ताजमहल कुछ भी नहीं इसके आगे! अदभुत, अकल्पनीय, अविस्वशनीय "खजुराहो"

Tripoto
27th Apr 2022
Day 1

खजुराहो अपने आप मे आश्चर्यो का एक समूह है!
इसके आगे विश्व के 8 आश्चर्य बौने लगते हैं!
शिल्प, कला और संस्कृति का अदभुत मिलन यहाँ देखने को मिलता है! एक ही पत्थर को काट कर बनाया गया हाथी देखते ही बनता है और उस पर की गई नक्काशी मुह मे उँगली दबाने पर विवश् कर देती है! सभी मंदिरों का वास्तु एवम उनकी सरचना तथा प्रत्येक छोटी से छोटी जगह पर की गई अति सूक्षम् नक्काशी आश्चर्य से कम नहीं!
मध्यकाल मे चंदेल राजाओं के द्वारा निर्मित कला का अदभुत स्वप्नलोक जिसमे उस समय के समाज को सही दिशा दिखाने के संकेत एवम कथा के रूप मे चित्रित शैली में अलंकृत कर तत्कालीन एवम वर्तमान पीढी़ को सही दिशा निर्देश दिखाने में अभूतपूर्व योगदान दिया!
                   चंदेल राजाओं ने मध्यकाल मे (1025-1100 ईस्वी)इन मंदिरों का निर्माण समाज को बचाने के लिए किया! तत्कालीन समाज मे पुरुषो मे वैराग्य की इच्छा प्रबल हो गयी जिससे समाज मे स्थिरता को रोकने के लिए चंदेल शासको ने इस तरह के मंदिरों का निर्माण किया!

खजुराहो

Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel

आज एक ही मंदिर बनाना कठिन है पर खजुराहो मे इस एक ही मंदिर मे सैकड़ों मंदिरो के बराबर कला को प्रदर्शित किया गया है!

Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel
Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel

एक ही पत्थर पर की गई नक्काशी से बना हाथी जिस पर अन्य कई कथाएँ प्रदर्शित की गई हैं!

Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel

दुल्हादेव

Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel
Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel

1100 इश्वी मे निर्मित

Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel

चतुर्भुज मंदिर

Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel

वामन मंदिर

Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel

वामन अवतार मंदिर

Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel

वैराग्य के लिए जाते ऋषि मुनियों को लुभाती स्त्रियाँ

Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel

सुंदर नक्काशी

Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel
Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel
Photo of Khajuraho by digvijay singh chandel

More By This Author

Further Reads