रोड ट्रिप के लिए हिमाचल के शिपकी ला पास से अच्छा डेस्टिनेशन और कोई नहीं

Tripoto
Photo of रोड ट्रिप के लिए हिमाचल के शिपकी ला पास से अच्छा डेस्टिनेशन और कोई नहीं by Rishabh Dev

रोड ट्रिप पर जाना हर घुमक्कड़ को पसंद होता है। रोड ट्रिपआजादी देती है, कहीं भी जाने की, कभी भी रूकने और कुछ भी करने की। मेरे ख्याल से रोड ट्रिप दो तरह की होती हैं, एक जो प्यारी और एहसासों से भरी होती हैं। जिसमें खूबसूरत नजारे होते हैं और साथ में होती है घुमक्कड़ी का अनुभव। जो कई बड़े-बड़े शहरों और गाँवों तक ले जाती है। दूसरी रोड ट्रिप वो लोग करते हैं जिनको एडवेंचर पसंद होते हैं। वो खोजते हैं ऐसी जगहें जहाँ खूबसूरती तो हो ही इसके अलावा जोखिम भी हो। ऐसी ही डेंजरेस जगह है हिमाचल प्रदेश की शिपकी ला।

Photo of रोड ट्रिप के लिए हिमाचल के शिपकी ला पास से अच्छा डेस्टिनेशन और कोई नहीं 1/6 by Rishabh Dev

शिपकी ला भारत की सबसे डेंजरेस जगहों में से है। समुद्र तल से 18,500 फीट की ऊँचाई पर स्थित शिपकी ला पास हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में है। इस जगह के बारे में जो भी सुनता है वो यहाँ जाना चाहता है लेकिन हर कोई यहाँ नहीं जा पाता। ये जगह खतरनाक है इसलिए नहीं, बल्कि यहाँ एक बोर्ड लगा है जो सबको वापस लौटा देता है। जिसमें लिखा है कि यहाँ विदेशी नागरिक का आना तो मना है ही, भारतीय नागरिकों का भी यहाँ आना मना है। इसके बावजूद बहुत सारे लोग शिपकी ला देखकर आ जाते हैं। वो कैसे कर लेते हैं? ये हम आपको बता देते हैं।

शिपकी ला पास

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में स्थित है, शिपकी ला पास। ये वो जगह है जहाँ सतलुज नदी भारत में प्रवेश करती है। किसी जमाने में यहाँ से भारत और तिब्बत के बीच आना-जाना होता है। अब यहाँ से चीन और भारत के बीच व्यापार होता है। यहाँ के स्थानीय लोगों को ही व्यापार के लिए चीन जाने की परमिशन मिलती है। इसे इंडो-चाइना रूट कहते हैं जो तिब्बत से जुड़ा है। ये भारत का तीसरा पास है जो तिब्बत से जुड़ा हुआ है। शिपकी ला पास के अलावा सिक्किम का नाथुला पास और उत्तराखंड के लिपुलेख पास है जो तिब्बत/चीन से कनेक्टेड हैं।

कैसे पहुँचे?

शिपकी ला जाने के लिए आपके पास खुद की गाड़ी होनी चाहिए क्योंकि यहाँ कोई पब्लिक ट्रांसपोर्ट नहीं चलता है। इसके दो रास्ते हैं पहला शिमला होते हुए और दूसरा रास्ता मनाली से जाता है।

शिमला सेः

अगर आप शिपकी ला शिमला से होते हुए जा रहे हैं तो सबसे पहले शिमला पहुँचिए और फिर रेकोंगपो या कल्पा जाइए। वहाँ से नाको की तरफ जाइए। जहाँ से आप पोह और खाब पहुँच जाएंगे। खाब ब्रिज के पास ही वो जगह है सतलज और पिन नदी का संगम होता है। यहाँ से 30 किमी. की दूरी पर शिपकी ला टाॅप है।

शिमला-नारकंडा-रामपुर-पोह-खाब-शिपकी ला

मनाली सेः

यदि आप मनाली होते हुए शिपकी ला जाना चाहते हैं तो आपको मनाली से स्पीति वैली की तरफ जाना चाहिए और फिर वहाँ से नाको की तरफ निकल जाइए। जिसके आगे बढ़ने पर आपको खाब मिलेगा और फिर उसके बाद आप सीधे जाएंगे तो शिपकी ला पहुँच जाएंगे।

मनाली-काजा-धनकर-नाको-खाब-शिपकी ला

परमिट

आपको रूट देखकर तो लग रहा होगा कि यहाँ पहुँचना बड़ा आसान है लेकिन असल में ऐसा नहीं है। यहाँ पहुँचने में सबसे बड़ी दिक्कत है परमिट की। शिपकी ला का परमिट यहाँ के स्थानीय लोगों को ही मिलता है जो यहाँ काम करते हैं या फिर व्यापार के लिए तिब्बत जाते हैं। इसके अलावा किसी भी भारतीय और विदेशी नागरिक का यहाँ आना मना है। यहाँ आने के लिए आपके पास परमिट होना चाहिए। अगर आपके पास परमिट नहीं होगा तो आपको आईटीबीपी और आर्मी चेक पोस्ट से वापस लौटा दिया जाएगा।

शिपकी ला जाने के लिए परमिट की जरूरत है जो एक प्रकार से कहें तो मिल भी सकता है और नहीं भी मिल सकता है। परमिट पाने के दो तरीके हैं पहला, आप डीसी यानी कि जिला कमिश्नर के ऑफिस जाइए और शिपकी ला पास के लिए परमिट मांगिए। मेरा यकीन मानिए ज्यादातर समय आपको मना ही कर दिया जाएगा। आप उनसे गिड़गिड़ाएंगे तो शायद परमिट दे भी दें और शायद नहीं भी। पहला तरीका आपकी किस्मत पर निर्भर करता है। शिपकी ला के लिए दूसरा तरीका है कि आप आईटीबीपी अफसर और सिपाही में से किसी को जानते हों। वो आपके लिए परमिट मैनेज कर सकता है। अगर आपके पास ये दोनों ही चीजें नहीं हैं तो माफ कीजिए शिपकी ला आप नहीं जा पाएंगे।

कब जाएँ?

अगर आपको किसी तरह शिपकी ला जाने का परमिट मिल जाता है तो आपको यहाँ जून से सितंबर के बीच में आना चाहिए। उस समय आप यहाँ के आसपास की सारी जगहों को भी देख पाएंगे। बाकी समय बर्फ की वजह से ये जगहें बंद रहती हैं। आप यहाँ की किन्नौर वैली और स्पीति घाटी को देख सकते हैं। अगर आप शिपकी ला जाते हैं तो नाको गाँव में ठहरना आपके लिए सबसे अच्छा रहेगा।

क्या देंखें?

1- मंजिल से ज्यादा सफर खूबसूरत

रोड ट्रिप में ये नहीं कहा जाता कि वहाँ देखने के लिए क्या है? रोड ट्रिप करते ही इसलिए हैं क्योंकि मंजिल से ज्यादा सफर खूबसूरत होता है। आपको इस रोड ट्रिप में स्पीति घाटी की खूबसूरती देखने को मिलेगी। आपको देश के उन लोगों से मिलने का मौका मिलेगा जो आपसे बहुत दूर रहते हैं।

2- तिब्बत

कभी भारत के लोग तिब्बत जाते थे और तिब्बती भारत आते थे। तब भारत-तिब्बत अलग नहीं माना जाता था। आज तिब्बत अलग भी है और भारत से दूर भी है। इसके बावजूद आप तिब्बत को देख सकते हैं वो भारत से ही। ये खूबसूरत नजारा दिखाता है, शिपकी ला पास। जो कहते हैं कि यहाँ देखने को कुछ नहीं हैं। शायद उनको नहीं पता जो यहाँ है वो और कहीं नहीं है। अगर आपको शिपकी ला जाने का मौका मिलता है तो जरूर जाएं।

इन चीजों का रखें ध्यानः

1- अगर आप खुद की गाड़ी से जा रहे हैं तो अपनी टंकी को हमेशा फुल करके रखें। जिससे आपको अपने सफर में परेशानी न हो।

2- शिपकी ला सबसे खतरनाक रोड ट्रिप के लिए जाना जाता हैं। यहाँ की रोड पूरी तरह से टूटी हुई है। इसलिए आपके पास अच्छी क्वालिटी की गाड़ी होनी चाहिए।

3- इस सफर की सबसे अहम बात। शिपकी ला पास में फोटो खींचना मना है और अगर आप खींच भी लेते हैं तो गलती से भी इंटरनेट पर मत डालिए। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपके लिए परेशानी खड़ी हो सकती है।

क्या आपने हिमाचल प्रदेश में कोई रोड ट्रिप की है? अपने सफर के अनुभव को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें।

रोज़ाना वॉट्सऐप पर यात्रा की प्रेरणा के लिए 9319591229 पर HI लिखकर भेजें या यहाँ क्लिक करें।