आजादी के 75 साल बाद रेलवे पहुँचा सिक्किम, सेवोक प्रोजेक्ट पर काम में तेज़ी

Tripoto
2nd Jun 2023
Photo of आजादी के 75 साल बाद रेलवे पहुँचा सिक्किम, सेवोक प्रोजेक्ट पर काम में तेज़ी by KAPIL PANDIT
Day 1

भारत के पूर्वोत्तर का हिस्सा अभी भी शेष भारत से थोड़ा कटा कटा सा है। अभी भी विकास की वो गति पूर्वोत्तर के राज्यो में नही है। जो देश के बाकी के हिस्सो मे हैं।इसकी एक वजह है । वहा भारतीय रेलवे का विस्तार न होना। आजादी के 75 सालो बाद भी पूर्वोत्तर राज्यों में आज भी रेलवे पूरी तरह से नही पहुंच पाया हैं। इन्ही कुछ कारणों से पूर्वोत्तर राज्य उस हिसाब से विकसित नही हो पाए जिस हिसाब से उन्हें होना चाहिए था। पुरानी सरकारों ने इस ओर कभी ध्यान नही दिया। अन्यथा आज स्थिति कुछ और होती लेकिन वो कहते है ना। "की देर आए दुरुस्त आए " अब भारतीय रेलवे का विस्तार पूर्वोत्तर के राज्यो में भी हो रहा हैं।

पूर्वोत्तर के राज्यो में सिक्किम राज्य का अपना अलग ही महत्व हैं। सिक्किम जिसे प्रकृति ने अपनी खुबसूरत नेमतों से सजाया और संवारा हैं। सिक्किम राज्य की भौगोलिक स्थिति भी बाकी राज्यों से बिल्कुल अलग हैं। इसके एक और नेपाल है। तो दूसरी और भूटान देश है । तथा इसके उत्तर में इस राज्य की सीमा हमारे कट्टर विरोधी देश चीन से लगती हैं। अब आप इसकी महत्वता को भलीभाती समझ गए होंगे। अभी सिर्फ सड़क मार्ग या वायुमार्ग से ही सिक्किम पहुंचना मुमकिन था।

Photo of आजादी के 75 साल बाद रेलवे पहुँचा सिक्किम, सेवोक प्रोजेक्ट पर काम में तेज़ी by KAPIL PANDIT
Photo of आजादी के 75 साल बाद रेलवे पहुँचा सिक्किम, सेवोक प्रोजेक्ट पर काम में तेज़ी by KAPIL PANDIT
Photo of आजादी के 75 साल बाद रेलवे पहुँचा सिक्किम, सेवोक प्रोजेक्ट पर काम में तेज़ी by KAPIL PANDIT

लेकिन भारतीय रेलवे की एक महत्वाकांक्षी परियोजना के अनुसार सिक्किम बहुत जल्द रेलवे के माध्यम से देश के बाकी हिस्सों से भी जुड़ जाएगा । पश्चिम बंगाल के सिवोक से सिक्किम के रंगपाे तक इस परियोजना का कार्य अंतिम चरणों में हैं। सिवोक - रंगपो रेल लिंक परियोजना पूर्वोत्तर राज्य के लिए इस तरह का पहला कनेक्शन है. इस अत्यंत महत्वपूर्ण रेल लिंक को आगे नाथूला दर्रे तक विस्तारित करने की योजना है।यह विशेष रूप से सशस्त्र बलों को अग्रिम क्षेत्रों में रसद प्रदान करने में सहायता करेगा.इसके पूरा हो जाने के बाद अतिमहत्वपूर्ण नाथूला दर्रे तक भारतीय सेना की पहुंच होगी। रेलवे के आने से विकास की बयार भी आती हैं। आम लोगो का सिक्किम पहुंचना भी आसान हो जाएगा।

Photo of आजादी के 75 साल बाद रेलवे पहुँचा सिक्किम, सेवोक प्रोजेक्ट पर काम में तेज़ी by KAPIL PANDIT
Photo of आजादी के 75 साल बाद रेलवे पहुँचा सिक्किम, सेवोक प्रोजेक्ट पर काम में तेज़ी by KAPIL PANDIT
Photo of आजादी के 75 साल बाद रेलवे पहुँचा सिक्किम, सेवोक प्रोजेक्ट पर काम में तेज़ी by KAPIL PANDIT

सिक्किम राज्य की अपनी अलग पहचान, संस्कृति, रहन सहन, खान पान हैं। भारतीय रेलवे नेटवर्क से जुड़ जाने के बाद सिक्किम देश के बाकी हिस्सों से भी जुड़ जाएगा।

प्रथम चरण में सिवोक – रंगपों तथा द्वितीय चरण में रंगपो – गंगटोक तथा तीसरे और अंतिम चरण में इस रेलवे लाइन का विस्तार नाथूला दर्रे तक होगा।

इसके बन जाने के बाद किसी भी आपात स्थिति में हमारी सेना आसानी से चीन बॉर्डर तक पहुंच सकेगी।

Photo of आजादी के 75 साल बाद रेलवे पहुँचा सिक्किम, सेवोक प्रोजेक्ट पर काम में तेज़ी by KAPIL PANDIT
Photo of आजादी के 75 साल बाद रेलवे पहुँचा सिक्किम, सेवोक प्रोजेक्ट पर काम में तेज़ी by KAPIL PANDIT
Photo of आजादी के 75 साल बाद रेलवे पहुँचा सिक्किम, सेवोक प्रोजेक्ट पर काम में तेज़ी by KAPIL PANDIT

ये रेल लिंक पूरा हो जाने के बाद पूरा सिक्किम राज्य आसानी से देश के बाकी हिस्सों की तरह कदम ताल कर पाएगा और देश के आम जन भी इस स्वर्ग सरीखी जगह को देख पाएंगे। इन नई रेल लाइनों के बनने से पश्चिम बंगाल और सिक्किम राज्य को काफी फायदा होगा. इससे चीन की सीमा स्थित नाथूला से देश की राजधानी दिल्ली की सीधी रेल कनेक्टिविटी होगा।

क्या आपने हाल में कोई की यात्रा की है? अपने अनुभव को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

More By This Author

Further Reads