ठहराव

Tripoto
Photo of ठहराव by Rahul Chaudhary

रेलवे प्लेटफार्म पर आते ही आप रूबरू होते हैं एक अलग ही दुनिया से। ये दुनिया जो सफ़र पसन्द है , जैसे इसने रुकना सीखा ही नहीं । सुबह से लेकर शाम और फिर देर रात तक यहाँ भागमभाग रहती है । पटरियों पर सरसराती, दौड़तीं ट्रेनें ,कन्धों पर भारी भारी सामान टांगे लोग , हर मिनट में ट्रेन , जाने - आने की घोषणाओं का शोर , और ट्रेन के आने के बाद मक्खियों की तरह भिनभिनाती भीड़ ।

कभी कभी सोचता हूँ कि ये सब ठहर क्यों नही जाता । ये रोज की भागदौड़ , जल्दबाजी , शोर , चीख़ पुकार और ये कभी न खत्म होने वाली आशाओं की थकान रुक क्यों नही जाती ।

कितना थक गया हूँ मैं इस रोज की भागदौड़ से , रोज नाइन टू फाइव जॉब से , सुबह से लेकर शाम तक कान पक जाते हैं इस शोर से । कभी कभी घर आकर बिना खाये ही ओंधे मुँह लेट जाता हूँ , घर भी घर नही लगता , जैसे कोई किराए की सराय हो जहाँ कुछ सामान रख दिया है , जहाँ एक बिस्तर है जिस पर मैं अपनी आठ , दस घण्टे की थकान मिटाने के लिए सो जाता हूँ ।

क्या इतना मुश्किल है नॉर्मल लाइफ जीना , क्या सपने पूरे करने में इतनी जिद्दोजहद ज़रूरी है । क्या पूरी ज़िन्दगी ऐसे ही चलने वाली है ।

मैं प्लेटफार्म पर एक कोने वाली बेंच पर बैठा सोच रहा था , सिर में हल्का हल्का दर्द भी अब होने लगा था , सैकड़ो सवाल चल रहे थे मेरे ज़हन में , जैसे ये नौकरी के चक्कर मे खुद में ही उलझ गया हूँ । मुझे कुछ सूझ नही रहा था , दिल कर रहा था जोर जोर से चिल्लाऊँ लेकिन आवाज़ अंदर ही दफ्न हो जाती ,मैं चाहकर भी इस कफ़स से छूट नहीं पा रहा था ।

मन भी बड़ा अजीब होता है ना जब बच्चे होते हैं तो सोचते हैं बड़े कब होंगे , जवान कब होंगे , कब लगेगी नौकरी , कब पैसे कमाएँगे और जब बड़े हो जाते हैं तो मन करता है फिर से बच्चा हो जाएँ , फिर से बचपन के उन दिनों में लौटा जाए , फिर से स्कूल का वो भारी बस्ता कमर पर लादे स्कूल जाए । ज़िन्दगी में ठहराव कहाँ है वो तो बस चलती जाती है एक के बाद एक पड़ाव आते हैं और गुज़र जाते हैं ।

ऑफिस से दस दिन की छुट्टी ली थी मैंने ताकि इस भागती दौड़ती ज़िन्दगी से थोड़े दिन दूर हो जाऊँ , घर हो आऊँ , आपने गाँव जहाँ लोगो को आज भी एक दूसरे से बात करने की फुर्सत मिल जाती है , गाँव पहुँचते ही यार दोस्तो का फोन आने लगता है मिलने के लिए । जहाँ अभी भी कुछ हरियाली बची हुई है, जहाँ आज भी लोग छतों पर चाँद देखकर सोते हैं ।

शाम की ट्रेन थी , रुड़की स्टेशन पर मैं ट्रेन आने का इंतज़ार कर रहा था । प्लेटफार्म भरा हुआ था , जहाँ तक नज़र जाती भीड़ ही भीड़ दिखती , हाथ में या कन्धे पर सामान पकड़े लोग इधर से उधर घूम रहे थे । कुछ बेंचो पर बैठे और जिनको बेंच नही मिली वो नीचे ही अपना कपड़ा बिछा कर बैठे थे । एक ओर पूड़ी- सब्ज़ी की ठेली थी जहाँ कई लोग खाने में जुटे थे , कुछ लोग पानी की टँकी के पास भीड़ लगाकर पानी बोतलें भर रहे थे तो कुछ लोग टी स्टॉल पर चाय पी रहे थे ।

मैं सरसरी नज़र दौड़ाकर सब कुछ देख रहा था कि अचानक मेरी नज़र एक कोने में जाकर ठहर गयी ।

जैसे समंदर में कोई मोती दिख गया हो , जैसे हज़ारो की भीड़ में कोई अपना दिख गया हो ।

रितू '',,,,,, मेरे मुँह से अनायास ही निकल गया । हाँ ये तो रितू ही थी , मैंने गौर से देखकर खुद से ही बोला ।

ब्लू जीन्स , फूल स्लीव टॉप , कन्धे पर टँगा एक लाल बैग जिसे अक्सर वो ऑफिस में लाती थी , ओर हाथ मे सैमसंग का मोबाईल । मैं धीरे धीरे जैसे उसके क़रीब आ रहा था उसके चेहरा पर बिखरी मायूसी साफ नज़र आ रही थी । ऐसी तो नही थी वो । मेरे ज़हन में उसकी माप तौल चल रही थी जैसे ।

सांवला चेहरा मगर आकर्षक नैन-नक्श , फ्लिक्स कट बाल जो न चाहकर भी आखों को ढक लेते थे , लम्बा कद और एक सौम्य सी मुस्कान , आँखों मे ढेरों सपने तैरते थे , ज़ुबाँ इतनी मीठी की हर एक लफ्ज़ से शहद टपकता था ।

हाँ बिल्कुल ऐसे ही तो देखा था जब वो पहले दिन ही ऑफिस में रिशेप्शन पर मिली थी । पहले ही दिन कितनी बातें की थी उसने मुझसे ,

न्यू ज्योइनिंग -?? - उसके पूछने पर मैंने सर हिला दिया था ।

कहाँ से हो ?? - मुरादाबाद से ।

घर में कौन कौन हैं ,?

इससे पहले कहाँ काम किया है ?

कहाँ से पढ़ाई की है ?

कितने सवाल पूछे थे ......

वो पूछती गयी मैं कभी सर हिलाता , कभी हूँ , हाँ कभी हम्म कर देता ।

और फिर कभी बस में , तो कभी ऑफिस के बाहर ढाबे में मुलाकातों का सिलसिला चलता रहा । इसी बीच मैंने जाना कि वो अंदर से कितनी खूबसूरत है , कई बार तो मैं उसे बोलते हुए बस देखता रहता , वो सब कुछ एक सांस में बोलती जाती और मैं आँखें टिमटिमाता उसके हिलते होंठ देखता रहता । कुछ भी छुपाना कहाँ जानती थी वो , एक दम मुँहफट , जो मन में आया बोल दिया , गलत बात पर तुनककर लड़ने लगती थी , और फिर कुछ देर बाद समझाने भी लगती । ऐसी ही थी रितू ,, लेकिन आज क्या हुआ इसको मुँह हाथों से छुपकर इतनी मायूस क्यों बैठी थी ।

मैंने बीते कुछ वक्त पर नज़र डाली तो महससू किया कि कई रोज़ से ऑफिस में भी वो खोई खोयी रह रही थी , बात बात पर अचानक चुप हो जाती , सोचने लगती थी , लंच में भी ढाबे पर उसने आना कम कर दिया था । पूछने पर बात ही बदल देती । हालांकि हम सिर्फ दोस्त ही थे हाँ मेरी एकतरफा मुहब्बत कहती कि जाकर बोल दे लेकिन कभी इतनी हिम्मत हुई नहीं ।

मैं अपनी सीट से उठकर उसके पास गया ,रितु ,,, बोला ।

वो अभी भी ऐसी ही बैठी थी जैसे वो इस दुनिया में है ही नहीं।

हेलो मैडम, यहाँ कैसे ? घर जा रही हो क्या ?

मतलब बताया भी नहीं । ------

मैंने उसके एकदम करीब जाकर पूछा।

वो चौंक गयी , जैसे कोई चोर रंगे हाथों पकड़ा गया हो ।

उसने छुपाते हुए एक उंगली से पलको पर ठहरे आंसूओ को पौंछा ।

आर यू ओके ? मैंने संजीदा होते हुए कहा ।

या या एवरीथिंग इस ओके,

आई एम फाइन ।

उसने लरज़ते होंठो से कहा ---

हाँ वो तो दिख रहा है , देख रहा हूँ लोग कितना बदल जाते हैं , दोस्तों से भी छुपाने लगते हैं ।

मैंने शिकायत भरे लहजे में बोला ।

इस बार रितू कुछ न बोली , बस मुँह को पीछे कर लिया शायद आँसू मेरे सामने पोंछना न चाहती हो ।

औऱ फिर अचानक मुड़कर बोली ,,,

और तुम कहाँ , घर जा रहे हो क्या --

इस बार झूठी हँसी चेहरे पर बिखेरे , वो बात बदल चुकी थी जैसे वो किसी सवाल का जवाब ही नहीं देना चाहती हो ।

हाँ मैंने बताया तो था , गाँव घूमकर आऊँगा ।

वैसे तुमने मेरी बात बीच में ही काट दी , क्यों इतनी परेशान हो बोलो , बताओ न अगर मैं परेशानी हल नहीं कर सकता तो तुम्हारा दिल तो हल्का कर ही सकता हूँ । मैंने इस बार जोर देकर बोला तो वो फिर सहम गयी ।

इससे पहले की ज़ुबाँ कुछ बोले आंखें बरस पड़ी , आँसू गालों से होकर लुढकने लगे ।

क्या हुआ बताओ ना , मैंने उसे समझाते हुए कहा ।

आँसूं अब आँखों से गिरना बंद हुए , हाथों की हथेलियों ने लपककर गालो से लुढ़कते हुए आंसु नीचे गिरने से रोक लिये।

रितू एक लंबी साँस लेते अपनी जगह से उठ खड़ी हुई , एक अजीब सी बैचेनी उसे हिला रही थी , वो लड़खड़ाती ज़ुबान से धीरे धीरे मुझे सब कुछ बताने लगी । इन दिनों क्या क्या नहीं हुआ उसके साथ । सब सुनने कब बाद मेरी आँखें शर्म से झुक गयी एक लफ्ज़ भी न कह पाया , ।

तीन बहनों में वो सबसे छोटी थी बड़ी बहनों की शादी हो चुकी थी अब उसकी बारी थी । उसके पापा इन दिनों उसकी शादी के लिए लड़का देख रहे थे । कई जगह बात चली , जब कोई लड़का देखने आता उसे कम्पनी से छुट्टी लेकर आना पड़ता , जाने कितनी बार उसको काम छोड़कर जाना पड़ा , लेकिन हर बार उसका सांवला चेहरा लोगो की नज़रों में खटकता , ये लड़के वाले कितने स्वार्थी, और लालची होते हैं उसने सब अपनी आँखों से देख लिया था । उसने बताया कि पिछली बार उसे देखने के लिए लड़के ने रेलवे स्टेशन पर बुलाया था , सैकड़ो की भीड़ में वो हरे रंग का सूट सलवार पहने , चेहरे पर हल्का मेकअप लगाए खड़ी थी सोच रही थी कि ये सब कब जल्दी खत्म हो , इस तरह की नुमाइश उसे कहाँ पसन्द थी , इतनी भीड़ में वो अपने आप को असहाय महसूस कर रही थी । तभी प्लेटफार्म पर ट्रेन आ गयी वो लड़का जो उसे देखने आया था दूर से ही हाथ हिलाकर देखता रहा , ट्रेन चली गयी । उसे ऐसे लगा मानो वो कुछ नहीं है । काश आज अगर वो भी सुंदर दिखती तो किसी की हिम्मत न होती उसे ठुकराने की , कोई इस तरह से प्लेटफार्म पर बुलाकर बिन बोले ही दूर से न चला जाता ।

रुआंसे गले से उसने सारी बात बताई ।

मैं स्तब्ध रह गया ये सुनकर कि सिर्फ रंग , रूप देखकर ही क्यों लड़कियों को जाँचा जाता है , मन की सुंदरता क्या कोई माईने नही रखती , शिक्षा , ज्ञान , कौशल का कोई महत्व नही ।

मुझे याद है जब जब उसने मुझे अपनी मार्क्सशीट दिखाईं थी, हर कक्षा में वो अव्वल आया करती थी , इंजीनियरिंग में भी उसने टॉप किया था और एक मल्टीनेशनल कंपनी पर इंजीनियर की पोस्ट पर थी । अपने काम मे कुशल , अच्छी सेलरी थी उसकी लेकिन बस चेहरा सांवला था ।

उसने बताया कि कल भी उसे देखने एक लड़का आने वाला है , वो नहीं चाहती थी ये नुमाईश , बिना मन के किसी के भी सामने सज संवर के किसी गुड़िया की तरह बैठ जाना , उतना ही बोलना जितना सब कहें , बस सर हिलाते रहना । वो इन सबसे भाग जाना चाहती थी , इस मतलबी , स्वार्थी दुनिया से। वो ठहराव चाहती थी , वो चाहती थी कि कोई मिले जो उसकी ऊपरी सुंदरता को न देखे , उसके अंदर झांककर भी देखे , जहाँ अपार प्रेम , स्नेह , भरा हुआ है ।

मगर अफसोस लोग और खासकर ये पुरुष समाज को कहाँ एहसास कि क्या बीतती है एक लड़की पर जब उसे बार बार अस्वीकार किया जाए ,उसका तिरस्कार किया जाए , उसे कदम कदम पर ये एहसास दिलाया जाए कि वो लड़की है उसका कोई वजूद नहीं ।

कितनी ही लड़कियाँ रितू की तरह भागती रहती है दिन रात अपनी नुमाईश के लिए , कितने ताने सुनती हैं अपने रंग रूप अपनी शारीरिक बनावट को लेकर ।

कहाँ मिल पाता है उनकी ज़िंदगी को ठहराव । ये शोर कानों से होकर दिल में उतर जाता है और ज़िन्दगी रुक जाती है बीच में, दूर तक बस बियाबान ही नज़र आता है ।

सच में, उसकी कहानी सुन किसी की भी आँखे नम हो जाती , मैंने अपनी छोटी उंगली से पलकों की कोरों में अटके पानी को साफ किया । पीछे मुड़ा तो रितू देख रही थी मेरी ओर शायद मुझे देख लिया था आँख पौंछते हुए उसने ।

क्या हुआ तुम्हें , रितू ने पूछा

कुछ नहीं , कुछ भी तो नहीं । तुम्हे मेरी इतनी फ़िक्र करनी नहीं चाहिए आखिर मैं भी एक लड़का हूँ । मैंने उसकी आँखों मे झांकते हुए कहा ।

देखो मेरे लिए तो ये रोज़ का काम है , आम हो गया है अब तो आदत सी हो गयी है । तुम दिल पर मत लो ।

कभीं तो ये भागदौड़ खत्म होगी , कभी तो आएगा मेरी ज़िंदगी मे भी ठहराव ।

वो अपनी बात खत्म करती तभी प्लेटफार्म पर ट्रेन आने की घोषणा हुई , और पूरा प्लेटफार्म शोर और अफ़रातफ़री में डूब गया । जैसे इस दुनिया को ठहराना पसन्द ही ना हो ।

बस इतनी सी थी ये कहानी ।

©rahulchaudhary

आप भी अपनी यात्रा की दिलचस्प कहानियों को Tripoto पर लिखें। सफरनामा लिखने के लिए यहाँ क्लिक करें।

यात्रा से जुड़े सवालों का जवाब ढूँढ रहे हैं तो Tripoto चैट की मदद लें।

Be the first one to comment