उत्तराखंड के बेहद स्वादिष्ट स्थानीय व्यंजन, घूमने के दौरान इनका स्वाद जरूर लें

Tripoto
Photo of उत्तराखंड के बेहद स्वादिष्ट स्थानीय व्यंजन, घूमने के दौरान इनका स्वाद जरूर लें by Musafir Rishabh

उत्तराखंड भारत के सबसे सुंदर राज्यों में से एक है। बड़ी संख्या में सैलानी उत्तराखंड की अलग-अलग जगहों पर घूमने के लिए जाते हैं। उत्तराखंड के खूबसूरत पहाड़ और हरियाली हर किसी को आकर्षित करती है। घूमना सिर्फ़ नई जगहों को एक्सप्लोर करना नहीं है बल्कि उस जगह के ज़ायक़ों के बारे में जानना होता है। आप किसी नई जगह पर जाते हैं तो वहाँ के स्थानीय व्यंजनों का स्वाद लेते हैं। उत्तराखंड के स्थानीय व्यंजनों में आपको तरह-तरह की वैरायटी मिल जाएगी। उत्तराखंड में घूमते हुए आप इन व्यंजनों का ज़ायक़ा ले सकते हैं। यक़ीन मानिए ये स्थानीय व्यंजन आपकी यात्रा को और शानदार बना देंगे।

उत्तराखंड के स्थानीय व्यंजन:

1- काफुली

अगर आपको उत्तराखंड क पारंपरिक व्यंजन खाना है तो काफुली एक बढ़िया डिश है। काफुली उत्तराखंड का एक पारंपरिक खाना है जिसे पालक और मेथी के साथ तैयार किया जाता है। काफुली को चावल या गेहूं के पेस्ट से बनी ग्रेवी के साथ परोसा जाता है। स्थानीय लोगों को तो काफुली काफ़ी पसंद होती ही है। इसके अलावा घूम ने वालों को भी काफुली व्यंजन काफ़ी बढ़िया लगता है। आपको काफुली उत्तराखंड के हर क्षेत्र में मिल जाएगी। उत्तराखंड की अगली यात्रा में इस व्यंजन का स्वाद लेना ना भूलें।

2- फानू

फानू भी उत्तराखंड की एक स्थानीय डिश है। फानू खाने में जितनी स्वादिष्ट लगती है, बनाने में उतनी ही जटिल होती है। इसे कई तरह की दाल को मिलाकर बनाया जाता है। दाल रात भर भिगोकर रखा जाता है। इसके बाद टमाटर, अदरक और लहसुन के पेस्ट के साथ पकाया जाता है। इस पारंपरिक व्यंजन को चावल के साथ परोसा जाता है। आपको फानू कुमाऊँ क्षेत्र में ज़्यादा देखने को मिलेगी लेकिन गढ़वाल में भी कहीं-कहीं फानू मिल जाती है। फानू का स्वाद इतना शानदार है कि आपने शायद ही इससे पहले शानदार स्वाद लिया हो।

3- भांग की चटनी

आपने शायद भांग के पकौड़े के बारे में तो सुना ही होगा लेकिन क्या आपको पता है कि उत्तराखंड में भांग की चटनी मिलती है और लोग इसे बड़े चाव के साथ खाते हैं। भांग की चटनी उत्तराखंड के लोगों के बीच काफ़ी लोकप्रिय है। इसे भांग, इमली और अन्य तरह के मसालों से तैयार किया जाता है। भांग की चटनी ज़्यादातर कुमाऊँ क्षेत्र में देखने को मिल जाएगी। भांग की चटनी को लोग अन्य डिश के साथ खाते हैं। भांग की चटनी आपके ज़ायके को और लज़ीज़ बना देती है।

4- आलू टमाटर का झोल

Photo of उत्तराखंड के बेहद स्वादिष्ट स्थानीय व्यंजन, घूमने के दौरान इनका स्वाद जरूर लें by Musafir Rishabh

आलू टमाटर के झोल को देखकर आपके मुँह में पानी आ जाएगा। झोल उत्तराखंड के पारंपरिक व्यंजनों में से एक है और बेहद लज़ीज़ भी है। इसकी एक विशेषता ये भी है कि इसे कम से कम समय में तैयार किया जाता है। यह बनाने में जितनी सरल है, उसका स्वाद उतना ही स्वादिष्ट है। आलू टमाटर को भारतीय मसालों के साथ तैयार किया जाता है। टमाटर की ग्रेवी में उबले हुए आलू को मिलाया जाता है। आलू टमाटर के झोल को चावल या रोटी के साथ परोसा जाता है। आप इस डिश का जायका उत्तराखंड की यात्रा में ले सकते हैं।

5- कंडाली का साग

जब भी उत्तराखंड के स्थानीय व्यंजनों की बात होती है तो कंडाली के साग का ज़िक्र सबसे पहले आता है। कंडाली का साग उत्तराखंड का एक पारंपरिक भोजन है। इस लज़ीज़ व्यंजन को बनाने के लिए कंडाली को उबालकर तैयार किया जाता है। इसमें बिच्छू घास को मिलाया जाता है जो इसको और भी लज़ीज़ बना देता है। यह पत्तेदार व्यंजन अपने स्वाद से आपको हैरान कर देगा। उत्तराखंड की यात्रा में आपको इस व्यंजन का स्वाद ज़रूर लेना चाहिए।

6- चैन्सू

उत्तराखंड में आप कहीं भी जब स्थानीय फ़ूड की लिस्ट देखेंगे तो उसमें चैन्सू का नाम ज़रूर दिखेगा। चैन्सू भी उत्तराखंड का एक पारंपरिक भोजन है। यह स्थानीय व्यंजन आपको गढ़वाल क्षेत्र में ज़्यादा देखने को मिलेगा। चैन्सू को उड़द की दाल या काली दाल के साथ बनाया जाता है। उत्तराखंड के इस विशेष भोजन को स्थानीय लोग तो पसंद करते ही हैं घूमने वाले यात्रियों को भी काफ़ी पसंद आती है।

7- बाड़ी

बाड़ी भी उत्तराखंड का एक बेहद प्रसिद्ध भोजन है। इस डिश को बनाने में ज़्यादा समय नहीं लगता है। 5-10 मिनट में बनने वाली इस डिश को क्वाड़ा के आटे से बनाया जाता है। गरमा गरम बाड़ी को फानू या घाट की दाल के साथ परोसा जाता है। यक़ीन मानिए इस लजीजदार व्यंजन को खाकर आप तृप्त हो जाएँगे। इसे गढ़वाल क्षेत्र के सबसे अच्छे व्यंजनों में माना जाता है। उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र की तरफ़ जाएँ तो इस पारंपरिक व्यंजनों का स्वाद लेना ना भूलें।

क्या आपने हाल ही में उत्तराखंड की यात्रा की है? अपने अनुभव को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना टेलीग्राम पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें।