सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास

Tripoto

सेंट्रल इंडिया में दो राज्य ख़ास हैं - मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ राज्य में जंगल काफ़ी इलाक़े में फैला हुआ है, इसलिए लकड़ी की कोई कमी नहीं है | तो वहाँ लकड़ी, पत्थर और धातु की कलाकारी लाजवाब है | 

छत्तीसगढ़ से भारत का सबसे ज़्यादा खनिज निकलता है | तो प्राकृतिक संपदा के हिसाब से छत्तीसगढ़ काफ़ी अमीर राज्य है |

मध्य प्रदेश धार्मिक इलाक़ा है, जहाँ की संस्कृति पर हिंदू, बौद्ध और जैनी धर्मों का काफ़ी फ़र्क पड़ा है | यहाँ से बेतवा, सोन, नर्मदा, चंबल और शिप्रा जैसी नदियाँ निकलती हैं | तो यहाँ खूब सारे धार्मिक स्थल, मंदिर, नदियाँ, घाट और झरने हैं |

सांस्कृतिक रूप से ये दोनों राज्य इतने संपन्न हैं, कि भारत सरकार ने यहाँ के कई गाँवों पर रूरल टूरिज़्म  यानी ग्रामीण पर्यटन के अंतर्गत ध्यान दिया है | इसका मतलब है कि इन गाँवों तक जाने के साधन भी खूब हैं, और इन तक जाने वाली सड़कें भी बढ़िया हैं | इसके अलावा गाँवों में स्थानीय लोगों के साथ रहते, खाते और सोते हुए उनकी सभ्यता और इतिहास के बारे में जानने से अच्छा और क्या होगा |

तो आइए इन ख़ास गाँवों के बारे में जानें :

छत्तीसगढ़

गाँव : चित्रकोट

जिला : बस्तर

क्या मशहूर है : चित्रकोट झरना

कैसे पहुँचें : चित्रकोट से 280 किलोमीटर दूर रायपुर का हवाई अड्डा है | रायपुर पर बड़ा रेलवे स्टेशन है, और चित्रकोट से 40 किलोमीटर दूर जगदलपुर में भी रेलवे स्टेशन है |

Photo of सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास 1/13 by लफंगा परिंदा
चित्रकोट झरना

गाँव : नगरनार

जिला : बस्तर

क्या मशहूर है : बेल मेटल और टेराकोटा से बने सामान

कैसे पहुँचें : नगरनार से 280 किलोमीटर दूर रायपुर का हवाई अड्डा है | रायपुर पर बड़ा रेलवे स्टेशन है, और नगरनार से 40 किलोमीटर दूर जगदलपुर में भी रेलवे स्टेशन है | हवाई अड्डे और रेलवे स्टेशन से गाँव तक जाने के लिए बढ़िया सड़क बनी है |

Photo of सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास 2/13 by लफंगा परिंदा
बस्तर में बने टेराकोटा के सामान | क्रेडिट्स : डीसोर्स.इन

गाँव : कोंडागाँव

जिला : बस्तर

क्या मशहूर है : बेल मेटल और टेराकोटा से बने सामान

कैसे पहुँचें : कोंडागाँव से 280 किलोमीटर दूर रायपुर का हवाई अड्डा है | रायपुर पर बड़ा रेलवे स्टेशन है, और कोंडागाँव से 40 किलोमीटर दूर जगदलपुर में भी रेलवे स्टेशन है | हवाई अड्डे और रेलवे स्टेशन से गाँव तक जाने के लिए बढ़िया सड़क बनी है |

Photo of सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास 3/13 by लफंगा परिंदा
बेल मेटल से बनी सजावट की मूर्तियाँ | क्रेडिट्स : औथइंडिया

गाँव : चिल्फी

जिला : कबीरधाम

क्या मशहूर है : सिल्क बुनाई और बैगा जनजाति की सभ्यता

कैसे पहुँचें : चिल्फी से 170 किलोमीटर दूर रायपुर में विवेकानंद हवाई अड्डा है | 155 किलोमीटर दूर बिलासपुर में काफ़ी बड़ा रेलवे स्टेशन भी है |

Photo of सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास 4/13 by लफंगा परिंदा
बैगा जनजाति की औरतें

गाँव : ओध

जिला : रायपुर

क्या मशहूर है : टेराकोटा से बने सामानों के लिए

कैसे पहुँचें :  सबसे करीब रायपुर का विवेकानंद हवाई अड्डा है | बिलासपुर में काफ़ी बड़ा रेलवे स्टेशन भी है |

Photo of सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास 5/13 by लफंगा परिंदा
रायपुर का टेराकोटा हैंडीक्राफ्ट

मध्य प्रदेश

गाँव : चौगान

जिला : मंडला

क्या मशहूर है : लेंटाना से बने सामान के लिए

कैसे पहुँचें : चौगान से लगभग 70 किलोमीटर दूर जबलपुर एयर पोर्ट और रेलवे स्टेशन है |

Photo of सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास 6/13 by लफंगा परिंदा
लेंटाना के फूल
Photo of सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास 7/13 by लफंगा परिंदा
लेंटाना से बना फर्नीचर

गाँव : प्राणपुर

जिला : अशोकनगर

क्या मशहूर है : चंदेरी साड़ियाँ

कैसे पहुँचें : प्राणपुर से 225 किलोमीटर दूर भोपाल हवाई अड्डा और रेलवे स्टेशन हैं |

Photo of सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास 8/13 by लफंगा परिंदा
चंदेरी कपड़े से बनी साड़ी की बुनाई होते हुए

गाँव : ओरछा

जिला : टीकमगढ़

क्या मशहूर है : रिवर राफ्टिंग, ऐतिहासिक धरोहरें

कैसे पहुँचें : ओरछा से झाँसी रेलवे स्टेशन सिर्फ़ 18 किलोमीटर दूर है | 122 किलोमीटर दूर ग्वालियर में सबसे नज़दीकी हवाई अड्डा भी है |

Photo of सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास 9/13 by लफंगा परिंदा
ओरछा से बहती बेतवा नदी में राफ्टिंग होते हुए

गाँव : अमला

जिला : उज्जैन

क्या मशहूर है : ऐतिहासिक धरोहरें और इमारतें

कैसे पहुँचें : अमला से 60 किलोमीटर दूर उज्जैन हवाई अड्डा और रेलवे स्टेशन भी हैं |

Photo of सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास 10/13 by लफंगा परिंदा
अमला मध्य प्रदेश का जाना माना ऐतिहासिक गाँव है

गाँव : देवपुर

जिला : विदिशा

क्या मशहूर है : अध्यात्मिक धरोहर

कैसे पहुँचें : देवपुर से 120 किलोमीटर दूर भोपाल है, जहाँ हवाई अड्डा भी है और रेलवे स्टेशन भी |

Photo of सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास 11/13 by लफंगा परिंदा
देवपुर के विश्वनाथ मंदिर में जाते श्रद्धालुओं की भीड़

गाँव : सेंधवा

जिला : दतिया

क्या मशहूर है : पत्थर और लकड़ी से बने हैंडीक्राफ्ट

कैसे पहुँचें : सेंधवा से 80 किलोमीटर दूर भोपाल में हवाई अड्डा और रेलवे स्टेशन दोनों हैं |

Photo of सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास 12/13 by लफंगा परिंदा
सेंधवा गाँव मध्य प्रदेश में सिंध नदी के किनारे बसा है |  क्रेडिट्स : त्रावेलोस्थान

गाँव : बुधनी

जिला : सिहोर

क्या मशहूर है : ऐतिहासिक और आध्यात्मिक रूप से संपन्न है, और लकड़ी के हैंडीक्राफ्ट भी बनाए जाते हैं |

कैसे पहुँचें : बुधनी से 70 किलोमीटर दूर भोपाल है, जहाँ हवाई अड्डा और रेलवे स्टेशन दोनों हैं |

Photo of सेंट्रल इंडिया का "रूरल टूरिज़्म" : कौनसे गाँव हैं घूमने के लिए ख़ास 13/13 by लफंगा परिंदा
बुधनी के पास भीमबेतका की गुफ़ाएँ

इन गाँवों के बारे में पढ़ कर कहाँ-कहाँ घूमने का मन कर गया ? कमेंट्स में बताओ |

क्या आपको इनमें से किसी गाँव के बारे में कोई दिलचस्प बात पता है ? अगर हाँ, तो उस बात को भी कमेंट्स में लिख डालो | हमारे साथी मुसाफिरों को पढ़ने में मज़ा आएगा |

Be the first one to comment