गोवा की बजाय छुट्टियों में गोकर्ण जाएँ

Tripoto

क्या करें जब गोवा घूमने की सभी योजनाएँ विफल हो जाती हैं ? लक्षद्वीप बहुत महँगा है और बाली हमारी पहुँच के बाहर है? तो ऐसे में आप गोकर्ण जाएँ ! गोवा के बदले अधिक शांत कही जाने वाली यह जगह हाल ही के कुछ वर्षों में पर्यटकों की चहल पहल का अहम हिस्सा बन गयी है।

खूब सोच समझकर जब मैंने और मेरे दोस्त ने गोकर्ण जाने का फैसला किया, तो हमें लग रहा था कि हम गोवा की चहल पहल को मिस करेंगे लेकिन इस बार हम थोड़ी शांति चाहते थे। फिर क्या हुआ, जानिए :

गोकर्ण

अगले 4 दिनों के लिए ढ़ेर सारी उम्मीद के साथ, हम थोड़े थके हुए और थोड़ी नींद के मारे, गोकर्ण पहुंचे।

हम लोग हरि प्रिया रेजीडेंसी में रुके थे और हमें आश्चर्य हुआ कि यह एकदम सही था।क्योंकि शहर के बहुत करीब, सड़क के एक कोने पर स्थित यह होटल देखने में बिलकुल प्रभावी नहीं है। हम बस साफ कमरे और साफ बाथरूम की उम्मीद कर रहे थे और हमारी किस्मत अच्छी थी।!

ओम बीच

एक छोटी सी झपकी के बाद, हम यहाँ की सबसे लोकप्रिय बीच - ओम बीच की ओर बढ़े! इस तट का नाम ओम बीच इसलिए रखा गया है क्योंकि इसका आकार पवित्र चिन्ह ॐ जैसा है।

Photo of गोवा की बजाय छुट्टियों में गोकर्ण जाएँ 1/4 by Manju Dahiya

जैसा कि आमतौर लोकप्रिय तटों के साथ होता है, मैंने भी यही सोचा कि यहाँ बहुत भीड़ होगी लेकिन दोपहर के सूर्य का आनंद लेने वाले केवल कुछ ही पर्यटकों को देखकर मुझे सुखद आश्चर्य हुआ।निस्तब्ध और शांत, यह बीच, ऊँची - नीची पथरीली चट्टानों का एक शानदार दृश्य प्रदान करती है। यदि आपको भूख लगी हैं तो यहाँ के सुकून भरे परिवेश में बहुत सारे बढ़िया कैफ़े हैं । वाटर स्पोर्ट्स में यहाँ की बनाना बोट राइड और सर्फिंग का मज़ा अवश्य लें।

हमारे पहले दिन के लिए हमने इतना ही प्लान किया था क्योंकि हम थक भी गए थे और ईमानदारी से बताएँ तो अन्य तटों पर जाने लिए आलसी भी हो रहे थे।

दूसरा दिन

अंशी नेशनल पार्क ( राष्ट्रीय प्राणी उद्यान ) और काली टाइगर रिजर्व ( बाघ आरक्षित क्षेत्र )

Photo of गोवा की बजाय छुट्टियों में गोकर्ण जाएँ 2/4 by Manju Dahiya
Credits: Meera Rijavec

हमारा दूसरा दिन अधिक उत्साह और ऊर्जा के साथ शुरू हुआ। लॉज में पेट भर नाश्ते के बाद, हमने अपने दिन की शुरुआत अंशी नेशनल पार्क से करने का फैसला किया। यह पार्क देश के सबसे लुप्तप्राय पार्कों में से एक माना जाता है। पक्षियों की 200 से भी अधिक प्रजातियों इस पार्क में हैं जो पक्षी प्रेमियों के लिए किसी स्वर्ग से कम नहीं।

यहाँ के घने जंगल में सबसे पहले जो महसूस होता है, वह है ठण्ड । चूंकि यह जगह घूमने के प्रसिद्ध स्थानों की सूची में अधिक प्रचलित नहीं है इसलिए जंगल में चलने वाले मार्गों को अच्छी तरह से चिह्नित नहीं किया गया है। इसलिए इस प्राकृतिक वास में चलते समय आपको बहुत सावधान रहने की आवश्यकता है। यदि आप यहाँ दुर्लभ पक्षियों को देखना और निरन्तर उनकी चहचहाहट की धुन में मस्त होना चाहते हैं तो यहाँ घूमने के लिए कम से कम दो घंटे का समय रखें। यदि आपके अंदर का वन्यजीवी उत्साह जागृत हो जाये तो पास ही में एक गेस्टहाउस भी है। हम तो थोड़े से चलने पर ही काफी संतुष्ट थे और दोबारा से ओम बीच न जाकर यहाँ आने के फ़ैसले पर भी गर्व कर रहे थे।

पेरेडाइज़ बीच

हमारा अगला पड़ाव पेरेडाइज़ बीच था।इसलिए कि एक तो इस बीच का नाम ही बहुत प्यारा है और दूसरा मुझे बहुत भूख लगी थी। इस तट को फुल मून बीच के रूप में भी जाना जाता है, और यह जगह ओम बीच से भी ज्यादा शांत है तथा पर्यटक भी बहुत कम हैं। यहाँ तक पहुँचने के लिए, आपको या तो नौका लेनी पड़ेगी या जंगल के रास्ते से जाएँ। हमने तो नौका को चुना। क्योंकि हमें भूख लगी थी, याद है न ?

Photo of गोवा की बजाय छुट्टियों में गोकर्ण जाएँ 3/4 by Manju Dahiya
Credits: Jo Kent

इस बीच पर कोई वाटर स्पोर्ट्स तो नहीं हैं , किन्तु तैराकी के लिए यह एकदम सही है ! असंख्य कैफे और बेहद खुश मेजबान आपको यहाँ बेहद स्वादिष्ट मछली का स्वाद देने का वादा करते हैं ! वाह, यहाँ का खाना बहुत ही गज़ब है।

यहाँ समय इतनी जल्दी बीत जाता है कि कब अँधेरा हो गया पता ही नहीं चल पाता।

हालांकि यह तट बहुत सुरक्षित है, फिर भी आखिरी नौका जाने का समय पूछ लेना बेहतर होगा क्योंकि हमारी नाव तो छूटते छूटते बची।

यदि आप यहाँ रात बिताने के मूड में हैं, तो आप किसी मेजबान से हट खोलने के लिए कह सकते हैं! इस बीच पर जब तक आसानी से लकड़ी उपलब्ध है और रात को रुकने में पुलिस को कोई समस्या नहीं है, तब तक बॉनफायर की अनुमति भी मिल जाती है।फिर भी लंबे समय तक यहाँ रहने की योजना बनाने से पहले स्थानीय लोगों से पूछना सबसे उचित होगा।

ढेर सारी मस्ती और पेट भरने के बाद हम ख़ुशी के साथ अपने लॉज में वापस चले गए!

तीसरा दिन

तीसरे दिन की सुबह एक अजीब सी उदासी हो रही थी क्योंकि यह लगभग मेरा आखिरी दिन था! तो आप में से जिन लोगों ने गोकर्ण में 5 दिनों से कम रुकने की योजना बनाई है, वे ज़रा फिर से सोच लें । हालांकि यहाँ वास्तव में कुछ करने को नहीं है, किन्तु यह बहुत ही सुंदर और शांत जगह है।

एडवेंचर के शौकीनों के लिए, गोकर्ण में एक स्कूल भी है जो आपको सर्फिंग सीखने में मदद करता है। विभिन्न विकल्पों के साथ,यहाँ आप अपने लिए 7 दिनों से कम समय के लिए भी एक कोर्स चुन सकते हैं। दूसरे लोग जो पूरी तरह आलस और विश्राम में अपना समय व्यतीत करना चाहते हैं वह मायूस ना हों क्योंकि उनके लिए यहाँ मालिश पार्लर और स्पा उपलब्ध हैं।

पारंपरिक तेल मालिश और उपचार के अलावा , इनमें से कुछ योग भी सिखाते हैं या छोटे योग सत्र आयोजित करते हैं। आप मेरा विश्वास करें, उनके सुंदर बगीचों में ध्यान करते हुए एक दोपहर बिताना अत्यंत ही सुखदायी अनुभव है! और हाँ, जैसा कि आप लोगों ने अनुमान लगा लिया होगा, लॉज के पास ही स्थित एक सेंटर में छोटी सी मालिश और मैडिटेशन करने के बाद, हम गोकर्ण बीच की ओर चल पड़े ।

शहर के बहुत करीब स्थित, यह एक अन्य लोकप्रिय बीच है। इसकी लोकप्रियता के कारण, यहाँ काफी भीड़ थी और हमने आगे जाने से पहले थोड़ी देर रुकने का फैसला किया।

लेकिन थोड़ी देर का रुकना 3 घंटे के भोजन में बदल गया जो कि सबसे मज़ेदार अनुभव था - वैसे भी गोकर्ण में कहीं भी जाने की जल्दी में कोई भी नहीं है! यह तट बहुत बड़ा है इसलिए आप अपने लिए किसी शांत स्थान को भी ढूंढ सकते हैं या भीड़ के बीच में भी आनंद ले सकते हैं, यह सब आप पर निर्भर है।

उसके बाद हमने हाफ मून बीच पर जाने का प्रोग्राम बनाया। गोकर्ण के सभी बीच एक दूसरे के काफी समीप हैं।

आप चाहें तो ट्रेक के जरिए भी एक तट से दूसरे समुद्र तट तक पहुंच सकते हैं।इस ट्रेक को मध्यम से कठिन के रूप में वर्गीकृत किया गया है जो वास्तव में बहुत मज़ेदार है।

यदि आप ट्रैक करना चाहते हैं, तो शहर की बहुत सारी दुकानें आपके लिए यह व्यवस्था कर सकती हैं।

हाफ मून बीच

हाफ मून बीच एक छोटी सी चट्टान के द्वारा ओम बीच से अलग होती है। गोकर्ण के बाकि सभी तटों की तरह, यह बीच भी कम भीड़भाड़ वाली लेकिन बेहद खूबसूरत बीच है। गोकर्ण में आकाश के रंग हर पल बदलते रहते हैं।ऐसा लगता है मानों धवनि की लय पर नाच रहे हों ! बीच की खूबसूरती का नशा ही कुछ गज़ब है। और हाँ, यह उन कुछ तटों में से एक है जो आपको यहाँ उचित मूल्य पर रात बिताने की अनुमति भी देते हैं।आप यहां कैंप भी लगा सकते हैं और अधिकांश पर्यटक इस की तैयारी भी कर रहे थे। चारों ओर पूछने के बाद, पता चला कि आप यहां से भी कैंपिंग का सामान लेकर कैंप लगा सकते हैं, लेकिन शहर से कैंपिंग गियर प्राप्त करना ज्यादा अच्छा है क्योंकि यहाँ थोड़े महंगे हैं।

लॉज में वापस जाने से पहले, बिना अगले दिन का इंतज़ार किये, हम आधी रात तक इस बीच पर रिलैक्स करते रहे।

Photo of गोवा की बजाय छुट्टियों में गोकर्ण जाएँ 4/4 by Manju Dahiya

चौथा दिन

सुबह उठते ही सबसे पहले मैंने अपनी कैब को तीन घंटे की देरी से आने को कहा। हम गोवा के लिए दोपहर को रवाना होने वाले थे, लेकिन मैं अभी तक इस जगह को अलविदा कहने के लिए तैयार नहीं था। वैसे भी अगले दो दिन जो गोवा में बिताए जाएंगे वो इतने मज़ेदार नहीं होंगे।

येल्लापुर

एक भी पल बर्बाद किये बिना, हमने येल्लापुर जाने की योजना बनाई। गोकर्ण से लगभग डेढ़ घंटे की दूरी पर, येल्लापुर के अद्भुत लालगुली वाटरफॉल्स हैं ।

जाने से पहले, हमने गेस्ट हाउस के लोगों से अनुरोध किया था कि वह हमारे लिए खाने - पीने का कुछ सामन पैक कर दें और मुझे खुशी है कि हमने ऐसा किया।

लालगुली फॉल्स

हालांकि पिछले कुछ वर्षों में लालगुली जलप्रपात काफी लोकप्रिय हो गया है, फिर भी यहां भोजन ढूंढना थोड़ा परेशानी भरा हो सकता है। इस झरने का उद्गम स्थल काली नदी है और इसका दृश्य आँखों में बसाने लायक है। आप लोग भी यहाँ कोई शांत सा पिकनिक स्पॉट ढूँढ़कर अपनी दोपहर बिताएं !

चूँकि हमें वापस जाने की जल्दी थी, इसलिए हमने जल्दी से अपने स्नैक्स खाये और गोकर्ण वापस चल पड़े।

अफसोस की बात है कि चार दिन कब पूरे हो गए पता ही नहीं चला।इसलिए मैं यहाँ फिर से आने वाला हूँ!

अन्य दर्शनीय स्थल:

कुडले बीच

कारवार

कुमटा

यहाँ कैसे पहुंचा जाये:

गोकर्ण

हम दिल्ली से यात्रा कर रहे थे। हवाई मार्ग से पहुंचने का सबसे अच्छा तरीका है गोवा के डैबोलिम हवाई अड्डे पर पहुंचकर, वहाँ से गोकर्ण जाने के लिए बस (सबसे उचित) या टैक्सी लें। वह आपको लगभग 5 से 6 घण्टे में गोकर्ण पहुंचा देते हैं।

‘गोकर्ण बीच’ सबसे प्रसिद्ध तटों में से एक है, विशेष रूप से यहाँ का स्थानीय भोजन और सी फ़ूड अत्यंत ही स्वादिष्ट है।यदि आप गोकर्ण से आगे भी घूमने के मूड में हैं, तो यह स्थान निश्चित रूप से आपकी सूची में होना चाहिए। हालाकिं यहाँ अधिक पर्यटक नहीं आते किन्तु बर्ड वाचिंग, प्राकृतिक सौंदर्य, स्वादिष्ट भोजन, शांति तथा आलस भरे विश्राम के लिए इससे अच्छी कोई जगह नहीं।

Be the first one to comment