जयपुर की पहाड़ी पर सूर्योदय का मज़ा- वो सफर जिसने कुछ अनदेखा दिखा दिया!

Tripoto
Photo of जयपुर की पहाड़ी पर सूर्योदय का मज़ा- वो सफर जिसने कुछ अनदेखा दिखा दिया! by Rishabh Dev

लोगों की भीड़ में खुद को अकेला पाना हमेशा बुरा नहीं होता। किसी जगह को पैदल नापते समय मैं अक्सर अकेला ही होता हूँ। लेकिन वो अकेलापन मुझे बहुत कुछ सिखाता है। खुद से मिलना, एक जगह को अच्छे से जानना, यही सब होता है मेरे अकेले होने में। अकेले घूमने का ये मतलब नहीं है कि किसी से बात ना की जाए। मुझे उन लोगों पर बहुत आश्चर्य होता है जो बस यात्रा करते हैं। यात्रा करते समय आप इतने लोगों से मिलते हैं तो उनसे बात ज़रूर कीजिए। ये अनुभव ही आपके सफर को बेहद खूबसूरत बनाते हैं। मैं अभी घूम रहा हूँ कभी पहाड़ों में तो कभी मैदानों में। इस बार मैं निकल पड़ा था राजस्थान की खूबसूरती देखने।

राजस्थान के नाम पर मैंने पहले सिर्फ जयपुर ही देखा था। वो मेरी पहली सोलो ट्रिप थी। उसके बाद मेरा राजस्थान जाना हो ही नहीं पाया। जब मुझे पुष्कर मेला के बारे में पता चला तो मैंने जाने का प्लान बना लिया। तारीख थी 8 नंवबर 2019, जाने से कुछ घंटे पहले मैंने अपने दोस्तों को इस सफर के बारे में बताया। ताज्जुब की बात थी कि वो भी जाने को तैयार हो गए। कुछ घंटे पहले जहाँ हम सिर्फ दो लोग थे, अब हम 7 लोग हो चुके थे। रात के 11 बजे हम दिल्ली के इफको चौक पर बस का इंतज़ार कर रहे थे। हम सरकारी बस का इंतज़ार कर रहे थे और हमारे सामने बार-बार एसी बस आ रही थी। हमने एसी बस का रेट पूछा तो उसने बहुत ज्यादा बताया लेकिन उसने एक दूसरी स्कीम बताई। उसने हमें फर्श पर बैठने को कहा और किराया भी बहुत कम था। फिर क्या था हम तैयार हो गए? और निकल पड़े एक नए सफर पर।

सफर है! चलता रहेगा

हमारा प्लान कुछ ऐसा था कि हम जयपुर जाएगे और कुछ घंटे जयपुर में रहेंगे। उसके बाद पुष्कर निकलेंगे। मैं बस के फर्श पर बैठे-बैठे सोच रहा था कि ये सफर कैसा होगा? बहुत वक्त के बाद इतने लोगों के साथ कहीं घूमने जा रहा था। मुझे अकेले चलते रहना बहुत पसंद है, तब आपके पास वक्त ही वक्त होता है। मगर अब सोचता हूँ दोस्तों के साथ भी सफर होने चाहिए, जिन्हें बाद में याद किया जा सके। शायद ये मेरा वही सफर होने वाला था। कुछ घंटों के बाद हम जयपुर पहुँच गए थे। जयपुर मेरे लिए जाना-पहचाना शहर था। पुरानी जगह पर दोबारा आना बहुत सुकून वाला होता है। हर जगह से आपकी पुरानी यादें जुड़ जाती हैं। मैं जयपुर को देख तो आज में रहा था लेकिन जेहन में एक साल पुराना सफर चल रहा था।

सुबह के 5 बजे थे। जयपुर में सुबह-सुबह क्या किया जाए? ये सवाल मेरे पास पिछले साल थे, लेकिन अब मेरे पास जवाब था। सुबह खूबसूरत लगती है, उसकी लालिमा से। जब सूरज को निकलते देखते हैं तो वो पल सबसे सुकून वाला होता है। उसी लालिमा को देखने के लिए हमें एक पहाड़ी पर जाना था, जो नाहरगढ़ किले के रास्ते में पड़ती है। अगर हम गाड़ी करके जाते तो बहुत समय लगता। तब मैंने एक और रास्ता बताया, जो छोटा लेकिन कठिन था। जल महल के पास से होकर जाने वाली गलियों से हम शहर के बाहर आ गए। हम जंगल जैसे एक सुनसान इलाके में थे। अब हमें यहाँ से एक पहाड़ की सीधी चढ़ाई करनी थी। मुश्किल ये थी कि कोई भी इसके लिए तैयार नहीं था। किसी ने भी नहीं सोचा था कि राजस्थान में उन्हें पहाड़ चढ़ना होगा।

थकान भरी चढ़ान

थोड़ी देर में हम पहाड़ चढ़ने लगे। जैसे-जैसे हम चढ़ रहे थे हमें नज़ारा तो खूबसूरत लग रहा था लेकिन थकान भी हो रही थी। सुबह-सुबह हमें गर्मी का एहसास हो रहा था। खिसकते पत्थरों, काँटों और जंगलों को पार करके ऐसी जगह पहुँचे जहाँ से सामने जल महल दिख रहा था। इस ऊँचाई से नीचे जल महल और दूर तक आसमान दिख रहा था। हम सब थके हुए थे लेकिन ये नज़ारा थकान को दूर करने के लिए काफी था। हम अरावली की एक चोटी पर खड़े होकर अरावली की श्रंखला को देख रहे थे। हम काफी देर तक उस लालिमा के लिए रुके लेकिन शायद बादलों ने उसे छुपा लिया था। फिर भी हमने यहाँ आकर काफी कुछ पा लिया था, जो देखा वो नज़ारे भी बेहद खूबसूरत थे।

पहाड़ों में आवाज गूँजती है और फिर वापस लौटती है। ये फिल्मों में देखा था लेकिन यहाँ पर हम वही कर रहे थे। हम एक-दूसरे का नाम पुकार रहे थे, जो कुछ पलों में वापस आ रहा था। ऐसा लग रहा था कि पहाड़ हमारा कहा दोहरा रहा है। पहाड़ पर जितना चढ़ना कठिन है, उससे कहीं ज्यादा कठिन है उतरना। नीचे उतरने में हम पूरी तरह से खाली हो जाते हैं। हम जल्दी उतरना चाहते हैं लेकिन उतर नहीं पाते हैं। फिसलते-संभलते हुए हम नीचे उतरे और चल पड़े बस स्टैंड की ओर। हमारा जयपुर का सफर इतना ही था, अब हमें पुष्कर के लिए निकलना था। लेकिन उससे पहले हमें कुछ खाना भी था। जयपुर आओ और प्याज-कचैरी ना खाओ। तो फिर थोड़ा मज़ा किरकिरा हो सकता है। जयपुर की फेमस दुकान रावत कचौरी वाले से हमने कचौरी ली और निकल पड़े अगले पड़ाव की ओर।

अगले पड़ाव की ओर

घूमते समय मुझे खुद से कहना नहीं पड़ता कि मैं खुश हूँ। यात्राओं में आप सच में खुश होते हैं, हर कदम, हर जगह आपके चेहरे पर मुस्कान बनाए रखती है। उसी मुस्कान को लिए मैं पुष्कर की ओर जा रहा था। पुष्कर की बस में लग रहा था कि मैं राजस्थान में हूूँ। कुछ बुजुर्ग दिखे, जिनकी लंबी-लंबी मूंछे और सिर पर पगड़ी थी। मुझे लगता है कि राजस्थान के गाँवों में अब भी पुरानापन है, वही परिवेश और संस्कृति है। हालांकि सड़कें और सड़क किनारे के घर मुझे इस बात को झुठलाने के लिए भी कहते हैं। ये सब वैसा ही दिख रहा था जैसे हमारे तरफ की जगह हो। लोगों में राजस्थान दिख रहा था, बस जगह में देखना बाकी था। जयपुर से पुष्कर की दूरी 150 कि.मी. है। पुष्कर से 15 कि.मी. पहले अजमेर आता है।

Photo of जयपुर की पहाड़ी पर सूर्योदय का मज़ा- वो सफर जिसने कुछ अनदेखा दिखा दिया! 1/1 by Rishabh Dev

बस में बैठे-बैठे अजमेर में मुझे बहुत बड़ी झील दिखाई दी। वो सड़क किनारे काफी दूर तक गई थी। ये शहर भी देखने लायक है लेकिन अभी हमें सबसे पहले एक मेले को देखना था। अजमेर से पुष्कर जाते समय अचानक नज़ारे बदलने लगते हैं। सुंदर-सुंदर घाटियाँ, पहाड़ नज़र आने लगते हैं। बस भी गोल-गोल घूमने लगती है। ये सब देखकर लगता है कि पुष्कर की खूबसूरती शुरू हो गई है। यात्रा एक क्षण से दूसरे क्षण तक पहुँचने की एक लंबी छलांग है। कभी-कभी वो क्षण आपको यात्रा के बीच में ही मिल जाता है और कभी-कभी अंत तक भी नहीं। इसलिए मैं ऐसी छलांगे लगाता रहता हूँ उस क्षण को पाने के लिए।

क्या आपके पास भी यात्रा की यादगार कहानियाँ हैं? यहाँ क्लिक करें और उन्हें दुनियाभर के मुसाफिरों के साथ बाँटें।

Tripoto हिंदी अब इंस्टाग्राम पर! हमें फॉलो करें और सुंदर जगहों के बारे में जानें।