हिमाचल में बागा सराहन के पास इस गाँव में पांडवों का लगाया पेड़ है!

Tripoto

दुनिया की सबसे अद्भुत जगहों में अगर हिमालय को सबसे पहले नंबर पर रखा जाए तो इसमें कोई हैरानी की बात नहीं होनी चाहिए। इससे ज़्यादा विशाल, विचित्र और महिमा-मई जगह शायद ही आपको दुनिया में कहीं मिलेगी। पर हिमालय सिर्फ़ अपने आकार की वजह से हिमालय नहीं कहलाता और ना ही तो इसके आयाम सिर्फ़ दिखावे तक सीमित हैं। हिमालय तो सदियों से यहाँ रह रहे लाखों-करोड़ों लोगों का वो विश्वास है जो यहाँ की कहानियों में बसता है, दिखता है। विश्वास - जो जादुई और अलौकिक दुनिया का मेल है, कोई सीमा ना जानते हुए भी प्रकृति के अधीन है और शायद विशालकाय हिमालय के साथ-साथ यहाँ पर जीवन का भी असली आधार है।

ये गांव है डियाऊगी। बागा सराहन के बाग से कुछ एक किलोमीटर नीचे।

घर के अहाते में पत्थर बिछे दिख रहे हैं ? गांव में बावरे बंजारे होमस्टे के होस्ट बाबा चेतराम कैथ बताते हैं कि किसी जमाने में ये पत्थर मुजरिमों को सज़ा देने के काम आते थे। मतलब इन भारी पत्थरों को दोषी के सर पर रखकर उसे खड़ा कर दिया जाता था। तब तक जब तक के लिए सजा मुकर्रर होती थी। माने मृत्युदंड भी इन्हीं पत्थरों के बोझ के जरिए दिया जाता था।

Photo of हिमाचल में बागा सराहन के पास इस गाँव में पांडवों का लगाया पेड़ है! 1/1 by Bawray Banjaray

और इस घर के आगे ये पेड़ देख रहे हैं - पांडवों का लगाया हुआ है। ऐसा गांव वाले बताते हैं। पांडवों ने अपने अज्ञातवास के दौरान इस पेड़ को लगाया था, कुछ 35-36 साल पहले ये पेड़ बिजली गिरने से ध्वस्त हो गया था। आज देखिए, कैसे इतिहास के सरोकारों को ज़िंदा किए बैठा है।

यहीं पेड़ के बगल में हमारा होमस्टे है। आईये, चाय पिलाएंगे और बाबा चेतराम कहानियां सुनाएंगे। बगल में एक गुफ़ा है - इस से एक वॉटरफॉल निकलता है।

बागा सराहन आने के लिए ज़रूरी जानकारी ये रही: http://bit.ly/2UN7hW7