भारत के सबसे पुराने रेस्तरां जहाँ आप उंगलियाँ चाटते रह जाएँगे

Tripoto

हम भारतीय लोग खाने-पीने के बहुत शौकीन हैं! चाहे जैसा भी मूड हो बस स्वादिष्ट खाना मिलते ही तृप्त हो जाते हैं। हमारे देश में कुछ ऐसे फ़ूड जॉइंट्स है जो हमारे दादा- दादी के समय से चले आ रहे हैं और कुछ आज़ादी के समय से भी पहले के। इनमें से कई रेस्तरां समय के साथ-साथ बदले भी, लेकिन सबसे अच्छी बात यह है कि खाने में स्वाद अभी भी पहले जैसा ही बरकरार है। तो अगर आप भी मेरी तरह अच्छे खाने के लिए कहीं भी पहुँच जाते हैं, तो ज़रा भारत के इन सालों से चले आ रही दुकानों पर लज़ीज स्वाद चखने ज़रूर पहुँचें:

Photo of टुंडे कबाबी, Old Nazirabad Road, Beside St.Marry Inter College, Khayali Ganj, Aminabad, Lucknow, Uttar Pradesh, India by Manju Dahiya
Photo of टुंडे कबाबी, Old Nazirabad Road, Beside St.Marry Inter College, Khayali Ganj, Aminabad, Lucknow, Uttar Pradesh, India by Manju Dahiya
Photo of टुंडे कबाबी, Old Nazirabad Road, Beside St.Marry Inter College, Khayali Ganj, Aminabad, Lucknow, Uttar Pradesh, India by Manju Dahiya
Photo of टुंडे कबाबी, Old Nazirabad Road, Beside St.Marry Inter College, Khayali Ganj, Aminabad, Lucknow, Uttar Pradesh, India by Manju Dahiya
Photo of टुंडे कबाबी, Old Nazirabad Road, Beside St.Marry Inter College, Khayali Ganj, Aminabad, Lucknow, Uttar Pradesh, India by Manju Dahiya
Photo of टुंडे कबाबी, Old Nazirabad Road, Beside St.Marry Inter College, Khayali Ganj, Aminabad, Lucknow, Uttar Pradesh, India by Manju Dahiya
Photo of टुंडे कबाबी, Old Nazirabad Road, Beside St.Marry Inter College, Khayali Ganj, Aminabad, Lucknow, Uttar Pradesh, India by Manju Dahiya
Photo of टुंडे कबाबी, Old Nazirabad Road, Beside St.Marry Inter College, Khayali Ganj, Aminabad, Lucknow, Uttar Pradesh, India by Manju Dahiya

स्वादिष्ट गलौटी कबाब, कोरमा और बिरयानी के लिए टुंडे कबाबी का नाम सालों से ही बहुत मशहूर है। कबाब ऐसे हैं जो मुहँ में डालते ही पिघल जाते हैं।इनको तैयार करने का नुस्खा एक राज़ है और परिवार की महिलाएँ ही खाना बनाने के लिए विशेष मसाला तैयार करती हैं। माना जाता है कि लखनऊ का टुंडे कबाबी 1905 में, एक हाथ वाले हाजी मुराद अली ने शुरू किया था। यह जगह लखनऊ के पुराने इलाके की गलियों में बसा हुआ है। ना जाने कहाँ-कहाँ से आकर कितने ही अनगिनत लोगों ने इन स्वादिष्ट कबाबों का आनंद लिया है। तो अगली बार जब भी आप लखनऊ जाएँ, तो इन्हें खाना ना भूलें ।

पता : 168/6, नाज़ सिनेमा रोड, खयाली गंज, अमीनाबाद, लखनऊ, उत्तर प्रदेश- 223018

संपर्क: 0522 262 2786

ज़रूर ट्राई करें : गलौटी कबाब, मटन/ चिकन बिरयानी, मटन करी, फिरनी, खीर, मटन कोरमा

कीमत:दो लोगों के लिए करीब 300 रु

फ्लूरीज़

Photo of भारत के सबसे पुराने रेस्तरां जहाँ आप उंगलियाँ चाटते रह जाएँगे by Manju Dahiya

कोलकाता की पार्क स्ट्रीट में मौजूद यह मशहूर बेकरी, 1927 में शुरू हुई थी।इसकी शुरुआत स्विट्ज़रलैंड के एक दंपत्ति, मिस्टर एंड मिसेज जे फ्लूरी ने की थी, जिन्होंने कोलकाता को अपना घर बना लिया था। आज, यह कोलकाता की मशहूर कॉफी शॉप है। यहाँ की रम बॉल्स, क्रीम मिरेंग और इंग्लिश ब्रेकफास्ट तो बहुत ही प्रसिद्ध हैं ।इसके अलावा आमलेट, क्रीम ऑफ़ मशरूम ऑन टोस्ट, डोनट्स और हॉट चॉकलेट भी लोगों के पसंदीदा स्नैक्स हैं। प्रसिद्ध फिल्मकार सत्यजीत रे, हर रविवार को नाश्ते के लिए इस जगह पर आते थे। इस समय कोलकाता, दिल्ली, मुंबई और हैदराबाद में फ्लूरी बेकरी के 15 आउटलेट हैं। दुनिया भर के पर्यटक जब भी कोलकाता आते हैं तो फ़्लूरी का स्वाद ज़रूर लेते हैं।

पता : 18A, पार्क सेंट, पार्क स्ट्रीट एरिया, कोलकाता, पश्चिम बंगाल- 700071

संपर्क: 033 4000 7453

ज़रूर ट्राई करें : इंग्लिश ब्रेकफास्ट, कॉफ़ी, स्पेगेटी, टी, लैंब, चॉकलेट मूस, सैंडविच

कीमत: दो लोगों के लिए करीब 1000 रु

Photo of लियोपोल्ड कैफे, Colaba Causeway, Apollo Bandar, Colaba, Mumbai, Maharashtra, India by Manju Dahiya

2008 के मुंबई हमलों से पहले भी लियोपोल्ड एक जाना माना नाम था।1871 में स्थापित, यह कैफे मुंबई के सबसे पुराने रेस्तरां में से एक है और लोकल्स और टूरिस्ट दोनों ही इसके दीवाने हैं।

मेन्यू में चाइनीज़ से लेकर इटैलियन और भारतीय तक सब कुछ है। लियोपोल्ड स्पेशल वेजीटेरियन पास्ता, रैड पेप्पर चिकन, प्रॉन चिली और सोया वाइन चिकन यहाँ की बहुत फेमस डिश हैं ।यह कैफ़े पुराने टाइम के बॉम्बे के आकर्षण को दर्शाता है। 2003 के उपन्यास, शांताराम, में भी इसका ज़िक्र है। अपनी विरासत के कारण यह थोड़ा महँगा तो ज़रूर है, लेकिन एक बार तो जरूर जाना ही चाहिए।

पता : ओलंपिया कॉफ़ी हाउस के सामने, शहीद भगत सिंह रोड, कोलाबा कॉज़वे, मुंबई, महाराष्ट्र 400001

संपर्क: 022 2282 8185

ज़रूर ट्राई करें : मटन कीमा, रोस्ट चिकन, मोजिटो, सलाद, चॉकलेट एक्स्टसी, कुंग पाओ चिकन

मूल्य : दो लोगों के लिए करीब 1600 रु

ग्लेनरी बेकरी

Photo of भारत के सबसे पुराने रेस्तरां जहाँ आप उंगलियाँ चाटते रह जाएँगे by Manju Dahiya

नेहरू रोड पर स्थित यह रेस्तरां 100 साल से भी ज्यादा पुराना है और लोकल और टूरिस्ट, सभी को बेहद पसंद है। इस बेकरी के डेज़र्टस का तो कोई जवाब ही नहीं है जिसमें मज़ेदार एप्पल पाई, स्टिकी सिनेमन बन्स और फ्रेश मीट पाई बहुत पसंद की जाती हैं।

इनकी दार्जिलिंग चाय तो लोगों में पूरी तरह से हिट है। इस रेस्तरां की दो शाखाएँ हैं - एक चौक बाजार में और दूसरी बागडोगरा हवाई अड्डे पर।

पता : नेहरू रोड नियर क्लॉक टॉवर, चौक बाजार, दार्जिलिंग, पश्चिम बंगाल- 734101

संपर्क: 0354 225 8408

ज़रूर ट्राई करें : हॉट चॉकलेट, पिज्जा, चाय, सैंडविच

कीमत : दो लोगों के लिए लगभग 250 रु

शेख़ ब्रदर्स

Photo of भारत के सबसे पुराने रेस्तरां जहाँ आप उंगलियाँ चाटते रह जाएँगे by Manju Dahiya

1800 के दशक में शेख गुलाम इब्राहिम द्वारा स्थापित यह रेस्तरां, गुवाहाटी में सबसे लोकप्रिय है। यह नेहरू परिवार की एक पसंदीदा जगह थी।ब्रैड और बिस्किट से इसकी शुरुआत हुई थी और अब बेकरी में ब्रेड, केक, बिस्कुट और कुकीज़ की अनेक वैरायटी हैं जो अब तीसरी पीढ़ी के शेखों द्वारा चलाई जा रही है।

पता : 95, हेम बरुआ रोड, पान बाजार, गुवाहाटी, असम- 781001

संपर्क: +9194358 18155

ज़रूर ट्राई करें : केक, कुकीज, बिस्कुट

कीमत : दो लोगों के लिए करीब 150 रु

मावल्ली टिफिन रूम्स

Photo of भारत के सबसे पुराने रेस्तरां जहाँ आप उंगलियाँ चाटते रह जाएँगे by Manju Dahiya

मावल्ली टिफिन रूम या एम टी आर रेस्तरां की स्थापना 1924 में परमपल्ली यज्ञनारायण मैया और उनके भाइयों द्वारा की गई थी। यह बेंगलुरु का सबसे पुराना इडली डोसा रेस्तरां है जहाँ पर फ़ूड की क्वालिटी और साफ़ सफाई का बहुत ध्यान रखा जाता है। कोई चाहे तो उनकी रसोई भी जा कर देख सकता है।

बीते समय में एम टी आर, द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान चावल की कमी होने पर सैनिकों को रवा इडली परोसने के लिए जाना जाता था।इनकी रवा इडली और मसाला डोसा तो बहुत ही स्पेशल है।

पता : 14, लालबाग रोड, मावल्ली, बासावनगुड़ी, बैंगलोर

संपर्क: 080 2223 0471

ज़रूर ट्राई करें : इडली, रवा डोसा, मसाला डोसा

कीमत: दो लोगों के लिए करीब 250 रु।

करीम होटल - जामा मस्जिद

Photo of भारत के सबसे पुराने रेस्तरां जहाँ आप उंगलियाँ चाटते रह जाएँगे by Manju Dahiya

1913 में बना यह होटल नॉन वेजीटेरियन फ़ूड का स्पेशलिस्ट है। ऐसे तो दिल्ली में कई करीम हैं लेकिन असली करीम दरियागंज के पास ठीक जामा मस्जिद के सामने है। यहाँ पहुँचने के लिए आपको शायद आस-पास के लोगों की मदद लेनी पड़ सकती है। इस रेस्तरां ने 1990 में, निजामुद्दीन में, अपनी पहली ब्रांच खोली थी, उसके बाद कैलाश कॉलोनी, नोएडा, गुड़गांव और कमला नगर तक, सभी दिल्ली-एन सी आर क्षेत्र में इसकी शाखाएँ हैं । वेजिटेरियंस को शायद थोड़ी मुश्किल हो सकती है क्योंकि सीक कबाब, शम्मी कबाब और मटन टिक्का आदि नॉन वेजीटेरियन फूड ही यहाँ की स्पेशलिटी है।तंदूरी रोटी तो आपने हमेशा खाई होंगी, अब यहाँ की खमीरी रोटी भी ट्राई करें । करीम के रेस्तरां में भारी भीड़ होने के बावजूद सर्विस काफ़ी अच्छी है। अगली बार जब आप कुछ मज़ेदार नॉन वेज खाना चाहते हैं तो आपको अब पता है कि कहाँ जाना है।

पता : 16 उर्दू बाजार रोड,जामा मस्जिद गेट नं 1 के सामने, गली भैरो वाली, कबाबियाँ, नई दिल्ली- 110006

संपर्क: 011 2326 4981

ज़रूर ट्राई करें : नाल निहारी, सीक कबाब, चिकन जहाँगीरी, भुना गोश्त

कीमत : दो लोगों के लिए करीब 500 रु

दिल्ली मिष्ठान भंडार

Photo of भारत के सबसे पुराने रेस्तरां जहाँ आप उंगलियाँ चाटते रह जाएँगे by Manju Dahiya

शिलोंग के पुलिस बाजार की हलचल के बीच बनी यह जगह 88 से भी अधिक वर्षों से यहाँ है।1930 में इस दुकान को स्थापित किया गया था और तब से यह स्वादिष्ट गुलाब जामुन और जलेबियाँ खिलाकर लोगों की ख़िदमत कर रही है।यह मिष्ठान भण्डार इस बात के लिए भी प्रसिद्ध है कि इसने लगभग 75 इंच लंबी जलेबी, वज़न करीब 15 किलो, बनाकर विश्व रिकॉर्ड बनाया है। मानते हैं ना कि यह कुछ रिकॉर्ड है! मीठा पसंद करने वालों के लिए यहाँ मिठाईयों का एक अलग, बड़ा-सा सेक्शन है जिसे देखकर आपको समझ ही नहीं आएगा कि क्या खाएँ और क्या छोड़ें। अगर आपको चांदनी चौक की याद आ रही है, तो यहाँ के छोले भटूरे, गुलाब जामुन और कटलेट ज़रूर ट्राई करें, अपनी उँगलियाँ चाटते हुए आप बिलकुल निराश नहीं होंगे।

पता : पुलिस बाजार, शिलांग, मेघालय- 793001

संपर्क: 094361 03136

ज़रूर ट्राय करें : जलेबी, छोले भटूरे

कीमत : दो लोगों के लिए क़रीब 200 रु

भले ही इन रेस्तरां और कैफे की ब्रांच पूरे भारत में बिज़नेस के रूप से विकसित हुई हैं, लेकिन जहाँ से मुख्य शुरुआत हुई है, उनका जादू अभी भी बरक़रार है।

इन प्रसिद्ध जगहों के अलावा अगर आप किसी दूसरे अद्भुत रेस्तरां के बारे में जानते हैं तो अपनी स्टोरी यहाँ शेयर करें


मज़ेदार वीडियो के लिए Tripoto का Youtube चैनल देखें।


हर रोज़ ट्रैवेल से सम्बन्धित जानकारी के लिए ! 9599147110 नंबर पर व्हाट्सएप करें।

Be the first one to comment