मनाली में मौसम की दूसरी बर्फ़बारी : सड़क यात्रा की योजना बनाने के लिए सारी ज़रूरी जानकारी

Tripoto

दिल्ली से मनाली का रूट भारत के सबसे व्यस्त रूटों में से एक है | भारत में कम से कम भी तो आधा दर्जन हिल स्टेशन हैं जिन्हें "पहाड़ियों की रानी" के नाम से जाना जाता है | लेकिन सही मायनों में इनमें से कोई भी इस नाम के साथ उस कदर न्याय नहीं कर पाता जिस कदर हिमाचल प्रदेश राज्य के मनाली की सुरम्य वादियाँ करती हैं | जिस तरह से देश का हर युवा हर साल गोवा जाने का अपना सपना साकार करने की कोशिश में लगा रहता है उसी तरह हर दूसरा परिवार हर साल मनाली जाने के ख्वाब संजोता रहता है | ज़रा अपने पिताजी से पूछिए कि वो गर्मियों में पूरे परिवार के साथ कहाँ जाना चाहते हैं ! संभावना है कि उनका जवाब मनाली होगा | और अगर आप दिल्ली में रहते हैं तो इन गर्मियों में आप की मनाली जाने की संभावनाएँ बहुत बढ़ जाती हैं | मनाली करीब और सुविधाजनक तो है ही, साथ ही बाला की खूबसूरत जगह भी है |

मनाली की घाटी हिमाचल प्रदेश राज्य की कुल्लू जिले के पर्वत शृंखलाओं के बीच स्थित है | ये व्यास नदी के किनारों पर बसा हुआ है और देश के सबसे ज़्यादा घूमे जाने वाले हिल स्टेशनों में से एक है | मनाली की ख़ास बात यह है कि ये सभी को पसंद आ जाता है | पुराना मनाली हिप्पियों के बीच काफ़ी लोकप्रिय है तो कस्बे का मुख्य सेंटर हनीमून मनाने आए विवाहित जोड़ों और छुट्टी मनाने आए परिवारों के बीच खूब लोकप्रिय है | अपने आप में एक जाना माना स्थान होने के साथ ही मनाली हिमालय की गोद में भीतर तक जाने के शौकीन लोगों के लिए मुख्य बिंदु भी है | उदाहरण के तौर पर लद्दाख, स्पीति, रोहतांग पास और ऐसे अन्य ऊँचाई पर स्थित स्थानों की ओर जाने वाले सबसे सुविधाजनक रास्ते पर मनाली आता है | ऐसे और अन्य कई कारणों की वजह से उत्तर भारत में रहने वाले लोगों के लिए मनाली घूमने के लिए सबसे बढ़िया हिल स्टेशन बन जाता है | ख़ास कर के दिल्ली वालों के लिए |

घूमने का सबसे अच्छा समय: मार्च से मई के महीनों में मौसम अच्छा रहता है पर बर्फ देखने के लिए दिसंबर से जनवरी के महीनों में जाना सही होगा |

मनाली कैसे पहुँचें

दिल्ली से आने वालों के लिए मनाली सबसे सुविधाजनक हिल स्टेशनों में से एक है। यहाँ तीन तरीकों से पहुंचा जा सकता है- सड़क मार्ग द्वारा, हवाई मार्ग द्वारा और रेल मार्ग द्वारा |

हवाई मार्ग से: निकटतम हवाई अड्डा भुंतर में स्थित है जो मनाली शहर के केंद्र से 10 किलो मीटर की दूरी पर है। उड़ान की अवधि सिर्फ एक घंटे से थोड़ी ही अधिक है | ताकि आप दिल्ली से मनाली जाने में लगने वाले समय में भारी बचत कर सकते हैं | गर्मियों की छुट्टियाँ समझो आ ही गयी, इसलिए अगर आप चाहें तो काफ़ी सस्ती फ्लाइट बुक कर सकते हैं

रेल मार्ग द्वारा : आप दिल्ली से मनाली सीधे ट्रेन में नहीं जा सकते क्योंकि मनाली का अपना कोई रेलवे स्टेशन नहीं है। हालांकि निकटतम रेलवे स्टेशन मनाली से 162 किलो मीटर दूर जोगिंदर नगर में स्थित है, मगर वो भी दिल्ली से सीधे नहीं जुड़ा हुआ है। 294 किलो मीटर की दूरी पर स्थित चंडीगढ़ का रेलवे स्टेशन मनाली से निकटतम है, जो दिल्ली से सीधे जुड़ा हुआ है। इस कारण से दिल्ली से मनाली जाने के लिए रेलगाड़ियाँ सबसे कम सुविधाजनक साधन हैं।

सड़क मार्ग से: सड़क मार्ग द्वारा दिल्ली से मनाली के बीच की दूरी लगभग 550 किलो मीटर है। आप या तो मनाली में अपनी निजी कार या बाइक से जा सकते हैं, या सीधी टैक्सी किराए पर ले सकते हैं। परिवहन का सबसे सस्ता साधन हिमाचल राज्य परिवहन की बस से जाना होगा। इस रूट पर बसें हर समय खूब चलती हैं मगर मेरी राय माने तो रात की बस पकड़ लें | आप अपने हिसाब से वातानुकूलित या गैर-वातानुकूलित बसें मिल जाएँगी | निजी बस ऑपरेटर भी इस व्यस्त मार्ग पर बस सेवा का लाभ देते हैं, इसलिए दिल्ली से मनाली के लिए बस नहीं मिलना बहुत मुश्किल है। बस टिकट का किराया कम ज़्यादा हो सकता है | जिस प्रकार की बस आप चुन रहे हैं उस हिसाब से आप को टिकट 300 से ले कर 3000 रुपये तक मिल जाएँगी |ज्यादातर बसों को आप दिल्ली के आईएसबीटी कश्मीरी गेट से पकड़ सकते हैं |

कहाँ रहा जाए

Photo of मनाली में मौसम की दूसरी बर्फ़बारी : सड़क यात्रा की योजना बनाने के लिए सारी ज़रूरी जानकारी 3/14 by लफंगा परिंदा
श्रेय : ओयो रूम्स

घूमने के लिए बाहर निकलना अपने आराम के क्षेत्र से बाहर निकलना भी होता है | मगर ज़रूरी नहीं कि घूमते वक्त आप आरामदायक होटल में ना रुकें | होटल का चुनाव करते वक़्त ये ध्यान रखना चाहिए कि हमारे ठहरने की जगह हमारी यात्रा के अनुभव को बढ़ाती हों | मनाली में रहने के आप के अनुभव में चार चाँद लगाने के लिए ले कर आए हैं ये दो बेहतरीन ओयो रूम |

हडिंबा मंदिर रोड

Photo of मनाली में मौसम की दूसरी बर्फ़बारी : सड़क यात्रा की योजना बनाने के लिए सारी ज़रूरी जानकारी 4/14 by लफंगा परिंदा
श्रेय : ओयो रूम्स

नाम: ओयो कॉटेज

कहाँ है: हडिम्बा मंदिर के पास

कितना भाड़ा: 2 लोगों के लिए 3,937 रुपये

पास ही स्थित है: 2.8 किलो मीटर की दूरी पर ही मनाली बस स्टॉप है | केवल 2.6 किलो मीटर दूर आईओसी बस स्टॉप है |

अभी बुक करें!

नग्गर रोड

Photo of मनाली में मौसम की दूसरी बर्फ़बारी : सड़क यात्रा की योजना बनाने के लिए सारी ज़रूरी जानकारी 5/14 by लफंगा परिंदा
श्रेय : ओयो रूम्स

नाम: ओयो रूम

कहाँ है: नग्गर रोड

कितना भाड़ा: 2 लोगों के लिए 2,737 रुपये

पास ही है: केवल 1.3 किलो मीटर दूर मनाली बस स्टॉप है | आलेओ बस स्टॉप भी मात्र 0.3 किलो मीटर की दूरी पर स्थित है।

अभी बुक करें!

क्या खाएँ

मनाली में आप को हिमाचल प्रदेश के दूसरे हिल स्टेशन जैसा हिसाब नहीं मिलेगा | यहाँ के रेस्तराँ और कैफ़े में केवल ऐशियाई खाना ही नहीं मिलता है | अब चूँकि यहाँ भारत के उत्तरी क्षेत्रों से बहुत सारे सैलानी आते हैं तो उसी के अनुरूप यहाँ आप को ज़ायकों की भी विविधता मिलेगी | लोकप्रियता के हिसाब से पेश करते हैं मनाली के कुछ बेहतरीन कैफ़े एवं रेस्तराँ :

आदर्श भोजनालय

Photo of मनाली में मौसम की दूसरी बर्फ़बारी : सड़क यात्रा की योजना बनाने के लिए सारी ज़रूरी जानकारी 7/14 by लफंगा परिंदा
श्रेय : उमामी

एक सामान्य उत्तर भारतीय व्यक्ति को रात के समय बिना डाल रोटी खाए नींद नहीं आती है | आदर्श भोजनालय का देशी खाना खा कर ये लोग एकदम संतुष्ट हो सकते है |

प्रकार: उत्तर भारतीय

कहाँ है: द मॉल, मनाली, मनाली तहसील - 175131

कितना खर्च: 2 लोगों के लिए 800 रुपये

फोन नंबर: + 91-94180 02578

आईएल फोर्नो

वो लोग जो छुट्टी मनाते हुए कुछ इटालियन खाना खाए नहीं रह सकते, उनके लिए इल फोर्नो एक शानदार स्टैंडअलोन पिज्जा आउटलेट है जो मुख्य मॉल रोड के पीछे के छोर पर स्थित है।

प्रकार: इटालियन

कहाँ है : हडिम्बा रोड, सियाल, मनाली, मनाली तहसील 175131

कितना खर्च: 2 लोगों के लिए 850 रुपये

फोन नंबर: + 91-94599 40527

कैफे 1947

अगर आप उन लोगों में से हैं जिन्हे कड़क कॉफी पी कर ही जाग आती है तो आप के लिए कैफे 1947 पूरे जिले में सबसे अच्छा कैफे है। यहाँ आप को हर दिन रात 11 बजे तक ताज़ा बनी कुकीज़ और चीज़ सैंडविच आसानी से मिल जाएँगे |

प्रकार: कैफे

कहाँ है: पुराना मनाली, कुल्लू, मनाली, हिमाचल प्रदेश - 175131

कितना खर्च : 2 लोगों के लिए 600 रुपये

फोन नंबर: + 91-94184 61969

करने के लिए गतिविधियाँ और घूमने की जगहें

Photo of मनाली में मौसम की दूसरी बर्फ़बारी : सड़क यात्रा की योजना बनाने के लिए सारी ज़रूरी जानकारी 10/14 by लफंगा परिंदा
श्रेय : बेन बेल

मनाली और इसके आस पास के इलाक़े में देखने लायक और करने लायक काफ़ी गतिविधियाँ हैं जो लगभग सभी तरह के पर्यटकों को आकर्षित करती हैं | पारंपरिक रूप से यात्रायें करने वाले मुसाफिरों को मंदिर और राष्ट्रीय उद्यान लुभाते हैं तो साहसिक कारनामों के शौकीन लोग मनाली में मस्त हो जाते हैं क्यूंकी यहाँ पैराग्लाइडिंग और स्नौरकलिंग करने की बढ़िया जगहें हैं | तो पेश हैं आप के लिए मनाली में घूमने लायक जगहें और आप वहाँ क्या क्या गतिविधियाँ भी कर सकते हैं :

सोलांग वैली

सोलांग वैली मुख्य मनाली से करीब 14 किलो मीटर दूर एक खूबसूरत स्थान है जहाँ परिवारों के साथ हो अकेले पर्यटकों को भी देखा जा सकता है | इस जगह जाने का मुख्य कारण है यहाँ होने वाले रोमांचक खेल | इस जगह तक पहुँचने के लिया आप मनाली से निजी टॅक्सी किराए पर ले सकते हैं |

कहाँ है: मनाली से 14 किलो मीटर उत्तर-पश्चिम में

करने के लिए गतिविधियाँ: पैराशूटिंग, पैराग्लाइडिंग, स्केटिंग और ज़ॉर्बींग

हडिम्बा देवी मंदिर

हडिंबा मंदिर मनाली में काफ़ी धार्मिक महत्व रखता है और यहाँ का सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल है। यह मॉल रोड (शहर के केंद्र) से केवल 2 किलो मीटर की दूरी पर स्थित है | इस मंदिर तक पहुँचने के लिए पैदल जाने की सलाह दी जाती है क्यूंकी इस मंदिर तक जाने वाली सड़क संकरी होने की वजह से यहाँ पर बहुत बार यातायात रुक जाता है |

कहाँ है: पुरानी मनाली, मनाली, हिमाचल प्रदेश - 175131

रोहतांग पास

देखा जाए तो रोहतांग पास मनाली से काफ़ी दूर स्थित पर्यटन स्थल है मगर जाने लायक जगह है | यह ऊँचाई पर स्थित पहाड़ी दर्रा है जो कुल्लू घाटी को लाहौल और स्पीति घाटी से जोड़ता है। इसलिए यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण सड़क है, जिसे सेना और नागरिकों के लिए पूरे वर्ष खुला रखा जाना ज़रूरी होता है। आप को मनाली से रोहतान पास ले जाने के लिए काफ़ी सारे निजी टॅक्सी संचालक मिल जाएँगे जो आप को केवल दो घंटे में रोहतान पास पहुँचा देंगे |

कहाँ है: मनाली से 51 किलो मीटर

भृगु झील

जिन ट्रेकर्स ने शुरुआत ही की है उनके लिए भृिगु लेक की चढ़ाई करना करना एक ज़बरदस्त अनुभव होता है | चौदह हज़ार फीट से भी ज़्यादा ऊँचाई पर स्थित इस बर्फानी झील तक की चढ़ाई इतनी ऊँचाई होने के बाद भी काफ़ी आसान मानी जाती है | इस चढ़ाई के लिया आप चाहें तो मनाली शहर के पास ही स्थित वशिष्ठ मंदिर से शुरुआत कर सकते हैं या फिर गुलाबा गाँव से | आप चाहे कोई भी रास्ता लें, आप को मनाली हो कर तो जाना ही पड़ेगा |

कहाँ है: मनाली से 19 किलो मीटर दूर

हो सकता है कि आप या आप के परिवाअर के लोग मनाली घूम चुके हैं, मगर मनाली की ख़ासियत है कि हर बार मनाली जाने पर कुछ नया अनुभव करने को मिलता है | मेरे हिसाब से गर्मियों की छुट्टियों में घूमने के लिए दिल्ली वालों के पास मनाली से ज़्यादा शानदार वादियाँ नहीं होंगी | गर्मियों की छुट्टियों से याद आया, आप मनाली जाने की अपनी योजना पुख़्ता कर लीजिए वरना होटलों पर मिलने वाली बेहतरीन डील आप के हाथ से निकल जाएगी |

अगर आप के पास भी मनाली की अपनी कोई ख़ास याद या कहानी है तो ट्रिपोटो पर दो करोड़ पचास लाख से ज़्यादा अपने जैसे सहयात्रियों के साथ बाँटें |

ओयो रूम्स के सहयोग से।

यह आर्टिकल अनुवादित है | ओरिजिनल आर्टिकल पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें |

Be the first one to comment