इसके डूबने से पहले कर आओ उत्तराखंड की गोद में बसे इस खूबसूरत गाँव की यात्रा!

Tripoto

स्वर्ग जैसा सुंदर गांव

Photo of इसके डूबने से पहले कर आओ उत्तराखंड की गोद में बसे इस खूबसूरत गाँव की यात्रा! by Rishabh Dev

सबके भीतर कुछ ना कुछ खास होता है, कोई उसको पहचान लेता है तो कोई उसे हमेशा के लिए दबा देता है। मेरे भीतर भी कुछ है; नई जगह पर जाना और जानना। पहाड़ों में अक्सर मेरा चक्कर लगता रहता है। पहाड़ों में मुझे पहाड़ देखना पसंद नहीं है बल्कि मैं तो पहाड़ पर खड़े होकर मैदान ढ़ूढ़ता हूँ। उसके लिए बहुत गहरे में थाह लेनी पड़ती है। ऐसी जगह बहुत कम है लेकिन जहाँ भी हैं वो स्वर्ग के समान हैं। इस बार मैं ऐसी ही एक जगह पर गया, जिसका नाम है क्वानू

17 मई 2019 को मैं देहरादून से निकल पड़ा एक ऐसी जगह की ओर जिसका मुझे बस नाम पता था। वो क्या है, वो कैसी है कुछ भी नहीं पता था। बस इतना पता था, जगह नई है तो जाना ही चाहिए। मई के महीने में खूब गर्मी पड़ रही है लेकिन देहरादून में मैदानी इलाकों की तुलना में कम गर्मी है। सुबह-सुबह 6 बजे तो हवा बिल्कुल साफ और ठंडी लग रही थी। देहरादून से बस पकड़ी और निकल पड़े विकास नगर की ओर। विकास नगर देहरादून से लगभग 40 कि.मी. की दूरी पर है। घुमक्कड़ लोग ऐसे समझ सकते हैं कि अगर आप पौंटा साहिब जा रहे हैं तो रास्ते में विकास नगर ज़रूर मिलता है।

पहाड़ से पहले मैदान

मुझते लगता था कि उत्तराखंड में आखिरी मेदानी शहर देहरादून है। उसके बाद जिस तरफ भी जाएँ सिर्फ पहाड़ ही मिलेगा, लेकिन इस रास्ते पर आने पर मैं गलत हो गया। देहरादून से विकासनगर तक आना वैसा ही लगता है जैसे हरिद्वार से ऋषिकेश। विकासनगर पूरी तरह से मैदानी शहर है, बड़ी-बड़ी दुकानें, कई चौराहे और सुबह-सुबह ठेले वाला नाश्ता। ऐसे ही किसी एक ठेले पर मैंने नाश्ता किया और चल पड़ा अपनी मंजिल की ओर। मेरे साथ कुछ स्थानीय लोग थे जिनकी मदद से मैं क्वानू जा रहा था।

विकासनगर से थोड़ा ही आगे निकले तो सामने पहाड़ दिख रहे थे। अब हम पहाड़ों में जा रहे थे। मैंने गाड़ी की सीट पर सिर टिकाया और पहाड़ों को, पीछे छूटते हुए देखने लगा। ये सिर टिकाकर बाहर देखना कितना अच्छा लगता है, उस वक्त सोचना बंद हो जाता है, बस देखा जाता है, जैसे सोते हुए हम सपना देखते हैं! हम घुमावदार रास्ते से उपर चढ़ते जा रहे थे, अब पहाड़-जंगल ऊपर भी थे और नीचे भी। रास्ते बेहद सुंदर लग रहे थे खासकर वो जो बिल्कुल मोड़ की तरह बने थे, बिल्कुल साँप के आकार के।

आपस में बात करते-करते हम कोटी पहुँच गए। कोटी से आगे चले तो एक डैम मिला, ‘इच्छाड़ी बांध’। ये डैम टौंस नदी पर बना हुआ है, टौंस नदी को शापित नदी भी कहा जाता है क्योंकि इसके पानी को कोई उपयोग नहीं कर पाता है। ये डैम आजाद भारत का पहला डैम और आज भी बिजली बना रहा है। पानी रोकने की वजह से पूरी झील गहरी हरी लग रही थी, मानो किसी ने झील में हरा रंग उड़ेल दिया हो।

इच्छाड़ी डैम।

Photo of कोटी, उत्तराखण्ड, India by Rishabh Dev

आसमान को छूते पहाड़

यहाँ से आगे चले तो गाड़ी में एक नई बहस छिड़ गई, डैम देश के लिए विकास या विनाश, जो आगे जाकर मोदी, नेहरू में बदल गई। कुछ देर हिस्सा बनकर मैं उस बहस से दूर हो गया और फिर से प्रकृति को देखने लगा। अब पहाड़ कुछ अलग थे, बहुत ऊँचे और खड़े, जिनको उपर तक देखने के लिए सिर उठाना पड़ रहा था। यहाँ पहाड़ इतने ऊँचे थे कि उन पर बादलों की छाया पड़ रही थी। मैंने ऐसा ही कुछ पुजार गाँव में भी देखा था, ये सब देखना अलग तो था लेकिन अच्छा लग रहा था।

रास्ते में जगह-जगह पत्थर पड़े थे, जो बता रहा था कि यहाँ भूस्खलन होना आम बात है। पहाड़ पर कुछ पुराने घर दिख रहे थे, खपरैल वाले। मुझे ये दोपहर अच्छी लग रही थी क्योंकि टहलना शाम और सुबह का शब्द है। लेकिन दोपहर में टहला जाए तो वो खुशनुमा होती है। खड़े पहाड़, उन पर दिखते घने जंगल और पास में बहती नदी कितना अच्छा सफर है, यही सोचते हुए आगे बढ़ा जा रहा था।  रास्ते में जगह-जगह से थोड़ा-थोड़ा पानी गिर रहा था। मेरे साथ चलने वाले स्थानीय ने बताया ये स्रोत है यानी प्राकृतिक जल, जिसे नौला धारा भी कहा जाता है। ऐसे ही एक स्रोत पर गाड़ी रूकी और हमने पानी पिया। पानी बहुत ठंडा और मीठा था, ठंडे के मामले में तो फ्रिज भी इसके सामने फेल है।

Photo of इसके डूबने से पहले कर आओ उत्तराखंड की गोद में बसे इस खूबसूरत गाँव की यात्रा! by Rishabh Dev

थोड़ी ही देर में हमें पहाड़ों से घिरा मैदान दिखा। इस जगह का नाम है ‘क्वानू’। क्वानू में तीन गांव है मझगांव, कोटा और मैलोट, हम जिस गांव में खड़े थे वो मझगांव है। खेतों में गेहूँ में पकी हुई फसल दिखाई दे रही थी और उसमें काम करती हुईं कुछ महिलाएँ। इस गाँव में महासू मंदिर है जिसको देखने पर लगता है कि कोई बौद्ध मंदिर है। इस गांव में अस्पताल है, इंटरमीडिएट तक स्कूल है लेकिन ये सिर्फ अच्छी-अच्छी बातें हैं।

स्वर्ग को नरक बनाने की पहल

यहाँ का दूसरा पहला बुरा और खतरनाक है। मैं जहाँ खड़ा था सामने मैदान था और मैदान को घेरे सामने पहाड़ था,  जो हिमाचल प्रदेश में आता था। यहाँ उत्तराखंड और हिमाचल एक-दूसरे के पड़ोसी हैं। दोनों राज्यों को बांटती हुई बीच से एक नदी जा रही है, इसमें कुछ बुरा नहीं है। बुरा वो है जो अब मैं बताने जा रहा हूँ। सरकार इन दोनों राज्यों के बीच में एक डैम बनाने जा रही है, किशाउ बांध। किशाउ बांध एशिया का दूसरा सबसे बड़ा डैम होगा, जिसकी ऊँचाई 236 मीटर होगी। डैम के बनने से हिमाचल के आठ गांव और उत्तराखंड के नौ गाँव पानी में डूब जाएँगे ।

मझगांव

Photo of इसके डूबने से पहले कर आओ उत्तराखंड की गोद में बसे इस खूबसूरत गाँव की यात्रा! by Rishabh Dev

मैंने इस जगह को देखा तो बहुत दुख हुआ कि सरकार विकास के नाम पर स्वर्ग जैसी खूबसूरत जगह को डुबोने जा रही है। क्वानू के लोग नहीं चाहते हैं कि ये डैम बने। इस डैम को बनाने की सबसे बड़ी और बुरी वजह है ‘दिल्ली’। दिल्ली के लोंगों को पानी की आपूर्ति करने के लिए यहाँ डैम बनाया जाएगा। मैं तो यहीं चाहूँगा कि ये डैम ना बने और क्वानू बच जाए। इसके अलावा यही बढ़िया आइडिया यहीं के एक स्थानीय ने दिया। वो कहते हैं, सरकार को अगर डैम बनाना ही तो छोटा डैम बनाए, बिल्कुल इच्छाड़ी डैम की तरह। जिससे डैम भी बन जाएगा, देश का विकास भी हो जाएगा और हमारा क्वानू भी बच जाएगा।

Photo of इसके डूबने से पहले कर आओ उत्तराखंड की गोद में बसे इस खूबसूरत गाँव की यात्रा! by Rishabh Dev

क्वानू से लौटते हुए मैं सोच रहा था, उत्तराखंड में लोग मशहूर और नाम वाली जगह ही क्यों जाते है? वो क्वानू जैसी जगह पर जाकर छुट्टियाँ क्यों नहीं मनाते हैं, जहाँ शांति है, प्रकृति का सुकून और बड़े ही प्यारे लोग हैं। मसूरी को पहाड़ों की रानी जरूर कहा जाता है लेकिन पहाड़ों में स्वर्ग ‘क्वानू’ है। यहाँ इतना मैदान है कि आप चलते-चलते थक जाएँगे, यहाँ चारों तरफ पहाड़ हैं जहाँ आप चढ़कर आसमान देख सकते हैं और रात के समय टौंस नदी के किनारे खुले आसमान के नीचे रात गुजार सकते हैं। यहाँ हिमचाल भी है और उत्तराखंड भी।

तो आप कब इस गाँव में छुट्टियाँ बिताने जा रहे हैं? अपनी यात्राओं का अनुभव हमारे साथ बाँटें और यहाँ क्लिक कर अपने सफरनामें लिखना शुरू करें।

Be the first one to comment