RAISEN THE MYSTERIOUS FORT

Tripoto
23rd Mar 2020
Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

पारस पत्थर के बारे में आप सभी ने तो सुना ही होगा
            भारत में एक किला ऐसा भी है
जहाँ आज भी इस पारस पत्थर के होने का दावा किया जाता है

Photo of Raisen by aditya bhimte

तो चलिए जानते है इस रहस्यमी किले और इस जादुई पत्थर के बारे में

किले और राजाओं के महल मुझे हमेशा से ही अपनी तरफ आकर्षित करते है  ऐसे ही एक किले के बारे में मुझे मालूम पड़ा और मै  निकल पड़ा इस किले के इतिहास को जान ने के लिए

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

रायसेन का किला इस किले को उत्तर भारत का सोमनाथ कहा जाता है.

यह किला आज भी अपने इतिहास को दर्शाता है.

इस किले का केवल शानदार इतिहास ही नहीं बल्कि यह बहुत खूबसूरत भी है, परन्तु पुरातत्व विभाग एवं भारत सरकार के द्वारा ध्यान ना दिए जाने के कारण तथा पारस पत्थर की खोज के लिए की जाने वाली खुदाई के कारण यह अपना अस्तित्व खोते जा रहा है.

यह किला एक पहाड़ी पर बना हुआ है.

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

कैसे पहुंचे रायसेन के  किले मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से 45 km दुरी पर स्थित है रायसेन

  शहर जहाँ स्थित है रायसेन का किला भोपाल में दो रेलवे स्टेशन है हबीबगंज और भोपाल  रेलवे स्टेशन
   पुरे भारत से आपको भोपाल के लिए रेलगाड़ी मिल जाएंगी

भोपाल हवाई मार्ग से भी बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है राजाभोज एयरपोर्ट से नियमित दिल्ली मुंबई कोलकाता के लिए फ्लाइट उपलब्ध है

भोपाल से आपको  बस या टैक्सी से रायसेन पहुँचना  पड़ेगा
भोपाल से आपको आसानी से रायसेन के लिए बस मिल जाएंगी

रात को देर से भोपाल पहुंचने के कारण मैंने एक रात भोपाल में ही रुक कर अगले दिन रायसेन जाने का फैसला किया

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte
Day 1

और  अगली सुबह होते ही मै निकल पड़ा बस में सवार होकर रायसेन  शहर की ओर

जैसे जैसे मै रायसेन शहर के करीब पहुँचता जा रहा था वैसे ही मेरे मन में किले के लिए उत्सुकता और बढ़ती जा रही थी
शहर के समीप पहुँचने पर दूर से ही ये किला दिखाई पड़ता है रायसेन शहर पे उतरकर लोकल ऑटो में सवार होकर निकल पड़ा किले की ओर

सही ज्ञान और शहर में नया होने के कारण ऑटो वाले ने मुझे 2 किलोमीटर किले से  दूर उतार दिया  और मै पैदल ही  चल दिया  किले की ओर  रास्ते में बड़े बड़े पत्थर सड़क किनारे पड़े थे मानो युद्ध के समय  किले के ऊपर से गिरे हो

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

2 किलोमीटर चलने के बाद मै किले के  द्वारा तक पहुँचा और राहत की सास ली परन्तु  अभी तो मैंने आधा रास्ता ही तय किया था किले  में पहुँचने के लिए अभी लगभग 150 सीढ़ी  और चढ़नी थी जो की थका देने वाला था खैर जैसे तैसे मैंने सीढ़ी चढ़ना चालू किया और  आस पास के नज़ारे को देखते हुए सीढ़ी चढ़ रहा था  अभी लगभग 50 सीढ़ी ही चढ़ी होंगी की और एक प्रवेश द्वार मिला और  ऐसे चढाई करते करते लगभग 3 दरवाज़े मिले और चढाई करते करते मै किले तक पहुँच गया

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

किले को 3 हिस्सों में विभाजित किया गया है जिसमे से एक हिस्से में जाने की अनुमति किसी को भी नहीं है बाकि 2 हिस्से पर्यटक के लिए खोले गए है जिसमे से एक हिस्सा बहुत बड़ा है और एक हिस्सा छोटा सा है दोनों हिस्से के बीच में 1 किलोमीटर की दुरी थी छोटे हिस्से कुछ खास नहीं सिर्फ कुछ कमरे बने थे और शायद सैनिको के पहरेदारी के लिए बनाये गए होंगे अब छोटे हिस्से को देखके मै बड़े हिस्से की ओर बढ़ने लगा

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

वहां एक जंग लगा लोहे का गेट लगा था उसके आगे एक बोर्ड लगा हुआ था जिसमे किले के बारे में जानकारी लिखी हुई थी वो बोर्ड से किले की जानकारी लेके मै अंदर गया अंदर बहुत ही कमाल का नज़ारा था सही मायनो में यह किला कम और भूल भुल्लिया ज्यादा लग रहा था

अंदर एक जगह पे  भगवान शंकर का मंदिर बना हुआ था जहाँ शिवरात्रि के दिन मेला लगता है मंदिर के बाजु में  ही एक खिड़की सी बनी थी  जहाँ से किले के बाहर पहाड़ी के नीचे का खूबसूरत नज़ारा दिखाई दे रहा था किले के अंदर ही एक कैंटीन भी बानी हुई है

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

अंदर एक जगह पे भगवान शंकर का मंदिर बना हुआ था जहाँ शिवरात्रि के दिन मेला लगता है मंदिर के बाजु में ही एक खिड़की सी बनी थी जहाँ से किले के बाहर पहाड़ी के नीचे का खूबसूरत नज़ारा दिखाई दे रहा था किले के अंदर ही एक कैंटीन भी बानी हुई है

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

थोड़ा आगे चलने पे एक पानी का कुंड मिलता है और सुन्दर पर अब खण्डर हो चुके बहुत ही शानदार बहुत सारे कमरे  बने हुए है

थोड़ा आगे चलने पर यहाँ पर कुछ तोपे रखी हुई है और पास में  ही एक दरगाह भी है

यह  भारत का ही नहीं  परन्तु सम्पूर्ण विश्व का एक मात्र ऐसा किला है जहाँ मंदिर मस्जित दोनों ही स्थित है

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

थोड़े आगे जाने पर जहाँ राजा का दरबार लगता था वह जगह देखी  वहां ऊपर  महल का गुम्मद आधा  टुटा हुआ दिखाई दिया  परन्तु वह आधा ही बहुत खूबसूरत  दिखाई दे रहा था

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

महल से आगे चलने पर हमें एक स्थान दिखाई दिया जहाँ से पूरा रायसेन शहर का खूबसूरत नज़ारा दिखाई पढ़ रहा था

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

महल के भीतर दीवारों पर कुछ खास भी हैं। एक दीवार के आले में मुंह डालकर फुसफुसाने से विपरीत दिशा की दीवार के आले में साफ आवाज सुनाई देती है। दोनो दीवारों के बीच लगभग बीस फीट की दूरी है। यह आज भी समझ से परे है।

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

सदियों पुराने इस वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम से तत्कालीन शासकों की दूर दृष्टि और ज्ञान का अंदाजा लगाया जा सकता है  पहाड़ी पर गिरने वाला बारिश का पानी  नालियों के जरिए किला परिसर में बने एक कुंड में एकत्र होता है। नालियां कहां से बनी हैं, उनमें पानी कहां से समा रहा है, कितनी नालियां हैं। ये सब आज तक कोई नहीं जान पाया।

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

कुछ लोगों का यह मानना है की राजा राय सिंह के पास एक चमत्कारी जादुई पत्थर पारस पत्थर था

जिससे लोहा सोने में बदल जाता था
जिससे राजा के पास बहुत सारा सोना एकत्र हो गया था

एक युद्ध में राजा हर गए और उनकी मौत हो गयी अपनी मौत से पहले उन्होंने पारस पत्थर को एक तालाब में फेक दिया था

आज भी यह पत्थर किले में स्थित है

कुछ लोग मानते है की इस पत्थर के लिए ही कई लड़ाई लड़ी गयी परन्तु आज तक किसी को यह पत्थर नहीं मिला

पत्थर के लिए बहुत सी खुदाई की गयी और रात में तांत्रिक आज भी पत्थर के लिए यहाँ तांत्रिकी करते नज़र आते है

कुछ लोगों जो पत्थर को ढूंढ़ने गए उन का मानसिक संतुलन भी बिगड़ चूका है

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

किले का इतिहास कुछ लोगों से पूछने पर उन्होंने बताया की यह किला की नीव राजा रायसिंह ने 1143 में रखी थी

यह किला 10 किलोमीटर में फैला हुआ है

इस किले पर कई आक्रमण हुए और किले का उस समय का राष्ट्रीय राजमार्ग में स्थित होने के कारण दिल्ली के शाशको की इस किले में खास रूचि रही

इस किले पर सबसे पहले
1223 ई. में अल्तमश,
1250 ई. में सुल्तान बलवन,
1283 ई. में जलाल उद्दीन खिलजी,
1305 ई. में अलाउद्दीन खिलजी,
1315 ई. में मलिक काफूर,
1322 ई. में सुल्तान मोहम्मद शाह तुगलक,
1511 ई. में साहिब खान,
1532 ई. में बहादुर शाह
1543 ई. में शेरशाह सूरी,
1554 ई. में सुल्तान बाजबहादुर,
1561 ई. में मुगल सम्राट अकबर,
1682 ई. में औरंगजेब,
1754 ई. में फैज मोहम्मद ने हमला किया था। 

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

मस्जित के बारे में लोग बताते है की यह शेख सलाउद्दीन की दरगाह है

जब 1532 में बहादुर शाह  ने इस किले में आक्रमण किया

तब यहाँ के राजा सिल्हादी ने बचने के लिए इस्लाम अपनाया
और ये दरगाह का निर्माण कराया गया  परन्तु वह ये युद्ध हार गए और उन्हें मांडू मै कैद कर दिया गया था

बाद में उनके भाई ने उन्हें छुड़ाया

और जब तक वह  वापिस रायसेन पहुँचते  उनकी रानी ने  700 अन्य महिलाओ के साथ जौहर कर लिया था

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

1943 में शेर शाह सूरी ने 4 माह तक इस किले की घेराबंदी की तब यहाँ पूरनमल नाम के राजा का राज था

शेर शाह सूरी ने ताम्बे और लोहे के सिक्कों को पिघला कर तोपे  बनवायी जो आज भी महल में स्थित है

  शेर शाह सूरी जब यह युद्ध जीत गया तो राजा रत्नावल ने  रानी रत्नावली का सिर काट दिया ताकि वह दुश्मन के हाथ ना लग पाए

Photo of RAISEN THE MYSTERIOUS FORT by aditya bhimte

रहस्य से भरा ये किला ना जाने अपने अंदर और  कितने राज़ दबाये बैठा है जिससे आज भी ना जाने कितने  लोग अनजान है