MANDU - The City of Love

Tripoto

Photo of MANDU - The City of Love 1/35 by Ankita Sahu

मांडू जाने का प्लान भले ही कितनी बार बना और बिगड़ा भी पर इस बार के मानसून में मांडू जाना संभव हो ही गया।

मांडू मध्यप्रदेश के मालवा क्षेत्र के धार जिले में स्थित एक प्राचीन धरोहर वाला शहर है जहां की प्राचीन इमारतें और खंडहर रानी रूपमती और राजा बाज बहादुर की प्रेम कहानी को कहती है। मांडू प्रारंभ में परमार शासकों शासन क्षेत्र में आता था जिस पर बाद में मुगलों अफगानों और खिलजी वंश का शासन स्थापित हुआ। मानसून में मांडू का नजारा देखते ही बनता है इसलिए हम लोग भी मांडू मानसून सत्र में ही गए। मांडू इंदौर से 96 किलोमीटर है हम लगभग 2 घंटे में मांडू पहुंच गए थे. मांडू पहुंचकर हम सबसे पहले रानी रुपमती के महल पहुंचे, मांडू में शायद जिसने मुझे सबसे ज्यादा आकर्षित किया वह रानी रूपमती ही है इतिहास में मांडू, रूपमती और बाज बहादुर के अमर प्रेम कहानी के कारण ही प्रसिद्ध हुआ है।

रानी रूपमती महल- Photo of MANDU - The City of Love 2/35 by Ankita Sahu

रानी रूपमती का महल मांडू में सर्वाधिक ऊंचाई पर स्थित महल है।

Photo of MANDU - The City of Love 3/35 by Ankita Sahu

Photo of MANDU - The City of Love 4/35 by Ankita Sahu

Photo of MANDU - The City of Love 5/35 by Ankita Sahu

Photo of MANDU - The City of Love 6/35 by Ankita Sahu

Photo of MANDU - The City of Love 7/35 by Ankita Sahu

कहते हैं, रानी रूपमती को प्रातः नर्मदा नदी के दर्शन करने की आदत थी अतः बाज बहादुर ने महल की स्थिति कुछ इस तरह बनवाई थी जिससे नर्मदा नदी महल से दिखती थी वह एक चाँदी की रेखा के समान दिखाई देती थी अत्यधिक ऊंचाई के कारण यहां का दृश्य बहुत ही मधुरम था और यहां से चारों और हरियाली हरियाली दिखाई देती है

रानी रुपमती के महल के बाद हम नीचे की तरफ उतरे जहां पहले रेवा कुंड के दर्शन किए। रेवा कुंड एक तालाब है जहां पर प्राकृतिक दृश्य मनोरम लगता है इसके पश्चात हम बाज बहादुर के महल पहुंचे

Photo of MANDU - The City of Love 8/35 by Ankita Sahu

यह महल काफी बड़ा था इसके अंदर की तरफ एक बाबडी़ भी थी।

Photo of MANDU - The City of Love 9/35 by Ankita Sahu

Stepwell in baz-bahadur palace

Photo of MANDU - The City of Love 10/35 by Ankita Sahu

यह महल अफगान शैली में निर्मित था तथा इसके पत्थरों में की कलाकारी अद्भुत थी इस महल के ऊपरी भाग से रानी रूपमती का महल स्पष्ट दिखाई देता है इन महलो की स्थिति भी इनके प्रेम की गाथा को बयां करती है।

Photo of MANDU - The City of Love 11/35 by Ankita Sahu

इसके पश्चात के दाई महल के सामने से गुजरे हैं कहते हैं कि इन महलों की वास्तु स्थिति ऐसी है कि कुछ भी कहने पर आपको आप की आवाज सुनाई देती है इस महल की वैज्ञानिक स्थिति ने तो हमें अचंभित ही कर दिया इसके बाद हम मांडू के सबसे खूबसूरत महल समूह के तरफ आए

Photo of MANDU - The City of Love 12/35 by Ankita Sahu

Main gate- group of palace

Photo of MANDU - The City of Love 13/35 by Ankita Sahu

सबसे पहले हम तवेली महल पहुँचे। यहां एक म्यूजियम भी था लेकिन यहाँ फोटो लेना मना था म्यूजियम शानदार था वहां परमार राजवंश के समय से लेकर मुगलो तक के वास्तुशिल्प के नमूने रखे हुए थे जिन्हें देखकर एक इतिहास प्रेमी अवश्य ही अचंभित हो सकता है।

Photo of MANDU - The City of Love 14/35 by Ankita Sahu

Photo of MANDU - The City of Love 15/35 by Ankita Sahu

तवेली महल से जहाजमहल सबसे खूबसूरत लगता है यहां से देखने में यह सचमुच में एक जहाज के समान प्रतीत होता है मानसून में इसकी खूबसूरती दुगनी हो जाती है और क्योंकि मानसून में इसके चारों ओर पानी भर जाता है जिसके कारण पूरा महल सचमुच जहाज के समान प्रतीत होता है वही हरियाली आ जाने के कारण भी यहां की खूबसूरती बढ़ जाती है

Photo of MANDU - The City of Love 16/35 by Ankita Sahu

जहाज महल दो मंजिला इमारत है जहाज महल मांडू के इन महल समूहों में सबसे सुंदर और संरक्षित इमारत है क्योंकि ज्यादातर इमारत का महल खंडहर में तब्दील हो गए हैं लेकिन इसके बाद भी अपनी अलग कहानी है।

कपूर तालाब- इस तालाब के पास जाने की अनुमति पर्यटक को नहीं है इसलिए इसे हमने दूर से ही देखा। इसकी भी अपनी खूबसूरती थी और इसके बीच स्थित महल...... इसके क्या कहना क्या......

Photo of MANDU - The City of Love 17/35 by Ankita Sahu

Kapoor Talab एक बात तो थी यार उस समय के राजा महाराजा की जिंदगी ही हसीन हुआ करती थी एक तो इतने बड़े-बड़े आलीशान महल उसके बाद यह प्राकृतिक नजारे....... मजा आ गया इन प्राकृतिक दृश्य को देखकर।हिंडोला महल-

Photo of MANDU - The City of Love 18/35 by Ankita Sahu

यह महल झूला के समान प्रतीत होता है इसलिए इसे हिंडोला महल कहते हैं किन्तु मुझे ऐसा कुछ प्रतीत नहीं हुआ आप स्वयं ही देखें

Photo of MANDU - The City of Love 19/35 by Ankita Sahu

हिंडोला महल देखने में सभागार प्रतीत हो रहा था क्योंकि यहां पर बस एक हॉल ही था

Photo of MANDU - The City of Love 20/35 by Ankita Sahu

इसके पश्चात हम हिंडोला महल से लगे खंडहर समूह को देखने चले गए

Photo of MANDU - The City of Love 21/35 by Ankita Sahu

यह खंडहर मांडू के प्राचीन इतिहास के साक्षी हैं जो आज भी विद्यमान हैं। भले ही यह खंडहर है पर इनकी भी अपनी एक कहानी थी इनका अपना इतिहास था। वहीं आज ये एक खंडहर हो गए हैं पर पर आज भी इनमें एक मजबूती थी

Photo of MANDU - The City of Love 22/35 by Ankita Sahu

Photo of MANDU - The City of Love 23/35 by Ankita Sahu

Photo of MANDU - The City of Love 24/35 by Ankita Sahu

Photo of MANDU - The City of Love 25/35 by Ankita Sahu

इसके बाद हम जल महल गए यह भी इन खंडहर समूह का हिस्सा था।

Photo of MANDU - The City of Love 26/35 by Ankita Sahu

Jal Mahal

जल महल में ज्यादातर पानी की बावड़ियां थी जो आज के आधुनिक युग को युग में आपको अचंभित कर देगी। इसके बाद इन दर्शनों के बाद हम बाहर निकले और वहीं हमने पास स्थित जलपान गृह में कुछ नाश्ता किया फिर हम आगे चल पड़े।

Photo of MANDU - The City of Love 27/35 by Ankita Sahu

जहाज महल से लौटते समय हम जामी मस्जिद आए इसी के अंदर होशंगशाह का मकबरा था तथा इसके सामने अशरफी महल था, जिसमें महमूद खिलजी का मकबरा स्थित था।

Jami Masjid

Photo of MANDU - The City of Love 28/35 by Ankita Sahu

जामी मस्जिद अब तक के सभी महलो और इमारतों से अलग थी शायद अब शासकों के बदल जाने से वास्तुकला में भी परिवर्तन आ गया था। यह मस्जिद और इसकी वास्तुशिल्प अद्भुत थी और इसके तीन गुबंद वह अपने आप में एक कहानी बयां कर रहे थेहोशंगशाह का मकबरा-

Photo of MANDU - The City of Love 29/35 by Ankita Sahu

इसके बाद हम होशंगशाह के मकबरे आए वाकई यह तो अद्भुत था दूर से बिल्कुल ताजमहल प्रतीत हो रहा था शायद शाहजहां को ताजमहल बनाने की प्रेरणा यहीं से मिली होगी क्योंकि यह इमारत संगमरमर से निर्मित पहली इमारत थी।

Photo of MANDU - The City of Love 30/35 by Ankita Sahu

Photo of MANDU - The City of Love 31/35 by Ankita Sahu

मकबरा के यहां का प्रांगण और यहां की खूबसूरती और वास्तुशिल्प देखने योग्य थी

Photo of MANDU - The City of Love 32/35 by Ankita Sahu

Photo of MANDU - The City of Love 33/35 by Ankita Sahu

इसके बाद हम जामा मस्जिद के सामने स्थित अशरफी महल आए। यह महल भी अब खंडहर में तब्दील हो चुका था, परंतु अभी भी अवशेष यहां स्थित हैं।

Photo of MANDU - The City of Love 34/35 by Ankita Sahu

Photo of MANDU - The City of Love 35/35 by Ankita Sahu

यहां पर महमूद खिलजी का मकबरा भी स्थित था तथा इस महल में भी संगमरमर का प्रयोग किया गया था साथ ही इस महल की दीवारों पर कुरान की आयतों की तरह कुछ लिखा था उर्दू नहीं आने के कारण मैं उसे समझ तो नहीं पाई परंतु इस तरह संगमरमर में कुरान की आयतों को उकेरना भी अपने आप में एक बड़ी उपलब्धि थी।

इसके बाद बाहर आकर हमने वहीं रोड पर मांडू की स्पेशल इमली देखी जो दूर से हमें बहुत अजीब लग रही थी पास आकर पता करने पर पता चला कि वह केवल मांडू की जलवायु के कारण ही केवल मांडू में पाई जाती हैं Mandu ki Special Imli इस प्रकार इन मुगल अफगान वास्तुशिल्प के दर्शन करते करते कब सुबह से शाम हो गई पता ही नहीं चला और हमारे इंदौर जाने का समय भी हो गया। मैंने बहुत से महलो और इमारतों को देखने का जो तय कर रखा था वह पूरा नहीं हो पाया क्योंकि संपूर्ण मांडू दर्शन के लिए आपको एक दिन शायद कम पड़ सकता है इसलिए यदि आप का प्रत्येक site में घूमने का मन है तो ज्यादा समय के साथ आप मांडू आए मैंने भी अपनी सभी site देख पाने की इच्छा पूरी ना होने के कारण एक बार फिर से मांडू आने का निश्चय कर लिया है और आशा करती हूं वह जल्द पूरा हो। परंतु यह एक दिवसीय यात्रा भी बहुत मनमोहक और अविस्मरणीय हो गई पूरे दिन हम स्वयं को मुगल अफगानों के काल में महसूस करने लगे थे। वाकई इस यात्रा ने हमें बहुत से नये अनुभव दिए साथ ही मांडू के बारे में अब तो सुना था उसको देखने का मौका भी मिला। आशा करती हूं आपको ये यात्रा वृतांत पसंद आया होगा|

Be the first one to comment