सिर्फ ब्रह्मा मंदिर ही नहीं, पुष्कर में देखने को है बहुत कुछ!

Tripoto
Photo of सिर्फ ब्रह्मा मंदिर ही नहीं, पुष्कर में देखने को है बहुत कुछ! by Rishabh Dev

नया शहर, नया पता और नए लोग। हम एक पुराने शहर को छोड़कर एक और पुराने शहर में आ गए थे। जो हमारे लिए बिल्कुल नया था। नाम सुनकर हर शहर की छवि बन जाती है। मेरे छवि में ये जगह सिर्फ ब्रह्मा मंदिर थी। मुझे इस शहर को पैदल चलकर देखना था। ये मेरा नई जगह को देखने का तरीका है। ऐसा करने से शहर आपको और आप शहर को जानने लगते हैं। हम उसी शहर में पैदल रवाना हो गए।

यहाँ पहुँचते ही हमें एक ठिकाना ढूढ़ना था। पुष्कर मेले की वजह से सभी होटल, हाॅस्टल बुक थे। उन सबका रेट भी बहुत ज्यादा था। जो आमतौर पर नहीं होता है। ये रेट का बढ़ना पुष्कर मेले की धमक की वजह से थी। किस्मत से हमें एक धर्मशाला मिली, जिसमें हमें एक बड़ा-सा कमरा बजट में मिल गया। हमने सामान रखा और रवाना हो गए इस शहर को देखने। इस समय ये शहर पुष्कर मेले के लिए फेमस था। इसलिए हम सबसे पहले उस मेले को ही देखना चाहते थे। पुष्कर मेला ऊँटों का एक फेमस मेला है, जिसे हर कोई देखना चाहता है। मैं भी उस मेले को देखने आया था, लेकिन सिर्फ कैमरे की नज़र से नहीं कुछ अपनी नज़र से। कभी-कभी कैमरा वो नहीं देख पाता, जो हम देख पाते हैं।

पुष्कर की गलियाँ

हम अपने कमरे से निकले और चल पड़े पुष्कर की गलियों में। हम अभी अपने कमरे से बाहर निकले ही थे कि मुझे यहाँ की गलियाँ मेले की तरह ही लग रहीं थीं। चारों तरफ दुकानें ही दुकानें थीं। एक तीर्थस्थल और आधुनिकता दोनों ही इन गलियों में चल रही थी। जानें क्यों मुझे यहाँ की गलियाँ देखकर हरिद्वार और ऋषिकेश याद आ रहे थे? कुछ ही दूर आगे चले हमें पुष्कर सरोवर नज़र आया। हम उसके अंदर चले गए। कार्तिक महीने में लगने वाले इस मेले में बहुत-से लोग स्नान करने के लिए यहाँ आते हैं। स्नान करने के लिए दो कुंड बनाए गए हैं। इस समय पुष्कर सरोवर में फोटो खींचना मना भी है, जो सही भी है।

हम नहा चुके थे, इसलिए यहाँ नहाना कल के लिए टाल दिया। हम फिर से वापस गलियों में आगे बढ़ गए। मुझे ये गलियाँ बहुत अच्छी लग रही थीं, मैं इनको देखकर खुश हो रहा था। मेरे जेहन में राजस्थान के शहर ऐसे ही दर्ज हैं। लेकिन जब जयपुर गया तो कुछ अलग मिला। अब जब इन गलियों में चल रहा था, तब लगा कुछ तो सच है मेरे जेहन में। पैदल चलना काफी थकान भरा होता है लेकिन ये मुझे काफी सुहाता है। मैं पूरे शहर को पैदल नापता हूं और फटी हुई आँखों से पूरे शहर को देखता हूँ। देखता हूँ कि ये शहर कैसे उठता है और क्या काम करता है? मैं उन जगहों को खोजता हूँ जहाँ उठकर वे पहली चाय पीते हैं लेकिन हम तो पहुँचे ही दिन में थे। अब हम इस शहर का दिन और शाम देखना चाहते थे।

यहाँ मुझे पहली बार लग रहा था कि मैं किसी राजस्थानी शहर में हूँ। बड़ी-बड़ी मूछें, धोती-कुर्ता और सिर पर पगड़ी दिख ही जा रही थी। पुरूष और महिलाएँ दोनों ही अपनी वेशभूषा में नज़र आ रहे थे। यहाँ दुकानों में राजस्थानी कपड़े, जूतियाँ और ज्वैलरी नज़र आ रही थी। गलियों में भीड़ बहुत थी लेकिन फिर भी सब कुछ शांत था। इस भीड़ में शोर नहीं थी, इसलिए ये अच्छी भी लग रही थी। चलते-चलते हम ब्रह्मा मंदिर के सामने आ गए। मुझे ब्रह्मा मंदिर जाना था लेकिन अभी नही, इसलिए आगे बढ़ गए मेले की ओर।

पुष्कर मेला

रास्ते में एक गुमटी मिली, यानि कि चलती-फिरती राजस्थानी चाय। कुल्हड़ में वो चाय मिलती है, काफी बढ़िया होती है। इतनी अच्छी कि आप तरोताजा हो जाएँ। कुछ देर और चलने के बाद मेला आ गया। मुझे जैसे ही कुछ नया दिखता है, मुझे उसके ओर भागने का मन करता है। मुझे इस मेले की तलाश थी, जहाँ बहुत कुछ हमारे इंतजार में था। अंदर घुसते ही हमें बड़े-बड़े झूले दिखाई दिए, लेकिन हम झूले के लिए यहाँ नहीं आए थे। फिर हमारी नजर एक ऊँट-गाड़ी पर पड़ी। ऊँट मेरे बगल से गुज़रा। मैं उसके पूरे शरीर को देख रहा था। उसके लंबे-लंबे पैरों को, उसके जुगाली करते लंबे मुँह को। मेरे बगल से ऊँट बारी-बारी से गुज़र रहे थे और मैं उनमें कुछ नया खोजने की जुगत में था।

मैं सोचता था कि इस मेले में सिर्फ ऊँट ही ऊँट दिखाई देते हैं लेकिन ऐसा नहीं है। हमें आगे बढ़े तो घोड़े भी दिखाई दिए। ये मेरे लिए आश्चर्य से कम नहीं था। घोड़े भी ऐसे कि देखकर आप खुश हो जाएँ। लंबे-ऊँचे और इतने चमकदार घोड़े मैंने कभी नहीं देखे थे। सफेद और काले घोड़े तो बेमिसाल थे। यहाँ आपको बहुत सारे घोड़े दिखाई देंगे। जो घोड़े खरीदना चाहते हैं, वो घोड़े यहाँ खरीदते भी हैं। यहाँ आपको वो दुकानें भी मिल जाएँगी, जिन पर घोड़े का पूरा सामान मिलता है। ऐसे ही चलते हुए ऊँटों को देखते हुए हमने पूरा मेला देख डाला। मेले में भीड़ थी, लेकिन उतनी नहीं जितनी मैंने सोची थी।

पुष्कर का रेगिस्तान

मेले में चलते-चलते आप एक रोड पर आ जाएँगे। रोड के पार भी आपको ऊँट दिखाई देंगे। यहां ऊंट और लोग अपना टेंट बनाकर रूकते हैं। ये पूरा खाली मैदान है जिस पर सिर्फ ऊँट ही ऊँट दिखाई दे रहे थे। मैं उस जगह को देखना चाहता था, लेकिन शाम होने वाली थी। मैं उस रेत को देखना चाहता था जहां लिए लोग ऊंट-गाड़ी और सफारी से हजार रुपए देकर जा रहे थे। ये लोग बता रहे थे कि वो जगह लगभग 4 किलोमीटर दूर है। हम उस जगह पर पूछते-पूछते पैदल चलने लगे। कुछ देर बाद हम रोड छोड़कर कच्ची सड़क पर जाने लगे।

हमारे आगे-पीछे बहुत सारी ऊँट-गाड़ी जा रही थी। हम उन्हीं के पीछे-पीछे जाने लगे। रास्ते में मुझे एक बच्चा सारंगी बजाते मिला। मैं वीडियो बनाने लगा तो कुछ राजस्थानी लोग नाचने भी लगे। मैंने उनको उसका मेहनताना दिया और आगे बढ़ गए। रास्ते में मैं सोच रहा था कि ये कला अब इन लोगों की रोजी-रोटी बन गई है। मुझे टूरिस्ट प्लेस की सबसे बड़ी दिक्क्तों में ये भी लगती है। जिनका सामना अभी आगे हमारा होने ही वाला था। हम चलते-चलते काफी आगे आ चुके थे। यहाँ से हमें एक टीला दिखाई दे रहा था जहाँ बहुत सारे ऊँट दिखाई दे रहे थे। हमें शायद वहीं जाना था, लेकिन ये इतना दूर नहीं था कि जिसके लिए ऊँट-गाड़ी या सफारी की जाए। लगभग डेढ़ किलोमीटर के इस रास्ते के लिए एक हजार लेना पूरी तरह से ठगाई थी।

थोड़ी देर में हम उस जगह पर पहुँच गए। यहाँ जो देखा, वो तो और बुरा था। सफारी लोगों के साथ एक तालाब आकार के गड्ढे में जाती है और जो तेज स्पीड में आती है जो कई बार बहुत ज्यादा उछल जाती है। जो जोखिम भरा है, सहायता के लिए यहाँ कोई एंबुलेंस भी नहीं है। अगर ये एडवेंचर है तो मैं उससे दूर ही रहना पसंद करता हूँ। जिस रेगिस्तान के बारे में मैंने सुना था, देखा था। ये वो तो नहीं था। ये तो सिर्फ लाल मिट्टी थी जिसे रेत का नाम दे दिया गया था। थोड़ी देर में हमने सूरज को डूबते देखा, बच्चों के साथ बातें की और वापस चल दिए फिर से मेले की ओर।

रात की रोशनी में मेला

मैंने कई कविताओं में पढ़ा है दिन और रात का अंतर लेकिन कभी समझ नहीं पाया। जब पुष्कर को रात में देखा तो लगा शायद कवि ने इसी जगह पर बैठकर वो कविता लिखी होगी। पुष्कर मेला अब कुछ अलग लगने लगा था। भीड़ भी काफी बढ़ गई थी और चकाचौंध भी ज्यादा थी। ऊँट भी मेले में नहीं दिखाई दे रहे थे, अब दिखाई दे रहे थे तो सिर्फ झूले। बहुत सारे झूलों में से एक में हम भी बैठ गए। इन झूलों को देखकर मुझे अपना बचपन और गाँव याद आ जाता है।

Photo of सिर्फ ब्रह्मा मंदिर ही नहीं, पुष्कर में देखने को है बहुत कुछ! 1/2 by Rishabh Dev

झूले में बैठकर हम बहुत उपर आ गए। जहाँ से सब कुछ छोटा लग रहा था और दूर-दूर तक चीजें दिख रहीं थी। पुष्कर कितने दूर तक फैला है, ये इस झूले में बैठकर समझ में आया। झूले में बैठकर एक सुकून था कि बहुत दिनों कुछ पुराना किया है। मुझे पुराना बहुत ज्यादा पसंद है, पुराने लोग, पुरानी बातें और पुराने गाने, कितना पुराना है न हमारे बीच। सभी लोग बहुत थक चुके थे और तब हमने वो गुमटी वाली चाय पी। हम अब मेले से दूर फिर से पुष्कर की गलियों में थे। इस जगह को देखने का उत्साह भी बना ही हुआ था। कुछ वक्त में ये शहर अपना-सा लगने लगता है, ऐसा ही कुछ अब लगने लगा था। हम इस जगह की गलियों से, दुकानों से रूबरू हो गए थे और हमें इसकी भनक भी नहीं लगी थी।

दाल-बाटी-चूरमा

हम बहुत देर से घूम रहे थे और हमने कुछ नहीं खाया था। मैं नए शहर में नया खाना खाता हूँ। यहाँ का सबसे फेमस व्यंजन है, दाल बाटी चूरमा। जिस जगह पर दाल बाटी चूरमा मिलता है, हम वहाँ से आगे निकल आए थे। मेरे कुछ साथी थकान की वजह से वापस नहीं जाना चाहते थे, लेकिन मैं जाना चाहता था। मैं, अपने दो साथी ब्रम्हा मंदिर के आगे चला तो वहाँ का नज़ारा देखकर ही मन खुश हो गया।

Photo of सिर्फ ब्रह्मा मंदिर ही नहीं, पुष्कर में देखने को है बहुत कुछ! 2/2 by Rishabh Dev

हम इस जगह से मेले की ओर गए थे, तब हमें ये जगह नहीं दिखाई दी थी। शायद आप जिस चीज को पाना चाहते हो, वो ही आपको दिखाई देती है। यहाँ लाइन से दाल बाटी चूरमा के ढाबे खुले हुए थे। उनमें से एक में हम बैठ गए। इन सबका सबसे अच्छा नज़ारा था इनकी रसोई। सभी ढाबों में खाना औरतें बना रहीं थीं। ऐसा मैंने पहली बार देखा था कि औरतें ढाबों में खाना बना रही हैं। मुझे उस थाली के बाद पुष्कर खाने के लिए याद आएगा। वो थाली अब मेरे लिए पुष्कर की थाली में से एक थी। इतना अच्छा दाल बाटी चूरमा कभी नहीं खाया था। उसी स्वाद के साथ हम वापस गए और बिस्तर पर लेटते ही सो गए।

फोटो वाला पुष्कर

सुबह मैं अपने एक साथी के साथ एक बार फिर से पुष्कर मेले के बीच में था। मैं देखना चाहता था कि इन लोगों की सुबह कैसे होती है? मैं रोड पार के वहाँ पहुँचा, जहाँ ऊँट ही ऊँट थे। यहाँ देखा तो स्थानीय लोग कम और कैमरे लिए फोटोग्राफर नज़र आ रहे थे। फोटोग्राफर ऊँटों की, यहाँ के लोगों की फोटो खींच रहे थे। फोटोग्राफर फोटो खींचते वक्त अपनी सारी सीमाएं लांघ रहे थे। वो लोगों की सुबह को कैमरे में तो कैद करना चाह रहे थे, जिससे लोगों को परेशानी भी हो रही थी।

फोटोग्राफर की वजह से ऊँट भी परेशान हो रहे थे। वो उनके आने से बार-बार उठ खड़ हो रहे थे। एक तस्वीर इवेंट बन जाने की थी तो एक दूसरी तस्वीर भी थी। सोशल मीडिया पर हम जो फोटो खींचते हैं तो ऐसा लगता है कि सच में ऐसा होता है। यहाँ आकर मुझे पता चला कि बहुत कुछ होता नहीं, बनाया जाता है। कुछ लोग पूरे स्थानीय पोज में इसलिए बैठे रहते हैं क्योंकि वो चाहते हैं कि फोटोग्राफर उनकी फोटों खींचे और उन्हें पैसे मिले। यहाँ के बच्चे भी जानते हैं कि फोटो के पैसे लेने है। उनकी जो फोटो खींचते हैं, वो उनसे उसके पैसे लेते हैं। फोटोग्राफर उनसे कई पोज देने को कहते हैं। इन सबके बाद आपके पास सोशली मीडिया पर हैशटेग पुष्कर मेले की तस्वीर आती है।

इस इवेंट को देखने के बाद हम पुष्कर सरोवर के ताजे पानी में नहाए और ब्रम्हा मंदिर गए। ब्रम्हा मंदिर को देखते ही कोलकाता का कालीघाट मंदिर याद आ गया। वैसी ही इसकी बनावट है और वैसे ही यहाँ भीड़ है। उस भीड़ में चलते हुए आप कुछ पल के लिए ब्रम्हाजी के दर्शन करते हैं और आगे बढ़ जाते हैं। वैसा ही हमने किया और वापस आ गए अपने कमरे पर। हमने सामान उठाया और इस शहर को अलविदा कहने के लिए निकल पड़े। जिन जगहों का आप बहुत गुणगान करते हो, वो शहर कभी-कभी आपको वैसा नही मिलता है। पुष्कर के लिए भी मैं यही कह सकता हूं। मैंने इसी भारीपन के साथ इस शहर को अलविदा कहा और निकल पड़ा एक नए सफर के लिए।

क्या आपने कभी पुष्कर का सफर किया है? आपका अनुभव कैसा था? यहाँ लिखें।

Tripoto हिंदी अब इंस्टाग्राम पर! हमें फॉलो करें और  सुंदर जगहों के बारे में जानें।