फुल रिफ़ंड से लेकर ज़ीरो कैंसिलेशन चार्ज तक, वो नियम जो हर यात्री को पता होने चाहिए!

Tripoto
Photo of फुल रिफ़ंड से लेकर ज़ीरो कैंसिलेशन चार्ज तक, वो नियम जो हर यात्री को पता होने चाहिए! by Saransh Ramavat

क्या आप अपनी फ्लाइट के लेट होने के बाद घंटों इंतज़ार करने या फिर फ्लाइट की उड़ान के दिन ही उसे कैंसल करने पर बहुत ज्यादा कैंसिलेशन चार्जेस देने से थक गए हैं, तो ये आर्टिकल ध्यान से पढ़ लें।

आपको शायद ना पता हो लेकिन मिनीस्ट्री ऑफ सिविल एविएशन के पैसेंजर चार्टर में हवाई यात्रा करने वाले यात्रियों के अधिकारों को बताया गया है, इसमे यात्रियों को आम-तौर पर होने वाली प्रोब्लंस का हल दिया गया है जिससे उन्हें अपने अधिकारों के लिए ज्यादा परेशान ना होना पड़े ।

Tripoto हिंदी के इंस्टाग्राम से जुड़ें

आप यहाँ उनमे से कुछ महत्वपूर्ण प्रावधानों पर एक नज़र डालें जो की आपको एक यात्री के रूप में अपने अधिकारों की जानकारी देंगे और उन्हें कैसे पाना है यह भी बताएँगे ।

1) उड़ानों की देरी

Photo of फुल रिफ़ंड से लेकर ज़ीरो कैंसिलेशन चार्ज तक, वो नियम जो हर यात्री को पता होने चाहिए! 1/6 by Saransh Ramavat

अगर आपकी फ्लाइट में दो से छह घंटे की देरी हो जाती है, तो एयरलाइंस को आपके लिए मुफ्त भोजन और रिफ्रेशमेंट की व्यवस्था करनी ही होगी। ध्यान रहे, ये केवल उन यात्रियों पर लागू होता है जो एयरपोर्ट पर ही इंतज़ार कर रहे होते हैं।

अगर उड़ान में छह घंटे से ज्यादा की देरी हो जाती है, तो यात्री को पूरा रिफ़ंड या वैकल्पिक फ्लाइट के ऑप्शन में से जो भी वह चाहे चुनने का अधिकार है ।

अगर आपकी फ्लाइट रात 8 बजे से सुबह के 3 बजे के बीच की है, और उसमे छह घंटे से ज्यादा का डिले हो रहा है तो, एयरलाइंस को आपको एक दिन पहले इन्फॉर्म करना होगा और आपको फ्री स्टे भी देना होगा ।

2) उड़ान या टिकट रद्द करना

Photo of फुल रिफ़ंड से लेकर ज़ीरो कैंसिलेशन चार्ज तक, वो नियम जो हर यात्री को पता होने चाहिए! 2/6 by Saransh Ramavat

एक एयरलाइन अब आपकी फ्लाइट से 24 घंटे पहले आपकी उड़ान को रद्द नहीं कर सकती है और अगर वह ऐसा करती है तो उसे इसकी क्षतिपूर्ति करनी होगी । चार्टर के नियमों के अनुसार, एयरलाइंस को या तो यात्रियों को रिफ़ंड देना होगा या फिर उनके लिए किसी दूसरी आल्टर्नेट फ्लाइट की व्यवस्था करनी पड़ेगी ।

एक घंटे तक की उड़ानों के लिए, ये एक तरफ का बेसिक किराया और ईंधन शुल्क या ₹5,000 और दो घंटे से अधिक की उड़ानों के लिए यह राशि ₹10,000 तक है, जो भी कम हो।

3) रिफंड

Photo of फुल रिफ़ंड से लेकर ज़ीरो कैंसिलेशन चार्ज तक, वो नियम जो हर यात्री को पता होने चाहिए! 3/6 by Saransh Ramavat
श्रेय - पिक्साबे

वो दिन गए जब आपको अपना टिकट कैन्सल करने के लिए कैंसिलेशन चार्ज देना पड़ता था । अब तो आप फुल रिफ़ंड ले सकते है , बशर्ते आप अपनी फ्लाइट बुकिंग के एक दिन अंदर-अंदर कैंसिल करवाते है तो।

अगर आपने अपने टिकिट्स फ्लाइट के उड़ने के टाइम सात दिन के अंदर या सात दिन से कम समय में करवाए है तो उस स्थित मे ज़ीरो कैंसिलेशन चार्ज लागू नहीं होगा ।

अगर बुकिंग और प्रस्थान की डेट के बीच 7 दिन से कम समय है, तो एयरलाइन कैंसलेशन शुल्क चार्ज कर सकती है पर वो कुल किराया और फ्युल सरचार्ज तक ही सीमित होगा । यूसर डेवलपमेंट फीस, टैक्स, पैसेंजर फीस और एयरपोर्ट डेवलपमेंट फीस सहित अन्य अतिरिक्त शुल्क भी वापस करने होंगे।

विदेशी एयरलाइन के मामले में, रिफ़ंड का अधिकार और रूल्स एयरलाइंस की इंटरनल पॉलिसी के हिसाब से होगा ।

4) नाम बदलना

Photo of फुल रिफ़ंड से लेकर ज़ीरो कैंसिलेशन चार्ज तक, वो नियम जो हर यात्री को पता होने चाहिए! 4/6 by Saransh Ramavat
श्रेय - अनस्पलैश

नए नियमों से यात्रियों को बुकिंग के 24 घंटे के अंदर अपने नाम में करेक्शन करने की भी सुविधा है और वह भी बिना कोई अतिरिक्त शुल्क दिये । इससे पहले, नाम में करेक्शन को टिकिट कैंसल करवाने के रूप में माना जाता था, और इस वजह से यात्रियों को एक नया टिकट बुक करना पड़ता था और साथ ही अतिरिक्त शुल्क का भुगतान करना पड़ता था।

5) ओवरबुक उड़ानें

Photo of फुल रिफ़ंड से लेकर ज़ीरो कैंसिलेशन चार्ज तक, वो नियम जो हर यात्री को पता होने चाहिए! 5/6 by Saransh Ramavat

अगर ओवरबुकिंग की वजह से आपको बोर्डिंग से वंचित रखा जाता है, तो एयरलाइंस को ओरिजनल फ्लाइट के एक घंटे के अंदर वैकल्पिक उड़ान की व्यवस्था करनी होगी। अगर निर्धारित फ्लाइट की कोई भी वैकल्पिक फ्लाइट उपलब्ध नहीं है तो एयरलाइंस को यात्री को बुकिंग की कीमत (एक तरफ का) का 400 प्रतिशत तक देना होगा हालांकि इस नियम में और भी कुछ शर्ते लगती है जिसके हिसाब से ये भुगतान डिसाइड होता है ।

6) सामान हानि या क्षति

Photo of फुल रिफ़ंड से लेकर ज़ीरो कैंसिलेशन चार्ज तक, वो नियम जो हर यात्री को पता होने चाहिए! 6/6 by Saransh Ramavat
श्रेय - पिकस्बे

अगर आपका सामान क्षतिग्रस्त या गुम हो जाता है, तो यात्री को ₹350 प्रति किलो या ₹20,000 तक का मुआवजा मिलेगा। नई राशि पिछले मुआवजे की तुलना में 75% ज्यादा है।

ऐसे मामले में जहाँ किसी यात्री को एयरलाइन की वजह से शारीरिक चोट लगती है या अगर किसी यात्री की मौत हो जाती है, तो एयरलाइन को मुआवजे के रूप में 20 लाख रुपये देने होंगे।

यात्रा से जुड़ी जानकारी और किस्सों के लिए Tripoto हिंदी से जुड़ें।

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা  और  Tripoto  ગુજરાતી फॉलो करें

Tripoto हिंदी के इंस्टाग्राम से जुड़ें और फ़ीचर होने का मौक़ा पाएँ। 

यह एक अनुवादित आर्टिकल है, ओरिजनल आर्टिकल पड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे ।