जब पहाड़ बुलाएँ तो सिक्किम ज़रूर जाएँ

Tripoto
Photo of जब पहाड़ बुलाएँ तो सिक्किम ज़रूर जाएँ by Mohit Gosain

सिक्किम

सिक्किम घिरा है कंचनजुंगा से जो दुनिया का तीसरा सबसे विशाल पर्वत है। हिमालय में खो जाने के लिए सबसे बेहतरीन जगह है। सिक्किम की खूबसूरत वादियों और बौद्ध मट्ठों में शान्ति पाना तो जैसे अनिवार्य है। सुन्दर फूलों से लदी वादियां, बहते झरने, बर्फीली झीलें, वन्य जीवन से भरे जंगल और आकर्षक धार्मिक केंद्रों से भरपूर है सिक्किम।

बिना किसी शक के सिक्किम भारत की सबसे खूबसूरत जगहों में से एक है। यहाँ जाने का मज़ा ही अलग है क्योंकि यहाँ के लोग भी बहुत प्यारे और मददगार हैं। तो यह लीजिये सिक्किम की 6 दिन और 5 रातों का यात्रा कार्यक्रम जो आपको मदद करेगा इस जादुई नगरी में घूमने के लिए। यहाँ के पहाड़ों में एक अलग ही संगीत रहता है।

सिक्किम में घूमना

ज़्यादातर लोग सिक्किम बस से या शेयर्ड जीप से घूमते हैं। ट्रैकिंग भी एक अच्छा ऑप्शन है। भारतीय लोगों को परमिट चाहिए सिर्फ प्रोटेक्टेड एरिया में घुसने के लिए पर अगर आप फोरेनर हो तो आपको स्टेट में कहीं भी घूमने के लिए परमिट चाहिए। अपना पहचान प्रूफ और पासपोर्ट साइज़ फोटोग्राफ अपने साथ रखना मत भूलियेगा।

सिक्किम पहुँचना

गैंगटॉक सिक्किम में घूमने की सबसे महत्वपूर्ण जगह है। यहाँ स्टेशन और एयरपोर्ट दोनों ही नहीं हैं। बागडोगरा एयरपोर्ट जो 124 किलोमीटर हैं सबसे पास है और सिलीगुड़ी सबसे करीब रेलवे स्टेशन है। एयरपोर्ट और स्टेशन से गैंगटॉक आने के लिए आपको प्रीपेड टैक्सी लेनी पड़ेगी। सरकारी बस भी चलती है सिलीगुड़ी से जो आपको काफी सस्ती पड़ेगी।

क्रेडिट्स: अमित्र कर

Photo of जब पहाड़ बुलाएँ तो सिक्किम ज़रूर जाएँ by Mohit Gosain

यात्रा कार्यक्रम

दिन 1 - गैंगटॉक

वैसे तो यह एक मॉडर्न बिल्डिंग वाला शहरी जंगल बन चूका है, पर गैंगटॉक की खूबसूरती उसकी संस्कृति, बढ़िया होटल्स और मीठे स्थानीय लोगों से है। गैंगटॉक सिक्किम घूमने के लिए अच्छा बेस है, इसीलिए अक्सर राही इसकी तारीफ करते हैं। कंचनजुंगा का बढ़िया नज़ारा और इंडिया के सबसे अच्छे मोमोस यहाँ की खासियत है।

गैंगटॉक में क्या करें

सिक्किम की राजधानी में करने को काफी कुछ है, आपके लिए हम कुछ ख़ास चीज़ें चुन कर लाए हैं:

1 - रुमटेक मठ की खूबसूरती अंदर से देखें और बच्चों को प्राथना पहियों को एक दो बार घुमाने का मौका दीजिये।

2 - तिब्बत की अनोखी संस्कृति में खो जाइये नामग्याल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी में। यहाँ जाए बिना आपका सिक्किम का सफर अधूरा है।

3 - केबल कार के मज़े लूटिये जो गैंगटॉक शहर के ऊपर से होकर गुज़रती है।

4 - ताशी व्यू पॉइंट पर सूर्यास्त का नज़ारा देखिये।

5 - एक मठ से दूसरे मठ तक जाइये- सुक ला खंग, पेमयांग्स्ते और काफी सारी और छोटी पर खूबसूरत मठ।

क्रेडिट्स: वासिन वायोस्री

Photo of जब पहाड़ बुलाएँ तो सिक्किम ज़रूर जाएँ by Mohit Gosain

गैंगटॉक में रहने की सबसे बढ़िया जगह

देलिस्सो अबोड

द गोल्डन क्रेस्ट होटल

क्रेडिट्स: बुकिंग.कॉम

Photo of जब पहाड़ बुलाएँ तो सिक्किम ज़रूर जाएँ by Mohit Gosain

गैंगटॉक में खाने की सबसे बढ़िया जगह

1. बेकर्स कैफ़े: MG रोड पर सबसे चर्चित नाम, यहाँ का नज़ारा और मीठा दोनों की जितनी तारीफ की जाए कम है।

2. 9'ine: अगर आपको असली सिक्किम के ज़ायका का मज़ा लेना है तो सीधा यहाँ आइये।

दिन 2 - सोंग्मो लेक

12300 फ़ीट की ऊंचाई पर स्थित, सोंग्मो या चंगु लेक सिक्किम की सबसे आकर्षक जगहों में से एक है। इस बर्फीली झील के नाम का मतलब "पानी का साधन" है और सर्दियों में यह एक बर्फ के मैदान जैसी दिखती है। वसंत एक अलग ही चित्र रचता है जब अल्पाइन के फूल खिलते हैं। सोंग्मो में याक के सव्वारी करना तो बनता है।

सोंग्मो झील दो घंटे की दूरी पर है गैंगटॉक से और जीप को एडवांस बुक करने में समझदारी है। 3000 रूपए में आना जाना हो जायेगा जिसके लिए सुबह जल्दी निकलना आदर्श है। क्योंकि यह प्रोटेक्टेड एरिया है, होटल या अपने ट्रेवल एजेंट से अपना परमिट लेकर चलें।

झील सोंग्मो पर क्या करें

1 - याक की सैर कीजिये, और फिर सीधा नाथू ला जाइये।

2 - सूपी मैग्गी का आनंद लीजिये और फिर झील के साथ हज़ारों फोटो खींचें।

3 - वापसी में 7200 फ़ीट पर हनुमान टॉक के दर्शन कीजिये।

दिन 3

लाचुंग

लाचुंग एक खूबसूरत काल्पनिक नज़ारे से कम नहीं है। बर्फ से भरी पहाड़ की चोटियां, सेब के बाघ, सफ़ेद चादर और स्वशासन की वजह से यह गाओं उत्तम से बढ़कर है। न सिर्फ खूबसूरत पर हस्तकला और मठ के मामले में भी बढ़िया।

3000 रूपए में आना जाना जिसके लिए आपको जीप की एडवांस बुकिंग करवानी पड़ेगी। कहने की ज़रूरत नहीं की सिक्किम टूरिज्म का परमिट अनिवार्य है। यात्रा में 3 घण्टे लगेंगे।

लाचुंग में क्या करें

सेब के बाघ, मठ और हस्तकला केंद्रों को खोजिये और घूमिये इस छोटे पर बहुत ही खूबसूरत गाओं लाचुंग में।

लाचुंग में रहने की सबसे बढ़िया जगह

यार्लम रिज़ॉर्ट

मैगलन्स एप्पल वैली इन्

क्रेडिट्स: बुकिंग.कॉम

Photo of जब पहाड़ बुलाएँ तो सिक्किम ज़रूर जाएँ by Mohit Gosain

लाचुंग में खाने की सबसे अच्छी जगह

यहाँ बड़े रेस्टॉरेन्ट तो नहीं है पर हर पॉइंट पर अच्छा तिब्बती खाना मिल जाएगा।

दिन 4

यमथुंग वैली

यमथुंग जो 'फूलों की घाटी' के नाम से बेहतर पहचानी जाती है, 1800 फ़ीट की एक खूबसूरत जगह है। सुन्दर फूल जैसे रोडोडेंड्रोन्स (बुरांश) एक अलग ही समां बाँध देते हैं। नदी अपनी एक अदा से निकलती है। जो लोग प्रकृति के करीब आना चाहते हैं, यमथुंग तो जैसे उनके लिए एक वरदान है।

2000 रूपए में आना जाना और 2 घंटे का समय यमथुंग तक लगेगा। जीप को पहले बुक कर लीजिये और परमिट्स साथ रखिये।

क्या करें यमथुंग वैली में

क्रेडिट्स : अमोल हटवार

Photo of जब पहाड़ बुलाएँ तो सिक्किम ज़रूर जाएँ by Mohit Gosain

1 - जन्नत की सैर है युम्थुंग वैली, बस खो जाइये उसकी सुंदरता और नज़ारे में। बर्फ के गोले एक दूसरे पर मारना मत भूलियेगा।

2 - ज़ीरो पॉइंट तक ड्राइव कीजिये और वहां गरमा गरम मैग्गी और मोमोस का मज़ा लीजिये।

पेल्लिंग

सिक्किम में गैंगटॉक के बाद सबसे बड़ा नाम है पेल्लिंग। कंचनजंगा के सबसे खूबसूरत नज़ारे यहीं से मिलते हैं। होटल्स की कमी नहीं महसूस होगी इस चर्चित जगह पर। यहाँ की मठ, सांस्कृतिक कार्यक्रम और सैर के लिए अविश्वसनीय खूबसूरत रास्ते, पेल्लिंग को एक ज़रूर देखने वाली जगह बनाते हैं।

पेल्लिंग 6 घंटे की यात्रा है गैंगटॉक से जिसके लिए आपको गाड़ी एडवांस में बुक करवानी पड़ेगी। भारतीय नागरिकों को पेल्लिंग जाने के लिए कोई परमिट नहीं चाहिए।

पेल्लिंग में क्या करें

1 - कंचनजंगा के खूबसूरत नज़ारों का मज़ा लीजिये।

2 - सेवरो रॉक गार्डन ज़रूर जाइये जो पिकनिक के लिए परफेक्ट है।

3 - पेमयांग्त्से मठ में शान्ति का अहसास कीजिये।

पेल्लिंग में रहने की सबसे अच्छी जगह

चुम्बी माउंटेन रिट्रीट एंड स्पा

नोरबू गैंग रिज़ॉर्ट

Photo of जब पहाड़ बुलाएँ तो सिक्किम ज़रूर जाएँ by Mohit Gosain

पेल्लिंग में खाने की सबसे अच्छी जगह

1 - मेल्टिंग पॉइंट रेस्टोरेंट: चायनीज़ और कॉन्टिनेंटल की सबसे बढ़िया जगह जहाँ आपको हमेशा भीड़ मिलेगी।

2 - लोटस बेकरी: मॉन्क्स द्वारा चालित इस जगह का सारा पैसा गरीब बच्चों के विकास में जाता है। यहाँ चाय और ब्रेड अच्छी मिलती है।

दिन 6

बागडोगरा

या तो आप बागडोगरा के एयरपोर्ट पर जा सकते हैं, या न्यू जलपाईगुड़ी के स्टेशन पर, या सीधा घर निकल सकते हैं अपने गाड़ी पर।

एक भारी दिल और खूबसूरत यादों के साथ वापिस जाएंगे आप सिक्किम से, यह हमारा वादा है।

अगर आपने भी हाल में सिक्किम घूमा है तो अपनी यात्रा के बारे में लाखों लोगों को ट्रिपोटो के ज़रिये बताइये।

Be the first one to comment