे पहले आपको इस मठ की यात्रा कर लेनी चाहिए।

7. जैसलमेर किला, राजस्थान

दुनिया के सबसे महान किलों में से एक राजस्थान का जैसलमेर फोर्ट को भारत की सबसे शानदार धरोहरों में गिना जाता है। इस किले की सबसे खास बात ये है कि ये अकेला ऐसा फोर्ट है जो आज भी स्थानीय परिवारों का निवास स्थान है। इसके बावजूद इस किला का पर्यटन की सूची में मजबूत स्थान है। लेकिन तेजी से बढ़ रही आबादी और आधुनिकता की दौड़ में बने रहने की होड़ का सीधा प्रभाव इस किले पर देखा जा रहा है। केवल यही नहीं इस किले की हालत अब ऐसी हो चुकी है कि वर्ल्ड मॉन्यूमेंट फंड ने भी इसपर चिंता जाहिर की है।

8. बालपक्रम फॉरेस्ट, मेघालय

बल्पक्रम नेशनल पार्क या फॉरेस्ट मेघालय के दक्षिणी हिस्से में स्थित है। ये जंगल मेघालय के स्थानीय गारो जनजाति के आदिवासी लोगों के लिए घर भी हैं। माना जाता है इन जंगलों में मरने वाले लोगों की आत्मा को शांति मिलती है। यदि आप पेड़-पौधों में रुचि है तो ये जगह आपको बहुत अच्छी लगेगी। लेकिन क्योंकि इसको भूतिया जंगल भी कहा जाता है इसलिए यहाँ बहुत कम लोग जाते हैं।

9. कोरल रीफ, लक्षद्वीप

अगर आपको स्कूबा डाइविंग और स्नॉर्केलिंग करना पसंद है तब आपने समुद्र के नीचे बसी खूबसूरत दुनिया का दीदार जरूर किया होगा। भारत में यदि आप कोरल रीफ देखना चाहते हैं तो आपको लक्षद्वीप आना चाहिए। लेकिन हाल के समय में की जा रही कोरल माइनिंग और ब्लास्ट फिशिंग की वजह से लक्षद्वीप की जादुई दुनिया को अच्छा खास नुकसान हो रहा है। जिसके कारण माना जा रहा है कि आने वाले कुछ सालों में कोरल रीफ विलुप्त हो जाएगा। ग्लोबल वार्मिंग भी कोरल रीफ के लिए बड़ा खतरा बन रहा है।

10. फूलों की घाटी, उत्तराखंड

शास्त्रों में कहा गया है कि अत्यधिक खूबसूरती अक्सर मुसीबत की जड़ होती है और फूलों की घाटी के मामले में या बात काफी हद तक सही भी है। ये जगह इतनी खूबसूरत है कि हर घुमक्कड़ यहाँ जाने की चाहत रखता है। जिसके कारण इस घाटी में पर्यटन में बहुत तेजी आई है। हर साल हजारों की संख्या में लोग इस घाटी में ट्रेकिंग करने आते हैं। इस बढ़ते टूरिज्म की वजह से इस घाटी में आधुनिक सुख-सुविधाओं का इंतेजाम किया जाने लगा है। जो इसकी प्राकृतिक खूबसूरती को हानि पहुँचा रहा है। ये घाटी भी भारत के पर्यटन नक्शे से गायब हो जाए उसके पहले आपको इसकी यात्रा कर लेनी चाहिए।

क्या आपने इनमें से किसी जगह यात्रा की है ? अपने अनुभव को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना टेलीग्राम पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें