'मदरसा-ए-हुनर': जयपुर में छिपा कला का खज़ाना 

Tripoto

पिछले हफ्ते जयपुर में मौसम बढ़िया हो रहा था| तो मैं कैमेरा लेकर पुराने जयपुर में निकल पड़ा | परकोटा यानी बड़ी-बड़ी दिवारों से घिरा हुआ पुराना जयपुर अपने में इतने राज़ समेटे है, कि 10 साल यहाँ रहने के बाद भी कई बार मैं भी हैरान रह जाता हूँ |

फुटपाथ पर चलता मैं कुछ अच्छी तस्वीरें लेने की कोशिश कर ही रहा था, कि अचानक मैं एक बड़े से दरवाज़े के पास पहुँच गया |

यूँ तो पुराने जयपुर में बड़े दरवाज़ों की कमी नहीं है, मगर ये दरवाज़ा कुछ खास था। इस दरवाज़े के बाहर लिखा था - महाराजा स्कूल ऑफ आर्ट्स एंड क्राफ़्टस |

अब दिल से एक कलाकार तो मैं भी हूँ | तो कदम अंदर की ओर बढ़ चले | मुझे क्या पता था कि अंजाने में उठे कदम मुझे एक नायाब नगीने के पास ले जा रहे हैं |

मदरसा-ए-हुनरी के नाम से जानी जाने वाली इस बड़ी सी तीन मंज़िला बिल्डिंग में कृपाल सिंह शेखावत नाम के मशहूर कलाकार की कुछ नायाब कलाकृतियाँ रखी हैं |

ये वही कृपाल सिंह शेखावत हैं जिन्हें सन् 1974 में पद्म श्री अवॉर्ड मिला था | अवॉर्ड्स की बात ना भी करें तो शेखावत साहब को राजस्थान की मशहूर ब्लू पॉटरी की निर्जीव कला में जान फूँकने का श्रेय हासिल है | 

इस तिमंज़िला मदरसा-ए-हुनर के पतले-पतले गलियारों में इस कलाकार की बनाई मूर्तियाँ, पेंटिंग्स, कठपुतलियाँ और ब्लू पॉटरी सजी है |

बिल्डिंग में अंदर जाने का कोई चार्ज नहीं है | गेट पर ही आपको निगरानी करने वाले दो-तीन पुलिस वाले दिख जाएँगे, मगर डरने की ज़रूरत नहीं | यहाँ आप बेखौफ़ फोटोग्राफी/ वीडियोग्राफी कर सकते हैं। 

कहाँ है मदरसा-ए-हुनर

मदरसा हफ्ते में 6 दिन सुबह 9.30 से शाम 8.30 तक खुला रहता है | अगर आप जाना चाहें तो अजमेरी गेट से 500 मीटर अंदर को चलें | आपके दाहिने हाथ को एक बड़ी सी बिल्डिंग दिखेगी, जिसके गेट बाहों की तरह खुले होंगे | बिल्डिंग के बाहर 'महाराजा स्कूल ऑफ आर्ट्स एंड क्राफ़्टस जयपुर' लिखा होगा |

देखते हैं अगली बार जयपुर के संकरे गलियारों में मुझे कौन-सा नायाब मोती मिलता है |

अगर आपको भी अपने शहर के छुपे खज़ाने के बारे में पता है, तो Tripoto पर लिखकर उसकी जानकारी बाकी यात्रियों तक पहुँचाए। 

Be the first one to comment

Further Reads