अंग्रेजो ने जलियांवाला बाग हत्याकांड से भी बड़ा नरसंहार राजस्थान में किया था..क्या आपको पता है?

Tripoto
Photo of अंग्रेजो ने जलियांवाला बाग हत्याकांड से भी बड़ा नरसंहार राजस्थान में किया था..क्या आपको पता है? by WE and IHANA
Day 1

शायद ही कोई भारतीय होगा जिसे जलियांवाला हत्याकांड के बारे में ना पता हो, आखिरकर ये घटना भारत के स्वतंत्रता संघर्ष में एक बहुत बड़ी घटना जो रही है और यहां तक की घटना इसी वजह से बहुत से आम भारतीय लोग स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल होने के लिए प्रेरित हुए।

लेकिन क्या आप हमारी बात पर यकीन करेंगे अगर हम आपको बता दें कि राजस्थान में इससे भी बड़ा नरसंहार जलियांवाला हत्याकांड से 6 साल पहले हुआ था, जिसमें करीब 1500 लोग शहीद हुए थे। लेकिन इस जगह और इस इतिहास के बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं। इसलिए जब हर कोई स्वतंत्रता के 75 वर्ष मना रहा है, यह भील जनजाति के हमारे लोगों के बलिदान के बारे में सभी को जानना आवश्यक है।

इसलिए आज हम आपको इस इतिहास के बारे में बताने की कोशिश करेंगे और साथ ही उस जगह की अपनी यात्रा के बारे में भी बताएंगे जहां 17 नवंबर, 1913 को वह नरसंहार हुआ था।

Photo of Mangadh Hill, Sarwai, Rajasthan, India by WE and IHANA

जब हम अपनी बांसवाड़ा यात्रा की योजना बना रहे थे तब हमें इस स्थान के बारे में पता चलता है जहां वर्तमान में राजस्थान सरकार द्वारा वर्ष 2002 में एक शहीद स्मारक बनाया गया। इस नरसंहार के इतिहास को जानने के बाद हमने तय किया कि हम अपनी बांसवाड़ा यात्रा के दौरान इस स्थान का दौरा करेंगे।

यह बांसवाड़ा शहर से लगभग 70 किलोमीटर दूर है और मानगढ़ पहाड़ी तक सड़क की स्थिति अच्छी थी और बांसवाड़ा शहर से इस स्थान तक पहुँचने में हमें लगभग 1.5 से 2 घंटे का समय लगा।

मानगढ़ धाम से लगभग 5 किमी दूर से हम मानगढ़ पहाड़ी और यहां तक ​​कि पहाड़ी की चोटी पर स्मारक भी देख सकते थे

Photo of अंग्रेजो ने जलियांवाला बाग हत्याकांड से भी बड़ा नरसंहार राजस्थान में किया था..क्या आपको पता है? by WE and IHANA
Photo of अंग्रेजो ने जलियांवाला बाग हत्याकांड से भी बड़ा नरसंहार राजस्थान में किया था..क्या आपको पता है? by WE and IHANA

हमने मानसून के दौरान दौरा किया था, इसलिए चारों ओर हरियाली थी। चढाई के दौरान हमने पाया कि हम यह पहाड़ी राजस्थान और गुजरात की सीमा पर है। अंत में हम पहाड़ी की चोटी पर पहुंचे और स्मारक के परिसर में प्रवेश किया।

Photo of अंग्रेजो ने जलियांवाला बाग हत्याकांड से भी बड़ा नरसंहार राजस्थान में किया था..क्या आपको पता है? by WE and IHANA

बहुत तेज हवा चल रही थी...कुछ पर्यटक सेल्फी और तस्वीरें ले रहे थे और कुछ लोग लोकेशन का आनंद ले रहे थे। स्मारक को खूबसूरती से बनाया गया है और यह वास्तव में अच्छा है कि देर से ही सही लेकिन प्रशासन ने इस बलिदान को महत्व दिया और इस स्मारक का निर्माण किया।

हमने अपने स्वतंत्रता आंदोलन में भी इस स्थान के महत्व को महसूस किया और शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की और फिर हमने आंतरिक शांति पाने के लिए वहां बैठकर कुछ समय बिताने का फैसला किया।

ऊपर से नज़ारा अद्भुत था और आप इस जगह पर शांति और सुकून के साथ घंटों बिता सकते हैं।

Photo of अंग्रेजो ने जलियांवाला बाग हत्याकांड से भी बड़ा नरसंहार राजस्थान में किया था..क्या आपको पता है? by WE and IHANA
Photo of अंग्रेजो ने जलियांवाला बाग हत्याकांड से भी बड़ा नरसंहार राजस्थान में किया था..क्या आपको पता है? by WE and IHANA

मानगढ़ धाम का इतिहास:

गोविन्द गुरु, एक सामाजिक कार्यकर्त्ता थे तथा आदिवासियों में अलख जगाने का काम करते थे 1903 में उन्होनें मानगढ़ को अपना ठिकाना चुना और वहां से अपना सामाजिक कार्य जारी रखा 17 नवम्बर 1913 को वार्षिक मेले का आयोजन होने जा रहा था। गोविन्द गुरु के आह्वान पर उस समय में पड़े अकाल से प्रभावित हजारों वनवासी खेती पर लिए जा रहे कर को घटाने, बेगार के नाम पर परशान होकर और धार्मिक परम्पराओं की पालना की छूट जैसी मांगो के लिए एकजुट हुए थे ब्रिटिश सैनिकों ने उनकी मांगों को सुनने के बजाय उन्हें सभी दिशाओं से घेरने और उन्हें मशीनगन और यहां तक ​​कि तोप से मारने का आदेश दिया...

और फिर एकाएक हुई फायरिंग में हजारों वनवासी मारे गए।

Photo of अंग्रेजो ने जलियांवाला बाग हत्याकांड से भी बड़ा नरसंहार राजस्थान में किया था..क्या आपको पता है? by WE and IHANA

अलग-अलग पुस्तकों में शहीद वनवासियों की संख्या 1500 से 2000 तक बताई जाती है। अंग्रेजी शासन ने आदिवासियों के नेता गोविन्द गुरु को हिरासत में ले लिया और फिर अदालत ने उन्हें फांसी की सजा सुनाई। हालांकि कुछ समय बाद अदालत ने फांसी की सजा को आजीवन कारावास में बदल दिया और 1923 में सजा काटने के बाद गोविन्द गुरु जेल से रिहा हुए और भील सेवा सदन के माध्यम से आजीवन लोक सेवा में लगे रहे।

Photo of Banswara, Rajasthan, India by WE and IHANA

हम सभी को सुझाव देंगे कि यदि आप राजस्थान के बांसवाड़ा, उदयपुर शहर या गुजरात के आस-पास के शहरों में भी हैं तो आपको इस स्थान पर जाकर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करनी चाहिए।

मानगढ़ धाम हिल पर स्थित हेलीपैड

Photo of अंग्रेजो ने जलियांवाला बाग हत्याकांड से भी बड़ा नरसंहार राजस्थान में किया था..क्या आपको पता है? by WE and IHANA

व्यू पॉइंट

Photo of अंग्रेजो ने जलियांवाला बाग हत्याकांड से भी बड़ा नरसंहार राजस्थान में किया था..क्या आपको पता है? by WE and IHANA

बांसवाड़ा में और भी कई खूबसूरत पर्यटन स्थल हैं जो आप हमारे अन्य ब्लॉग में देख सकते हैं और साथ ही आप हमारे YouTube चैनल WE and IHANA पर भी हमारे वीडियो भी देख सकते है।

कैसे पहुंचे बांसवाड़ा ?

हवाई मार्ग द्वारा:

निकटतम हवाई अड्डा उदयपुर में महाराणा प्रताप हवाई अड्डा है जो बांसवाड़ा शहर से 156 किमी दूर है।

सड़क मार्ग द्वारा:

बांसवाड़ा राज्य राजमार्गों और राष्ट्रीय राजमार्गों द्वारा जयपुर, उदयपुर, इंदौर और अहमदाबाद शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

रेल मार्ग द्वारा:

मध्य प्रदेश में रतलाम जंक्शन बांसवाड़ा से निकटतम रेलवे स्टेशन है। दिल्ली, जयपुर, इंदौर और अहमदाबाद से रतलाम जंक्शन के लिए अच्छी रेल कनेक्टिविटी है। रतलाम शहर से बांसवाड़ा लगभग 85 किलोमीटर दूर है।