पहाड़ों की खूबसरती और प्रकृति के करीब जाना हो तो चले आइए बिनसर के इस रिजाॅर्ट में

Tripoto

पहाड़ों के बीच होना सबसे सुखद एहसास है। जब कमरे की खिड़की से आपको पहाड़ों के बीच से सूरज उगता हुआ दिखाई देता है। दूर-दूर तक हरियाली और चारों तरफ बर्फ से ढंके पहाड़ हों तो इससे अच्छा क्या हो सकता है? आपको ऐसी जगहों पर जाना चाहिए। ऐसी ही एक खूबसूरत जगह है उत्तराखंड में कुमाऊँ का बिनसर। बिनसर बेहद खूबसूरत जगह है। इसको और खास बनाने के लिए यहाँ एक आलीशान और शानदार रिजाॅर्ट है, दी कुमाऊँ।

Photo of पहाड़ों की खूबसरती और प्रकृति के करीब जाना हो तो चले आइए बिनसर के इस रिजाॅर्ट में 1/10 by Rishabh Dev

इस जगह पर रहते हुए आपको बिनसर से प्यार हो जाएगा। प्राकृतिक नजारों से भरा शांति और सुकून के लिए ये जगह परफेक्ट है। दी कुमाऊँ बजट और लक्जरी दोनों का अनुभव कराता है। इस जगह की सबसे खास बात है कि आप यहाँ रात में आसमां में असंख्य तारों को देखने का आनंद उठा सकते हैं। मुझे लगता है कि आपके लिए इससे खूबसूरत रात नहीं हो सकती और शानदार अनुभव देता है हिमालय के बीच बसा ये रिजाॅर्ट।

दी कुमाऊँ

Photo of पहाड़ों की खूबसरती और प्रकृति के करीब जाना हो तो चले आइए बिनसर के इस रिजाॅर्ट में 2/10 by Rishabh Dev
श्रेय: दी कुमाऊं।

आपको लक्जरी पसंद हो या आर्किचर पसंद हो, आप अकेले हों या अपनी फैमिली के साथ प्रकृति के बीच स्थित ये जगह आपके लिए हर तरह से परफेक्ट है। पहाड़ों के बीच आराम फरमाने के लिए ये बेहतरीन जगह है। आप यहाँ से अल्मोड़ा और आसपास की जगहों को एक्सप्लोर कर सकते हैं। ये रिजॉर्ट सभी जगहों के पास में ही है।

कुमाऊँ रिजाॅर्ट बनने से पहले विक्रम माथुर ने अल्मोड़ा के पास कसार देवी में एक जमीन खरीदी। उन्होंने राकेश प्रियदर्शी के साथ मिलकर एक रिजाॅर्ट बनवाया। वो ऐसा रिजाॅर्ट बनाना चाहते थे जो घर की तरह हो ओर लोगों को ये जगह प्रकृति के करीब लाए। इस प्राॅपर्टी को दो श्रीलंकाई आर्किटेक्ट प्रदीप कोडिकर और जेनेशी समवीरा ने डिजाइन किया है। इसके साइट आर्किटेक्चर क्षितिज अग्रवाल हैं जिन्होंने इसको अच्छे से बनाया। अग्रवाल ने इसे कुछ इस तरह से बनाया जो प्रकृति और आधुनिकता के बीच संतुलन बना रहे।

बिनसर के इस रिजाॅर्ट में 10 लक्जरी कमरे है। जहाँ आपको आराम करने से ज्यादा बाहर का नजारा देखने का मन करेगा। इस होटल के कमरों से घाटी का शानदार नजारा दिखाई देगा। इन कमरों से आपको नंदा देवी रेंज भी दिखाई देगी। इसके अलावा यहाँ एक प्राइवेट छत, लाइब्रेरी और रेस्तरां भी है। जिस कमरे में आप खाना खाएंगे वो कमरा भी शानदार है। यहाँ हाथ से बनी चिमनी है और चारों तरफ कांच की खिड़कियाँ है। जहाँ से आप आस देवदार के जंगलों को साफ-साफ देख सकते हैं। यकीन मानिए आपको इस जगह से प्यार हो जाएगा।

फूड

कहते हैं कि हर मर्ज की दवा खाना है। जिस जगह का खाना जगह का अच्छा होता है वो जगह अच्छी लगने ही लगती है। आपको इस रिजाॅर्ट में खाने में लोकल फूड का तड़का मिलेगा। आपको यहाँ के लोकल फूड में बाजरे की रोटी, चटनी और हर्बल टी मिलेगी। इसके अलावा यहाँ की लिंगरी सब्जी जरूरी टाई करनी चाहिए।

लागत

इस रिजाॅर्ट में ठहरने की लागत हर सीजन में बदलती रहती है। कुल मिलाकर इस लक्जरी रिजाॅर्ट के रूकने के लिए आपको 8 हजार से 15 हजार खर्च करने होंगे। जिसमें आपको पूरे दिन के फूड के साथ डीलक्स डबल रूम मिलता है। इस रिजाॅर्ट के लिए आप यहाँ बुकिंग कर सकते हैं।

कब जाएँ?

Photo of पहाड़ों की खूबसरती और प्रकृति के करीब जाना हो तो चले आइए बिनसर के इस रिजाॅर्ट में 10/10 by Rishabh Dev

सर्दियों के मौसम में बेहद खूबसूरत होता है। इसलिए मेरी सलाह मानें तो आपको यहां अक्टूबर से जनवरी के बीच में जाना चाहिए। उस समय दिन की खूबसूरत लगता है और रातें कंबल में दुबकर आसमान को देख सकते हैं। अगर आप यहां जनवरी में आते हैं तो बर्फबारी भी देख सकते हैं।

आसपास क्या है?

कुमाऊँ आपको एक शानदार जगह देता है चाहे आप इस रिजाॅर्ट में ठहरें या बाहर घूमें। आपके लिए यहाँ करने को बहुत कुछ है। आप यहाँ पर कभी-कभी छुट्टी में पूरे दिन अच्छा खाना खा सकते हैं और किताब पढ़ सकते हैं। इस रिजाॅर्ट में किताब पढ़ने के लिए सबसे अच्छी जगह एक चिमनी है। जहाँ आप किताब पढ़ते हुए खुद को गर्म महसूस करेंगे।

कसार देवी मंदिर

Photo of कसार देवी मंदिर, Almora Range, Uttarakhand, India by Rishabh Dev

कसार देवी का मंदिर अल्मोड़ा के पास की पहाड़ी पर एक छोटे-से गाँव में ये है। ये जगह कई प्राचीन मंदिरों का घर है। आप यहाँ आसपास घूमें और नजारों का लुत्फ उठाएँ। अगर आपको एडवेंचर पसंद हैं हिप्पी हिल की चढ़ाई करें। ये जगह कभी आर्टिस्ट और लेखकों का डेस्टिनेशन था। आज ये खूबसूरत जगह घुमक्कड़ों के परफेक्ट है। जो चीड़ के जंगलों से भरी हुई है।

बिनसर सैंक्चुरी

Photo of बिनसर वाइल्डलाइफ सैंक्चुरी, Binsar, Uttarakhand, India by Rishabh Dev

कुमाऊँ से बहुत दूर बिनसर सैंक्चुरी है। जहाँ आप पूरा दिन खूबसूरती के बीच बिताकर अपने दिन को यादगार बना सकते हैं। आप यहाँ जंगल में छोटे ट्रेक कर सकते हैं। जिनमें से ज्यादातर में आपको एक घंटा ही लगेगा। अगर आप किस्मत वाले हैं तो आपको यहाँ तेंदुआ भी दिखाई दे सकता है।

कैसे पहुँचे?

कुमाऊँ रिजाॅर्ट उत्तराखंड के बिनसर में कसार देवी मंदिर के पास बिनसर रोड पर गधौली गाँव में स्थित है। आप यहाँ रेल, हवाई और सड़क मार्ग से आराम से पहुँच सकते हैं।

फ्लाइट सेः अगर आप फलाइट से जाना चाहते हैं तो सबसे नजदीकी पंतनगर एयरपोर्ट है। एयर इंडिया फ्लाइट से आप पंतनगर जा सकते हैं दिल्ली से पंतनगर का किराया आपको 3,900 रुपए पड़ेगा। एयरपोर्ट से कुमाऊँ तीन घंटे की दूरी पर है।

ट्रेन सेः अगर आप टेन से कुमाऊँ जाना चाहते हैं तो सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन काठगोदाम है। नई दिल्ली से काठगोदाम तक हर 4-6 घंटे में कई ट्रेनें जाती हैं। पंतनगर से टैक्सी बुक करके आप एक घंटे में कुमाऊँ रिजाॅर्ट पहुँच सकते हैं।

क्या आपने कभी उत्तराखंड के बिनसर की यात्रा की है? अपने सफर का अनुभव यहाँ लिखें।

बांग्ला और गुजराती में सफ़रनामे पढ़ने और साझा करने के लिए Tripoto বাংলা  और  Tripoto  ગુજરાતી फॉलो करें

Tripoto हिंदी के इंस्टाग्राम से जुड़ें और फ़ीचर होने का मौक़ा पाएँ।

ये आर्टिकल अनुवादित है। ओरिजनल आर्टिकल पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें।