लेह लद्दाख की ज़ंस्कार घाटी है घुमक्कड़ों का नया आशियाना

Tripoto

जम्मू कश्मीर का नाम लो तो एक नाम भूल जाते हैं हम, लेह लद्दाख का। गर्मी की छुट्टियों में सैलानियों का ख़ूब जमावड़ा लगता है यहाँ। कारण? पहाड़ी इलाक़ा, सुन्दर भी है, पास भी है। लेकिन लेह लद्दाख है इतना बड़ा कि पर्यटन की बहुत सारी जगहों को अभी छुआ जाना बाक़ी है। उसमें ही एक नया नवेला नाम है जंस्कार घाटी का।

आज हम बताएँगे ज़ंस्कार घाटी में उन जगहों के बारे में, जहाँ पर आपको ट्रिप का प्लान बनाना चाहिए।

कहाँ घूमें

1. मारखा घाटी

Photo of लेह लद्दाख की ज़ंस्कार घाटी है घुमक्कड़ों का नया आशियाना 1/6 by Manglam Bhaarat
श्रेयः नीडपिक्स

हिमालयन रेंज में फैली ज़ंस्कार घाटी मुख्य रूप से एडवेंचर से जुड़े हुए लोगों के लिए तो बहुत रोचक जगह है। पैराग्लाइडिंग, ट्रेकिंग और नदी में राफ़्टिंग जैसी कई सारी एडवेंचर वाली चीज़ें आप यहाँ पर करने को उपलब्ध हैं।

लामायुरू से दारचा और लामायुरू से पादुम के ट्रेक बहुत प्रसिद्ध हैं। इसके अलावा मारखा घाटी और खांगरी की ट्रेकिंग ज़ंस्कार से ही शुरू होती है।

2. बौद्ध मठ

लेह लद्दाख में बौद्ध धर्म के लोगों की भारी आबादी रहती है। इसलिए कई सारे मठ मौजूद हैं जहाँ दर्शन के लिए आपको भी आना चाहिए। अगर आप मठों को घूमने के उद्देश्य से आना चाह रहे हैं तो पादुम-किश्तवर के ट्रेक पर ज़ोंगखुल पर जाएँ। यहाँ पर कई सारे मठ मौजूद हैं। इसके अलावा आप स्टोंगडे मठ के भ्रमण पर भी निकल सकते हैं, जो कि मठों में दूसरे नंबर का प्रसिद्ध मठ है।

इसके अलावा दूसरे मठों में रुमसे, सानी मठ, मुलबेख मठ, कार्शा मठ, लिंगशेड मठ प्रमुख हैं।

3. द्रांग-द्रुंग ग्लेशियर

हिमालय की शान्त वादियों में इन ग्लेशियर की फ़ोटोग्राफ़ी करने का एहसास वाक़ई बहुत ख़ूबसूरत होता जाता है। आप इन्हें पेंसी ला पादुम से देख सकते हैं। पैराग्लाइडिंग का भी करने का मौक़ा यहाँ पर होता है आपके पास, तो यहाँ पर आने का ट्रिप का तो काफ़ी मज़ेदार होने वाला है।

ज़ायका ज़ंस्कार घाटी में

खाने की ढेर सारी दुकानें यहाँ पर मौजूद हैं। यहाँ पर आपको मुख्य रूप से चाइनीज़ और तिब्बती ज़ायके का खाना मिलता है। आप लेह और पादुम के होटलों में भी देसी खाने का स्वाद ले सकते हैं। 

ठहरने के लिए

ज़ंस्कार में मुख्य रूप से ठहरने की कोई जगह नहीं है। लोग यहाँ पर आने के लिए पादुम और लेह में ठहरने का प्लान बनाते हैं। यहाँ पर आपको होटल, रिसॉर्ट और गेस्ट हाउस भी कम बजट से लेकर लग्ज़री दामों पर मिल जाएँगे।

ज़ंस्कार घूमने का सही समय

सर्दियों के मौसम में तो न ही जाएँ तो बेहतर है। अप्रैल से लेकर अगस्त का समय आपके ट्रिप्स के लिए बेहतरीन है। ऐसे समय में पहले तो ठीक ठाक गर्मी होती है, तो पहाड़ों पर घूमने में आपको ज़्यादा दिक्कत नहीं होगी।

कैसे पहुँचें ज़ंस्कार घाटी

हवाई मार्गः लेह सबसे नज़दीकी हवाई अड्डा है, जो क़रीब 465 किमी0 दूर है और श्रीनगर का हवाई अड्डा 460 किमी0 दूर।

ट्रेन मार्गः जम्मू तवी रेलवे स्टेशन यहाँ से 720 किमी0 दूर है, जो कि सबसे नज़दीकी रेलवे स्टेशन भी है।

सड़क मार्गः कारगिल से ज़ंस्कार की दूरी क़रीबन 250 किमी0 की है और लेह से 460 किमी0। सबसे बढ़िया मार्ग लेह तक हवाई मार्ग से जाना और फिर यहाँ से टैक्सी का सफ़र करना है।

कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, हमें कमेंट बॉक्स में बताएँ।

अपनी यात्राओं के अनुभव को Tripoto मुसाफिरों के साथ बाँटने के लिए यहाँ क्लिक करें।

रोज़ाना वॉट्सऐप पर यात्रा की प्रेरणा के लिए 9319591229 पर HI लिखकर भेजें या यहाँ क्लिक करें