जन्नत-ए-कश्मीर की 6 भूतिया जगहें जहाँ जाना सबके बस की बात नहीं, कमजोर दिल वालों बचकर बनाना प्लान

Tripoto
Photo of जन्नत-ए-कश्मीर की 6 भूतिया जगहें जहाँ जाना सबके बस की बात नहीं, कमजोर दिल वालों बचकर बनाना प्लान by Deeksha Agrawal

कश्मीर को धरती पर स्वर्ग कहा जाता है। यहाँ की खूबसूरती कुछ ऐसी है कि कश्मीर आने वाला हर बंदा इस जगह के सौंदर्य में खो जाता है। कश्मीर की वादियों में सुकून है और यहाँ के लोग भी पर्यटकों का स्वागत खुले दिल के साथ करते हैं। कश्मीर जितना सुंदर है यहाँ कुछ जगहें ऐसी भी हैं जहाँ आप शायद नहीं जाना चाहेंगे। कश्मीर में कुछ जगहें हैं जो भूतिया मानी जाती हैं और जहाँ अजीब-अजीब आवाजें और चीजें होती देखी जा चुकी हैं। आज हमने कश्मीर की उन्हीं जगहों की सूची तैयार की है जहाँ आप ना ही जाएँ तो बेहतर होगा।

1. उधमपुर आर्मी क्वार्टर

Photo of जन्नत-ए-कश्मीर की 6 भूतिया जगहें जहाँ जाना सबके बस की बात नहीं, कमजोर दिल वालों बचकर बनाना प्लान 1/4 by Deeksha Agrawal

क्या आपको लगता है भूत देखने का कोई समय होता है? ज्यादातर मामलों में देर रात में ऐसी घटनाएँ सामने आईं हैं जो होश उड़ा देती हैं। श्रीनगर के आर्मी क्वार्टर में भी कुछ ऐसा ही होता आया है। कहा जाता है कि रात के समय इन क्वार्टर में अलौकिक गतिविधियाँ देखी गईं हैं। कुछ लोगों का कहना है कि रात 1 से 3 बजे के बीच आर्मी क्वार्टर में भूतिया आवाज़ों के साथ-साथ अजीबोगरीब रोशनी देखी जा चुकी है। इस बात में कितनी सच्चाई है ये तो आपके ऊपर है लेकिन बेहतर यही होगा कि रात के समय इस जगह से दूरी बना ली जाए।

2. गाव कादल ब्रिज

कहा जाता है 1991 में हुए हत्याकांड के बाद से इस पुल पर भूतों ने डेरा डाल लिया है। 1991 में हुए हत्याकांड में तमाम मासूम कश्मीरियों की जान चली गई है। कहा जाता है कि कश्मीरी लोगों का एक समूह जगमोहन मल्होत्रा को वापस से गवर्नर बनाए जाने की बात पर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे जब सीआरपीएफ के जवानों ने गोली बरसानी शुरू कर दी। इस हत्याकांड के बाद पुल पर अजीब-अजीब घटनाएँ देखी जाती रही हैं। अब उस मामले को हुए 30 साल हो चुके हैं। लेकिन आज भी लोगों का मानना है कि रात के समय इस पुल पर अजीबोगरीब आवाजें सुनाई देती हैं।

3. खूनी नाला

इस जगह का नाम सुनकर ही आधे लोगों की डर से हालत खराब हो जाती है। जम्मू कश्मीर हाईवे पर बनिहाल टनल के पहले एक इलाका है जिसका नाम खूनी नाला है। इस जगह का नाम यहाँ लगातार हो रही सड़क दुर्घटनाओं को देखते हुए रखा गया था। लेकिन इस नाम के पीछे केवल यही एक वजह नहीं है। कहा जाता है इस सड़क पर बच्चे को लिए काली साड़ी पहने एक युवती अक्सर यहाँ से गुजरने वालों से लिफ्ट मांगती है। जो भी व्यक्ति उसको लिफ्ट देने से मना करता है वो आगे जाकर एक्सीडेंट का शिकार हो जाता है। यकीन मानिए इस सड़क पर आपको सावधानी बरतने की बहुत ज्यादा जरूरत है।

4. ट्विन विलेज

देखने में ये गाँव आपको डरावने नहीं लगेंगे लेकिन एक बार आप इनके पीछे की कहानी जान लेंगे फिर आप आप भी यहाँ जाने से पहले एक नहीं सौ बार सोचेंगे। फरवरी 23, 1991 के दिन यहाँ कुछ ऐसा हुआ जिसने इस गाँव की पहचान बदलकर रख दी। रिपोर्ट्स के अनुसार कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के कुनान और पोषपारा गांवों में तकरीबन 100 महिलाओं के साथ बलात्कार होने की घटना सामने आई थी। न्यू यॉर्क टाइम्स में भी प्रकाशित हुई इस खबर के मुताबिक बाद में इन सभी महिलाओं को जान से मार दिया गया था। कहा जाता है कि हैवानियत का शिकार हुई महिलाओं की आत्मा आज भी इन गाँवों में भटकती है जिसके कारण इन्हें कश्मीर की भूतिया जगहों में से एक माना जाता है।

5. अब्दुल्लाह जिन

Photo of जन्नत-ए-कश्मीर की 6 भूतिया जगहें जहाँ जाना सबके बस की बात नहीं, कमजोर दिल वालों बचकर बनाना प्लान 3/4 by Deeksha Agrawal

स्थानीय लोगों के मुताबिक श्रीनगर में एक घर ऐसा भी है जिसमें भूत तो नहीं हैं लेकिन इसमें जिन ने कब्जा जमाया हुआ है। हालांकि इस मकान की लोकेशन के बारे में ज्यादा लोगों को जानकारी नहीं है लेकिन कहा जाता है कि जो भी इस घर में जाता है, उसके कुछ मिनटों बाद उसके जूते चप्पल बाहर फेंक दिए जाते हैं। कहा ये भी जाता है कि इस घर में जाने वाले हर व्यक्ति को बाद में किसी गंभीर बीमारी का भी सामना करना पड़ता है। लोगों के मुताबिक इस घर पर अब्दुल्लाह नामक जिन का राज चलता है और इस मकान के अंदर जाना खतरे से खाली नहीं है।

6. भूतिया पेड़

बॉलीवुड फिल्मों में अक्सर सुनसान रास्तों पर भूतिया पेड़ की कहानी दिखाई जाती है। लेकिन आप विश्वास नहीं करेंगे कि श्रीनगर से गुरेज घाटी की ओर जाने वाले रास्ते में सचमुच एक ऐसा पेड़ है जिसको भूतिया माना जाता है। कहा जाता है इस पेड़ पर भूत प्रेत आदि मौजूद रहते हैं। कहा जाता है कि इस पेड़ को ज़रा-सा छूते ही दौरे पड़ने लगते हैं। कश्मीर का ये भूतिया पेड़ सड़क के बीचों बीच है और इसके यहाँ होने की वजह आज भी किसी को नहीं मालूम है। स्थनीय लोगों का कहना है कि अमावस्या की रात को इस पेड़ पर अलौकिक शक्तियों का कब्जा और मजबूत हो जाता है।

क्या आपने कश्मीर की यात्रा की है ? अपने अनुभव को शेयर करने के लिए यहाँ क्लिक करें

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা और Tripoto ગુજરાતી फॉलो करें।

रोज़ाना टेलीग्राम पर यात्रा की प्रेरणा के लिए यहाँ क्लिक करें